Sunday, May 2, 2010

क्या लिख रहें हैं आप ?? -सतीश सक्सेना

                         अगर किसी लेख़क के व्यवहार और व्यक्तित्व के बारे में जानना हो तो उसके कुछ लेख ध्यान पूर्वक पढ़ लें  , उस व्यक्ति की मानसिकता और व्यवहार आपको उसके लेखन में से साफ़ साफ़ दिखाई देगा ! 


                        लोगों को प्रभावित करने के लिए लिखे लेखों पर चढ़ा कवर, थोडा ध्यान से पढने पर ही उतरने लग जाता है  ! अपना चेहरा चमकाने की कोशिश में लगे लोग, खुशकिस्मत हैं  कि ब्लाग जगत में ध्यान से पढने की लोगों को आदत ही नहीं है ! यहाँ तो यही होड़ है कि रोज एक लेख अवश्य लिखा जाये और हम  शिखर के नज़दीक बने रहें और दूसरों पर मुस्कराते रहें ! 


                          इन महान लेखकों को शायद यह अंदाजा नहीं है कि जो कूड़ा वे यहाँ फैला रहे हैं यह अमर है ! लेखन और बोले शब्द अमर होते हैं और परिवार , समाज पर गहरा असर डालते हैं ! आप जो भी लिख रहे हैं, ऐसा नहीं हो सकता कि आपके बच्चे , और परिवार के अन्य सदस्य देर सवेर उसे नहीं पढेंगे , उस समय आपको पढ़कर और जानकर वही इज्ज़त और सम्मान आपको देंगे जिसको आपका लेखन इंगित करता है !  


                       मेरा यह विश्वास है कि आने वाला समय बेहतर होगा , हमारी नयी पीढी यकीनन प्यार ,सद्भाव में हमसे अधिक अच्छी होगी अतः आज जो हम ब्लाग के जरिये दे रहे हैं, उसे एक बार दुबारा पढ़ के ही प्रकाशित करें ! कहीं ऐसा न हो कि आपको कुछ सालों के बाद पछताना पड़े कि यह कूड़ा मैंने क्यों लिखा था !
  

38 comments:

  1. अच्छी विचारणीय प्रस्तुती / आज के माहौल को सुधारने की और सचेत करती इस रचना के लिए आपका बहुत-बहुत दन्यवाद / कास लोग आपकी बातों से कुछ सिख ले कर उस पर अमल करतें /

    आशा है आप इसी तरह ब्लॉग की सार्थकता को बढ़ाने का काम आगे भी ,अपनी अच्छी सोच के साथ करते रहेंगे / ब्लॉग हम सब के सार्थक सोच और ईमानदारी भरे प्रयास से ही एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित हो सकता है और इस देश को भ्रष्ट और लूटेरों से बचा सकता है /आशा है आप अपनी ओर से इसके लिए हर संभव प्रयास जरूर करेंगे /हम आपको अपने इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर देश हित में १०० शब्दों में अपने बहुमूल्य विचार और सुझाव रखने के लिए आमंत्रित करते हैं / उम्दा विचारों को हमने सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / पिछले हफ्ते अजित गुप्ता जी उम्दा विचारों के लिए सम्मानित की गयी हैं /

    ReplyDelete
  2. इश्वर हमें सद्बुद्धि दें

    ReplyDelete
  3. अपना चेहरा चमकाने की कोशिश में लगे लोग, खुशकिस्मत हैं कि ब्लाग जगत में ध्यान से पढने की लोगों को आदत ही नहीं है -- हलके व्यंग के साथ बहुत ही सटीक बात कही है... सच शब्द अमर हैं - एक बार मुह से या लेखनी के द्वारा निकलने पर वायुमंडल में घूमते हैं , एक उर्जा से ठोस बन जाते हैं... उन्हें सावधानी से सोच समझ कर निकालना चाहिए.

    ReplyDelete
  4. Accha sujhav.........
    aap in dino the kanha...?
    koi poochane wala bhee hai .
    pahile profile ke sath Ph No tha ab nahee hai......
    Mera blog to khas tor par hai hee mere apno ke liye.
    sabhee chav se padte hai iseeliye buzurgiyat jhalak hee jatee hai.........
    meree kai post chootee hai aapse.....
    Europe trip kub hai....?

    ReplyDelete
  5. बिल्कुल सही कहा आपने , लेकिन क्या करें कुछ लोगों को इसी में मजा आ रहा है ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सही बात कही है सतीश जी । आजकल कुछ ब्लोग्स को पढ़कर तो एक अजीब सी विरक्ति सी महसूस होने लगी है। लेखन में निरंतर गिरावट आ रही है। एक बात ख़त्म होती है तो दूसरी शुरू हो जाती है। बेहद अफ़सोस।

    ReplyDelete
  7. सहमत हूँ आपसे सतीश भाई। सारगर्भित रचना ही सार्थकता प्रदान कर सकती है।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. अगर किसी लेख़क के व्यवहार और व्यक्तित्व के बारे में जानना हो तो उसके कुछ लेख ध्यान पूर्वक पढ़ लें , उस व्यक्ति की मानसिकता और व्यवहार आपको उसके लेखन में से साफ़ साफ़ दिखाई देगा !



    लोगों को प्रभावित करने के लिए लिखे लेखों पर चढ़ा कवर, थोडा ध्यान से पढने पर ही उतरने लग जाता है ! अपना चेहरा चमकाने की कोशिश में लगे लोग, खुशकिस्मत हैं कि ब्लाग जगत में ध्यान से पढने की लोगों को आदत ही नहीं है ! यहाँ तो यही होड़ है कि रोज एक लेख अवश्य लिखा जाये और हम शिखर के नज़दीक बने रहें और दूसरों पर मुस्कराते रहें !


    इन महान लेखकों को शायद यह अंदाजा नहीं है कि जो कूड़ा वे यहाँ फैला रहे हैं यह अमर है ! लेखन और बोले शब्द अमर होते हैं और परिवार , समाज पर गहरा असर डालते हैं ! आप जो भी लिख रहे हैं, ऐसा नहीं हो सकता कि आपके बच्चे , और परिवार के अन्य सदस्य देर सवेर उसे नहीं पढेंगे , उस समय आपको पढ़कर और जानकर वही इज्ज़त और सम्मान आपको देंगे जिसको आपका लेखन इंगित करता है !


    मेरा यह विश्वास है कि आने वाला समय बेहतर होगा , हमारी नयी पीढी यकीनन प्यार ,सद्भाव में हमसे अधिक अच्छी होगी अतः आज जो हम ब्लाग के जरिये दे रहे हैं, उसे एक बार दुबारा पढ़ के ही प्रकाशित करें ! कहीं ऐसा न हो कि आपको कुछ सालों के बाद पछताना पड़े कि यह कूड़ा मैंने क्यों लिखा था !


    आपने बिलकुल मेरे मन की बात कही.... सम्पूर्ण पोस्ट बहुत अच्छी लगी....

    ReplyDelete
  9. जी हां सतीश जी , बिल्कुल सही बात है ये । यहां हम सब किसी को वैयक्तिक रूप से नहीं जानते पहचानते हैं । यदि यहां पर हम एक दूसरे के लिए जोभी छवि बना रहे हैं वो सिर्फ़ और सिर्फ़ उनकी लेखनी और टिप्पणी पर ही आधारित होता है ।और हा समय ही तो है गवाह जो साबित करता आ रहा है सब कुछ । सामयिक विचार ।

    ReplyDelete
  10. विगत रात्रि हम दोनों मित्र अपने अपने शहरों में बैठे ,एक साथ दूरदर्शन का एक कार्यक्रम देख रहे थे जिसमें परिचर्चा का विषय कमोबेश यही था जो आपने कहा है... होड़, चूहा दौड़ और शीर्ष को छू लेने की गला काट इच्छा ने इस ब्लॉग जगत का अहित ही किया है, वर्ना जो माध्यम विचार मंथन, समस्या समाधान का प्लैट्फॉर्म बन सकता था मात्र बहस छींटाकशी का अड्डा बनकर रह गया.
    एक और कटु सत्य है कि आलोचक यहाँ बड़ी ही तिरछी नज़र से देखा जाता है, क्योंकि कई बार उसका उद्देश्य मात्र क्षणिक प्रसिद्धि प्राप्त करना होता है..किंतु हर कही गई बात को बहुत अच्छा जैसी स्टीरिओटाईप प्रतिक्रिया से नवाज़ना भी उचित नहीं.
    साहस करें और बताएँ कि आप जो लिख रहे हैं वह ग़लत या अनुचित है... और सतीश जी आपकी बात को ही साईबर क्राईम के विशेषज्ञ श्री पवन दुग्गल जी ने बताया कि क़ानूनन भी आपकी कही बात अगर अनुचित है तो वह आपके विरुद्ध एक सबूत के तौर पर इस्तेमाल की जा सकती है... आज नहीं तो कल... भला हो हमारे देश का कि हमारा क़ानून सो रहा है और कई लोग उसकी नींद का फ़ायदा उठा रहे हैं..

    ReplyDelete
  11. सही है..कुछ ऐसा नहीं कि जिसको बार-बार पढ़ने को जी चाहे

    ReplyDelete
  12. सार्थक चिंतनशील प्रस्तुति के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  13. मन से लिखा मन से पढ़ा जायेगा और याद रखा जायेगा । कृत्रिमता तो टिक नहीं पाती है ।

    ReplyDelete
  14. बुरा जो देखन मै चला बुरा न मिलयो कोयू,
    जो मन देखया आपना, मुझसे बुरा न कोय...

    हर कोई दूसरे की चिंता छो़ड़ बस अपनी कमियों को दूर करने की कोशिश करे...हालात खुद बदल जाएंगे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  15. गुरुदेव, आज मजाक में नहीं सीरियस्ली बोल रहे हैं कि आपका पहिला बात त हमरे उपर लागू होता है... आपको एक महीना पढने के बादे आपका बारे में जो राय बनाए हैं हम, ऊ हमरे लिए सबसे महत्वपूर्ण है... तबे त आपको गुरुदेव कहते हैं...
    अभी त हम लिखना सुरुए किए हैं, इसलिए आपका बात हमेसा याद रखेंगे... गुरुदेव! मन का बात बोलते हैं, जदि कोई गलती हो जाए तो चेता दीजिएगा बेहिचक हमको. आपका आसीस समझकर सुधार लेंगे अऊर माफी माँग लेंगे...हम एक्के बात जानते हैं कि सच बोलिए, अच्छा बोलिए, लेकिन हम त कड़ुआ सच बोलने से भी नहीं डराते हैं...प्रनाम!!!

    ReplyDelete
  16. सक्सेना जी,
    आपके profile देखा.मैं आँचल ट्रस्ट के बारे में
    जानना चाहता हूँ.आँचल के बारे में पहले सुना हुआ है.मैं इसमें कैसे कुछ योगदान कर सकता हूँ.कृपया मेरे ईमेल पर मेल कर दें.
    mobile no.9910814815

    ReplyDelete
  17. दीपक भाई !
    बहुत छोटा और सीमित संसाधनों से मुसीबतजदा लोगों के लिए, कुछ योगदान की कामना लेकर यह ट्रस्ट " आँचल" बनाया गया था ! इसमें कोई योगदान नहीं लिया जाता, जब किसी की मदद करनी होती है तो उसी समय व्यवस्था करते हैं ! फिलहाल ऐसी कोई आवश्यकता नहीं है !
    साभार !

    ReplyDelete
  18. chintansheel baat kahi hai jiska ham sab ko anusaran karna chaahiye.

    shukriya...

    ReplyDelete
  19. बेहतर होगा की लेखन का वस्तुगत विश्लेषण करके ही संतोष धारण
    किया जाय ! कच्चापन नहीं रहेगा तो भविष्य में दुःख नहीं होगा ! आभार !

    ReplyDelete
  20. आज हो ये रहा है की लोग बिना पढ़े ही बहुत कुछ लिखना चाहते हैं....और हो जाता है सब गड़बड़ ...
    लिखने के लिए पढना बहुत ही जरूरी है......
    बहुत सुन्दर
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  21. अनवर भाई !
    कृपया पोस्ट के विषय से हटकर टिप्पणी न करे तो आभारी रहूँगा !

    ReplyDelete
  22. आपने तो वह बात लिख दी जिस विषय पर मेरी बहसें हो जाया करती हैं और लोग नाराज हो जातेहैं ,सभी आज कल टी आर पी बढाने की होड़ में भागे जा रहे हैं ,ये भी नहीं देखते कि उनके पैरों के नीचे उनके ही बच्चे का सर कुचला जा रहा है

    अगर आपकी नजर में कोई सोरायसिस का मरीज हो तो हमारे पास भेजिए ,हम उसका फ्री ईलाज करेंगे दो महीने हमारे पास रहना होगा
    www.sahitya.merasamast.com

    ReplyDelete
  23. जब कहने के लिए कुछ न हो तो चुप रहना ही ठीक है, बशर्ते अपने ज़िंदा होने पर शक न हो.

    ReplyDelete
  24. लेख़क के व्यवहार और व्यक्तित्व के बारे में जानना हो तो उसके कुछ लेख ध्यान पूर्वक पढ़ लें

    ये काम तो सभी को करना चाहिए
    खुद की पोस्ट भी देखनी चाहिए इस इसलिए हम तो तुरंत देख कर आते हैं :)

    ReplyDelete
  25. बिल्कुल सही चेताया सही वक्त पर आपने..फिर भी कोई न समझे तो क्या किया जाये.

    ReplyDelete
  26. @- लिखने के लिए पढना बहुत ही जरूरी है......

    so true !

    ReplyDelete
  27. bahut hi sahi baat likhi hai aapne. mai aapki baato se sahamat hun.

    ReplyDelete
  28. सतीश जी प्रणाम,

    आप निरंतर ही ब्लॉगजगत से जुड़ी समस्याओं पर बड़े ही सरल और अच्छे शब्दों से पर्दे उठाते रहे फिर भी कुछ ऐसे शॅक्स है जिन्हे कुछ समझ में नही आ रही है हम यहाँ कुछ सीखने और कुछ देने के उद्देश्य से आते है ना किसी कोई मुद्दा बना कर आपस में लड़ने....सुधार ज़रूरी है देखिए कब तक हो पता है..बढ़िया प्रसंग..प्रणाम

    ReplyDelete
  29. बहूत खूब सतीश जी. एक-एक शब्द सही है, आपसे पूर्णत: सहमत हूँ.

    http://premras.blogspot.com

    ReplyDelete
  30. सक्सेना सहाब, बात वहीं आकर अटक जाती है , जहां आत्मचितन करना हो, अगर हमें वह गुण होता तो एक गुलामी के बाद दुसरे गुलामी और फिर तीसरी गुलामी और अब अप्रत्यक्ष गुलामी क्यों झेलते पहले के बाद ही आत्म चिंतन किया होता तो दूसरी गुलामी ही नहीं आती !

    ReplyDelete
  31. लेखन और बोले शब्द अमर होते हैं और परिवार , समाज पर गहरा असर डालते हैं ! बिलकुल सही कहा सर आपने
    इसी कारन तो लोग कुछ भी लिख देतें हैं /बिना उसके प्रभाव को पहचाने

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,