Thursday, July 1, 2010

ब्लाग जगत का चरित्र बताते कुछ उत्कृष्ट और अनूठे ब्लाग - सतीश सक्सेना

आज सोचा कि कुछ विचित्र ब्लॉगों के बारे में जानकारी लेने का प्रयत्न क्यों न किया जाये जो बिना  "ब्लागरों " के कमेन्ट के भी चल रहे हैं  ! 

  • इसी यात्रा क्रम में , एक विचित्रतम ब्लॉग  पर पंहुचा जहाँ  बी एस पाबला ,प्रिंट मीडिया पर आज किस ब्लाग की चर्चा हो रही है, यह ढूँढ कर लिखते हैं ! अपने उलटे सीधे कर्मों के लिए मशहूर यह सरदार मुझे वाकई विचित्र लगा ! आज के समय में जब लोग अपना अपना नाम मशहूर करने की जुगत में लगे हैं ! यह श्रीमान जी पूरे दिन अखबारों में  ढूँढ कर, एक खबर लगा कर बैठे हैं कि गजरौला टाइम्स ने खुशदीप सहगल को छाप दिया  ! १९ जून २०१० को  छपी इस पोस्ट के बाद, इस धुनी सरदार की  इस मेहनत पर खुद खुशदीप सहगल ने भी आकर धन्यवाद नहीं दिया  ! औरों को तो छोडिये उनको खुशदीप सहगल की तारीफ़ से क्या लेना देना , जो आकर बी एस पावला के इस सरदारी परोपकार को धन्यवाद दें ! इस बेहतरीन काम पर केवल एक कमेंट्स आया  जिसका इस पोस्ट से कुछ भी लेना देना नहीं ! 


मगर वाकई मेरे शेर  ( शेर तो तुसी हो ही ...गुरु का शेर ...हमारी अस्मिता की रक्षा के लिए कटिबद्ध परिवार के बड़े भाई  को लख लख बधाइयां ) तुम्हारा यह काम, तुम्हे मेरी निगाह में बहुत ऊंचे स्थान पर ले गया  है ! तुम्हे हार्दिक शुभकामनायें !      

  • राकेश खंडेलवाल इस समय हिंदी गीत जगत में बेहद शक्तिशाली हस्ताक्षर है , अगर शब्द सामर्थ्य की बात करें तो गद्य में अजीत वडनेरकर के बाद  पद्य में केवल राकेश खंडेलवाल का नाम ही है जो नियमित सरस्वती साधना में लगे रहते हैं  ! मगर चूंकि राकेश जी  तीखीधारयुक्त  कलम के मालिक और   "टिप्पणी दे टिप्पणी ले " मंत्र के जानकार नहीं हैं अतः इस अद्भुत हिंदी शिल्पकार की टिप्पणी संख्या  १० से ऊपर कभी नहीं होती ! उन दस में भी "उड़नतश्तरी" वाले समीर लाल नियमित है जो उनके परमशिष्य हैं ! समीर लाल को आभार और श्रद्धा अर्पण उनके इस गुरु के लिए! अगर आपने गीतों में झंकार अनुभव करनी है तो गीत कलश ध्यान से पढ़े  ....   
धन्य है राकेश खंडेलवाल , जो बिना किसी सम्मान की इच्छा लिए माँ शारदा की आराधना में लगे हैं ..शारदापुत्र  राकेश खंडेलवाल को मेरी हार्दिक  शुभकामनायें !
  • कैलिफोर्निया में अध्यापन कार्यरत प्रतिभा सक्सेना ब्लाग जगत के लिए शायद अनाम हैं ! पहली बार जब इनका अनजाना सा ब्लाग पढ़ा तो यह प्रतिभा देख भौचक्का सा रह गया , शायद ही कोई उनके ब्लाग को पढता होगा ! शिप्रा की लहरें , यात्रा एक मन की ,स्वर यात्रा , लालित्यम, लोकरंग आदि के द्वारा यह हिंदी सेविका  प्रौढ़ महिला शांत चित्त अपना कार्य कर रही हैं ! इनके ब्लाग शायद किसी एग्रीगेटर से नहीं जुड़े हैं अतः इन्हें कौन जान पायेगा  ?? तकनीकी जानकारों से अनुरोध है कि वे प्रतिभा जी के ब्लाग को आम व्यक्ति और पाठंकों तक पंहुचाने का कष्ट करें ताकि हम इस शक्तिशाली कलम को पहचान सकें !   
मेरा सादर अभिवादन आपके कार्य के लिए ..निस्संदेह आपके प्रतिष्ठित कार्य के लिए हिंदी जगत आपका आभारी रहेगा !

  • डॉ मंजुलता सिंह, ७२ वर्ष की उम्र में जो कार्य कर रही हैं शायद ही कोई महिला सोच पायेगी !स्नेही व्यवहार के कारण, अपने आप ही, सामने वाले की श्रद्धा हासिल करने की क्षमता रखने वाली यह वृद्ध महिला,दिल्ली यूनिवेर्सिटी हिन्दी विभाग से, रीडर पोस्ट से रिटायर,रेकी ग्रैंड मास्टर (My Sparsh Tarang) के रूप में लोगों की सेवा में कार्यरत ! सात किताबें एवं २०० से अधिक लेख प्रकाशित हो चुके हैं, इस उम्र में भी अपने एरिया में वृद्धों की सेवा में कार्यरत रहती हैं और बहुत लोकप्रिय हैं !हिंदी की सेवा में पूरा जीवन देने वाले इस सशक्त हस्ताक्षर मंजुलता सिंह का लेखन ब्लाग पर कम ही हो पाता है !
आपके द्वारा इस उम्र में भी, वृद्धों के लिए किये गए कार्य  मेरे लिए प्रेरणा दायक हैं  ! आपको सादर प्रणाम  !

  • हिंदी जगत और राष्ट्रभाषा की सेवा में लगे अजीत वडनेरकर का ब्लॉग  बहुतों के लिए प्रेरणादायक है एवं मेरे लिए वे स्वाभाविक माननीय हैं जो बिना किसी सम्मान की चाह में, हिंदी शब्द सामर्थ्य बढ़ाने में लगे रहते हैं ! बहुत कम ऐसा मौका होता है जब इनके ब्लाग पर १० से अधिक प्रतिक्रियाएं आती हों ! खुद मैं ,उनको कम पढने वालों में से हूँ ...परन्तु यह मैं हूँ  आम ब्लागर ( डॉ अमर कुमार के शब्दों में अकिंचन कहूं अपने आपको तो गलत नहीं होगा ) और वे, वे हैं सबके श्रद्धेय  ! 
आपकी सौम्यता को प्रणाम अजीत जी !

54 comments:

  1. सतीश जी
    आपकी यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी| आप सभी ब्लागर को मै ह्रदय से नमन करती हूँ |
    आशा है और भी ऐसे ही ब्लाग की जानकारी आगे पढने को मिलेगी |वैसे अजीतजी के ब्लाग की की नियमित पाठिका हूँ बस कमेन्ट नहीं कर पाती |बेहद शांति से वो अपना काम किये जा रहे है |मंजुजी का ब्लाग मैंने पढ़ा है पर अब शायद कई दिनों से कोई पोस्ट नहीं है |बाकि ब्लाग आज पढूंगी |

    ReplyDelete
  2. satishjee
    ek blog hai TANA BAANA
    Ek thrushti us par bhee daliyega..........

    ReplyDelete
  3. पावला जी और दुसरे ब्लोग्गर्स महान कार्य कर रहे हैं!

    ReplyDelete
  4. आप मेरे मन के भीतर कैसे पहुँच जाते हैं । आज सुबह ही मैं अपनी फीड में 5 और ब्लॉग बढ़ाने का विचार कर रहा था । आपने प्रदान कर दिये । अतिशय आभार ।

    ReplyDelete
  5. सतीश जी! आप अपनी आदतों से बाज नहीं आएंगे... एक धमाके से सम्भलते हैं तब तक दूसरा धमाका आप कर देते हैं. सच है कि हीरा पत्थर की शक्ल में बिना किसी नोटिस के यूँ ही ‌पड़ा रहता है ,जब तक किसी पारखी और जौहरी की निगाह न पड़े. आप पत्थर को कोहेनूर बनाने की क़ूवत रखते हैं. ऐसे ही कभी आपने हमें भी अपने परस से सोना कर दिया था.
    अजित वडरनेकर जी तो एक परिचित नाम हैं, लेकिन प्रतिभा जी, डॉ. सिंह और राकेश जी को पढना होगा. ख़ाली बैठा हूँ आज, छुट्टी लेकर. बस गया और आया. धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  6. निश्चित ही आपके द्वारा बताये गये ब्लॉग्स उत्कृष्ट है. इन्हें इनके कार्यों के लिए यूँ भी किसी टिप्पणी की दरकार नहीं. ये सभी उससे बहुत उपर है. ये नहीं, इन पर टिप्पणी देकर हम धन्य होते हैं.

    राकेश जी के यहाँ मैं टिप्पणी देने नहीं, आशीर्वाद लेने जाता हूँ..उनसे जब वो लिखते हैं, बात कर ते हैं, फोन पर चर्चा होती है...या वो कुछ नहीं कहते..हर घड़ी कुछ सीखने ही मिलता है.


    राकेश भाई, अजित भाई के ब्लॉग पर टिप्पणी करने के लिए शब्द ही नहीं होते कि क्या कहें. सूरज को कैसे दिया दिखायें.

    वही हाल पाबला जी जो कार्य कर रहे हैं, उस पर मात्र साधुवाद और धन्यवाद ही दिया जा सकता है और मन ही मन उनके कार्य को सदा सराहा जा सकता है.

    आपने बहुत अच्छा कार्य किया. आपका साधुवाद.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर लगा इन सब से मिल कर, जानते तो पहले से ही है, ओर कभी कभी जाना भी होता है इन ब्लांगो पर धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. सचमुच अनूठे ब्लोग्स हैं ये । निस्वार्थ भाव से ब्लॉगजगत की सेवा कर रहे हैं ।
    अच्छा ढूंढ निकाला है ।

    ReplyDelete
  9. सतीश भाई,
    बहुत आभार। आपके स्नेह से अभिभूत हूं। सफर के लिए आप सबकी शुभकामनाएं कई तरीकों से मिलती रही हैं। टिप्पणी ही एकमात्र जरिया नहीं है। फिर यह तो एक मुहीम है जिसके साथ जुड़ कर आपने इसका महत्व बढ़ाया है। इसे निरन्तर रखना मेरी व्यक्तिगत जिम्मेदारी है।
    आभार फिर....

    ReplyDelete
  10. बहुत ही जानकारीपूर्ण प्रस्तुति....आभार सक्सेना जी

    ReplyDelete
  11. बहुत मजा आया आज आपका यह आर्टिकल .

    आपका यह लेख कल के चर्चा मंच २/७/१० के लिए लिया गया है.

    http://charchamanch.blogspot.com/

    आभार

    ReplyDelete
  12. बढ़िया ब्लोग्स की जानकारी दी है आपने ! आभार !

    ReplyDelete
  13. bahut hi achchha ji apn ko to kuchh ata jata nahi bhaai ji tahe dil se sabhi ko mera salm jisako salam pasand nahi usko namskar , shashtriy kal , ram ram ji , radhe radhe , jai bhle shankar
    arganik bhagyoday ,blogspot .com

    ReplyDelete
  14. किसी के बारे में कुछ भी कहने योग्य खुद को नहीं समझती......बस आभार व्यक्त करना चाह्ती हूँ...अपने तरीके से .....(मेल किया है )

    ReplyDelete
  15. चाचा जी..मैने इन सब लोगो को और लोगों से ज़्यादा पढ़ता हूँ क्योंकि मुझे पता है सार्थकता क्या चीज़ है जब समय दे रहो तो सार्थक जगह पर देना चाहिए और आज के आप की पोस्ट में जिन लोगों की चर्चा हुई है वो एक महान व्यक्तित्व है जिनपे पूरे ब्लॉगजगत को गर्व है..

    अब आप की बात करता हूँ..इधर कुछ दिनों से आपकी पोस्ट कुछ और बढ़िया लगने लगी है..आभार कहूँगा आज के पोस्ट के लिए....और प्रणाम भी करता हूँ आपकी सुंदर भावनाओं को जिनसे हम-सब प्रेरणा मिलती है..

    ReplyDelete
  16. iske liye abhar shabd kam lagta hai..

    khas kar प्रतिभा सक्सेना ji ke blog ka pata dene ke liye.

    aaj apke blog par pahli baar aaya, aur aate hi itna achchha tohfa. :)

    ReplyDelete
  17. सही मे ये अनूठे ब्लाग्ज़ हैं और समीर जी ने भी सही कहा इन्हें टिप्पणी की जरूरत ही नही। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  18. बढ़िया ब्लोग्स की जानकारी दी है आपने ! आभार !

    ReplyDelete
  19. धन्‍यवाद सतीश जी इन आधार ब्‍लॉगों की चर्चा करने के लिए.

    ReplyDelete
  20. आपके द्वारा बताये गये ब्लॉग्स उत्कृष्ट है|

    ReplyDelete
  21. सतीश जी ,
    हम अल्पज्ञात ब्लागर्स के लिए आपने जो लिखा आपके व्यक्तित्व के अनुरूप ही उदार और उच्चाशय है.मुझे कंप्यूटर टेक्नीक की जानकारी नहीं है ,अतः विविध प्रकार के कार्य नहीं कर पाती .आपने इस कठिनाई को समझा मैं कृतज्ञ हूँ.मेरा उद्देश्य अपनी रचनाओं को इन ब्लागज़ के द्वारा एक स्थान पर संचित करना मात्र रहा था कि बाद में बिखर कर इधऱ-उधर न हो जाएँ.आपने इतना महत्व दिया मैं आभारी हूँ .स्नेह बनाए रखें !
    स्नेह सहित,

    - प्रतिभा सक्सेना

    ReplyDelete
  22. सतीश जी सम्मान की चाह के बिना काम करने वाले कम ही होते हैं और आपने ऐसे लोगों को खोजा है... बहुत सुन्दर और सार्थक जानकारी. सभी के बारे में जो भी लिखा जाए बहुत ही कम होगा.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  23. आपने श्रेष्‍ठ कार्य किया है मंजूजी के अलावा सभी नाम परिचित हैं। बस कभी जाना होता है और कभी नहीं। लेकिन ऐसे ही श्रेष्‍ठ ब्‍लाग के बारे में जानकारी देते रहिए।

    ReplyDelete
  24. इस जानकारी के लिए शुक्रिया..

    ReplyDelete
  25. इन मनीषियों को मेरा भी शत-शत नमन.. आपका आभार..

    ReplyDelete
  26. सचमुच आपने मार्के की बात उठाई है।
    ऐसा क्यों होता है इस सोच में डूब गया हूं, लेकिन शायद अच्छे लोग बचे हैं इसलिए दुनिया भी बची है।

    ReplyDelete
  27. सतीश जी आभार ,इन हस्तियों के बारे में बताने के लिये ।सभी के ब्लाग से परिचित हूं ।अच्छी शैली में प्रस्तुतिकरण ।

    ReplyDelete
  28. सतीश भाई आपका काम भी काबिले तारीफ ही है, इसको जारी रखिएगा। अच्‍छाईयों को बांटना एक नेक कार्य है। इसे सबको करना चाहिए।

    ReplyDelete
  29. टिप्पणियों की संख्या ब्लॉग पोस्ट की श्रेष्ठता की मानक नहीं है।
    जो श्रेष्ठ होगा, अपनी ओर खींच ही लेगा। देखिए आप उन जगहों पर पहुँच गए कि नहीं ?

    ReplyDelete
  30. पाबला जी की तो बात ही कुछ और है! बेहतरीन प्रस्तुति! बहुत खूब!

    ReplyDelete
  31. ranjakataa se bhraa lekhan. dekh kar khushi hui. us mulaakaat ki yaad ab tak barkarar hai. fir samay aa rahaa hai. dilli aane vala hoo. koshish karenge ki fir baithen.

    ReplyDelete
  32. @ गिरीश पंकज ,
    यकीनन आपके साथ समय व्यतीत करना मैं सत्संग मानूंगा ! जब भी आयें पहले से ही सूचित करें
    9811076451

    ReplyDelete
  33. सतीश भाई,
    दो दिन से मेरठ था...आपकी पोस्ट आज पढ़ी...पाबला जी की निस्वार्थ साधना को कौन नहीं जानता...आजकल पाबला जी महाराष्ट्र के टूर पर हैं...अखबारों में प्रकाशित पोस्ट की जानकारी, जन्मदिन और सालगिरह की जानकारी सब पाबला जी की पोस्ट से मिल जाती हैं...इसके अलावा जब भी कोई तकनीकी दिक्कत किसी ब्लॉगर को पेश आती है, पाबला जी चुटकी में हल कर देते हैं..अब आपको क्या बताऊं पाबला जी के साथ वर्चुअल दुनिया में मेपी किस तरह की ट्यूनिंग है...कभी मौका मिले तो पाबला जी से ही पूछिएगा...और ये ट्यूनिंग कमेंट्स पर किसी भी तरह से निर्भर नहीं है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  34. नमन है इन महान हस्तियों को।

    ReplyDelete
  35. आपकी आज कि पोस्ट से बहुत अच्छे लोगों से परिचय हुआ...आभार

    ReplyDelete
  36. गुरू जी तनी देरी के लिए माफी चाहते हैं... पाबला जी के बारे में जो आप लिखे हैं ऊ त सहिए है कि खुद सहगल जी कमेंट देने नहीं आए...लेकिन एगो बात गौर किए हैं कि नहीं ,जऊन दूगो कमेंट आया है ऊ हो बिज्ञापन वाला है कि हमरे ब्लॉग पर आइए...
    कमेंट का संख्या के बारे में त हमहूँ एही कहेंगे कि ई कहीं से भी उत्कृष्टता अऊर लोकप्रियता का सबूत नहीं है. हम त अपनत्व जी का सलाह मानते हैं कि बस लिखते जाइए, भूल जाइए कि केतना फॉलोवर है अऊर केतना कमेंट आता है. लेकिन आज अपना बात कहने कोई यहाँ आया है त जरूरी है कि लोग सुने. अऊर भूख लगने पर दूध पीने के लिए त बचवो को चिल्लाना पड़ता है. नहीं त हमहूँ केतना कबिता लिखकर अपना पीठ थपथपा कर फाड़ कर फेंक चुके हैं, इहाँ आने से पहिले.

    ReplyDelete
  37. blog jagat ke prasiddh logo se mil kar khushi hui, inhe padh kar ham bhi kuchh seekh sakte hain.........dhanyawad

    ReplyDelete
  38. सही बात है अच्छे ब्लाग हैं ये पर इनकी विज़ीविलिटी कम है.

    ReplyDelete
  39. बहुत अच्छा लगा सब से मिल कर ।
    बहुत सुन्दर और सार्थक जानकारी दी है आप ने ।
    बधाई ।

    ReplyDelete
  40. अंसार बर्नी को तो लोग आपके मार्फत जान गया होगा...लेकिन जावेद खान अऊर सह्जादी के बारे में जानना चाहते हैं त तनी हमरे दुआरे तसरीफ लाइए गुरू जी!

    ReplyDelete
  41. अल्लाह का शुक्र है कि ‘अनम‘ का बुख़ार भी जाता रहा और वह दूध भी पीने लगी है। शहर के मशहूर चाइल्ड स्पेशलिस्ट ऐलोपैथ डा. एम. अंसारी को जब पैदाइश के बाद दिखाया गया तो उन्होंने तुरंत हाथ खड़े कर दिये। एक सच्चे होम्योपैथ डा. प्रभात कुमार अग्रवाल के ट्रीटमेंट से अनम का जख्म लगातार हील होता जा रहा है। होम्योपैथी नॉनसेंस नहीं है अलबत्ता इसे समझने के लिये हायर सेंस चाहिये।
    प्रिय प्रवीण जी की आमद और भाई तारकेश्वर गिरी जी की वापसी मेरे लिये खुशी और राहत का बायस है।
    http://vedquran.blogspot.com/2010/07/thankfullness-anwer-jamal.html

    ReplyDelete
  42. बहुत अच्छी पोस्ट!!!!!! और अच्छी जानकारियां

    ReplyDelete
  43. सतीश जी आपके इन बेहतरीन ब्लॉग्ज की जानकारी का शुक्रिया । मै अजित जी का ब्लॉग तो नियमीत रूप से पठती हूं क्यूं कि शब्दों की व्युत्पत्ती में और उनके प्रवास में मेरी भी रुचि है । और ब्लॉग्ज पर भी अवश्य जाऊंगी ।

    ReplyDelete
  44. इस बात को रेखांकित करने के लिए बहुत बहुत धन्‍यवाद। पर सतीश भाई एक बात समझ नहीं आई। जब एक दिन अनजाने ही मैंने आपको अपने ब्‍लाग के बारे में एक समूह मेल भेज दिया था तो आप नाराज से हो गए थे। जैसा कि मैंने पहले भी कहा था वह सूची मैंने नहीं बनाई थी। पर मुझे लगता है कि अगर आप इस तरह के एक काम में लगे हैं तो ऐसे मेल तो आपके काम के ही हैं। उनमें से आप मोती चुनकर सबके सामने पेश कर सकते हैं। बहरहाल इस पोस्‍ट के लिए बधाई। घबराइए मत मैं कोई समूह मेल आपको नहीं भेजूंगा।

    ReplyDelete
  45. @comment on our post:
    1969 से 1972 और 1972 से अब तक के बीच का सवाल अभी भी मुँह बाए खड़ा है.प्रश्न सहमत या असहमत का नहीं,वो तो उत्तर देने के बाद होगा. यहाँ तो मुँह बंद कर दिया जा रहा है. अभी तो बस इतना ही
    उनकी हर रात गुज़रती है दीवाली की तरह
    हमने एक बल्ब चुराया तो बुरा मान गए!

    ReplyDelete
  46. आपकी पोस्ट में सच्चाई है ... ईमानदारी से मैं भी सोचूँ तो इन ब्लोगों पर जाता हूँ इतना अच्छा होते हुवे भी टिप्पणी नही करता .... कहीं न कहीं मन का लोभ नही जाता ...

    ReplyDelete
  47. यह सही है आपने सचमुच जौहरी का काम किया है ।

    ReplyDelete
  48. सतीश जी,
    मुझ नाचीज़ के एक छोटे से प्रयास को आपने सराहा, धन्यवाद
    आपकी शुभकामनायों से मुझे अपनी कार्य-ऊर्जा बनाए रखने में मदद मिली है.

    स्नेह बनाए रखिएगा

    ReplyDelete
  49. राकेश खंडेलवाल जी, अजीत वडनेरकर जी, प्रतिभा सक्सेना जी, डॉ मंजुलता सिंह को यदा-कदा पढ़ता रहता हूँ.

    निःसंदेह प्रत्येक का लेखन अपनी श्रेणी में उत्तम व प्रेरणादायक है. इन सभी मित्रों की उत्तरोत्तर उन्नति हेतु मेरी शुभकामनाएं

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,