Monday, November 1, 2010

ब्लाग जगत की बेहतरीन शख्शियत - ताऊ रामपुरिया

ताऊ के बारे में सोंचते ही, आम ब्लागर का ध्यान मस्ती में जीते, एक ऐसे किरदार पर जाता है जो हर समय इस तेज भागती जिंदगी में ,पैसे कमाने के जुगाड़ में लगा रहता है ! शुरू शुरू में ताऊ चरित्र मुझे आम से बढ़कर कुछ नहीं लगा मगर जब इनको ध्यान से पढना शुरू किया तो इस जबरदस्त प्रतिभाशाली लेख़क से इस कदर प्रभावित हुआ कि ब्लागजगत में इस श्रेणी का, कोई भी कद इनसे बड़ा नज़र ही नहीं आता !

पी सी रामपुरिया, जिस बेदर्दी से अपने चरित्र की मज़ाक उड़ाते हैं वह आज के समाज में अद्वितीय है  ! आधुनिक समय की आपाधापी में, आदमी रिश्ते नाते प्यार सम्मान भूल कर सिर्फ रईस बनने की दौड़ में लगा रहता है ! ऐसे में जो भी मौका मिलता है उसमें शामिल होने में देर नहीं लगाता ! समाज में होते धंधो का पर्दाफाश ,देखना हो तो  अपनी ही मज़ाक उडवाते ताऊ के धारदार लेखन से, बखूबी जाना जा सकता है  !
कई बार ताऊ का लेख पढ़कर, शांत मन से सोंचता हूँ तो ताऊ के इन व्यंग्य लेखों से, अधिक  गंभीर लेख कही नहीं नज़र आते  ! आधुनिक समाज की कमजोरियों और लालच का, जो शब्द चित्र  पी सी रामपुरिया ने खिंचा है वह अन्यंत्र दुर्लभ है !हिंदी ब्लाग जगत में अपना अपना रौब पेलते ब्लागरों के बीच  ताऊ हमेशा अपनी मस्ती में ही बात कहता है सो "गंभीरता की देवी "की नाराजी देखिये ! 
कुछ उदाहरण देखिये ...

ताऊ को ब्लागर गुण  सिखाती हुई इस देवी की शिक्षा देखिये ....
प्रोफाइल में मातम मनाती सी फ़ोटो लगा ले....बिखरे बाल वाली...जिससे दार्शनिक सा लुक आये.....
उसके बाद गूगल मे से कोई जर्मन, फ़्रेंच, रुसी या अंग्रेजी भाषा का कम प्रचलित शब्द खोज ले. और उसको कोट करते हुये लिख डाल मुर्ख.... तेरी धाक जम जायेगी और तू जिम्मेदार और धीर गंभीर लेखक कहलाने लगेगा. समाज मे मान सम्मान और सम्मानित ब्लागर कहलाने लगेगा... 
 और डर के मारे ताऊ ने गंभीर बनने की कसम खाली ...जैसे तैसे नींद आते ही मुस्कान देवी सपने में आ गयी 


 आते ही मुस्कान देवी बोली - हे ताऊ, तूने मेरी बडी सेवा की है. लोगों को हंसाया. अब तू एक ताऊ ठिल्लुआ क्लबबना ले और सब हंसोडो को इक्कट्ठा कर ले और इन गुरु गंभीर लोगों को भाड मे जाने दे.

ताऊ बोला - हे मुस्कान देवी, आपकी बात सही है. मैं ये काम बहुत आसानी से कर सकता हूं. पर मुझे धीर-गंभीर लोग ऐसा करने से मना करते हैं. और आज तो उन्होने गंभीरता की देवी को ही भेज दिया था मुझे डराने के लिये. आप तो जानती ही हैं कि मैं तो पैदायशी सियार हूं और लोग अब ये फ़तवा दे रहे हैं कि सियारों, कायरो और कुत्ते बिल्लियों को ब्लागिंग छोड देना चाहिये. तो अब ये बताओ कि मैं बिना शेर, सियार, गीदड, कुत्ते और बिल्लियों के कैसे ब्लागिंग करूं. मुझे तो बस इन जानवरों की भाषा ही समझ आती है... और ब्लागिंग नही करुं तो लोगों को हंसाऊं कैसे?



और वाकई ताऊ ने हा हा ठी ठी  करते करते, वह रच दिया जो ब्लाग जगत में किसी ने सोचा भी न होगा , बड़े बड़े नामधारी, चमचे धारी लोग, जो अपने आप को सर्वेसर्वा  समझते थे , को धूल चटाते ताऊ ब्लाग सिरमौर कब बन गया लोगों को पता भी न चला ! ऐसे ही दुःख से दुखी ,जलन और ईर्ष्या को दर्शाते हुए एक मेरी कविता पढ़ें ...

सज्जनों और देवियों, सतीश सक्सेना का नमस्कार. ताऊ वार्षिक कवि सम्मेलन में अपनी रचना सुना रहा हूं...आशा करता हूं आपको अवश्य पसंद आयेगी...आपसे दाद चाहुंगा...हां तो ताऊ....
तुम्हारे ब्लाग ने ब्लाग जगत का सत्यानाश कर के रख दिया है ताऊ ! सारी भीड़, अपनी चार सौ बीस खोपड़ी की ११०% एफिसिएंसी प्रयोग करते हुए,खींच लेते हो और हमारे जैसे धुरंधर, बढ़िया बढ़िया पोस्ट लिखे बैठे रहते हैं ! कोई आता ही नहीं पढने !

गुस्से का मामला यह है कि तुम सरासर लोगो को मूर्ख बनाकर अपना देसी माल बेचे जा रहे हो अबतो मुझे यह भी यकीन हो गया है कि समीरलाल भी इस धंधे में शामिल हैं ! तेरे रूप कंचन तेल की ऐसी की तैसी न की तो मेरा नाम नहीं ! सबका धंधा चौपट कर के रख दिया ..
.

दुर्भावना एक मेरी भी ले लो 
वाकई बेमिसाल हो ! ताऊ 

बेईमानी तेरी रुकती तो नहीं 
खोपड़ी, बेमिसाल है !ताऊ !
लोग पागल बनाये जाते है
लेखनी बेमिसाल है ! ताऊ

आग ऐसे गुरु की धोती में,
जिसके चेले का नाम है ताऊ

ताई कैसे गुज़ारा कर पाए
अगर तू बंद हो गया ताऊ !

हेरा फेरी , तुरंत बंद करो
सब बहुत तुझसे त्रस्त हैं ताऊ !


और सबसे अंत में , ब्लाग जगत में नंबर एक का स्थान पाए इस शानदार व्यक्तित्व ने आज तक अपने असली चेहरे को प्रकट नहीं किया है ! पूरे ब्लाग जगत में इनका असली चेहरा किसी को नहीं पता ..यह एक रहस्य है कि  ताऊ रामपुरिया कौन हैं  ?

आज जहाँ हर व्यक्ति अपने नाम और सम्मान के लिए लड़ रहा है , ऐसे समय ब्लाग जगत में कार्यरत यह मशहूर लेखनी , अपने चेहरे को बिना आगे लाये, जो कार्य कर रही है वह हम सबके लिए एक मिसाल है बशर्ते कि हम समझ सकें !

ताऊ को इस दीपावली पर, इस लेख के द्वारा ,सम्मान देते समय मैं गर्व महसूस कर रहा हूँ !  
 

72 comments:

  1. मान अपमान से दूर रहनें के लिये ही सज्जन ने ताऊ शरीर धारण किया है।

    निर्लेप भावना को नमन!!

    हम जाने पहचाने ताऊ,फिर भी अन्जान सज्जन को हास्य-विनोद से भी ठेस न पहूँचाए, चाहे वे स्वयं पर हंसना जानते है।

    ReplyDelete
  2. ब्‍लागरों के ताऊ को इस छोटे भाऊ का प्रणाम ।

    ReplyDelete
  3. सतीश भाई असली चेहरा यहां और किस का है सब ने तरह तरह के नकाब ओढ रखे हैं कम से कम ताऊ जो करते हैं ड्म्के की चोट पर तो करते हैं। मेरे ताऊ को ऐसा वैसा मत सम्झें । बहुत बडी चीज़ हैं हमारे ताऊ जी। हा हा हा अच्छा लगा व्यंग। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. ताऊ एक फेनामेनन हैं मैंने पहले कह रखा है ....आप भी ताऊ तंतु से झंकृत हो गए ...

    ReplyDelete
  5. मुझे पता है सतीश जी कि ताऊ का असली चेहरा क्या है। सही कह रहा हूं।
    लेकिन ताऊ ने जगजाहिर करने से मना कर रखा है।

    ReplyDelete
  6. आपके सम्मान प्रपत्र में मेरा भी हस्ताक्षर।

    ReplyDelete
  7. ताउ का सटीक व्यंग ही उनका चेहरा है !

    ReplyDelete
  8. हिन्दी ब्लॉगिंग में ताऊ का महत्वपूर्ण योगदान हैा!
    --
    बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  9. mujhe yaad hai .... sep-2007 jab off.mgmt. ne hame internal transfer
    deke back office me work less place
    diya tha.....aur internet connection.

    oos khali waqt me google par hindi me
    nam dalte aur bare logon ki kahaniya
    padhte the ..... karib-karib 10 saal
    ke bad hamari patra-patrika padhne ka karya suru ho gaya .... oon yayawari kahaniyon me mujhe mile tauji ka sholey ... aur oos soley
    ke thakur(param priye anoop bhaijee).....

    bakiya phir kabhi...

    tau ko ghani ram-ram
    aur apko khali pranam.

    (yse tau ghani qute se bande hange)

    ReplyDelete
  10. ताऊ को हमारी भी राम राम !

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  12. इसलिए तो ताऊ......... ताऊ (जी) हैं , जिनका कोई जवाब नहीं......
    regards

    ReplyDelete
  13. हम तो सोच रहे थे कि आज ताऊ से मिलवा रहे हो, लेकिन निराशा ही हाथ लगी। ताऊ हरियाणा के हैं यह तो उनके लेखन से विदित होता है। खैर कभी तो पहचान सामने आएगी ही। राम राम ताऊ।

    ReplyDelete
  14. सही में ही ताउजी का मस्तिष्क ला जवाब है एक बार मै इन्दौर गया था तव फोन पर ताउजी से बात की कि ताउ मैं आपके व्लाग पर से ली गई आपकी तस्वीर लेकर पूरे शहर में फिर लिया मगर ’’तेरी सूरत से नहीं मिली किसी की सूरत’’ सही है सतीश जी जीना इसी का नाम है।

    ReplyDelete
  15. बढ़िया प्रस्तुति. ताऊ सर्वथा इसके योग्य हैं.

    ReplyDelete
  16. बेह्तर व्यक्तित्व,बेहतरीन परिचय!!!

    ReplyDelete
  17. @ अजित गुप्ता जी
    ताऊ का गावं राजस्थान में है इसलिए ताऊ राजस्थान के है , हाँ ताऊ का गांव रामपुरा राजस्थान में हरियाणा व राजस्थान की सीमा पर है और ताऊ के खेत हरियाणा में है |

    ReplyDelete
  18. ब्लाग जगत की इस बेहतरीन शख्शियत "ताऊ"को हमारा भी नमन

    ReplyDelete
  19. ताऊ ब्लॉग जगते के चमत्कार हैं।

    ReplyDelete
  20. रामपुरिया जी के बारे में आपके नेक ख्यालात के साथ हमारी भी नेक ख्वाहिशात जोड़ दीजियेगा !

    ReplyDelete
  21. हमने देखी है इन ब्लॉगों पे चमकती सूरत
    दिल से हट कर ही लिखने को भटकती मूरत
    उनकी मरजी है, उनको भी कोई इल्जाम न दो...
    ताऊ को ताऊ ही रहने दो, कोई नाम न दो...


    -ताऊ एक धमाका है..एक आग है उसमें कुछ कहने की, कुछ बदलने की.

    जय हो ताऊ की...

    ReplyDelete
  22. ताऊ को नई उपाधि दी गई है:

    रुस्तमें ब्लॉग (लठ्ठवाले), २०११

    -एक साल एडवांस में.

    ReplyDelete
  23. @ अरविन्द मिश्र ,
    निश्छल प्रतिभा की तारीफ़ जमकर होनी ही चाहिए भाई जी !
    @ नीरज जाट,
    ताऊ पर अधिकार तो सबका है ...सो बता दो यार नहीं तो किसी और दिन ताऊ को घेरते हैं !

    ReplyDelete
  24. बेशक ताऊ की लेखनी में जादू है ।
    चेहरा देखने की फरमाइश तो हम भी कर चुके हैं ।

    ReplyDelete
  25. त्यौहार के मौके पर बिल्कुल सही सम्मान दिया है..... उन्हें बधाई और आपका इस अच्छी प्रस्तुति के लिए आभार

    ReplyDelete
  26. ताऊजी की लेखनी के सभी मुरीद हैं... उनकी व्यंग्य और कटाक्ष भरी प्रस्तुति बिना कहे ही बहुत कुछ कह जाती है...

    हैपी ब्लॉगिंग

    ReplyDelete

  27. मेरे कानों में ताऊ की मीठी आवाज़ जब तब गूँजा करती है
    मैं पहले ही जानता था कि, ताऊ हमारा बड़ा नाम करेगा ।
    यही आज सतीश भाई ने भी कह दिया..
    देखा, हमारे विचार कितने मिलते हैं !
    ताऊ को घणी राम राम मँज़ूर होवै
    एक उत्तम डर्मीकूल पोस्ट !

    ReplyDelete
  28. ताऊ ने एक दिन फोन कर मेरे घर का पता पूछा और फिर क्या हुआ न पूछो!

    एक बढ़िया परिचय

    ReplyDelete
  29. ताऊ को जिसने समझना है, पहले ये गाना सुन ले...

    हाय जिसने मुझे बनाया है,
    वो भी मुझको समझ न पाया है
    मुझको सजदे किए हैं इनसानों ने,
    इन फरिश्तों ने सर झुकाया है...

    पर्दे में रहने दो, पर्दा न उठाओ,
    पर्दा जो उठ गया तो भेद खुल जाएगा,
    अल्लाह मेरी तौबा, अल्लाह मेरी तौबा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  30. ताऊ का जो सही वाला फ़ोटू लगा देते गुरु तो वाह क्या बात थी
    मैने प्रणाम का ट्रक उधर भेज दिया है
    _________________________________
    एक नज़र : ताज़ा-पोस्ट पर
    पंकज जी को सुरीली शुभ कामनाएं : अर्चना जी के सहयोग से
    पा.ना. सुब्रमणियन के मल्हार पर प्रकृति प्रेम की झलक
    ______________________________

    ReplyDelete
  31. आ.ताऊ को और आप सब को दीपावली की शुभ-कामनाएँ !

    ReplyDelete
  32. ताऊ नै घणी घणी राम राम

    ReplyDelete
  33. हमारी भी ताऊ को राम राम

    ReplyDelete
  34. बेह्तर व्यक्तित्व,बेहतरीन परिचय!!!

    ReplyDelete
  35. ब्लॉगिंग में ताऊ का महत्वपूर्ण योगदान है !

    ReplyDelete
  36. ताऊ के लट्ठ से डरते हैं सो हम भी कह देते है कि बड़ी बेहतरीन शख्सियत है ताऊ। सच्ची बात तो ये है कि मेरा बहुत नुकसान किया है इस ताऊ ने। सबसे पहले इसी का ब्लॉग देखा था और खुजली हुई थी दिमाग में कि हम भी ब्लॉग लिखेंगे। अच्छे भले मुझ जैसे आदमी को निकम्मा कर दिया। गुस्सा तो बहुत आता है पर फ़िर ताऊ का सोटा दिख जाता है सपने में भी। सो बीच का कहा कोई मत पढ़ना, शुरू में भी लिख दिया और बाद में भी लिख रहा हूँ, ताऊ सच में बेहतरी शख्सियत है।

    ReplyDelete
  37. सब लोग जब गाना लिख ही रहे हैं तो हम क्यों पीछे रहें..सो हमरी तरफ से एक ठो गानाः
    दिल को देखो, चेहरा न देखो
    चेहरे ने लाखों को लूटा
    दिल सच्चा और चेहरा झूठा.
    ताऊ इसी तरह ताउम्र सुवास बिखेरते रहें यही कामना है!!!

    ReplyDelete
  38. ताऊ रामपुरिया जी से परिचय अच्छा लगा."गंभीरता की देवी" का चेहरा इतना डरावना क्यों है ?
    आपका ब्लॉग मजेदार रहता है.
    मेरी नई पोस्ट आपके इंतज़ार में है.आइये प्लीज़.

    कुँवर कुसुमेश

    ReplyDelete
  39. सतीश जी आपने एक बेहतरीन अंदाज़ मैं तू का परिचय करवाया, यह भी एक हुनर है आप का. सच तो यह है की यू को पढके कुछ देर इंसान सब कुछ भूल जाया करता है.

    ReplyDelete
  40. ताऊ जी के बारे में तो जितना बोलो कम है...

    ReplyDelete
  41. तौजी के बारे में क्या बोले

    हमरा उनको राम राम ...:)

    ReplyDelete
  42. इस बेहतरीन पोस्ट के लिये आभार
    एक शानदार और जिंदादिल व्यक्तित्व को खूब उकेरा जी आपने
    आपके द्वारा इस प्रकार उच्च कोटि के ब्लॉग्स का सम्मान करने का तरीका भी सराहनीय है।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  43. .

    ताऊ जी को प्रणाम !

    .

    ReplyDelete
  44. भाई बाकि तो सब ठीक है पर एक 'पर' लग रहा है.........
    अगर, ताऊ खुदे आकर राम राम कर जाते तो ...... आपकी पोस्ट तक्सीद हो जाती......

    ReplyDelete
  45. मैं आपसे सहमत हूँ...ताऊ जैसा जिंदादिल इंसान ढूँढना घास के ढेर में सुई ढूँढने जैसा है...जो इंसान अपने आप पर हंस सकता है उसका कोई सानी हो ही नहीं सकता...ये गुण बहुत ही कम इंसानों में दिखाई देता है...मैं तो उनका पक्का फैन हूँ..

    नीरज

    ReplyDelete
  46. क्या तो ताऊ और क्या ताऊ की औकात? अगर आप सबका प्यार है तो ताऊ ताऊ है. बहुत आभार आपका. सभी को कल से शुरु हो रहे धनतेरस, रूप चौदस, दीपावली, गोवर्धन एवम भाई दूज पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    आभार सहित सभी को रामराम.

    ReplyDelete
  47. बहुत सुन्दर!
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामना!

    ReplyDelete
  48. दीपावली के इस पावन पर्व पर ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  49. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    आपको, आपके परिवार और सभी पाठकों को दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएं ....
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    ReplyDelete
  50. अपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  51. ताऊ जी तो ताऊ जी ही हैं
    ताऊ जी को प्रणाम !

    ReplyDelete
  52. बधाई।आपको व आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  53. ताऊ जी का नाम बहुत सुना है, उनके ब्लॉग में तो यदा कदा ही गए है, लगता है अब विस्तार से देखना पड़ेगा ....

    आपको व आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  54. दीपावली के इस शुभ बेला में माता महालक्ष्मी आप पर कृपा करें और आपके सुख-समृद्धि-धन-धान्य-मान-सम्मान में वृद्धि प्रदान करें!

    ReplyDelete
  55. दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  56. आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
    मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

    ReplyDelete
  57. सराहनीय लेखन........
    +++++++++++++++++++
    चिठ्ठाकारी के लिए, मुझे आप पर गर्व।
    मंगलमय हो आपके, हेतु ज्योति का पर्व॥
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  58. दीपावली की असीम-अनन्त शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  59. आपको दीपावली की ढेर सारी शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  60. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  61. कमेन्ट मोडरेशन हटा दिया ? :)

    ReplyDelete
  62. आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  63. पूरे ब्लाग जगत में इनका असली चेहरा किसी को नहीं पता ..यह एक रहस्य है कि ताऊ रामपुरिया कौन हैं ?

    आप जो भी हैं जय हो भाई आपकी.

    ReplyDelete
  64. Tau ji ke bare mein jankar Achha laga. Bahut hi sundar prastuti.

    ReplyDelete
  65. Taoo ji ko aur aapko Happy Diwali jee (happy gujaree na gujaree hee hogi). sabhee deviyan achchee hain par lachmee maiya ka jawab naheen.

    ReplyDelete
  66. ताउजी हैं तो रोचक ... मजेदार व्यक्तित्व है .... उनसे मेरी फोन पर मुलाकात होती रहती है ...

    ReplyDelete
  67. अगर भूत मोबाईल रखते है और ब्लोगिंग करते है तो निसंदेह ताऊ एक बहुत बड़ा भूत है जो सदैव हमारे आस पास रहता है |जब मेरी उन से बात चीत हुई थी तब पता चला था वाकई वो भूत की तरह हमारे आस पास होने वाली गतिविधी कि खबर रखते है |आपकी इस परिचयात्मक पोस्ट हेतु आभारी हूँ |

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,