Wednesday, June 16, 2010

मुझे ब्लाग जगत ने क्या क्या दिया -सतीश सक्सेना




                     बहुत कुछ दिया है ब्लाग जगत ने हमें ! अजनबी मगर आपस में समान रूचि वाले लोगों में जो अपनापन और प्यार इस आभासी जगत में पाया जाता है अन्यंत्र शायद दुर्लभ है ! ब्लाग जगत ही एक ऐसा स्थान है जहाँ एक छोटे से कसबे में रहने वाला ब्लागर, आसानी से उच्च पदस्थ अधिकारियों , पत्रकारों, कलाकारों और विदेशों में बसे भारतीयों से आसानी से बेहद अपनापन और घनिष्टता के सम्बन्ध बना सकता है !स्वाभाविक है कि एक सामान्य लेख़क भी बहुत शीघ्र अपने आपको , इन संबंधों के कारण शक्तिशाली महसूस करने लगता है !


                     उदाहरण के लिए इन्हीं मधुर संबंधों के चलते मुझे विदेश यात्रा के दौरान श्री राज भाटिया और श्री दिगम्बर नासवा ने क्रमशः जर्मनी और दुबई आने का न्योता दिया था !



शायद इसी कारण , ब्लाग जगत में आपसी प्रतिस्पर्द्धा और फलस्वरूप ईर्ष्या  के कारण अक्सर घमासान मचा रहता है ! लोग आगे आने के लिए क्या नहीं करते ,हर आदमी इस बढ़ती हुई भीड़ से अपना चेहरा दिखाने के लिए सब कुछ करना चाहता है, जिससे उसे सार्वजनिक मान्यता मिल जाए ! फलस्वरूप ब्लागजगत में बेहतरीन कलम के धनी  लोग, जो यकीनन श्रद्धा के लायक हैं, आपस में विभिन्न खेमों में बट गए हैं ! 

                        विभिन्न क्षेत्रों में समर्पित विद्वान् ब्लागरों में व्याप्त यह असहिष्णुता, जो हमें आपस में लड़ा रही है, का विरोध करने की हिम्मत कम ही लोग कर पा रहे हैं  ! जो कोशिश करता है उस पर दूसरे पक्ष का साथ देने का आरोप लग जाता है, सो धीरे धीरे ऐसे प्रयास भी दम तोड़ते जायेंगे ! अफ़सोस है कि लोग विश्वास की जगह को अविश्वास अधिक आराम से अपनाते हैं ! ये हम जैसे तमाम लोगों की पीड़ा है...जो किसी गुट में नहीं जाना चाहते  !  
"तंग-जाहिद नज़र ने मुझे काफिर समझा
और काफिर ये समझता है मुसलमाँ हूँ मैं"

                              अंत में अनूप शुक्ल को, नमन करते हुए उनके "ब्लागर छत्तीसा " पैरा २८ के अनुसार "किसी बेसिर पैर की बात को जितने अधिक विश्वास से कह सकता है वह उतना ही सफल ब्लागर होता है ! "

40 comments:

  1. kya kahe...?
    shavdheen anubhav kar rahee hoo...........
    mai to apane bare me itna jantee hoo ki apane anubhavo ko batora aur blog ke madhym se abhivykt kiya.......socha jab khalee hath janm liya tha in anubhavo se jo seekha hai sath kyo lejae.......bhoole bhatke agar koi aae to shayad kahee sambal mil jae......mera blog comments ka mohtaz nahee......
    nakaratmakata ka ravaiya kisee bhee drashtikon se Satish jee theek nahee........

    ReplyDelete
  2. सतीश जी ... दरअसल खुद का खुला व्यक्तित्व भी दूसरे को आकर्षित करने वाला होना चाहिए तभी आपसी संबंध बनते हैं और फिर हम तो मानते हैं .. जैसी रही भावना जिसकी .... अतिथि में देव को देखने की परंपरा के वारिस हैं हम तो ... आप का खुला व्यवहार ने ही प्रेरित किया मुझे भी आपको दुबई का न्योत देने को ... वैसे ये जीवन अगर आपसी प्यार में कट जाए तो इससे अच्छा क्या .... आपसी गुटबाजी में कुछ नज़र नही आता मुझे तो

    ReplyDelete
  3. मुझे तो फोटो कमाल के लगे..

    ReplyDelete
  4. ham to iske sukhd paksh ko hi dekhe
    achha aalekh aisi bato ko jitna sochege nkaratmkta hi dikhai degi .ham to likhte rhe aur aps me sneh bantte rahe .

    ReplyDelete
  5. घबराईये नहीं अब आ गयी है जूनियर्स ब्लागर्स की जबड़ा तोडू फ़ौज ! सावधान हो जाईये !

    ReplyDelete
  6. सतीश शेरमा साहब में अनूप शुक्ल जी से सहमत हूँ की किसी बेसिर पैर की बात को जितने अधिक विश्वास से कह सकता है वह उतना ही सफल ब्लागर होता है ! मेरा जारी तजरबा यह है की अगेर आप सच बयान करें, हक की बात करें तोह एक कामयाब ब्लॉगर नहीं बन सकते. सच में ज़रा झूट मिला दें, नाम हक का और बात नाहक करीं तोह बड़े कामयाब ब्लॉगर बन सकते हैं.

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  8. पहला पैरा बिल्कुल सही । अनजाने दोस्त बन जाते हैं ।
    लेकिन बे सर पैर की लिखने वाले ही सफल होते हैं यह ठीक नहीं ।
    कुछ सार्थक लेखन भी हो रहा है यहाँ ।

    ReplyDelete
  9. सतीश भाई,
    और किसी को ब्लॉगवुड से क्या मिला, क्या नहीं मिला, नहीं जानता...हां इतना ज़रूर जानता हूं कि आप जैसा बड़ा भाई मुझे दे दिया, जिसका दिल हर किसी के दर्द के लिए धड़कता है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  10. bahut se naye rishte diye blog jagat ne..bahut badhiya baat kahi chacha ji apne...

    ReplyDelete
  11. "तंग-जाहिद नज़र ने मुझे काफिर समझा
    और काफिर ये समझता है मुसलमाँ हूँ मैं"

    बहुत खूब सतीश भाई !

    यहाँ खुशदीप भाई से १००% सहमत हूँ | आप से जब भी बात करी यही लगा अपने दिल बात अपने बड़े भाई से कह रहा हूँ ! अपना आशीष बनाये रखियेगा !

    ReplyDelete
  12. Bae bhai ko namaskar,

    main aap se kitne dino se milna chahta hun magar aap hain ki itna jyada busy rahte hain kya batain.

    Khair kaise rahi Videsh yatra

    ReplyDelete
  13. बहुत सही आकलन किया है आपने सतीश साहब। आपने पिछले दिनो अपनी कोशिशो से ब्लागजगत मे जो अच्छा माहौल बनाया आपकी वो कोशिशे काबिल ए क़द्र है

    ReplyDelete
  14. सक्सेना साहब,
    शेर बहुत अच्छा लगा,
    "तंग-जाहिद नज़र ने मुझे काफिर समझा
    और काफिर ये समझता है मुसलमाँ हूँ मैं"

    ये ब्लॉग जगत भी तो उसी दुनिया का हिस्सा है, जिसमें हम आप रहते हैं। हर तरह के लोग हैं यहां भी, लेकिन अनुभव अपने भी अच्छे ही रहे हैं यहां पर, अभी तक। कभी कभी बुरा भी लगता है पर सब अच्छा ही अच्छा तो अपने घर, ऑफ़िस में भी नहीं होता।
    फ़िर कहता हूं, शेर बहुत अच्छा और कैनूं है।
    आभार।

    ReplyDelete
  15. खुशदीपजी जैसा कह रहे है तो यही सबसे बड़ी बात है। मुझे भी अपना ही समझे। अच्छे लोगों से मिलकर भला किसे अच्छा नहीं लगता।

    ReplyDelete
  16. सतीश जी आप जैसे स्नेही को कौन नही सुनना चाहेगा.
    दिगंबर जी के कथन को मेरा भी कथन माना जाये.
    वैसे दिगंबर जी जैसे नेक दिल साथी का साथ मुझे मिलता रहा है और भाटिया जी वो शख्स हैं जिनकी टिप्पणी मुझे ब्लॉगजगत में तब मिलती थी जब मेरा कोई अत पता नही हुआ करता था.

    आपका बहुत शुक्रिया अपने अनुभव को बांटा हमसे.

    ReplyDelete
  17. ब्लागर छत्तीसा की जय हो.

    ReplyDelete
  18. ब्लाग जगत में आपसी प्रतिस्पर्द्धा और फलस्वरूप ईर्ष्या के कारण अक्सर घमासान मचा रहता है !'
    यह तो ब्लागज़गत की सफलता है.
    बहुत सही कहा है ब्लागज़गत ने बहुत कुछ दिया है.

    ReplyDelete
  19. मस्त रहें और देश को आगे बढ़ाएं.

    ReplyDelete
  20. मै भी यही विषय उठाना चाहता था . जल्द ही लिखुन्गा मुझे ब्लाग से क्या मिला

    ReplyDelete
  21. Satish ji,

    Survival of the fittest !

    Jo darr gaya wo mar gaya !

    ReplyDelete
  22. आकर्षण तो मेहनत से ही आयेगा ।

    ReplyDelete
  23. kya hum apko nahin mile ? hamara naam bhi le diya hota. khair iski shikayat Bhabhi maa se ki jayegi .

    ReplyDelete
  24. ब्लॉग जगत ने मुझे भी तो दिया है आपको....ही ही ही ही ....

    ReplyDelete
  25. ....फ़िफ़्टी-फ़िफ़्टी!!!

    ReplyDelete
  26. सच है, बहुत कुछ मिला है इस ब्लॉग-जगत से.

    ReplyDelete
  27. अटल बिहारी जी की कविता याद आ रही है,
    क्या खोया क्या पाया जग मैं
    मिलते और बिछड़ते जग मैं
    मुझे किसी से नही शिकायत
    यध्पि छला गया पग पग मैं.........

    ReplyDelete

  28. सहमत हूँ, बहुत कुछ लिया और दिया जा सकता है,
    बशर्ते कि आत्मप्रवँचना के भाव को दूर रखते हुये वास्तविक दुनिया से जुड़ाव कायम रखा जाये !!
    यह न भूला जाये कि, लैपटॉप के इस पार भी एक दुनिया है, उसकी व्यवहारिकतायें हैं, और उसकी पुरजोर अपेक्षायें भी हैं ।
    मोबाइल फोन के उस पार एक आवाज़ होती है, चेहरा नहीं होता.. सँदेश प्रक्षेपित तो होते हैं, पर सँप्रेषण के सँवेदन को आँक पाना कठिन होता है । ब्लॉगिंग तकनीक ने विचार और सँदेशों के त्वरित आदान प्रदान के यथासुलभ अवसर दिये हैं, पर मानवीय भावनाओं को मशीनी स्तर पर ला खड़ा किया है !
    नुक्कड़ के हुल्लड़ का, ड्राइँगरूम की गप्पाश्टक गोष्ठी का, बहस मुसाहिबत की गर्मजोशी के लुत्फ़ को एक आभासी चरित्र गढ़ कर नहीं जिया जा सकता ! बड़े बड़े मतभेद चाय की एक प्याली के ज़ुर्माने मात्र से सुलट जाते थे.. अब ? हाँ, इस मुई ब्लॉगिंग ने अपने को ’ मुझसा न दूजा कोई ’ लगातार साबित करते रहने का एक वैश्विक मँच अनायास ही घर-बैठे मुहैय्या करवा दिया है ! इस उपलब्धि की सहजता और आसानी ने कितनों का हाज़मा खराब किया है, क्या यह बताने की आवश्यकता है ? मुझे ( हिन्दी ब्लॉगिंग में ) कोई ऎसी नज़ीर नहीं मिलती कि किसी ब्लॉगर ने इस माध्यम को तृप्त होकर छोड़ा हो न कि तिक्त होकर ?

    अभी कुछेक घँटे पहले ब्लॉगर बँधु श्री राज सिंह के मातृविछोह के त्रयोदशा सँस्कार से प्रतापगढ़ के गाँव दँडूपुर मुफ़रिद से लौटा ही हूँ, सँग में फोटू खींचने वाला मोबाइल भी था.. क्या मुझे अन्यंत्र दुर्लभ इस आभासी जगत के प्यार भरे सँबन्ध से उपजे सामान्य शिष्टाचार निभाने की कवरेज़ देनी चाहिये थी ? प्रथम दृष्टया तो यह स्नेह पगे धौलधप्पे और उनके व्यवहार का खु्लापन इस ऍप्रूवल छद्म से निताँत अलग है, जिससे कि मोटरबाइक की दौड़ाहट से क्लाँत एक टिप्पणीकार अभी रूबरू होने जा रहा है, गो कि यह बेहतरीन पोस्ट है, प्रिय मित्र सतीश सक्सेना साहब की लिखी हुई है, और इस बेला ब्लॉगवाणी की पहली पायदान पर खड़ी है ।

    माफ़ करना दोस्त, ब्लॉगिंग ने हमसे हमारी सहजता छीन ली है, हम निजता का हनन, सीमा का अतिक्रमण, मर्यादाओं की मर्यादा जैसे शब्दों से अपने को घेर कर, सड़ाँध को इत्र से ढक कर रखने की पवित्रता के अहँ को जीने लगे हैं !


    Q. दिव्या Divya
    आज तक डरने और मरने यहाँ कोई आया है क्या ? सभी पूरे होशो-हवास और सरफ़रोशी के जोश से ही आते देखे गये हैं !
    कृपया अपने को स्पष्ट करें, क्या कोई जिज्ञासा, विमर्श या विचार परस्पर एक दूसरे को डराने के लिये ही ठेले जाते हैं ?
    आपके कमेन्ट कोने में मुझे आज कुछ अँधेरा दिख रहा है, कृपया रोशनी डालें.. Light डालने से भी चलेगा !
    अभिवादन !

    ReplyDelete

  29. ऑब्ज़ेक्शन ओवर-रूल करके यदि मेरी उपरोक्त टिप्पणी प्रकाशित हुई भी हो,
    तो इस पर आगामी पाठकों की त्वरित प्रतिक्रिया तो आने से रही... विमर्श के सँवाद तो ओझल हैं
    क्योंकि अपने से पिछले टिप्पणीकार का मत जाने बिना, वह बेखबर अपना कीबोर्ड खटखटा रहे होंगे ?

    ReplyDelete
  30. @ अरविन्द मिश्र ,
    एसोसियेशन कोई भी बने, मैं हमेशा समर्थन करता रहा हूँ , उससे पारस्परिक विचारविमर्श का एक मंच तैयार मिलता है , निस्संदेह युवा लोगों को बढ़ावा देना चाहिए और मेरे ख़याल से कुछ युवा साथियों में गज़ब की प्रतिभा है ...
    हाँ, इस युवा जोश का फायदा उठाने का प्रयत्न न किया जाये जो अक्सर गुरुजन स्वभाव वश करते हैं, तो सब ठीक ही रहेगा !

    @भाई तारकेश्वर गिरी,
    दिल के आइनें में है तस्वीर आपकी
    जब जरा गर्दन झुकाई , देखली !
    आपका स्वागत है, जब भी जहां भी ! इस प्यार से तो आप जहां चाहें बुला लें ....

    @ डॉ अयाज अहमद साहब ,
    उन कोशिशों में आपने मुझे प्रमुखता दी है,श्रेय देने के लिए आपका धन्यवाद मगर मुझे ऐसा नहीं लगता कि इसमें मैंने कुछ अधिक किया है ! अगर आप खुद , सहसपुरिया साहब , कैरानवी साहब और खुद डॉ अनवर जमाल साहब साथ न देते तो मेरी क्या बिसात ! आप लोगों की समझ और विद्वता पर मुझे कोई संशय नहीं और ईमानदारी से कहूं तो विषय विशेष पर मुझे आप लोगों से कम समझ है, यह मैं जानता हूँ ! डॉ अनवर जमाल विद्वान् हैं जब वह सामान्य मूड में होते हैं तो उनके जवाब देखते बनते हैं !
    जहाँ तक कट्टर वादियों का प्रश्न है, उन्हें मैं क्या, कोई नहीं समझा सकता , बिना यह जाने की इसका हश्र उनके परिवार पर क्या पड़ेगा वह अपना ही राग आलापते रहे हैं ! इश्वर ऐसे बुद्धिमानों को समझ प्रदान करे ! "दुसरे पक्ष को आदर तभी मिलेगा जब वह खुद आदर करना सीख ले " इस सार्वभौमिक सत्य को, आज नहीं तो कल मानना पड़ेगा , और यही कहानी सामान्य ब्लाग जगत में भी लागू होती है !

    @ राजकुमार सोनी जी ,
    आपके इन शब्दों के लिए आपका आभारी हूँ

    @ दिव्या जी ,
    मेरा ख्याल भी यही है, कि इस महासागर में, जो नित्य बढ़ रहा है, समय के साथ वही बचेगा जो ठीक होगा और इस ठीक का फैसला करने के लिए लाखों जज हैं यहाँ जो बढ़ते ही जा रहे हैं ! डरते कमजोर और बेईमान लोग हैं , ऐसे लोग देर सबेर अपना असली चेहरा लेकर सामने आ ही जाते हैं !

    @सहसपुरिया साहब ,
    बड़ी प्यारी लाइनें लिखी हैं आदरणीय वाजपेयी जी ने ...पढवाने के लिए शुक्रिया !

    @डॉ अमर कुमार,
    मैं ब्लागवाणी में मैं यह कभी देखता ही नहीं कि मेरी पोस्ट ने कितने माइनस या प्लस नंबर लिए , आपकी सुचना के लिए शुक्रिया, मगर मुझे विश्वास है कि वहां मुझे माइनस अंक जरूर मिले होंगे ! आपकी टिप्पणी के अधिकांश भाग से सहमत हूँ , जहाँ तक आपके प्रति मेरे भाव का सवाल है आपके प्रति, लिंक्डइन में बड़े स्पष्ट शब्दों में लिखा है ! आपका इन दिनों लेख न लिखना कई बार खलता है कृपया मेरा विरोध दर्ज करें !आपसे अपेक्षाएं हैं भाई जी !

    @ डॉ अमर कुमार ,
    गुरुदेव, यहाँ आपके विश्वास में नैराश्य क्यों ???

    ReplyDelete
  31. मुझे तो गर्व है कि आपसे दोस्त मिले.

    ReplyDelete
  32. ब्लाग जगत ही एक ऐसा स्थान है जहाँ एक छोटे से कसबे में रहने वाला ब्लागर, आसानी से उच्च पदस्थ अधिकारियों , पत्रकारों, कलाकारों और विदेशों में बसे भारतीयों से आसानी से बेहद अपनापन और घनिष्टता के सम्बन्ध बना सकता है !
    "आपके इन विचारो से हम भी सहमत हैं,
    regards

    ReplyDelete
  33. ब्लागजगत मे जो अच्छा माहौल बनाया आपकी वो कोशिशे काबिल ए क़द्र है

    ReplyDelete
  34. @--Q. दिव्या Divya
    आज तक डरने और मरने यहाँ कोई आया है क्या ? सभी पूरे होशो-हवास और सरफ़रोशी के जोश से ही आते देखे गये हैं !
    कृपया अपने को स्पष्ट करें, क्या कोई जिज्ञासा, विमर्श या विचार परस्पर एक दूसरे को डराने के लिये ही ठेले जाते हैं ?
    आपके कमेन्ट कोने में मुझे आज कुछ अँधेरा दिख रहा है, कृपया रोशनी डालें.. Light डालने से भी चलेगा !
    अभिवादन !

    Dr. Amar,

    First of all i appreciate your sense of humor hidden beautifully behind 'ujala' and 'light'.

    Now coming to the point..

    I am not sure about others but i surely came here after losing all my hopes. It was the last resort chosen to fight the inner battle.

    No one comes here to scare anyone. The bitter truth is that people come here after running away from the harsh realities of life. But unfortunately when they discover that virtual world is no different from the real world, they simply give up. It's kind of escapism in my humble opinion.

    Koi kisi ko darayega kya? We need to fight our own fears first and that is the battle called LIFE.

    for more 'ujala'and'light'..Kindly visit-

    zealzen.blogspot.com

    regards,

    ReplyDelete
  35. हमरे पोस्ट पर आपका दोबारा टिप्पणी के ऊपरः
    अब आपसे नराज होकर हम नरक में जाएंगे का!!! हम त दू दिन से मुँह फुलाए हुए थे लेकिन जब आप पुछबे नहीं किए त हारकर बताना पड़ा… ई त ओही बात हो गया कि पड़िए जब बीमार तो कोई न हो तीमारदार... अब 13 का पहाड़ा मत याद करवाइए, 5 का पहाड़ा से काम चलेगा?
    ऊ सब सवाल जाने दीजिए – जब गले मिल ही गए, सारा गिला जाता रहा. प्रनाम!!

    ReplyDelete
  36. अब स्पर्धा, ईर्ष्या, घमासान, विरोध का तो मुझे पता नहीं, किंतु इतना अवश्य है कि मैं चमगादड़ हूँ, उल्टा लटका, इण्टरनेट के अंधकार में विचरण करता हूँ, मुँह से एक ख़ास आवाज़ निकालते हुए जिसे आप ब्लॉग कहते हैं... दिखाई तो देता नहीं मुझ चमगादड़ को, लेकिन जहाँ से मेरे स्वर वापस आ जाएं, समझ जाता हूँ कोई है, जिस तक मेरी आवाज़ पहुँची है...
    आप भी ऐसे ही मिले थे मुझे और दूसरी पहचान उनसे हुई जिनका नाम… न …जो स्वनामधन्य हैं...अपनत्व!!!हमारे उद्गार उन तक पहुँचाने की कृपा करेंगे.

    ReplyDelete

  37. @ सतीश सक्सेना
    सतीश यार, बिगड़ता काहे है ? अब तो दुनिया मुट्ठी में रहा करती है, सो नेटवर्क मिलते ही मोबाइल पर ब्लॉगवाणी की प्रविष्टियाँ देख डालीं । यहाँ पहुँचते ही पोस्ट पढ़ी और मॉडरेशन की परवाह न करते हुये, फ़ौरन टिप्पणी दे डाली.. बस, इतना ही तो ?
    ब्लॉगवाणी के प्रविष्टियों के दौड़ में शामिल न सही, पर ब्लॉगिंग गतिविधियों के विहँगम आकलन के लिये इसे देख भी लिया करो !
    यही वह समुँद्र है, जहाँ ब्लॉग-मँथन से निकलने वाली ’ पुँजिकास्थला जैसी अप्सराओं ’ को हथियाने के देव नित तिकड़में भिड़ाया करते हैं, और असुर रणभेरी फूँका करते हैं । बिगड़ता काहे है, बस अपना टैगलाइन याद कर, लाइट ले यार !

    @ दिव्या Divya
    so, you have arrived in blogging arena... Welcome ! May it prove itself Mecca of rationality-mongers.

    Solicitiously gone through your front page writing I love my solitude ! But desisted in putting any comment there, lest solicitude of a solitarian may not be disturbed. Bravo..you write well !

    ReplyDelete
  38. प्रेरक एवं मूल्यवान विचार के लिए बधाई स्वीकारें|

    ""ब्लागिंग" आधुनिक तकनीकी के माध्यम से अभिव्यक्ति का एक सरल और अच्छा उपाय जनता के हाथ लगा है। इसके द्वारा लोकवाणी अपने वास्तविक रूप में उभर रही है। आम आदमी की आप बीती इसमें मुखर हो रही है। उसकी आकांक्षाएं इसमें जन्म ले रही हैं जिनकी गूंज देश-विदेश सभी जगह पहुँच रही है। लोकवाणी किसी की मोहताज नहीं होती है। वह अपनी राह अपने आप बनाते हुए आगे बढ़ती है। ब्लाग-लेखन जैसे-जैसे गति पकडेगा इसका स्वरूप निर्धारित होता जाएगा।"

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,