Monday, July 19, 2010

क्या आपका घर बरसात झेलने के लिए तैयार है - सतीश सक्सेना

बरसात के दिनों में पहली वारिश के दिन ही , तुरंत छत पर अवश्य जाना पड़ता है ताकि पानी निकास के, पाइपों के मूंह पर जमा, पत्ता, कागज  और मिटटी आदि  हटा दूं अन्यथा आधा घंटे की तेज वारिश में पूरी छत पर ४ से ६ इंच पानी इकट्ठा होते, देर नहीं लगती ! नतीजा अक्सर ड्राइंग रूम और कमरों की छत पर सीलन के बड़े बड़े धब्बे दीखने लगते हैं  !

छत पर जाकर पेरापेट और टैरेस के जोड़ में अगर दरारें आ गयी हों तो बेहतरी इसी में हैं कि पूरे जोड़ को खुलवा कर वाटर प्रूफिंग कम्पाउंड  मिलाकर, सीमेंट कंक्रीट का गोला बनवा कर, उसे अच्छी तरह से फिनिशिंग दी जाये  अन्यथा बरसातों के बाद, उत्पन्न हुई सीपेज के कारण,आपको पूरे घर का पेंट कराना पड़ सकता है !

छत पर किये गए मड -फसका ट्रीटमेंट की दरारों में से अक्सर चींटिया अपना घर बना लेती है ! अगर आपकी छत पर यह खतरा है तो तुरंत उस स्थान पर से टाइलों को हटवा कर, सही तरह से दरारों को जलरोधी उपचार कराएं ! अगर आपने छत खराब हालत में है तो टैरेस ट्रीटमेंट कराना ही ठीक होगा ! जिससे कि बरसातों में किसी भी हालत में पानी, मड फसका अथवा टाइलों के नीचे न जाए !    

इसके अलावा यह आवश्यक है कि पूरे साल बंद पड़े रेन-वाटर मेनहोल के ढक्कनों को ठोक पीट कर खोल  लिए जाएँ और उनके अन्दर भरा कचरा साफ़ करवा लिया जाये !     

24 comments:

  1. पहिले बरखा रानी बरसें त...खाली झलक देखा कर गायब हो जाती हैं...

    ReplyDelete
  2. उपयोगी जानकारी !!

    ReplyDelete
  3. acchi jankari dee aapne, abhar

    ReplyDelete
  4. हमारे यहाँ तो और भी बुरा हाल है ...........लगभग १५० साल पुराना मकान है इस लिए और भी ज्यादा ध्यान देना पड़ता है !

    ReplyDelete
  5. अच्छी जानकारी मिली आभार

    ReplyDelete
  6. उपयोगी और सामयिक।

    ReplyDelete
  7. काम की जानकारी.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर बात कही आप ने, अगर दरारो मै सिलिकोन भर दिया जाये तो वो सालो साल खराब नही होता गर्मी मै खुद ही फ़ेल जाता है ओर सर्दी मै जगह के हिसाब से सिकुड जाता है, ओर उस मै कीडे मकोडे भी नही घुस सकते

    ReplyDelete
  9. घर फ़ोन करके बताता हूँ :)

    ReplyDelete
  10. सही समय पर उचित सलाह के लिये आभार

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  11. उचित समय पर उचित जानकारी
    बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  12. hmm..bade kaam ki baat kahi :)

    ReplyDelete
  13. अच्छी जानकारी

    ReplyDelete
  14. अच्छी जानकारी मिली आभार

    ReplyDelete
  15. हमारे पुश्तैनी मकान में भी यही हाल है ...

    ReplyDelete
  16. उपयोगी व आम आदमी के काम आने वाली जानकारी देती पोस्ट ..

    ReplyDelete
  17. अच्छी जानकारी ..!

    ReplyDelete
  18. बरसात में यह डर तो रहता ही है ।
    लेकिन यहाँ तो ये हाल है कि --

    हम तो समझे थे कि बरसात में बरसेगी शराब
    आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया ।

    मेरा शेर नहीं है , एक ग़ज़ल रेडियो पर सुनी थी ।

    ReplyDelete
  19. सामयिक उपयोग की बात -शुक्रिया !

    ReplyDelete
  20. labhdayak post......
    aabhar.

    ReplyDelete
  21. सुना है कल लखनऊ में कल घनघोर बारिश हुई, आपने अच्छा याद दिलाया समय पर ।

    ReplyDelete
  22. आज कल ऐसे जानकारी की बहुत ज़रूरत है...जनसामान्य से जुड़े ऐसी बातों के प्रस्तुतिकरण के लिए धन्यवाद चाचा जी

    ReplyDelete
  23. सही है वरना ड्राइंग रूम मे गिलास लोटा बाल्टी रखना पड़ेगा ।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,