Monday, October 4, 2010

स्वागत है नवीन दिल्ली का - सतीश सक्सेना

एशियाड १९८२ के दिनों में ,भारत में कलर टी वी का आगमन मुझे सबसे अच्छा लगा था ! उन दिनों बाज़ार में जाते हुए किसी टीवी के डिब्बे पर कलर टी वी लिखा होता था तो रुक के  देखने का मन करता था !  काले सफ़ेद टी वी को देखने के आदी हम लोगों ने, जब पहली बार टी वी के पर्दें में कलर देखे तो एक सुखद आश्चर्य ही था ! और बहुत दिनों तक इस नशे से उबर नहीं पाए थे !
इस बार शायद बहुत कम लोगों को पता है कि कामनवेल्थ गेम्स में हाई डेफेनिशन टी वी का आगमन हुआ है , पहली बार भारतीय दूरदर्शन ने हाई डेफिनिशन प्रसारण शुरू किया है , बाज़ार में पहले से ही उपलब्ध टीवी सेट्स पर इस प्रसारण के फलस्वरूप गज़ब की क्लेअरिटी उपलब्ध हुई है !
दूसरी उपलब्धि संयोग से ही हाथ लग गयी ! आज यमुना भी नयी स्फूर्ति और स्वच्छ धारा के साथ बह रही थी , कुछ दिन पहले नाले के रूप में बह रही यमुना नए रूप और चमक के साथ जैसे विदेशियों का स्वागत कर रही हो  ! इंद्रदेवता ने मानों अहसान किया हो दिल्ली पर सैकड़ों करोड़ की यमुना  सफाई का असंभव कार्य , अभूतपूर्व बाढ़ के फलस्वरूप , सात लाख क्यूसेक पानी, द्वारा एक ही झटके में कर दिया गया !
 तीसरी उपलब्द्धि दिल्ली की सड़कों और रास्तों का निर्माण रहा है ! पिछले एक सप्ताह के भीतर दिल्ली के दो रूपों को देखकर, अचानक आये  परिवर्तन पर विश्वास नहीं होता ! स्वच्छ साफ़, विशाल चौड़ी सड़कें और फ्लाईओवर्स ,जगह जगह पर लगीं रेड लाईट जैसे गायब ही हो गयीं , नए रास्तों से पहले से,आधे समय में घर  पंहुचने की चर्चा आज हर जगह हो रही है !देखते ही देखते दिल्ली की कायापलट हो गयी और लोगों को पता ही नहीं चला ! आज २० किलो मीटर दूर अपने आफिस पंहुचने में एक भी रेड लाईट पर न रुकना एक सुखद आश्चर्य ही रहा ! 
गेम्स विलेज में फाइव स्टार होटलों के शेफ द्वारा परोसे खाने को विश्व स्तरीय खिलाडियों द्वारा अब तक के खेलों में सबसे अत्युत्तम बताया जा रहा है ! अपनी डयूटी पर मुस्तैद एक लाख पुलिस अधिकारियों के साथ , आसमान पर निगाह लगाये  तैनात एयरफोर्स  के अधिकारी , किसी भी आने वाले खतरे को बेकार करने के लिए काफी हैं ! 
गर्व से कहें कि हमारा देश पूर्ण सक्षम है और विश्व की पहली कतार के देशों में से एक है ! हर देशवासी का आत्मविश्वास बढाने के लिए आज़ाद भारत का इतिहास काफी है  जिस पर हमें गर्व है !  

37 comments:

  1. आखिर सबको मानना ही पड़ेगा कि भारत में भी दम है ।
    आपने जो नक्षा दिखाया है , वह शत प्रतिशत सही है । हमें इस बात पर गर्व है ।
    अब हमारे खिलाडी भी इस गर्व को कायम रखें तो और भी बेहतर रहेगा । शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  2. khiladiyo ke liye hardik shubhkamnae hai.........
    bhavy swagtam to huaa hee hai......samapan bhee insha allah shaandar rahega..........

    ReplyDelete
  3. सही कहा! सर जी!!

    कल का कार्यक्रम तो मंत्रमुग्ध कर देने वाल था। 40करोड़ के गुब्बारे नें तो सारे कार्य्रक्रम को जीवंत ही कर दिया!!

    ReplyDelete
  4. जानकर बहुत अच्‍छा लगा .. उम्‍म्‍ीद करती हूं कामनवेल्‍थ गेम्‍स का समापन भी सुखद वातावरण में हो जाएगा!!

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा लगा जानकर।

    ReplyDelete
  6. सतीश जी हमें तो ना केवल अपने देश पर गर्व है अपितु हमें तो उससे प्रेम भी है। मैं यह विश्‍वास करने लगी हूँ कि यह देव भूमि है। बस हम सारे ही नागरिक यदि अपना कर्तव्‍य निभाने लगे तो यह देश अनोखा देश होगा। कल का कार्यक्रम ऐतिहासिक था, मुझे तो कल्‍पनातीत लगा। भारतीयता में रंगा हुआ ऐसा कार्यक्रम दुनिया के किसी देश के पास नहीं है। जिन भी कलाकारों और निर्देशकों के नेतृत्‍व में यह कार्यक्रम हुआ उन्‍हें बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी पोस्ट अपने देश पर गर्व करने लायक ...

    ReplyDelete
  8. भगवान करे 14 के बाद ही सब कुछ ऐसा ही रहे.

    ReplyDelete
  9. मतलब ये कि देश पर गर्व करना हो तो बाढ और राष्ट्र मंडल खेलों का सहारा बाकी रह गया है अब :)

    ReplyDelete
  10. दिल्ली की कायापलट की खबरें पढ के मन खुश हो गया... लग रहा है जल्दी ही देख लें, इस नई नवेली दिल्ली को.

    ReplyDelete

  11. हाँ बाबू यह सरकस है
    और यह सरकस है कुछ दिनों का
    पहला शो उद्घाटन है
    दूसरा खेल आयोजन है
    तीसरा समापन है
    और उसके बाद
    माई नहीं बाप नहीं डिसिप्लिन नहीं,
    ये नहीं वो नहीं, कुछ भी नहीं
    कुछ भी नहीं रहेगा जी
    रहेगा तो बस
    खाली टूटी कुर्सी है
    खोयी खोयी फुर्ती है
    जेब भरे बाबू हैं
    मीडिया बेकाबू है
    जो ना तेरा है..
    और न मेरा है

    ऎ भाई जरा देख कर चलो
    आगे ही नहीं पीछे भी
    धुत्त यहाँ तो मॉडरेशन है
    जो लगाना एक फैशन है
    टीपने से डरता है क्यों
    ठेलने से डरता है क्यों
    हर जगह सेक्यूरिटी है
    वहाँ भी है, तो यहाँ भी
    ऎ भाई जरा देख कर चलो
    सतीश भाई
    ऎ भाईऽऽऽऽ..

    ReplyDelete
  12. कल का कार्यक्रम देख तो गदगद हो गये.

    ReplyDelete
  13. हम तो शुरु से आशान्वित थे कि सब शुभ-शुभ होगा। लोगों की तो आदत है सब में मीन-मेख निकालना। बहुत गहराई से विवेचन किया आपने। और भी हाल चाल देते रहिएगा ताकि हम अपडेट रहें और गर्व कर सकें अपनी उपलब्धियों पर। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    योगदान!, सत्येन्द्र झा की लघुकथा, “मनोज” पर, पढिए!

    ReplyDelete
  14. ईस्ट और वेस्ट इंडिया इस द बेस्ट..... मेरा भारत महान!

    जय हो!

    ReplyDelete
  15. @सतीश जी ,
    आपका आलेख तपते मरुथल में नखलिस्तान जैसा अनिर्वचनीय आनंद दे रहा है ..
    बाकी तो हम सभी में अहमन्यता का कम बेसी पुट होता है ...हम सबकी अपनी अपनी बेवकूफियां (इदियोसिनक्रैसीज) हैं ..
    किसी को मानव मात्र से लगाव होता है ,किसी को महिला मात्र से ,किसी को रूपसी संज्ञाराशियों से तो अनूप लोगों को नारी सर्वनामों से ....ये भी एक अनूप व्यक्तित्व है जिन्हें महज सम्मान के साथ स्थापित करना चाहिए ...
    अरे टिप्पणी क्या प्रसंग- निरपेक्ष हो गयी क्या ?

    ReplyDelete
  16. Our Great India !!

    ___________________

    'पाखी की दुनिया' में अंडमान के टेस्टी-टेस्टी केले .

    ReplyDelete
  17. @ डॉ अमर कुमार,

    कुछ लोग अपनी फिक्स मानसिकता के गुलाम होते हैं देश और समाज के प्रति गैर जिम्मेवार यह लोग, अपनी माँ और पुत्री के प्यार के प्रति भी संवेदनशील नहीं होते ऐसे व्यक्तियों को मैं सिर्फ तब तक महत्व देता हूँ जब तक उन्हें पहचान न पाऊँ, ऊपर से देखने में वे कितने ही अभिजात्य क्यों न लगें मगर देर सवेर वे अपनी असलियत अपने आप ही दिखा देते हैं !

    जीर्ण मानसिकता के शिकार यह लोग अपनी राजनीतिक विचारधारा के ही दास बन कर रह जाते हैं ! बसों, पान की दूकान और नुक्कड़ों पर यह महा विद्वान् लोग,खुद कुछ नहीं करते मगर विरोधी पार्टी के कार्यों के प्रति बहस करते, एक दूसरे का सर फोड़ते नज़र आ सकते हैं

    बेहतरीन कामों पर भी यह लोग तारीफ़ नहीं करेंगे न ही अपनी संकुचित समझ के आगे किसी और की बात को सुनेंगे ! अतः इनकी बात को सम्मान न देने तथा अन्य किसी भी विचारधारा का अपमान अपने माध्यम से न होने देने के लिए,माडरेशन का होना बेहद आवश्यक है !

    आशा है इस बार ध्यान से पढेंगे,
    खेद सहित

    ReplyDelete
  18. आपकी सकारात्मक सोच को सलाम !

    ReplyDelete
  19. पाठक गण कृपया दुबारा ध्यान दें !

    किसी व्यक्ति विशेष अथवा राजनीतिज्ञों का अपमान करने वाली टिप्पणी छापने का अर्थ, प्रकाशक ब्लाग भी उस व्यक्ति अथवा पार्टी विशेष की मान हानि कर रहा है...ऐसा न्यायालय के एक जजमेंट में कहा गया है !

    चूंकि मैं किसी ऐसे समूह और आलोचना का हिस्सा नहीं हूँ अतः ऐसी टिप्पणी को अपने ब्लाग में जगह नहीं दे सकता ! राजनीतिक विचारधारा से प्रेरित मित्रों से निवेदन हैं कि वे कृपया ऐसे कमेंट्स न दें आशा है वे बुरा नहीं मानेंगे !
    सादर

    ReplyDelete
  20. आपका नजरिया बहुत प्यारा और सकारात्मक है जी।
    एक पौधे पर कोई गुलाब भी देखता है और कोई केवल कांटे ही कांटे,
    हालांकि दोनों उस पौधे पर मौजूद हैं।
    और अगर सूखे पौधे पर किसी सुबह एक कली के जन्मने के भी लक्षण दिख जाते हैं तो कितनी खुशी होती है ना
    पता नहीं क्यों लोग जो सचमुच काबिल-ए-तारीफ है उसकी तारीफ क्यों नहीं सुनना चाहते?

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  21. India has Changed - आ गया है बदलने का वक्त पढ़ने के लिए आप सभी सादर Invite हैं मेरे चिट्ठे पर

    ReplyDelete
  22. Thank you sir!

    Perhaps we again got carried away by Khushdeep ji's comment, perhaps u are right.

    ReplyDelete
  23. सतीश जी ये शायद दूसरी या तीसरी पोस्ट है जिसमे की अपने देश के स्वाभिमान का ध्यान रखा गया है। पिछले दिनो मीडिया और कई ब्लाग्ज़ पर केवल भारत की बुराई ही सुनी। पता नही क्यों लोग ये भूल जाते हैं कि पचास वर्ष पहले उनके पास क्या था। आखिर तो यहाँ तक पहुंचे हैं तो कुछ तो हुया ही है। बहुत अच्छा लगािआपकी पोस्ट पढ कर। मुझे भी गर्च है कि मै भारतवासी हूँ ,भारत की बेटी हूँ। जय हिन्द।

    ReplyDelete
  24. @ संवेदना के स्वर,
    मुझे आपके कहे पर विश्वास है या नहीं ? इस प्रश्न का जवाब मेरे लेखन की पालिसी से जुड़ा मानिए, शायद आपको शिकायत नहीं होगी ! यकीन मानिए खुशदीप भाई और खुद आप मेरे लिए उन लोगों में से हैं जिनका आदर मैं उनकी लेखनी के कारण और व्यक्तिगत शानदार स्वभाव के लिए करता हूँ !

    मगर हम लोगों में मतभेद न हों ऐसा नहीं है ! मैं व्यक्तिगत आलोचना के खिलाफ नहीं हूँ मगर व्यक्तिगत तौर पर किसी की मान हानि भूल से भी न हो जाए चाहे वे ब्लाग जगत के हूँ अथवा राजनीतिज्ञ, इससे हमेशा बचता रहा हूँ !

    मेरा विश्वास है कि जिन कमेंट्स में व्यक्तिगत आक्षेप लगाया गया हो वे कमेंट्स गलत हैं और नहीं होने चाहिए ऐसा कोर्ट के निर्देश भी हैं ! अगर मैं ऐसे कमेंट्स प्रकाशित करता हूँ तो मैं भी किसी व्यक्ति विशेष की मान हानि का दोषी स्वतः ही माना जाता हूँ !

    आप यकीन करें मैं हर पार्टी के नेताओं का पक्षपात रहित समान आदर करता हूँ मगर ब्लाग जगत में ऐसा नहीं है ! ऐसे बहुत से ब्लाग हैं जो मुझे बहुत अच्छे लगते हैं मैं उन्हें पढ़ कर कमेंट्स भी देता रहा हूँ मगर उन ब्लाग्स मालिकों ने कभी मेरे ब्लाग पर आकर एक शब्द नहीं लिखा ! मैं जानता हूँ वे मेरा लिखा पसंद नहीं करते मगर मुझे इसका कभी बुरा नहीं लगता !

    पारिवारिक सौहार्द, अंतरधर्मीय एवं अंतरजातीय समस्याएं और अब इस प्रकार की राजनीतिक द्वेष भावना, मैं इनका विरोध करने का प्रयत्न करता रहूँगा और कोशिश करूंगा कि इसमें मैं पाठकों को अपनी पूरी ईमानदारी भी दे सकूं तो मैं अपने को सफल मानूंगा !
    सादर

    ReplyDelete
  25. गर्व से कहें कि हमारा देश पूर्ण सक्षम है और विश्व की पहली कतार के देशों में से एक है ! हर देशवासी का आत्मविश्वास बढाने के लिए आज़ाद भारत का इतिहास काफी है जिस पर हमें गर्व है
    bahut yathath-prak avampraprabhavshali lekh.
    poonam

    ReplyDelete
  26. badhai bhai ji....sakaratmak soch bhi jeewan ka pahlu hi hai...sadhuwaad..

    ReplyDelete
  27. aakhir bharat ne apne aap ko sabit kar hi diya ... kash aisa intzam hamesha rahe...

    ReplyDelete
  28. देश पर तो हमें गर्व होना ही चाहिए ... और अगर हमारा देश CWG जैसे खेल को सफलतापूर्वक आयोजन कर सके तो क्या बात है ... पर हर प्रकार के माध्यमों (टीवी, इन्टरनेट, इत्यादि) में जो बात सामने आ रही है वो कुछ निराशाजनक है ... पता नहीं सच क्या है और झूठ क्या पर यदि कोई गडबड होती है तो देश का नाम खराब होता है ...

    ReplyDelete
  29. चलिए कुछ प्रकृति और कुछ प्रशासन की मेहरबानी ही सही दिल्ली दुल्हन तो बनी.
    यमुना का फोटो देख कर मन खुश हो गया.वरना जब भी उधर से गुजरे नाक पर रुमाल रखना पड़ता था और आत्मा तडप उठती थी.
    देश का आर्थिकविकास हुआ है इसमें कोई शक नही.लाख भ्रष्टाचार हो मगर हमारे देश की प्रोग्रेस को ना कोई रोक पाया है ना रोक पायेगा.
    पच्चीस साल पहले के गाँव,शहर,देश को जिसने देखा है वो ही बता सकता इस परिवर्तन को.
    सभी खिलाडी अच्छा प्रदर्शन करे.अपनी छाप छोड़े हार जीत चलती रहती है.

    ReplyDelete
  30. चलिए कुछ प्रकृति और कुछ प्रशासन की मेहरबानी ही सही दिल्ली दुल्हन तो बनी.
    यमुना का फोटो देख कर मन खुश हो गया.वरना जब भी उधर से गुजरे नाक पर रुमाल रखना पड़ता था और आत्मा तडप उठती थी.
    देश का आर्थिकविकास हुआ है इसमें कोई शक नही.लाख भ्रष्टाचार हो मगर हमारे देश की प्रोग्रेस को ना कोई रोक पाया है ना रोक पायेगा.
    पच्चीस साल पहले के गाँव,शहर,देश को जिसने देखा है वो ही बता सकता इस परिवर्तन को.
    सभी खिलाडी अच्छा प्रदर्शन करे.अपनी छाप छोड़े हार जीत चलती रहती है.

    ReplyDelete
  31. .



    आपकी आँखों से सत्य का पहला पक्ष देखा

    आँखों को दूसरा पक्ष देखते रहने की आदत सी पड़ गयी थी.

    ऎसी सोच से सुख और सौहार्द का प्रसार ही होता है.

    इस सकारात्मक विचारधारा की बेहद जरूरत है समाज को.

    नहीं तो विष-वमन करते-करते विषधर बन जाने का डर था.

    शायद हम विषधर हो चुके हों और हमें पता न हो!

    _____________________

    पसंद आया आपका चिंतन.

    .

    ReplyDelete
  32. हर भ्रष्टाचारी द्वारा अपने कारनामों को ढ़कने के लिए देश के गौरव की ढपली बजाई जाती है, आप उसमें रम गए लगता है।

    ali जी का कहना बिल्कुल ठीक है कि देश पर गर्व करना हो तो बाढ और राष्ट्र मंडल खेलों का सहारा बाकी रह गया है क्या?
    आपने दिल्ली का जो चित्रण किया है क्या वह इन खेलों के बिना नहीं हो सकता था?

    दिल को बहलाने गालिब-ए-ख्याल अच्छा था

    ReplyDelete
  33. डॉ टी एस दराल said...
    आखिर सबको मानना ही पड़ेगा कि भारत में भी दम है ।
    आपने जो नक्षा दिखाया है , वह शत प्रतिशत सही है । हमें इस बात पर गर्व है ।
    अब हमारे खिलाडी भी इस गर्व को कायम रखें तो और भी बेहतर रहेगा । शुभकामनायें ।

    सक्सेना साहब !
    डा० साहब की इस टिपण्णी से सहमत हूँ मगर आदतन कुछ कहूंगा ;

    आज मयखाना बना फिर रहा जो कलतक था माड़ी,
    अब तो चल ही निकली है उसके कॉमनवेल्थ की गाडी !
    जाने कौन मुआ कह गया, मिंया जूते तो जरूर पड़ेंगे,
    इसलिए बेचारा कभी-कभार सहमकर सहलाता है दाडी !!

    ReplyDelete
  34. आपने बहुत ही अच्छा लिखा है। बधाई।
    http://sudhirraghav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  35. .

    ये कमेन्ट लिखने तक भारत की झोली में ११ स्वर्ण, ८ रजत और ५ कांस्य पदक आ चुके हैं। हमें नाज़ है हिंद पर। !

    .

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,