Friday, August 13, 2010

मस्जिद की मीनारें बोलीं मंदिर के कंगूरों से -सतीश सक्सेना

"मस्जिद की मीनारें बोलीं मंदिर के कंगूरों से,
  संभव हो तो देश बचा लो मज़हब के लंगूरों से"      


योगेन्द्र मौदगिल की यह पंक्तियाँ अपने आप में एक पूरा लेख है जो ब्लाग जगत का को गौरवशाली और धनवान होने का अहसास भी दिलाती हैं ,कि इतना बेहतरीन रचनाकार हमारे बीच है  !


योगेन्द्र जी का कहना है कि मस्जिद और मंदिर में प्यार की कोई कमी न पहले महसूस होती थी और न अब है , ये दोनों तो पहले की तरह ही बहिनों की तरह परस्पर प्यार के साथ खड़ीं हैं मगर यह गवाह हैं, यहाँ सीधे साधे लोगों को, अपनी मीठी मीठी बातों से बहकाते, धर्म के ठेकेदारों की हरकतों के लिए !


चिंतित हैं वे ( योगेन्द्र मौदगिल ) कि इनकी लगाई गयी आग से देश पर असर पड़ने से रोका जा पायेगा ! कहीं ऐसा न हो कि इनके बोये जहर से आम आदमी सड़क पर आ जाये !


परेशान हैं वे कि देश को इन मज़हबी लंगूरों से कैसे बचाया जाए ?? ये न केवल लोगों के दिलों में आग लगा रहे हैं बल्कि इनसे देश की बुनियाद तक को खतरा है ! शायद इनका मकसद ही यही है ! 


अफ़सोस है कि लोगों में विद्वेष बढाते यह लोग यह नहीं जानते कि अपनी जिस विद्वता पर तुम्हे नाज़ है और जिसका दुरुपयोग कर तुम दूसरों की श्रद्धा का मज़ाक उड़ा रहे हो वैसे विद्वान् दूसरे धर्म में भी सैकड़ों हैं कहीं वे भी तुम्हारा खेल खेलने लगे तब क्या होगा ?? मुझे विश्वास नहीं होता कि तुम लोग  शायद यही चाहते हो ?


शायद तुम्हारे आकाओं का सपना पूरा हो जाएगा तुम्हें इस खूबसूरत कौम और समाज को बर्बाद करने का प्रयास करते देख ...मगर तुम और और तुम्हारी नस्ल भी तबाह हो जाएगी मूर्खों  ! यह घ्रणा का खेल बंद कर दो .....दूसरे धर्म की खिल्लियाँ उड़ाने का प्रयास बंद कर दो ! 

24 comments:

  1. जब तक धर्म के नाम पर बिल्लियां लड़ती रहेंगी,लंगूर बने रहेंगे।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर और सशक्त आलेख, शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  3. अच्छी प्रस्तुती के लिये आपका आभार ।

    खुशखबरी

    हिन्दी ब्लाँग जगत मे ब्लाँग संकलक चिट्ठाप्रहरी की शुरुआत कि गई है । आप सबसे अनुरोध है कि चिट्ठाप्रहरी मे अपना ब्लाँग जोङकर एक सच्चे प्रहरी बनेँ , यहाँ चटका लगाकर देख सकते हैँ

    ReplyDelete
  4. योगेन्द्र जी के लेख में न सिर्फ दम है बल्कि धर्म की ठेकेदारी के भी उन्होंने चीथड़े उदा दिए हैं. जरूरत भी है आज ऐसे ही लेखों की.
    अभी मैं ने एक गजल पोस्ट की है, ऐसे ही विचारों के साथ, मौक़ा हो तो देख लीजिएगा. शायद कुछ काम का लगे.

    ReplyDelete
  5. लंगूरों को अंगूर तभी मिल पाता है जब वे विद्वेष की जमीन पर घृणा के वटवृक्ष खड़ा कर लेते हैं. इनकी साजिश नाकाम करने की जरूरत है.

    ReplyDelete
  6. सतीश साहब आपके विचारों से पुर्णतः सहमत और इन्हीं बातों को योगेन्द्र मौदगिल जी ने बड़े ही सुन्दर ढंग से व्यक्त किया है. योगेन्द्र जी से परिचय करवाने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  7. " मस्जिद की मीनारें बोलीं मंदिर के कंगूरों से,

    संभव हो तो देश बचा लो मज़हब के लंगूरों से"

    कमाल कि पंक्तियाँ है, सतीश जी धन्यवाद और शुभकामना, आप बहुत ही नेक काम कर रहे है, ब्लॉगजगत को साम्प्रदायिकता से बचाने का!

    ReplyDelete
  8. वाह सतीश जी । आपने दो पंक्तियों का इतने विस्तार से विश्लेषण किया है कि आत्मविभोर हो गए । बढ़िया ।

    ReplyDelete
  9. मज़हबी लंगूरों को देश तबाह करने का ठेका मिला है शैतान से।

    ReplyDelete
  10. ये पंक्तियाँ सच्चाई हैं
    धर्म के ठेकेदारों मजहब के लंगूर नही बल्कि मजहबी मदारी हैं और ये मजहबी मदारी हर मजहब में मौजूद हैं

    ReplyDelete
  11. अब क्या कहे......हम हर तरफ़ से पिछडे है.... तभी यह बंदर बांट होती है, अगर भगवान की दी अकल थोडी भी प्रयोग मै लाये तो सभी सुखी हो जाये ओर यह लंगुर भी अपनी ऒकात मै रहे

    ReplyDelete
  12. धन्यवाद प्रगट कर आपके स्नेह को हल्काऊंगा नहीं..
    आपके सुझावानुसार रैड वाइन ली थी. उसका टेस्ट भी व्हाइट जैसा ही है. ज़बान पर चढ़ने में वक्त लगेगा.
    वज़न लगभग १ किलो २०० ग्राम बढ़ गया है
    मन करता हे कि इस महीने आपका फार्मूला फिर अपना लूं.
    शेष शुभ.
    सादर

    ReplyDelete
  13. सभी जानते हैं कि साम्प्रदायिक वैमनस्य कौन फ़ैलाता है? लेकिन फ़िर भी इनके चंगु्ल में फ़ंस जाते हैं।
    हमारे यहां चरोदा में एक शिवमंदिर है जिसे बाबूखान ने बनवाया था।
    और सबसे बडी बात यह है कि यहां मंदिर और मस्जिद का साउंड सिस्टम एक ही है। उसी पे आरती होती है तो उसी पे अजान और तकरीर।
    यह बरसों से चला आ रहा है।

    नागपंचमी की बधाई
    सार्थक लेखन के लिए शुभकामनाएं-हिन्दी सेवा करते रहें।


    नौजवानों की शहादत-पिज्जा बर्गर-बेरोजगारी-भ्रष्टाचार और आजादी की वर्षगाँठ

    ReplyDelete
  14. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    ReplyDelete
  15. satishji,

    bahut sundar baat ki aapne

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    ReplyDelete
  16. एक बेहतरीन पोस्ट, आभार
    हमें गर्व है श्री यौगेन्द्र जी पर और उनकी रचनाओं पर
    ना कभी मन्दिर और मस्जिद में झगडा होता है और ना उनमें सच्ची आस्था रखने वाले और सिर झुकाने वालों में
    झगडा तो बस उन लंगूरों में ही होता है, जो केवल बुर्जियों पर बैठकर गंद फैलाते रहते हैं।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  17. बकौल हरिवंश राय बच्चन," मंदिर-मस्जिद भेद कराते, मेल कराती मधुशाला!"

    मौदगिल जी ने आपके सुझावानुसार रैड वाइन ले ही ली है, देर सवेर जुबान पर चढ़ ही जायेगी!

    क्या कभी उसके बारे में बात होगी जिसके नाम पर ये मंदिर-मस्जिद बनाये गये हैं? अपने आप को भूलने के लिये धर्म की अफीम कब तक चाटते रहेंगे? वो क्या है भीतर जो इतना अशांत है?

    ReplyDelete
  18. bahut badiya lekh...

    Meri Nayi Kavita aapke Comments ka intzar Kar Rahi hai.....

    A Silent Silence : Ye Kya Takdir Hai...

    Banned Area News : Kareena Kapoor And Karan Johar At Mr. Nari Hira's Bash

    ReplyDelete
  19. लंगूरों का मनोविज्ञान सभी जानते हैं फिर भी उन्ही के हाथ में हम सब हल्दी पकड़ा देते हैं तो वो खुद को पंसारी क्यों न समझे....और ये लंगूर भी भूल जाते हैं की शेर तो आखिर शेर ही होता है...जब शेर दहाड़ेगा तो ये भागते नज़र आयेंगे.

    ReplyDelete
  20. गुरुदेव कविवर के एक दोहा का बहुत सुंदर व्याख्या किए हैं आप..आपका फेवरेट टॉपिक भी तो है... लेकिन विचार शून्य जी का ई टिप्पनी पर आपको कहना चाहिए था कुछः
    “सतीश साहब आपके विचारों से पुर्णतः सहमत और इन्हीं बातों को योगेन्द्र मौदगिल जी ने बड़े ही सुन्दर ढंग से व्यक्त किया है. योगेन्द्र जी से परिचय करवाने के लिए धन्यवाद.”
    कम से कम स्पस्ट करना चाहिए था कि आपके बिचार को मौद्गिल जी ब्यक्त नहीं किए हैं बल्कि उनके लिखे को आप ब्यक्त किए हैं.

    ReplyDelete
  21. @ चला बिहारी ब्लागर बनाने ,
    विचार शून्य ने यह भूल, अनजाने में की होगी उनकी समझ के बारे में कोई शक नहीं अतः जवाब क्या देना ..आपकी तीक्ष्ण नज़र को शुभकामना और नमन

    ReplyDelete
  22. यहाँ से वहाँ तक पहुँचा
    क्या बताऊँ कहां तक पहुँचा.
    ..आभार.

    ReplyDelete
  23. क्या कहने हैं मौद्गील साहब के ... दो लाइनों में इतनी गहरी बात कह दी .....

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,