Friday, June 18, 2010

पानी में डूबे वेनिस को महसूस करें - सतीश सक्सेना

११७ छोटे छोटे द्वीपों से बने शहर वेनिस या वेनेज़िया को देखने की तमन्ना बचपन से ही थी , जो मेरे योग्य
बच्चों ने समय से पहले ही पूरी कर दी ! काफी लोगों का अनुरोध था कि मैं कुछ चित्र प्रकाशित करुँ ! सो पानी में डूबे इस बिचित्र शहर वेनिस की कुछ झलकियाँ देखिये ! मुझे उम्मीद है इसे देख कर आपको ऐसा लगेगा जैसे हम अपने यहाँ के किसी बाढ़ग्रस्त शहर में बचाव कार्य कर रहे हैं !
इस खूबसूरत शहर को घूमने की तमन्ना थी जहाँ सड़कों की जगह पानी और टेक्सी ट्रेन की जगह सिर्फ नाव थीं ! जहां पर किसी तरह के प्रदूषण का नाम नहीं ! मेन लैंड से कटा यह द्वीप समूह    स्वप्न में आयी कोई जगह लग रही थी ! गंडोला राइड  के नाम से मशहूर गलियों में घुमाने वाली नाव के चार्जेस १०० यूरो  आधा घंटे के लिए ( ६ आदमियों के लिए )देकर यह अनुभव बहुत सुखद रहा ! लोग बहुत मिलनसार और हंसमुख थे,हालांकि हमें बताया गया था कि यहाँ पर अपने सामान की सावधानी रखें ! पूरे यूरोप में सिर्फ इटली आकर ही यह चेतावनी कुछ बिचित्र अवश्य लगी ! एक और बात में कुछ हमारे यहाँ का सा माहौल लगा और वह थी  वहां की अस्तव्यस्तता , कुछ कुछ हमारे नगर निगम से मिलता जुलता हाल या कुछ बेहतर ! कुछ संतोष हुआ :-), ऐसे भी बुरे नहीं हैं हम ! पूरे यूरोप में जहाँ अन्य देश और नगर बेहद साफ़ सुथरे लगे वहीं इटली में आकर गंदे खुले नाले, इटालियन     पत्थरों की फैक्ट्री , रोड साइड में झाड़ियाँ आदि देख अपने  जैसा जाना पहचाना माहौल लगा ! :-) 
कई प्रश्न ,समय की कमी के कारण मन में रह गए कि यहाँ के लोगों का आपस में मिलना जुलना, बिना खुली जगह और मैदानों के कैसे होता होगा !पडुआ -वेनिस पास पास एक ही प्रशासन में आते हैं ,हमारा होटल पडुआ में था , सुबह ग्रुप के साथ गए भारतीय कुक के कारण , शुद्ध भारतीय शाकाहारी नाश्ता करके , अपनी इंग्लिश कोच में, वेनिस के लिए रवाना हुए थे ! हमें बताया गया था कि कोच वेनिस शहर में नहीं जा सकती अतः कोच को पोर्ट पर, पार्क कर आगे हमें स्टीमर से वेनिस शहर के दरवाजे पंहुचना  था ! सेंट मार्क्स
स्कुआयर, वेनिस में सबसे मशहूर स्थल है,पंहुचने में हमें लगभग २० मिनट लगे होंगे ! और विश्व में सर्वाधिक आश्चर्यचकित करने वाली जगह हमारे सामने थी ! वेनिस शहर में जाती गहरी गलियाँ ,लबालब समुद्री पानी में, दरवाजों तक डूबी हमारे सामने थीं !              
वेनिस के लोग बहुत सम्रद्ध थे और आज भी माने जाते हैं !सबसे बड़ा आश्चर्य वेनिस में मकान बनने की कला है , लकड़ी की गहरी पाइल्स गहरे पानी में ठोकी जाती हैं जब तक ठोस जमीन  न छू ले ! गहरे पानी में लकड़ी का क्षरण नहीं होता और यह पत्थर जैसी मजबूत नीव का काम करती हैं !सैकड़ों बरसों से समुद्र के गहरे पानी में , लकड़ी की नीव पर बने पत्थरों और ईंटों के यह कई मंजिला भवन, अच्छे अच्छे सिविल इंजिनियर को विस्मय में डालने के लिए काफी हैं ! एक इंजिनियर के नाते मेरे लिए यह समझना और साक्षात् देखना बहुत विस्मयकारी और सुखद रहा ! वेनिस के स्ट्रक्चर को समझना आसान नहीं है जिस प्रकार वेनिस वासियों ने इस शहर को बनाने में मेन लैंड की नदियों को मोड़ा और समुद्री ज्वार भाटा से बचाव किया है वह किसी भी अभियंता के लिए सीखने और रिसर्च का विषय है ! और हाँ वेनिस में कोई सीवर सिस्टम नहीं है , घरों का वेस्ट सीधा कैनाल में बहाया जाता है , पूरे शहर में मुश्किल से २० प्लंबर हैं ! 
बहरहाल वेनिस पोर्ट पर अपने ग्रुप लीडर नानू सेठना के सौजन्य से ,बीयर के साथ इटालियन पीज़ा  के टुकड़े खाना शायद ही कभी भूल पायें ! वहाँ पोर्ट के किनारे किनारे ,लगी सजी हुईं दुकाने दिल्ली के जनपथ या मुंबई के चौपाटी की  रंगीनियाँ बिखेरती लग रहीं थी ! 
  

56 comments:

  1. १०० यूरो में आधा घंटा ! बहुत महँगी राइड थी भाई ।
    लेकिन हमें तो मुफ्त में सैर कर के आनंद आ गया ।
    बेशक यह तो विस्मयकारी है , पानी पर घरोंदा बनाना ।

    ReplyDelete
  2. Satish bhaiya, bahut khushi huyi ki aapki tamanna poori huyi..pics bahut khoobsoorat hain...padhkar achhi jaankari mili..honestly kahun to naam to suna tha par itni information nahi thi..very nice...

    ReplyDelete
  3. Nice and informative post .

    ReplyDelete
  4. सतीश जी, पुरानी यादे ताजा करवा दी आपने. वेनिस वाकई एक अलग सा और अविस्मर्णीय शहर है. मुझे यहाँ पर पानी में ही एक अन्य इमारतों के साथ साथ एक पुरानी जेल ईमारत काफी रोचक लगी थी. वैसे गंडोला में बैठ कर बोट टेक्सी, बोट टेक्सी स्टैंड निहारने का अनुभव भी अलग सा ही है. St. Mark's Square के भी चित्र सुधि पाठको के लिए लगा देते तो अच्छा होता.

    ReplyDelete
  5. sooo amezingggggggggg and beautifulllllllll..

    regards

    ReplyDelete
  6. 100 euros is very expensive by any count or is it typing error because a private gandola cost about 80 euros only

    ReplyDelete
  7. pics are good, reports are also very nice

    ReplyDelete
  8. Vanice ki Sair aapke Pen ke through achchhi lagi.......saare photos dhyan se dekhne layak tha, thore bade hote to sayad behtar hota.......:)

    ab aap ye na kahna ek to free ka sair karwao, upar se salah de raha hoon.........:D

    just joking sir!!

    kabhi hamare blog pe aayen!!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर
    चित्र भी रिपोर्ट भी

    ReplyDelete
  10. @ रचना जी !
    यही रेट है वहां १०० यूरो प्रति आधा घंटा !

    @भावेश जी ,
    आपके चाहे चित्र लगा रहा हूँ ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  11. ... बेहतरीन पोस्ट!!!

    ReplyDelete
  12. आधे घंटे के लिए १०० यूरो ! चलिए आनंद तो आ गया.

    ReplyDelete
  13. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this site
    to increase visitor.Happy Blogging!!!

    ReplyDelete
  14. आनन्ददायक रिपोर्ट… इसी बहाने हम वेनिस घूम लिये…
    ===========

    "हालांकि हमें बताया गया था कि यहाँ पर अपने सामान की सावधानी रखें ! पूरे यूरोप में सिर्फ इटली आकर ही यह चेतावनी कुछ बिचित्र अवश्य लगी…" हे हे हे हे हे "इटली" का नाम सुनकर मुझे भी लगा था… :) :) :)

    ReplyDelete
  15. सफरनामा अच्छा है , अगर ज़्यादा तफ़सील से बताए तो दूसरो के काम आ सकता है, वहाँ कहाँ रहे, कहाँ खाए वगेरा वगेरा...

    ReplyDelete
  16. वेनिस पर चित्रों सहित लुभावनी पोस्ट !

    ReplyDelete
  17. @ सहसपुरिया भाई !
    याद दिलाने के लिया शुक्रिया ! अब दुबारा पढ़िए !

    ReplyDelete
  18. सतीश जी आपकी आँखों से वेनिस देखा अच्छा लगा और हाँ हम कहीं भी जाएँ अपना भारत ही ढूंढते हैं और ढूंढ़ भी लेते है

    ReplyDelete
  19. सतीश जी पुरे युरोप मै एक इटली ही नही ओर भी काफ़ी देश है, जहां हमे सावधान होना पडता है, पोलेंड होलेंड, चेको, हंगरी, वगेरा वगेरा, इन सअब जगहो पर हम अपने समान का बहुत ध्यान रखते है, बाकी वेनिस मै हम पुरा दिन रहे थे, लेकिन हमे पसंद नही आया, सारा शहर पेदळ ही घुमे, चलिये आप को पसंद आया अच्छी बात है,१००€ यह तो मामुली है जी.....इस से मंहंगी भी मिलती है, बहुत सुंदर लगी आप की पोस्ट ओर चित्र

    ReplyDelete
  20. अच्छा लगा आपका वेनिस घूमना...पुरानी याद ताजा हुई हमारी.

    ReplyDelete
  21. रोचक जानकारियाँ वेनिस के बारे में ।

    ReplyDelete
  22. द ग्रेट गैम्ब्लर का गाना याद आ गया आपको मंडोला पर बैठे देख कर

    ReplyDelete
  23. द ग्रेट गैम्ब्लर का गाना याद आ गया आपको मंडोला पर बैठे देख कर

    ReplyDelete
  24. हमेशा मैं यही सोचता रहा कि पहले के समय मे पानी में मकान किस तरह बनाये गये होंगे । आज आपने इस पोस्ट मे यह बताया यह जानकर अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  25. 'इटली में आकर गंदे खुले नाले, इटालियन पत्थरों की फैक्ट्री , रोड साइड में झाड़ियाँ आदि देख अपने जैसा जाना पहचाना माहौल लगा ! :-) '

    - शायद इसी लिए सोनियाजी को भारत भा गया.

    बहरहाल आपकी पोस्ट ने वेनिस भ्रमण करा दिया.

    ReplyDelete
  26. सचित्र सुन्दर जानकारी धन्यवाद्

    ReplyDelete
  27. सतीश जी, एक बात बताएं कि मैंने सुना था कि समुद्र का स्‍तर बढ़ने के कारण वेनिस आज पानी में हैं तो सच क्‍या है?

    ReplyDelete
  28. @ डॉ अजीत गुप्ता,
    मुझे नहीं मालूम आपकी सूचना किस आधार पर है ,जितना मेरी जानकारी है, सैकड़ों सालों से वेनिस ऐसा ही बनाया गया है ! अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न लिंक देखें !
    http://en.wikipedia.org/wiki/Gondola
    http://en.wikipedia.org/wiki/Venice

    हाँ कुछ विद्वानों का ऐसा मानना है की वेनिस धीरे धीरे समुद्र में डूबने जा रहा है मगर इसमें भी विद्वानों की अलग अलग राय है ...

    ReplyDelete
  29. उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ!! मेरे सपनों का शहर....आप की नज़रों और कैमेरे की आँख से देखा...सपनों सा लगा... स्वप्निल अनुभूति!!!

    ReplyDelete
  30. आपकी नजरों से हमने भी वेनिस घूम लिया, मजा आ गया, बिल्कुल फ़्री में घूमकर :)

    आपके योग्य बच्चे साधुवाद के पात्र हैं, और पूरे परिवार को हमारी शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  31. अरे वाह! कमाल का शहर है ये तो! यहां तो बहुत नमी रहती होगी. बहुत अच्छा विवरण, लगा वेनिस की यात्रा हम भी कर रहे हैं. शानदार तस्वीरें भी.

    ReplyDelete
  32. I think more interesting part of their architecture must be the sewage system .no ?

    ReplyDelete
  33. जईसा देस वईसा भेस…लेकिन आप त पूरा देसी नजर आ रहे हैं सभे फोटूआ में… लड़िकाई में पढा हुआ जेम्स हेडली चेज़ का उपन्यास ‘मिशन टु वेनिस’ आँख के सामने से निकल गया…

    ReplyDelete
  34. आपकी पोस्ट के जरिये वेनिस घूमना बहुत बढ़िया लगा...
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  35. सतीश भाई, बहुत बहुत आभार आपका ..............घर बैठे बैठे ही सब घुमवा दिया !

    ReplyDelete
  36. सतीश दादा , दो दिन पूर्व सीजन की पहली बारिश हुई और दो दिनों से भारी धुप पड़ रही है. जिससे
    हमारे ४८ डिग्री गर्मी वाले शहर ने पुरे दिन भारी-भारी बोर तथा पीड़ित कर रखा था .अभी रात के १ बजे है . आपकी
    पोस्ट ने मेरे दिन भर की पीड़ा का पल भर में हरण कर लिया . अद्भुत शहर की अद्भुत जानकारी आपने उपलब्ध कराई!
    आप बुरा मत मानना मै कुछ प्यासा रह गया.. आशा करता हूँ आने वाले समय में आप ढेर सारे फोटो समेत इस शहर
    के रहवासियो की उनके खान-पान आदि-आदि की जानकारिया प्रदान करने की कृपा करेंगे ! ठीक गुड नाईट ...

    ReplyDelete
  37. सभी चित्र और यात्रा विवरण बहुत अच्छा लगा.
    बहुत सुन्दर शहर है.

    ReplyDelete
  38. अच्छा yaatraa sansmaran . ..समय हो तो पढ़ें जीने का तमाशा http://shahroz-ka-rachna-sansaar.blogspot.com/2010/06/blog-post_18.html

    शहरोज़

    ReplyDelete
  39. सेक्सपियर की पुस्तक "मरचेन्ट ऑफ वेनिस" के संबंध में पढ़ - सुन रखा था। आपके चित्रों के साथ यात्रा-वृतांत को पढ़कर वेनिस-भ्रमण भी हो गया। फलत: मैं अत्यंत अविभूत हुआ। उक्त संबंध में मेरी जानकारी में इजाफ़ा कराने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद।
    @ मेरे ब्लाग पर उत्पन्न हुई तकनीकी गड़बड़ी के संबंध में आपके सुझाव के लिए आभार। कमप्युटर संचालन में बारीक जानकारी नही है। बनाना कुछ चाहता हूँ बन कुछ जाता है। परिष्कार अनवरत चलने वाली प्रकिया है। आपके सुझावों की प्रतीक्षा रहेगी।
    सद्भावी - डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  40. सुन्दर तस्वीरें ...
    गहरे पानी में लकड़ी का छरण नहीं होता और मजबूत नींव का कार्य करती है
    रोचक जानकारी ..

    ReplyDelete
  41. बहुत खूबसूरत तस्वीरें... आपने तो हमें यहाँ बैठे बैठे ही वेनिस की सैर करा दी... :)

    ReplyDelete
  42. आपकी पोस्ट अच्छी है| इटली सुंदर है और महँगा भी | राज साहब के विचार सही हैं| खास पूर्वी यूरोप में आपको बहुत ख्याल रखना पड़ेगा| बार्सेलोना, सेविल्या, एम्स्टर्डैम, पेरिस, इन शहरों में भी आपको सतर्क रहना पड़ेगा|
    मेरा बुखारेस्ट में जेब कट चुका है, और एक एमेरिकन मुझे मिला, जिसका सामान ही चोरी हो गया|
    वैसे हम हिन्दुस्तानी भी बहुत पीछे नहीं हैं| जरा दिल्ली की बसों में बेफ़िक्र होकर घूम लीजिए, नतीजा आपके सामने होगा|

    ReplyDelete
  43. beautiful post ! I enjoyed reading.

    ReplyDelete
  44. सतीश सक्सेना जी
    काव्य , और ख़ासकर छंद को समर्पित होने के नाते मैं मेरे गीत शीर्षक से आकृष्ट हुआ आपके यहां आया । …लेकिन सच कहता हूं , ज़रा भी निराश नहीं हुआ , बल्कि इतने सधे सटीक शब्दों में लिखे आपके यात्रा संस्मरण के माध्यम से वेनिस की सैर का अवसर पा'कर बहुत ख़ुशी हुई ।
    आभार और बधाई !

    आपकी पिछली पोस्ट में काव्य के नमूने का भी आनन्द ले'कर लौट रहा हूं ।
    आपको भी शस्वरं पर आने का आमंत्रण है ।
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    ReplyDelete
  45. सतीश जी ... लगता है खर्चा करवा कर मानेंगे ...... इतने खूबसूरत फोटो हैं और इतना अच्छा विवरण दिया है की जाना ही पड़ेग अब ....

    ReplyDelete
  46. बारिश में अपना इलाका भी वेनिस बन जाता है.

    ReplyDelete
  47. ज़ीशान भाई !
    हँसते हँसते बुरा हाल हो गया हो गया है आपकी मासूमियत पर ! मुबारक हो आपको वेनिस में रहने के लिए हा...हा...हा....हा.....

    ReplyDelete
  48. आपके लेख के ज़रिये वेनिस की यात्रा अद्भुत रही. बहुत खूब!

    ReplyDelete
  49. रोचक जानकारियाँ वेनिस के बारे में ।

    ReplyDelete
  50. बहुत बढ़िया .वेनिश की अच्छी तस्वीरे है ... आभार
    ........
    एक बार जरुर पढ़े :-
    (आपके पापा इंतजार कर रहे होंगे ...)
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_08.html

    ReplyDelete
  51. bahut achchhi sair karwayi ji hame bhi,wo bhi free me..aabhaar..

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  52. बेहद सुन्दर तस्वीरे है श्री मान जी, अब तो मेरा भी मन वेनिस जाने का हो गया है ....धन्यवाद

    ReplyDelete
  53. बेहद सुन्दर तस्वीरे है श्री मान जी, अब तो मेरा भी मन वेनिस जाने का हो गया है ....धन्यवाद

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,