Wednesday, January 21, 2015

शुभी -सतीश सक्सेना

                       यह बाल कविता मेरे लिए बेहद महत्वपूर्ण है अपने परिवार में , 24 -25 वर्ष पहले, अपने बड़ों को यह सबूत देने को कि मुझे वाकई कविता लिखनी आती है ,सामने खेलती हुई, नन्ही शुभी (कृति )को देख , उसके बचपन का चित्र खींचा था !!   

छोटी हैं, शैतान बड़ी पर,
सबक सिखाएं प्यार का ! 
हाल न जाने क्यों होना है, शुभी की ससुराल का !

दिखने में तो छोटी हैं ,
लेकिन बड़ी सयानी हैं ! 
कद काठी में भारी भरकम
माँ , की राज दुलारी हैं !
नखरे राजकुमारी जैसे 
इनकी मस्ती के क्या कहने 
एक पैर पापा के घर में 
एक पैर ननिहाल है !
दोनों परिवारों में यह,
अधिकार जमाये प्यार का !
हाल न जाने क्यों होना है, शुभी की ससुराल का !

चुगली करने में माहिर हैं 

झगडा  करना ठीक नहीं 
जब चाहें शिल्पी अन्नू को
पापा  से पिटवाती हैं  !
सेहत अपनी माँ जैसी है 
भारी भरकम बिल्ली जैसी 
जहाँ पै देखें दूध मलाई 
लार  वहीँ टपकाती हैं 
सुबह को हलवा,शाम को अंडा,
रात को पीना दूध का !
हाल न जाने क्यों होना है , शुभी की ससुराल का  !

सारे हलवाई पहचाने 

मोटा गाहक इनको माने 
एक राज की बात बताऊँ 
इस सेहत का राज सुनाऊं 
सुबह शाम रबड़ी रसगुल्ला 
ढाई किलो दूध का पीना 
रबड़ी और मलाई ऊपर 
देसी  घी पी  जाती हैं !
नानी दुबली होती  जातीं ,  
देख के खर्चा दूध का  !
हाल न जाने क्यों होना है , शुभी की ससुराल का !

आस पास के मामा नाना 

इनको गोद खिलाने आयें
बाते सुनने इनकी अक्सर  
अपने घर बुलवायीं जाए  
तभी भी शुभी प्यारी हैं 
सबकी राज दुलारी हैं !
मीठी मीठी बाते कहकर 
सबका मन बहलाती हैं !
खुशियों का अहसास दिलाये,
किस्सा राजकुमारी का ! 
हाल न जाने क्या होना है , शुभी  की ससुराल  का  ! 

21 comments:

  1. बच्चे को जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। बडी सुन्दर कविता रची आपने।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्यारी सी कविता है जो मन को छूती है ...
    शुभी को ढेरों आशीष और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  3. प्यारी बिटिया को शुभाशीष

    ReplyDelete
  4. वाह! जब इतनी प्यारी बिटिया सामने हो तो कविता तो बन ही जाती हैं ...
    जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  5. सबूत एक कवि का कविता के साथ किसने किया होगा आत्मसात अलग बात है पर जो बात आप में है उस बात में ही कुछ अलग बात है । शुभकामनाऐं ।

    ReplyDelete
  6. मजेदार कविता रची है ...

    ReplyDelete
  7. बचपन को जीते शब्द और पल
    असीम स्नेह और शुभकामनाओं सहित

    ReplyDelete
  8. बहुत-बहुत शुभकामनाएं और ढेर सारा स्नेह बिटिया को ....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...शुभी को हार्दिक शुभकामनाएं और आशीष....

    ReplyDelete
  10. बहुत प्यारी कविता है भाई साहब! एकदम चित्र खींच दिया है आपने और इसमें सबको अपना बचपन और अपनी बच्ची दिखाई दे रही है. वैसे इसमें आज की शुभी की फ़ोटो होती तो हम भी देखते कित्ती बड़ी हो गयी है वो!! शुभाशीष शुभी को!!

    ReplyDelete
  11. जैसी नटखट बेटी ,वैसी ही चटपटी कविता -वाह सतीश जी !

    ReplyDelete
  12. बहुत प्यारी कविता...
    ढेर सा प्यार शुभी को..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  13. याने की आप २४,२५ साल से लिख रहे है ??
    अब तो आपके परिवार में बड़ों को पूरा यकीन आ गया होगा की आप कितना अच्छा लिखते है :)
    प्यारी रचना !

    ReplyDelete
  14. शुभी की चंचलता का पोल खोलती सुंदर कविता. शुभी को स्नेह और शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  15. Very beautiful. Now Shubhi must be full woman and I wish good wishes. But this became a source to become poet, this is hilarious. Regards.

    ReplyDelete
  16. "चुगली करने में माहिर हैं
    झगडा करना ठीक नहीं
    जब चाहें शिल्पी अन्नू को
    पापा से पिटवाती हैं !
    सेहत अपनी माँ जैसी है
    भारी भरकम बिल्ली जैसी
    जहाँ पै देखें दूध मलाई
    लार वहीँ टपकाती हैं
    सुबह को हलवा,शाम को अंडा,रात को पीना दूध का !
    हाल न जाने क्यों होना है , शुभी की ससुराल का"
    bahut he sunder bhav..sunder srijan...Satish ji

    ReplyDelete
  17. एक पैर पापा के घर में
    एक पैर ननिहाल है !
    दोनों परिवारों में यह,अधिकार जमाये प्यार का !


    बहुत ही प्यारा गीत है, सक्सेना जी।

    हम तो आपको 4-5 वर्षों से सिद्धहस्त गीतकार के रूप में जानते हैं।

    ReplyDelete
  18. अनुपम रचना...... बेहद उम्दा और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मेरे सपनों का भारत ऐसा भारत हो तो बेहतर हो
    मुकेश की याद में@चन्दन-सा बदन

    ReplyDelete
  19. नन्हीं शुभी - सयानी को हम सब देते हैं आशीष ।
    वैसे शुभी को माध्यम बना - कर प्रशंसा पाने की आपकी तरक़ीब कामयाब हो ही गई ।
    बहुत - बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  20. प्यारी सी कविता है जो मन को छूती है ...

    Recent Post शब्दों की मुस्कराहट पर मेरी नजर से चला बिहारी ब्लॉगर बनने: )

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,