Saturday, December 19, 2009

घर से बहुत दूर, संघर्षरत एक लडकी के लिए एक ख़त !!


प्यारी प्यारी अप्पू !

आज सुबह सुबह जब तुमने नींद से उठाकर यह सुखद समाचार सुनाया तो वाकई आँखे नम हो गयी ! ख़ुशी इस लिए नहीं कि तूने एक टोयोटा करोला खरीद ली है बल्कि इसलिए कि काफी समय पहले, हम से दूर चली गयी, एक दुबली पतली लडकी इस लायक हो गयी है कि वह एक बड़ा फैसला ले सके ! शाबाश बच्चे मुझे तुमसे यह उम्मीद थी कि तुम एक दिन अपने सारे लक्ष्य अवश्य प्राप्त करोगी ! 
पता है इसका राज क्या है ......???

इस दुबले पतले कमजोर से शरीर और आधी अंधी ( अब नहीं :-) ) लडकी में गज़ब की हिम्मत है, लोगों द्वारा धक्का देने पर ,गिर पड़ने  पर खूब सुबक सुबक कर रोती है, और थोड़ी देर में आंसू पोंछ कर, फिर खड़ी होकर,
चल पड़ती है ....

एक बात याद रखना , यह निर्दयी दुनिया हंस कर कुछ नहीं देती , तुम्हे इसे बताना पड़ेगा कि तुम बहुत मजबूत हो , तुम्हे लोग हर कदम पर तंग करेंगे तुम्हारे दिल को दुखायेंगे ...और अगर तुम्हे कमजोर होते देखा तो विश्वास करो वे एक धक्का और देंगे ...कमज़ोर की कोई इज्ज़त नहीं बच्चे ...कभी मदद को हाथ नहीं फैलाना ... कोई नहीं देगा ! सिर्फ तुम्हारी आत्मिक शक्ति ही काम आयेगी !
ईश्वर की एक प्रार्थना भेज रहा हूँ , जब थक जाओ  या उदास हुआ करो  तो इसे सुना करो ....
एक और इच्छा है हमारी बिनू को, ऐसा एक लड़का पसंद करे, जो उसके सुन्दर दिल को पहचान सके ....उम्मीद है कि तुझे जानने बाला लड़का तुझे अवश्य बहुत शीघ्र मिलेगा ! मेरा दिल से आशीर्वाद है !

अच्युतम केशवम कृष्ण दामोदरंम
राम नारायणंम जानकी बल्लभम....

23 comments:

  1. आपकी आप्पू के लिए हमारी भी शुभकामनाये .....इश्वर जरुर उन्हें योग्य वर का साथ और ख खुशहाल जीवन का आशीर्वाद देंगे.
    "good luck appu"

    regards

    ReplyDelete
  2. पिता के ऐसे यथार्थपरक ममत्त्व का साया हो तो पुत्री क्यों नहीं शीर्ष छुएगी !
    शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  3. बिनू को खुशिया मिले सुंदर ओर अच्छा जीवन साथी मिले

    ReplyDelete
  4. मेरी ढेरों शुभकामनाएं भी बिटिया के साथ हैं.

    ReplyDelete
  5. बिटिया को हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. अव्वल तो बिटिया को मुबारक बाद!
    उसकी मिहनत को सलाम!

    आपकी ये पंक्ति सूत्र-वाक्य है , सहेज कर रखूँगा :
    एक बात याद रखना , यह निर्दयी दुनिया हंस कर कुछ नहीं देती , तुम्हे इसे बताना पड़ेगा कि तुम बहुत मजबूत हो , तुम्हे लोग हर कदम पर तंग करेंगे तुम्हारे दिल को दुखायेंगे ...और अगर तुम्हे कमजोर होते देखा तो विश्वास करो वे एक धक्का और देंगे ...कमज़ोर की कोई इज्ज़त नहीं बच्चे ...कभी मदद को हाथ नहीं फैलाना ... कोई नहीं देगा ! सिर्फ तुम्हारी आत्मिक शक्ति ही काम आयेगी !

    ReplyDelete
  7. बहुत छूने वाली सुन्दर पोस्ट, मित्रवर!

    ReplyDelete
  8. प्यारी अप्पू के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  10. Thank u Sir...
    aapne jo kuchh bhi apni bachchi ke liye likha hai wo sab mujhse qareeb jan padte hain ...thodi der ke liye to mehsoos huaa ..ki kisi ne mere struggle ki sari thakan door kar di hai....
    THANKS Again

    ReplyDelete
  11. आमीन ......... दिल को छू गया आपका पत्र .........

    ReplyDelete
  12. aapke blog par phli bar hi aana hua hai par bahut hi achha lga .ishvar se ham bhiprarthna karte hai bitiya ka jeevan sukh aur khushiyo se bharpoor ho .

    ReplyDelete
  13. संसार की असलियत से अवगत कराया ।दुनियां हंस कर कुछ नही देती यहां तक के रास्ता भी "" सागर खुद अपनी राह बना कर निकल चलो/वरना यहां पे किसने किसे रास्ता दिया ""कमजोर की इज्जत नही होती आदमी ही क्या प्रक्रति भी नही करती ""सबै सहायक सबल के निबल न कौउ सहाय /पवन जलावत आग को दीपहि देत बुझाय ""

    ReplyDelete
  14. इससे पहले कि आप आक्रोश में आएं, मैं यह बता देता हूँ कि मैं नव वर्ष की बधाई देने आया हूँ.
    यह सच है कि बहुत लम्बे अरसे पर आया, लेकिन आया तो.
    बिटिया की मेहनत रंग लाई, उसने कार खरीद ली, ज़िन्दगी से आँख मिला कर चलना सीख लिया, ये हम सब के लिए हर्ष का विषय है, हम आपस में एक दूसरे को बधाई दे लेते हैं. अब ठीक?
    आप कैसे हैं? नाराजगी छोड़िए, तफसील से बता दीजियेगा.
    इतने दिनों बाद आने पर खौफ महसूस हो रहा था, पोस्ट की तिथि देख कर और भी डर लगा. लेकिन अंतिम कमेन्ट की तिथि ने हौसला दिया और मैं आ गया.
    इतने अच्छे पल को जितने अच्छे ढंग से लिखा, उसके लिए तारीफ तो करनी ही पड़ेगी.

    ReplyDelete
  15. इस प्यारी सी अप्पू के लिए हमारे दिल से भी दुआ निकली है....एक दिन ये अपना और अपने पूरे परिवार का नाम रोशन करेगी...देख लेना...ऐसे बच्चे इश्वर हर किसी को नहीं देता...
    नीरज

    ReplyDelete
  16. Dil ko aapke bhaav ne... Binu ke liye mangalkaamnayen hain...Is Saarthak Sandesh ke liye aapka saadhuwaad!

    ReplyDelete
  17. Hello अंकल !
    आपने मेरे लिए इतने अच्छी gift दिए हैं वोह भी सेकंड हैण्ड कार के लिए " घर से बहुत दूर, संघर्षरत एक लडकी के लिए एक ख़त !" इस खत ने मुझे इतने लोगों के आशीर्वाद दिला दिया . My heartiest Respects & Regards to all of them who has showered all their wishes & blessings through this mail to me. I am not so competent to raise to their level to say "Thanks nor post a Comment" , So Please excuse me. But I consider to be very lucky girl to get all your Blessings from all corners of the world , along with all my family members.Uncle I have no other way to express my feelings but to Thank you only for bringing this दुबले पतले कमजोर से शरीर और आधी अंधी ( अब नहीं :-) ) लडकी , को lime light पर लाने के लिए .......
    Now coming to you mail to me....एक बात याद रखना , यह निर्दयी दुनिया हंस कर कुछ नहीं देती , तुम्हे इसे बताना पड़ेगा कि तुम बहुत मजबूत हो , तुम्हे लोग हर कदम पर तंग करेंगे तुम्हारे दिल को दुखायेंगे ...और अगर तुम्हे कमजोर होते देखा तो विश्वास करो वे एक धक्का और देंगे ...कमज़ोर की कोई इज्ज़त नहीं बच्चे ...कभी मदद को हाथ नहीं फैलाना ... कोई नहीं देगा ! सिर्फ तुम्हारी आत्मिक शक्ति ही काम आयेगी ..... आप के ये lines हमेशा याद रखूंगी . .
    अंकल फिर बी अप्पको बताना चाहूंगी की even in my struggle period i never opened my hands in front of others,I had managed all by myself. This is the culture & support which I had carried from you all when I left India.
    I will also give all the credit to my ma ..... who inspires me by her views & her suggestions time to time. .In any extreme situations she supports me giving moral strength & make me take the right decisions.
    Bahut zyada senti ho gaya. lite le yaar....... -:)
    lastly pleeeze change my pic & put some other nice one
    Aapki apni
    binny

    ReplyDelete
  18. आप सबको, इस बच्ची को शुभकामनायें देने के लिए मैं हार्दिक आभारी हूँ ! यह लडकी अपर्णा नागराजन बहुत मेधावी और जुझारू लडकी है , ओक्लाहोमा यूनिवर्सिटी में बायोटेक्नोलोजी में पी एच डी कर रही इस बच्ची की जुझारू शक्ति से कुछ बच्चे अगर शिक्षा ले सकें तो यह लेखन सफल हो जाये !
    @ बिन्नी ! तुम्हारा पिक्चर हटाने का सुझाव नहीं माना जा सकता, क्योंकि वहां इस लडकी का वास्तविक मूड पता चल रहा है !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,