Sunday, April 4, 2010

अम्मा , भीख मांगने आती है ! - सतीश सक्सेना

                             योगेन्द्र मौदगिल   कहने को तो हास्य कवि हैं मगर जब भी मैंने उन्हें पढ़ा , हर बार
एक एक प्रभाव एक छाप रह गयी दिल पर  ! गज़ब की धार है उनकी रचनाओं में ! आज उनकी एक सूक्ष्म रचना पढी तो यह दो लाइनें ही हिला गयीं !
" चौराहे की मिटटी को भई जम कर लज्जा आती है 
 दर्जन भर बेटों  की  अम्मा , भीख  मांगने  आती है !"
                     जिस माँ ने अभावों में जिन्दगी काटते हुए हमारा भविष्य बनाने के लिए अपने बचाई हुई सारी पूँजी लुटा दी और हमारी पढाई और भविष्य की चिंता में अपने बुढापे के लिए, कुछ न बचाया , उस अम्मा को  हमने क्या दिया ? 
                     इस मार्मिक रचना में , शायद ही कुछ बचा होगा जो कवि ने कह न दिया हो , लज्जा इंसानों को या बेटों को तो आने से रही , तो कवि  किससे उम्मीद करे सिवाय चौराहे की मिटटी के अलावा , लज्जा तो धरती की  मिटटी को ही आयेगी ! 
                    क्या उस के प्यार का एक अंश भी हम दे पा रहे हैं ! और हमें अपने ऊपर लज्जा भी नहीं आती  ?



21 comments:

  1. अच्छी पंक्तियों की अच्छी चर्चा सतीश भाई

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. योगेंद्र जी की रचनाएँ ऐसे ही धारदार और समाज पर प्रहार करती हुई होती है....अपनी बात रखने में तो वो मास्टर है..
    सतीश जी इस लाइन के बहाने जो कुछ आप कहना चाह रहे है वो आज के कुछ घर की सच्चाई वास्तव में है खुल कर भीख ना माँग पाए पर भारत में ऐसी बहुत सी माँ है जो बेटें होने के बावजूद भी दो जून की रोटी के लिए तरस रही है....फिर भी इस समाज का कोई ध्यान नही जाता....फिर कवि को आयेज आना पड़ता है....बहुत बढ़िया चर्चा....बधाई

    ReplyDelete
  3. सतीश जी नमस्कार,

    योगेन्द्र जी तो कमाल के कवि है,
    उनके छंद की धार देखकर तो
    हम आनंदित हो उठते हैं।

    आपको शुभकामनाएं
    संडे स्पेशल

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर लिखा है योगेन्द्र जी ने ।
    हमने भी पढ़ा और सराहा था।

    ReplyDelete
  5. बहुत सच्ची पंक्तियां हैं योगेन्द्र जी की ,

    ऐसी हरकतों से इन्सानियत शर्मिंदा होती है ,अब इन औलादों को कौन समझाए जब वो समझना ही ना चाहें
    माता -पिता के बारे में इतना ही कह पाऊंगी कि

    "अपनी ख़ुशियों की क़ुर्बानी दे कर हम को ख़ुशियां दीं
    अपनी हर ख़्वाहिश को कुचला हम को सारी नेमत दी"

    अगर हम उन की क़द्र न कर पाएं तो ये हमारी बद क़िस्मती है

    ReplyDelete
  6. योगेन्द्र भाई के हम यूं ही नहीं मुरीद हैं...

    रही लज्जा की बात तो सतीश भाई, कभी चिकने घड़ों पर भी कोई असर होता है क्या...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. योगेन्‍द्र मौद्गिलजी की सूक्ष्‍म दृष्टि का जबाब नहीं .. आपने अच्‍छी चर्चा की !!

    ReplyDelete
  8. सुन्दर शब्द सुनवाने के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  9. आखिर भतिजा किसका सै? कती लठ्ठ से गाड देवे सै.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. योगेन्‍द्र मौदगिल जी की कविताओं के हम भी मुरीद हैं। आभार।

    ReplyDelete
  11. parichay ke liye aabhar........yanha to lagata hai khazane anginat hai.........blog kee duniya me .Sateesh jee aabharee rahungee kuch aisee hee sites fwd karde.........

    ReplyDelete
  12. सच मुच ... बौट कमाल की पंक्तिया हैं ... योगेंद्र साहब कमाल का लिखते हैं ...

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी पंक्तियां, झकझोरने वाली रचना.

    ReplyDelete
  14. saxena ji 2 panktiyo ne hi dil ko jhakjhor kar rakh diya...
    aur ek aisa hi ek sach yaad aa gaya..
    hamare yaha...ek red light par ek budhiya baithi hoti thi...aur uske baare me bhi yahi suna tha ki uske 3-4 bete hai jo aachhi naukriyo me hai..lekin un BICHARO k paas itna dhan nahi hai ki vo apni maa ko 2 ROTI de sake...aaj apki ye post padh kar ye purana kissa ye sacchayi yaad aa gayi..vo b aise hi ek chaourahe par baithi hoti thi...mano u laga ye 2 lines usi k liye likh di gayi ho.

    ReplyDelete
  15. सतीश जी, आँखें नम हो आयीं.. कुछ लोग आज भी मानते हैं कि मान के चरणों में स्वर्ग होता है..
    "जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
    माँ दुआ बनके मेरे ख्वाब में आ जाती है."
    या फिर
    "मैं जब तक घर ने लौटूं माँ मेरी सजदे में रहती है."

    ReplyDelete
  16. Bahut gambhir panktiyan....
    Saamajik bidambana ko darshati.. poot kapoot..... akhir ped ke liye kya-kya nahi karna padta hai majboori mein.....

    ReplyDelete
  17. आप का ओर योगेंदर जी का धन्यवाद, मेने भी पढी थी यह रचना

    ReplyDelete
  18. अच्छी लगी ये पोस्ट अब तो ये ज़माना है की जब तक मतलब है माँ के चरणों में स्वर्ग है और मतलब लिकल गया तो माँ के लिए अपने घर में नरक है
    आभार

    ReplyDelete
  19. सतीश जी, पंक्तियां जो हो गयीं सो हो गयी... आप सभी की सराहना ही कलम से कुछ न कुछ लिखवा लेती हैं. आभार व्यक्त कर आपके प्रेम को हल्काऊंगा नहीं.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,