Monday, February 14, 2011

देख लूं ....उड़नतश्तरी द्वारा सस्नेह -सतीश सक्सेना

               सरल भाषा में ,समीर लाल द्वारा लिखी गयी इस सफल उपन्यासिका का ,पहला अध्याय पढ़कर ही, मन में एक सपना सा जग गया कि अपने ब्लॉग लेखों को एक किताब का रूप दिया जा सकता है !
                 शिवना प्रकाशन शायद देश में अकेला प्रकाशन संस्थान है जो बेहतरीन ब्लॉग लेखकों का परिचय, आम जनता को कराने में बड़ी भूमिका अदा कर रहा है ! शायद ब्लोगिंग को प्रोत्साहन देने में, पंकज सुबीर अपनी व्यक्तिगत शक्ति और धन का उपयोग कर, सबसे अधिक हिम्मत का काम कर रहे हैं ! वे वाकई सम्मान के अधिकारी हैं ! काश कुछ और पंकज सुबीर, देश को मिल जाएँ  :-)
                किताबी फार्म में समीर लाल को पढना बेहद सुखद रहा ! सामान्य भाषा में गर्व रहित उड़न तश्तरी  को पढ़ते हुए लगता है कि समीर लाल सामने बैठे बाते कर रहे हैं ! ईमानदारी से कहे सौम्य शब्द, आपको मंत्र मुग्धता की स्थिति का अहसास कराने में कामयाब रहेंगे !!
                मांट्रियाल सफ़र में, गाड़ी चलाते समय रास्ते के अनुभव, हमसे बाँटते हुए समीर लाल की शैली की एक बानगी देखें....
          
" सामने ट्रक को देखता हूँ ! सूअर लदे हैं ! एक छेद से मुंह निकाले ठंडी हवा की  मौज लेने की  फ़िराक में देखा ! उसे क्या पता कि गंतव्य पर पंहुचते ही मशीन उसे फाइनल नमस्ते कहने का इंतज़ार कर रही है ! उस पर गुलाबी निशान है और बहुतों की तरह ! शायद गुलाबी मतलब , पहला स्टॉप ! तो वहीँ कटेगा और फैक्ट्री में से दूसरी तरफ पैकेट में पैक निकलेगा, पीसेस में बिकने को  !
छेद से झांकता सूअर ....
वैसे ये तो हमें भी पता नहीं कि कौन सा निशान हम पर लगा है ......"  
                 इन पंक्तियों द्वारा, लेख़क अनजाने में ही अपने संवेदनशील दिल का परिचय  दे देता है ! एक दूसरे से जलते भुनते, हम लोगों की आखिरी शाम कहाँ हो जाये  यह कौन जानता है  ??
"उजाले अपनी यादों के , हमारे साथ रहने दो  ! 
न जाने किस घडी में जिंदगी की शाम हो जाए !" 

85 comments:

  1. सही कह रहे हैं ……………समीर जी का प्रस्तुतिकरण बेहद शानदार और सहज है जल्दी ही आत्मसात हो जाता है।

    ReplyDelete
  2. वाह....congrats सतीश चाचा :)

    ReplyDelete
  3. देख लूँ तो चलू का हमे भी इंतजार है
    आभार

    ReplyDelete
  4. न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये

    सच ही है! एक "उड़न तशतरी" ले ही जाने वाली है, हर किसी को।

    ReplyDelete
  5. sach to hai...
    n jane kis gali me zindagi ki shaam ho jaye

    ReplyDelete
  6. जहाँ देखो वहीं चर्चा! लगता है इस पुस्तक को पढ़ना ही पड़ेगा। मिलेगी कहाँ?

    ReplyDelete
  7. पोस्ट पढ़कर मन कर गया कि पुस्तक पूरी पढ़ूँ...

    ReplyDelete
  8. जहाँ देखो वहीं चर्चा ! लगता है इस पुस्तक को पढ़ना ही पड़ेगा। मिलेगी कहाँ?

    ReplyDelete
  9. मैं भी पढने की जिज्ञासा लिए हूँ .....देखूं तो सही जरा

    ReplyDelete
  10. जीवन का ऐसा यथार्थ जिसे हर समय हर किसी को याद रहना चाहिये-
    न जाने किस घडी में जिंदगी की शाम हो जाए !
    आभार सहित...

    ReplyDelete
  11. SAmir Ji ka andaj hi juda hai !!

    ReplyDelete
  12. शाम कभी हो, उम्‍मीदों का सबेरा रोज होता रहे.

    ReplyDelete
  13. समीर लाल जी की संवेदना सुकून से पढ़ेंगे, कल यात्रा में।

    ReplyDelete
  14. एक ठो प्रति का इंतज़ार हमें भी है ..समीर जी की लेखन शैली वाकई प्राभावशाली है .

    ReplyDelete
  15. sameer bhaiya ko pata hota hai, pathak ke nabj ka, jaise aapko...tabhi to aap log ko ham sammaniya blogger samajhte hain...:)

    ReplyDelete
  16. sameer bhaiya ko pata hota hai, pathak ke nabj ka, jaise aapko...tabhi to aap log ko ham sammaniya blogger samajhte hain...:)

    hame intzaar hai sameer bhaiya ke iss book ka..:)

    ReplyDelete
  17. sameer bhaiya ko pata hota hai, pathak ke nabj ka, jaise aapko...tabhi to aap log ko ham sammaniya blogger samajhte hain...:)

    hame intzaar hai sameer bhaiya ke iss book ka..:)

    ReplyDelete
  18. sachchi baat ...
    sameer ji ka lekhan hi aisa hai ki har rachna padhne ko man kare.

    ReplyDelete
  19. समीर जी का लेखन पाठक को बाँध कर रखता है ..हल्के फुल्के अंदाज़ में गहन संवेदनशीलता की बात

    कह देते हैं ...

    ReplyDelete
  20. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  21. बहुत चर्चा है, आज पढनी शुरू करूंगा!

    ReplyDelete
  22. बहुत उत्सुकता है श्री समीर लाल जी की पुस्तक पढने की ।

    ReplyDelete
  23. समीर लाल जी की पुस्तक की समीक्षा शास्त्री जी के ब्लॉग पर पढ़ी थी और वहां टिप्पणी भी दी थी.आपके ब्लॉग की इस पोस्ट पर उनके बारे में और जानने का मौका मिला,अच्छा लगा.मेरी ओर से उन्हें पुनः पुस्तक की बधाई. ईश्वर उनकी रचनाधर्मिता और सहृदयता को बरक़रार रक्खे ताकि वो समाज को और अधिक दे सकें.

    ReplyDelete
  24. वाकई शानदार लेखन है ।

    ReplyDelete
  25. हमें तो पुस्तक मिली और एक ही बैठक में पूरा पढ़ गया। समीर जी को नेट पढ़ने का आनंद तो सभी ब्लॉगर्स को मिलता ही है लेकिन पुस्तक में एक के बाद एक कई पोस्टों को सूत्रवत पढ़ने का अलग मजा आया।

    एक चुटकुला इसी उपन्यासिका से-

    एक सेठ जी मर गये। उनके तीनॊ बेटे उनकी अंतिम यात्रा पर विचार करने लगे। एक ने कहा ट्रक बुलवा लेते हैं। दूसरे ने कहा महँगा पड़ेगा। ठेला बुलवा लें। तीसरा बोला वो भी क्यूँ खर्च करना। कंधे पर पूरा रास्ता करा देते हैं। ठोड़ा समय ही तो ज्यादा लगेगा। इतना सुनकर सेठ जी ने आँखें खोली और कहा कि मेरी चप्पल ला दो, मैं खुद ही चला जाता हूँ।

    ReplyDelete
  26. बहुत आभार इस स्नेह का मित्र. आगे काम करते रहने के लिए आप लोगों से ही प्रोत्साहन मिलता है. ऐसा ही स्नेह बनाये रखिये.

    ReplyDelete
  27. एक दूसरे से जलते भुनते, हम लोगों की आखिरी शाम कहाँ हो जाये, यह कौन जानता है ?

    सही बात है, हम सब अपने-अपने अहंकार के ट्रक में सवार हैं।

    समीर जी को उनकी क़िताब के प्रकाशन के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  28. समीरजी का लेखन बहुत प्रभावित करता है..... आपने सुंदर बानगी साझा की किताब से आभार

    ReplyDelete
  29. पोस्ट पढ़ कर पुस्तक पढने की जिज्ञासा बढ़ गयी है...

    ReplyDelete
  30. सही कह रहे हैं,वाकई यह समीर जी की अनुपम कृति है.आपको पस्तुति हेतु पुनः धन्यवाद.

    ReplyDelete
  31. सुबीर जी को ज्ञानपीठ भी पुरस्कृत कर चुकी है उनकी कृतियों के लिए। वैसे, समीर जी को कोई धनाभाव तो है नहीं, हां- एक अच्छे प्रकाशक की सहायता ज़्ररूर मिल गई है। सोचा था पुस्तक देख लूं तो चलू पर क्या करें बिना देखे ही चल रहे हैं :)

    ReplyDelete
  32. मैं भी इंतज़ार कर रहा हूँ पुस्तक का मुझ तक पहुचने का.

    ReplyDelete
  33. आपने पुस्तक को पढने की जिज्ञासा जगा दी है.ढूंढता हूँ कहीं.
    सलाम

    ReplyDelete
  34. समीर लाल जी की पुस्तक पढने की उतकंठा बढती जा रही है,

    ReplyDelete
  35. समीर लाल जी को उपन्यासिका के प्रकाशन पर हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  36. प्रिय सतीश सक्सेना जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    आप लगातार विविधरंगी पोस्ट्स का उपहार देते रहते हैं … बहुत साधुवाद के पात्र हैं ।
    समीर जी को भी बधाई !
    और
    पंकज सुबीर जी को भी धन्यवाद !

    …और अब इंतज़ार करेंगे आपकी पुस्तक का :)
    इससे पहली आपकी अगली पोस्ट का तो इंतज़ार रहेगा ही रहेगा …

    प्रेम बिना निस्सार है यह सारा संसार !
    प्रणय दिवस मंगलमय हो ! :)

    बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  37. बहुत जल्द मैं भी समीक्षा लिखने की तैयारी में हूँ.. समीर जी ने मुझे भी यह काम सौंपा है!!

    ReplyDelete
  38. जिनके पास पुस्‍तक नहीं है, उनमें से जो मित्र पुस्‍तक क्रय करके पढ़ना चाहते हैं, वे तुरंत nukkadh@gmail.com पर मेल भेजकर पूरी प्रक्रिया की जानकारी ले लें। यह सूचना देश में मौजूद देशी साथियों के लिए है। विदेशियों के लिए तो समीर भाई हैं ही।

    हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग का वेलेंटाइन डे है आज
    वैसे पुस्‍तक क्रय करके पढ़ने का अलग आनंद है,और मैं इस आनंद से इस पुस्‍तक के संबंध में वंचित रहा हूं पर आप इस आनंद से सराबोर हो सकते हैं।

    ReplyDelete
  39. मिने भी पढ़ा है उन्हें...मज़ा आता है....सही में लगता है कि बात ही कर रहे हैं....संस्मरण लिखते हैं तो लाजवाब....

    ReplyDelete
  40. आपने पुस्तक को पढने की जिज्ञासा जगा दी
    मैं भी इंतज़ार कर रहा हूँ पुस्तक का मुझ तक पहुचने का.

    ReplyDelete
  41. सतीश भाई,
    समीर जी को इस बार मिलने के बाद और अच्छी तरह जानने का मौका मिला...व्यवहार और लेखनी दोनों से समीर जी ने साबित किया है...सिक्के भले ही खनखनाहट से कितनी भी आवाज़ करें लेकिन मूल्य नोट का ही ज़्यादा होता है...और नोट कभी कोई आवाज़ नहीं करता...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  42. सतीश जी,
    समीर जी की पुस्तक पढ़ने की इच्छा बलवती होती जा रही है !
    कहाँ उपलब्ध है कृपया सूचित करने की कृपा करें !

    ReplyDelete
  43. पुस्तक के लिंक कहीं दिख गये है सो देखी जायेगी पर आपसे उम्मीदें जाग रही हैं ! अग्रिम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  44. एक बार पढ ली दूसरी बार पढनी है मन नही भरता पढते हुये।ीस से अधिक क्या कहूँ\ शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  45. bouth he aache shabad likhe hai aapne acha lagha read karke

    Keep Visit my Blog Plz... :D
    Lyrics Mantra
    Music Bol

    ReplyDelete
  46. सतीष जी बहुत अच्छी तरह से आपने पुस्त क के तथा प्रकाशन के बारे में लिखा है । मैं 7 दिनों से बाहर था । दिल्ली
    यमुना नगर तथा उधर के कई जगहों पर साहित्यिक समारोंहों में भाग लेता हुआ आज ही लौटा हूं और आते ही आपकी ये मेल देख कर दिल बाग बाग हो गया । आभार ।
    सुबीर

    ReplyDelete
  47. पुस्‍तक वाकयी में बहुत अच्‍छी है।

    ReplyDelete
  48. भाग्यशाली है आप, मुझे तो किताब मिली ही नहीं पढ‍े क्या और बोले क्या ??ॉ

    ReplyDelete
  49. बहुत ही रोचक पुस्तक है...एक बैठक में ख़त्म की जाने वाली...
    समीर जी को बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  50. सारा ब्‍लॉग जगत देख रहा है इसे।

    वैसे शिवना प्रकाशन के अलावा हिन्‍दयुग्‍म ने भी इस दिशा में उल्‍लेखनीय कार्य किये हैं।

    ---------
    अंतरिक्ष में वैलेंटाइन डे।
    अंधविश्‍वास:महिलाएं बदनाम क्‍यों हैं?

    ReplyDelete
  51. AIIAS
    National Integration and communal Harmoney
    in Mailanker Hall, Vithal Bhai patel House, Rafi Marg,-----on---24-02-2011--at---4.30 pm--to--9.30 pm

    ReplyDelete
  52. ब्लॉग पर आना सुखद रहा |भाई सतीश जी इतनी अच्छी जानकारी देने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  53. सतीश जी मैंने तो सभी बड़े बड़े लेखकों कि किताबें फ़ोकट में यार दोस्तों से उधार मांग कर ही पढ़ी हैं. अब देखें कि समीर जी कब मेरी इस लिस्ट में शामिल होते हैं.

    ReplyDelete
  54. इतनी संक्षिप्त समीक्षा -पहले न कभी देखी न सुनी -ट्रेंड न बन जाय और आप ट्रेंड सेटर :)
    चलिए आपने अच्छा किया -इस पुस्तक के समीक्षा यग्य में अपना अकिंचन हविदान देकर ...
    मेरी तो आँख का आपरेशन हुआ था नहीं तो एक प्रति मैं भी मंगाता उस समय !

    ReplyDelete
  55. इतनी संक्षिप्त समीक्षा -पहले न कभी देखी न सुनी -ट्रेंड न बन जाय और आप ट्रेंड सेटर :)
    चलिए आपने अच्छा किया -इस पुस्तक के समीक्षा यग्य में अपना अकिंचन हविदान देकर ...
    मेरी तो आँख का आपरेशन हुआ था नहीं तो एक प्रति मैं भी मंगाता उस समय !

    ReplyDelete
  56. हम भी पढ़ना चाहेगे उड़नतश्तरी..........

    ReplyDelete
  57. बहुत आभार आपका जानकारी देने के लिये, वैसे इस पोस्ट पर आई खुशदीप जी की टिप्पणी ने बहुत कुछ कह दिया. बहुत शुभकामनाएं भतीजे खुशदीप को.

    रामराम.

    ReplyDelete
  58. मैं भी पढने की जिज्ञासा लिए हूँ | इस पुस्तक को पढ़ना ही पड़ेगा !

    ReplyDelete
  59. उजाले हमारी यादों के हमारे साथ रहने दो |
    न जाने किस गली मै जिंदगी की शाम हो जाये |

    जिन्दगी को हकीक़त से मिलवाती रचना |

    ReplyDelete
  60. ’पढ़ने को मिलेम तो कहूँ’:))

    इतना तो मालूम ही है कि मस्त होगी पढ़ने में।

    ReplyDelete

  61. मैंने भी पढ़ा, यदि पाठक अपने में से ब्लॉगर तत्व अलग करके एक आम पाठक की तरह पढ़े, तो प्रभावित हुये बिना न रह पायेगा । इसे उपन्यासिका कहूँ या सँस्मरणिका यह तय नहीं कर पा रहा हूँ । कुल मिला कर इसमें सरल और सुखद पठन का अच्छा समन्वय है !

    Q: अरविन्द जी, काहे लिये आँख खुलवाये लिहे, हो ?

    ReplyDelete
  62. ब्लॉग पर आना सुखद रहा|वाह भाई वाह...
    "उजाले अपनी यादों के , हमारे साथ रहने दो !
    न जाने किस घडी में जिंदगी की शाम हो जाए !"

    वाकई बिल्कुल ठीक फरमा रहे हैं आप!
    लगता है इस पुस्तक को पढ़ना ही पड़ेगा।परन्तु यह मिलेगी कहाँ?

    ReplyDelete
  63. कनाडा के दो परम आदरणीय ब्लोगर्स (मेरे लिए शुरूआती परिचय यही है) आदरणीय समीर जी और आदरणीया अदा दीदी से बेहद प्रभावित हुआ हूँ .. बहुत दिनों से दोनों के ही ब्लॉग पर नहीं जा पाया हूँ :( मेरी भी मजबूरी है .... ब्लोगिंग का आधे से ज्यादा समय "प्रवचन" [मेरा दिया शब्द नहीं] देने में जाता है

    सुखद आश्चर्य होता है ....
    इस बात पर की इतने सारे नित्य नवीन दृष्टिकोण कैसे जनरेट होते हैं
    और ....इस बात पर भी हम सबको को ये ब्लॉग पर "फ्री ऑफ़ कोस्ट" में पढने को मिलते हैं

    ये तो थी दिल की बात ...

    .. अब कमेन्ट पोस्ट पर (कोपी पेस्ट कर रह हूँ आदरणीया संगीता जी की ने वही बात कह दी जो मैं कहता )
    ~~~~~~~~~
    समीर जी का लेखन पाठक को बाँध कर रखता है ..हल्के फुल्के अंदाज़ में गहन संवेदनशीलता की बात कह देते हैं ...
    ~~~~~~~~~~
    और अब ...... मैंने रुख किया .. अपने फेवरेट ब्लोगर्स में से दो फेवरेट ब्लोगर्स के ब्लोग्स की ओर .. इस पोस्ट के लिए आपका धन्यवाद



    आस्थावान ध्यान दें ~~~~~ स्वामी विवेकानंद की आवाज और सच

    ReplyDelete
  64. समीर अंकल की यह बुक तो मैंने भी देखी है..बढ़िया है.
    ______________________________
    'पाखी की दुनिया' : इण्डिया के पहले 'सी-प्लेन' से पाखी की यात्रा !

    ReplyDelete
  65. jala lo dil ko----------


    jai baba banaras-------

    ReplyDelete
  66. शिवना प्रकाशन शायद देश में अकेला प्रकाशन संस्थान है जो बेहतरीन ब्लॉग लेखकों का परिचय, आम जनता को कराने में बड़ी भूमिका अदा कर रहा है ! शायद ब्लोगिंग को प्रोत्साहन देने में, पंकज सुबीर अपनी व्यक्तिगत शक्ति और धन का उपयोग कर, सबसे अधिक हिम्मत का काम कर रहे हैं !

    पंकज सुबीर जी को भी बधाई ...इस पुस्तक की .....!!

    ReplyDelete
  67. छेद से झांकता सूअर ....
    वैसे ये तो हमें भी पता नहीं कि कौन सा निशान हम पर लगा है ......"

    और सब अपनी अपनी तरह से छेद से बाहर मुंह नि‍काल कर सांस लेने की कोशि‍श कर रहे हैं... है ना ?

    ReplyDelete
  68. समीर जी के लिए तो कुछ मुझे बेमानी लगता है क्योंकि यह तो सूरज को दीपक दिखाने जैसा होगा।
    आपका लेख भावपूर्ण है
    किसी जीवन की शाम कब,कहां,किस तरह हो जाये ये कौन जानता है?

    ReplyDelete
  69. समीर जी की पुस्तक के बारे में सुंदर परिचयात्मक आलेख. समीर जी को पुस्तक-प्रकाशन पर हार्दिक बधाई और इस परिचयात्मक आलेख के लिए आपका आभार .

    ReplyDelete
  70. वाह समीर लाल जी को पढवा कर बडा अच्चा काम किया आपने । किताब- देख लूँ ते चलूँ, कब आ रही है ।

    ReplyDelete
  71. समीर जी के इस सम्वेदनशील हृदय को प्रणाम!!
    वस्तुतः ऐसी सम्वेदना जब हृदय से प्रकट होती है, तो जीवन के प्रति करूणा का प्रसार करती है।
    यह मात्र रची गई सम्वेदनाएं नही, जी गई, भोगी गई सम्वेदनाएं है।

    सतीश जी का आभार प्रकट करते हुए कि आपनें उपन्यास की चर्चा के संग लेखक के सम्वेदनशील हृदय से भी सक्षात्कार करवा दिया।

    ReplyDelete
  72. main bhi vandana ji ki baaton se sahmat hoon ,unki rachna badi sundar aur sahaj hoti hai .is pustak ko apne mitr ke yahan lekar dekhi rahi pasand aai .

    ReplyDelete
  73. किताब मुझे भी मिली समीर चचा से... बस उन्हीं की लाइन्स दोहराउंगा कि उनकी कहानियां लिखी नहीं जातीं, 'उग आती हैं'......

    ReplyDelete
  74. हलके अंदाज़ में समीर भाई ने गहरी बात लिखी है ...
    सतीश जी आपकी प्रतिक्रिया भी जोरदार है ... मज़ा आ गया आपकी समीक्षा पढ़ कर ...

    ReplyDelete
  75. बहुत ही उम्दा रचना , बधाई स्वीकार करें .
    आइये हमारे साथ उत्तरप्रदेश ब्लॉगर्स असोसिएसन पर और अपनी आवाज़ को बुलंद करें .कृपया फालोवर बनकर उत्साह वर्धन कीजिये

    ReplyDelete
  76. पंकज जी,ब्लॉग रत्न है जो अपने मेहनत से बहुत से ब्लॉगर्स को कहानीकार और ग़ज़लक़ार बना दिए हैं.. उनका सहयोग और मार्गदर्शन अतुलनीय है..

    समीर जी के बारे में क्या कहूँ..उनके व्यक्तित्व को नमन करता हूँ....पुस्तक का इंतजार है...

    ReplyDelete
  77. sahi kaha aapne

    ब्लॉग लेखन को एक बर्ष पूर्ण, धन्यवाद देता हूँ समस्त ब्लोगर्स साथियों को ......>>> संजय कुमार

    ReplyDelete
  78. ''वैसे ये तो हमें भी पता नहीं कि कौन सा निशान हम पर लगा है ''
    adbhud tarike se dhyan khinchti hain ye panktiyan..........aur pustak ka wah ansh bhi bahut hi khubsurti se likha hai lekhak ne..............

    ReplyDelete
  79. समीर जी का लेखन रोचक और आकर्षक है ... अपने ही अलग अंदाज़ में वो गहन संवेदनशीलता की बात कह जाते हैं ...

    ReplyDelete
  80. आज फ़िर कोई मेहमान ही मिला यहाँ...
    समीर जी की इन पंक्तियों से मिलवाने का बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  81. I s nayi aur rochak jankaari ke liye abhar Satishji!

    ReplyDelete
  82. आज फिर देखा..मन भावविहिल हो उठा!!

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,