Saturday, March 20, 2010

जवान कैसे रहें -१ - सतीश सक्सेना

जीवन का हर क्षण अमूल्य है, जीवन में हर क्षण का मज़ा लें ,ख़ास तौर पर उस समय और भी जब कोई अन्य आपको कष्ट देना चाह रहा हो ! मैंने अपने जीवन का कमाया धन 7० % अपने बच्चों पर, 2० % अपनों की अथवा जरूरत मंदों की मदद पर और १० % सिर्फ अपने ऊपर खर्च किया जिससे मैं अपने आपको खुश रख सकूं ! मुझे पूरा विश्वास है कि अगर मैं सानन्द हूँ तो मेरे आश्रित भी सुखी रह पायेंगे !
बचपन से मेरे पसंद का एक शेर नज़र है ...

"उम्रेदराज़ मांग के लाये थे चार दिन 
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार में "

आप अपनी जिन्दगी ऐसे  न कटने दें. वाकई में हम लोग दो चार दिन ही मांग के लाये हैं , हर दिन के, हर क्षण को, हँसते हुए और मस्ती में निकालें ,चाहे कितना ही अभाव ही क्यों न हो , रोते  समय भी हंसने का बहाना ढूँढ लें  !

बचपन से याद, गोपालदास नीरज की  यह पंक्तियाँ मेरी पसंदीदा लाइनें रहीं हैं  !
"जिन मुश्किलों में मुस्कराना हो मना
उन मुश्किलों  में  मुस्कराना,  धर्म है !
जब हाथ से टूटे न,  अपनी हथकड़ी 
तब मांग लो ताकत स्वयं जंजीर से 
जिस दम न थमती हो नयन सावन झड़ी 
उस दम  हंसी ले लो किसी तस्वीर से 
जब गीत गाना गुनगुनाना जुर्म हो 
तब गीत गाना गुनगुनाना धर्म है !"

उपरोक्त रचना मैंने हमेशा  गुरु मंत्र मान कर कंठस्थ किया और उसका पालन किया  ! आज भी मेरे मित्र मुझ ( सही उम्र नहीं बताऊंगा ) ३० साल के जवान को देख कर आश्चर्य चकित होते हैं !
और हाँ मैं वाकई जवान हूँ ....

17 comments:

  1. पुरानी फ़ोटू लगा कर।हा हा हा हा।सहमत हूं आपसे सतीश जी,खुदा महफ़ूज़ रखे आपको हर बला से हर बला से।

    ReplyDelete
  2. जवानी तो हमने भी चमकाई हुई है जनाब..सेम पिंच!!

    ReplyDelete
  3. जवानी जिन्दाबाद!

    ReplyDelete
  4. @अनिल पुसाद्कर,
    बड़ी ताडू निगाह है अनिल भाई , पोल भी खोलो और नज़र बट्टू भी ... हा... हा....हा....हा...

    ReplyDelete
  5. आगे भी जाने न तू, पीछे भी जाने न तू
    बस इक यही पल है, कर ले पूरी आरज़ू...

    सतीश भाई,
    माफ़ी मांगता हूं, व्यस्तता के चलते आपकी पिछली कुछ पोस्ट पर कमेंट नहीं कर पाया...भागते-दौड़ते पढ़ा ज़रूर सभी को है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. बिल्कुल सही कह रहे हैं आप, आपके नक्शे कदम पर ही चलते हैं. सिर्फ़ हंसने हंसाने का काम ही अच्छा है क्योंकि रोने के लिये तो किसी बहाने की भी जरुरत नही है आजकल.

    रामराम

    ReplyDelete
  7. aapka gurumantr bahut pasand aaya .............
    meree vichardharae kafee mel khatee haiaapse..........
    apano ke liye jo hum karate hai vo shayad isliye kee usase hume khushee miltee hai..Mera maanna to ye hai ki jab tak aap kuch seekh rahe hai jeevan se aap jawan he:)e hai . aur aaj ke samay to bahut kuch seekhane ko milta hai............ :)
    Aap to abhee bahut chote hai yanha to seneio citizen bane arasa ho gaya par kya mazal ki apane ko buzurgo kee gintee me lae.........

    ReplyDelete
  8. अभी तो मैं जवान हूँ..अभी ये दिल भरा नहीं...

    आपका प्रयोजन लिखने का जो है उसकी मैं ताईद करता हूँ.काश!! सभी के ऐसी सोच हो!!
    आमीन!

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया मज़ा आ गया ! मियाँ गुलज़ार फरमाते हैं
    "उम्र कबकी बरस के सुफेद हो गई
    काली बदरी जवानी की छटती नहीं "

    ReplyDelete
  11. वेसे मस्ती हम ने दिल खोल कर की है, दि्ल का एक भी अरमान मरने नही दिया...लेकिन रोने के समय भी कह कहे लगाये हंसी के. बहुत सुंदर लिखा आप ने

    ReplyDelete
  12. सतीश जी मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है, टिप्पणी के लिए आभार. पोस्ट बहुत अच्छी है हाँ वो जो पंक्तियाँ लिखी हैं आपने गुरुमंत्र वाली वो गोपालदास नीरज की हैं और कविता का नाम है "धर्म है"
    आभार
    रचना

    ReplyDelete
  13. चलिये, आपका यह धर्म अपना लिया ।

    ReplyDelete
  14. सही कहा आपने जीवन का हर क्षण अमूल्य है !!!!

    ReplyDelete
  15. अरे सतीश जी , उम्र बताने की ज़रुरत ही कहाँ है । हमें पता है आप भी हमारी तरह २५ से ऊपर है ही नहीं।
    हा हा हा ! हँसना बहुत ज़रूरी है ।

    ReplyDelete
  16. दिल हमेशा बच्चा ही रहेगा.. हम बुढ़ा भी क्यों न जाएं.. जवानी के फार्मूले ढूंढने के लिए तमाम जतन कर ही लेते हैं... डॉ. दराल ने ठीक ही कहा आप 25 से ऊपर लगते ही कहां हैं... लेकिन फोटो में.. हाहाहाहा..

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,