Wednesday, March 2, 2011

ब्लॉग सरदार ?? -सतीश सक्सेना

"यह मेरी पहली पोस्ट थी वर्ष 2005 में सितम्बर माह की 18 तारीख को, जिसे संशोधित कर रहा हूँ। ब्लॉग बनाया था 17 सितम्बर को, विश्वकर्मा जयन्ती वाले दिन। कुछ पता नहीं था, ब्लॉग क्या होता है, इसकी उपयोगिता क्या है, कैसे लिखा जाए। सीखते सीखते आगे बढ़ा। उस समय यूनीकोड से भी परिचय नहीं था, तो विभिन्न अक्षरों में लिखे का snapshot लेकर यहीं चित्र के रूप में चिपका कर खुश हो लेता था। लगभग डेढ़ वर्ष में ही खुमार उतर गया क्योंकि स्वभाववश: इतनी ज़ल्दी-ज़ल्दी पोस्ट प्रकाशित करता था कि गूगल बाबा ने परेशान होकर तीन बार मुझे स्पैमर मानते हुए चेतावनी दे डाली और खाता बंद करने की धमकी भी दे डाली। इस बीच यहीं कई प्रयोग भी किए।
'और भी गम है जमाने में ब्लॉगिंग के सिवा' का भाव लिए अपन खिसक लिए और इन्डियाटाइम्स से एक सर्वर किराए पर ले, अपने शहर की वेबसाईट ही बना डाली। ब्लॉगजगत से नाता तो नहीं छूटा था। गाहे बगाहे नजर पड़ती ही रहती थी, मन मचलता ही रहता था फिर लौटने के लिए। कुच्छेक और विषय आधारित ब्लॉग बनाए। लेकिन व्यक्तिगत ब्लॉग होना ही चाहिए, ऐसा मेरी बिटिया का कहना था।

इसलिए यहाँ से पूर्व प्रकाशित (अजीबोगरीब) 953 पोस्ट हटा कर पुन: प्रवेश कर रहा हूँ।"

एक मस्तमौला सरदार द्वारा, १८ सितम्बर २००५ में लिखी गयी उपरोक्त ब्लॉग पोस्ट से, लेखक की ईमानदारी और एक विस्तृत दिल का पता चलता है ! बदकिस्मती से इतनी खूबसूरत पोस्ट किसी ने नहीं पढ़ी मगर इस सरदार ने वर्षों पहले अकेले शुरू किया सफ़र ख़त्म नहीं किया  , बल्कि आज भी जारी है !

इतने वर्षों में ब्लॉग जगत में यह सबसे विवादित लोगों के रूप में मशहूर हो गए ! अभी कुछ दिन पहले इनके द्वारा  , मेरे ब्लॉग पर आकर  गुस्से में दी गयी वह टिप्पणी "......हमें क्या पागल समझ रखा है " टाइप मुझे बिलकुल पसंद नहीं आई और डिलीट  कर दी  और काफी दिन तक इस "पागल" सरदार से कोई संबंध न रखूंगा , तय कर इनका ब्लॉग पढना बंद कर दिया !

मगर ब्लॉग जगत बहुत छोटा है ...कुछ न कुछ सरदार की हरकतों ( पोस्ट ) पर निगाह पड़ती ही रहती थी ! कुछ दिनों में यह महसूस होने लगा यह अजीब पर्सनालिटी  में ऐसा कुछ अवश्य है जो मुझे खींचता है इन्हें पढने के लिए ! जो बेहतरीन गुण लगे वे थे मददगार, गर्व रहित, ईमानदारी और निश्छलता और शायद यही गुण ब्लॉग जगत में कम से कम मिलते हैं ,  और मुझे लगा कि यह सरदार कुछ अलग है, प्यारा है !

पहचानिए कौन है ? 
अपनी पूर्व प्रकाशित अजीबोगरीब 953 पोस्ट हटाकर, दुबारा ब्लॉग जगत में प्रवेश करने वाला यह मिलनसार, बेवाक, मददगार मगर बेहद विवादित ब्लॉग सरदार......अजय कुमार झा  व हम सबके  परम मित्र, श्री बी एस पाबला हैं ! ! 
शुभकामनायें पाबला जी ! 
  

93 comments:

  1. आदरणीय सतीश जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    कम ही समय हुआ है ब्लॉगिंग में आए … मेरे ब्लॉग शस्वरं की प्रथम वर्षगांठ भी अभी महीने भर बाद आएगी … इसलिए मैं तो नहीं पहचान पा रहा कि
    कौन है यह मिलनसार, मददगार मगर बेहद विवादित ब्लॉग सरदार… … … ?

    बहरहाल , रोचक पोस्ट के लिए बधाई !

    … और हां , पिछली भावनाप्रधान पोस्ट पर पहुंचा ज़रूर था … पुनः हाज़िर होना है अभी वहां …

    ♥ महाशिवरात्रि की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ! ♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  2. कहीं वो भिलाई के आसपास का ब्लॉगर तो नहीं है ....बला के तेज़ और तकनीकी सोच वाले हैं जो ..नाम याद नहीं आ रहा है ..पा जाऊं तो बता पाऊं

    ReplyDelete
  3. mujhe to lagta hai, aap Pabla sir kee baat kar rahe ho...:)
    kyonki jab peechhle dino mera blog bhi jab andhe kuyen me dubne laga to unhone hi tairte hue usse bachaya..:)
    hai na satish sir..:)

    ReplyDelete
  4. कहीं ये बी. एस. पाबलाजी के बारे में ही तो बात नहीं चल रही है ?

    ReplyDelete
  5. सही कहा है आपने ब्लाग जगत बहुत छोटा है.
    ठीक इतनी ही छोटी ज़िंदगी भी है.
    फ़ार्मूला :- मस्तराम बनके ज़िंदगी के दिन गुजार दे.

    ReplyDelete
  6. हम तो ब्लॉग जगत के एक ही सरदार को जानते हैं जो सबकी तकनिकी मदद करते हैं ..शायद वही हों.

    ReplyDelete
  7. आद.सतीश जी,

    निर्मल मन के आप हैं,कोमल,नम्र स्वभाव !
    इसीलिए बस ढूढते ,सबमें प्रीति अथाह !

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  8. आप ही बता दें, हमसे क्यों गलत उत्तर चाहते हैं।

    ReplyDelete
  9. सरदार और असरदार दोनों को अपना सलाम।

    ReplyDelete
  10. शिवरात्रि की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  11. हा हा हा हा हा हा

    आ.......बला + पा .......बला

    ReplyDelete
  12. @मेरे ब्लॉग पर आकर गुस्से में दी गयी वह टिप्पणी "......हमें क्या पागल समझ रखा है "

    सतीश जी,

    हमनें तो पागल के साथ बला समझ रखा है।;))उनकी तो गल न करो।

    ReplyDelete
  13. पाला पड़े बिना कोई क्या जाने कि वो हैं क्या बला...!

    ReplyDelete
  14. पाला पड़े बिना कोई क्या जाने कि वो हैं क्या बला...!

    ReplyDelete
  15. ई कौन सरदार हैं भाई जी....??

    ReplyDelete
  16. रोचक पोस्ट के लिए बधाई, महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  17. बिलकुल सही पहचाना आपने सतीश जी। वह असरदार, मिलनसार,मददगार सरदार है पाबला। अपनी बेबाक और निर्द्वंद्व टिप्पणीकार।

    ReplyDelete
  18. सिर्फ़ तकनिकी ही नही ..किसी भी तरह की मदद के लिए हाजिर रहते है--- एक बार राँची से इन्दौर आने के लिए ट्रेन पूछी थी ---तुरन्त(१५ मिन . में ही) ही किराये व ट्रेन नम्बर जानकारी मिल गई थी ...एक बार फ़िर शुक्रिया.....
    और हाँ सब अपना जन्मदिन भूल जाए... भूल कर तो दिखाए..जरा....हा हा हा

    ReplyDelete
  19. लो जी हमने तो बिना ब्लॉग पर आये बज़ पर पढते ही अपनी बहु डोली को बता दिया ....नही.नही...उसने मुझे बता दिया कि जरूर पाबला अंकल के लिए लिखा होगा'
    हा हा हा
    मैं ये कभी भूल नही सकती कि जब मैं एक ब्लोगर् महोदय द्वारा निहायत ही बेहूदी बाते शुरू कर देने के कारन घबरा कर ब्लॉग जगत छोड़ने जा रही थी.
    पाबला जी ने-जिन्हें मैं वीरजी सम्बोधित करने लगी - मुझसे ब्लॉग जगत छोड़ने का कारन पूछा,मेरे बताने पर मुझे समझाया कि मैं किस तरह 'इनविजिबल' रह कर अपना काम कर सकती हूँ.वे तकनिकी जानकारी के मास्टर तो हैं ही एक बेहद प्यारे इंसान भी हैं.उन जैसे इंसान यदि पागल,बला,सरके हुए हैं तो मेरी ईश्वर से प्रार्थना है हर घर में ऐसे ही पागल और बला को जन्म दो भगवान,जिससे हम औरते सुरक्षित महसूस कर सके अपने आपको.और ये धरती रहने लायक बनी रहे. पाबला भैया,वीरजी ! चिंता ना करो
    ऐसिच हूँ मैं भी हा हा हा

    ReplyDelete
  20. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  21. बहुत कुछ निस्स्वार्थ भाव से करते हैं ये...सबको ढेरो शुभकामनाएं दिलवाना...अखबार में छपी पोस्ट की खबर दे चेहरे पर ख़ुशी लाना...सबके ब्लॉग की तकनीकी गड़बड़ियां ठीक करना
    क्या क्या गिनाया जाए :)

    ReplyDelete
  22. आपसे शायद ही कोई अपरचित हो ..इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

    ReplyDelete
  23. गुरुदेव आप इतने सम्वेदनशील हैं कि बहुत जल्दी किसी से नाराज़ हो जाते हैं..और उतनी ही जल्दी पुनः मित्र बना लेते हैं.. अत्यंत दुर्लभ है आपका व्यक्तित्व, वर्त्तमान समय से कहीं आगे!
    पाबला जी दा जवाब नहीं!! ज़िंदगी में दो सरदारों को ही पसंद किया है,गुलज़ार साहब और जगजीत सिंह.. वर्त्तमान में वो सरदार न रहे.. मगर पाबला जी तो असरदार हैं!!

    ReplyDelete
  24. शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  25. जो बेहतरीन गुण लगे वे थे मददगार, गर्व रहित, ईमानदारी और निश्छलता और शायद यही गुण ब्लॉग जगत में कम से कम मिलते हैं , और मुझे लगा कि यह सरदार कुछ अलग है, प्यारा है !

    पर ध्यान रहे ये सरदार लठ्ठ से पिटवाता भी बहुत बुरी तरीके से है.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  26. satish ji ye to mujhe nahi pata ki pabla sahib ji kaun hai. lekin apke likhne ka andaaz aur unka vyaktitv byan karne ka andaaz accha laga.

    ReplyDelete
  27. ye srimaan sardaar jaroor hi bahut asardaar honge, tabhi ek post hi ban gayi unke upar.

    ReplyDelete
  28. आद.सतीश जी,
    हम तो ब्लॉग जगत के एक ही सरदार को जानते हैं जो सबकी तकनिकी मदद करते हैं
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  29. केवल अजय कुमार झा के दोस्त -भाईजान इसे एडिट कर दिए होते =इस पियारे सरदार का भला कौन दोस्त नहीं है आज -दुश्मन भी दोस्त हैं !और खुद सरदार जी दोस्तों के भी दोस्त मगर इन्हें नीद बहुत आती है!

    ReplyDelete
  30. पाबला जी की भूमिका अच्छी बनाई आपने .
    बढ़िया.

    ReplyDelete

  31. काफी दिन तक इस "पागल" सरदार से कोई संबंध न रखूंगा !
    आप क्या कहना चाहते हैं... क्या सरदार पागल भी हुआ करते हैं ?
    मैंनें अपने मेडिकल कैरियर में आज तक कोई पागल सरदार न देखा ।
    बहरहाल, डॉ. दराल के शब्दों को दोहराते हुये यही कहूँगा कि साड्डा पाबला असरदार सरदार हैगा !


    Current Moderation Status - OK

    ReplyDelete
  32. सरदार से पंगा लेने का मन कर रहा है क्या?
    वैसे भी होली ज्यादा दूर नहीं हैं :)

    ReplyDelete
  33. इंदु जी के पाबला अंकल:)हाआआआआआआआआआअ

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  34. वैसे सरदार शायद ब्लॉगजगत में कम ही है. पर पाबला जी के बारे में पढकर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  35. यक़ीनन पाबला जी की बात हो रही है....

    ReplyDelete
  36. आ.पाबला जी को कोई न जाने यह संभव ही नहीं है - उनका संत-स्वभाव हमारे लिए सदा सहायक सिद्ध होता है!
    हज़ार वर्ष की आयु पायें वे !

    ReplyDelete
  37. जो सबके बर्थ डे याद दिलाते हैं :)
    आपको महाशिवरात्रि की हार्दिक मंगलकामनाएं

    ReplyDelete
  38. बला पा, लेने की लाजवाब चाहत, अजय जी और पाबला जी दोनों को मुबारक.

    ReplyDelete
  39. प्यार बांटते चलो, प्यार बांटते चलो!
    आप क्या इस भुलावे में थे कि जो बन्दा 953 पोस्ट हटने से भी नहीं हिला वह आपके एक टिप्पणी हटाने से हिल जायेगा?

    ReplyDelete
  40. दमदार सरदार है, कम न समझना!!! :)

    ReplyDelete
  41. priya saksena ji
    sadar bandan .
    pahli bar aapko padha ,laga kuchh achha hi padh raha hun .bloggar sardar ?...
    tanmyata se lakshya ko ingit kar sarlata se aapni banto ko kah dena ek badi kala,va uplabdhi hoti hai ,jo aapne payi hai .abhinav post . bahut bahut dhanyavad.

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|
    महाशिवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  43. सिंह इज़ किंग...
    सिंह इज़ किंग...
    सिंह इज़ किंग...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  44. यह तो वाकई ब्लॉग सरदार हैं...

    ReplyDelete
  45. tussi great ho paji......sada sardar
    nu milwai diyo......

    pranam....

    ReplyDelete
  46. meri to kuch bhi samajh me nahi aaya hai.......

    ReplyDelete
  47. पावला जी के आगे तो मैं भी नतमस्तक हूँ। हर वक्त मदद के लिये तत्पर। उन्हें शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  48. bouth he aacha post kiya hai aapne sir.. like it

    Visit plz Friends.....
    Lyrics Mantra
    Music Bol

    ReplyDelete
  49. बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

    ReplyDelete
  50. आप पर इतना असर छोड़ गये, तो चीज तो हैं ही सरदार जी।
    बड़े भाई, आपके व्यक्तित्व की बहुत बड़ी खासियत है कि जिसने भी आपको प्रभावित किया उसकी खुलकर तारीफ़ करते हैं,और जिसके कारण आपको दुख पहुंचे उसका नाम खुद तक ही सीमित रख लेते हैं। बड़प्पन बहुत है आपमें। हमारी शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  51. वही न जिनका जन्मदिन वाला भी एक ब्लॉग है???
    हाँ वही तो हैं शायद...
    परन्तु एक बात तो है, कोई न कोई आकर्षण जरूर है...
    सहमत...

    ReplyDelete
  52. श्रीमान सतीश जी नमस्ते वाह!क्या खूब प्रस्तुत किया है आपने बड़प्पन बहुत है आपमें। महाशिवरात्रि की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  53. श्रीमान सतीश जी नमस्ते वाह!क्या खूब प्रस्तुत किया है आपने बड़प्पन बहुत है आपमें। महाशिवरात्रि की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  54. आज जाना कि डेढ़ दो लोगों से पंगा मतलब विवादित हो जाना :)

    बहरहाल 'विवादित' संबोधन पर हमारी आपत्ति दर्ज की जाए !



    टीप : इस कमेन्ट में आप सम्मिलित नहीं हैं !

    ReplyDelete
  55. @ ज्ञानचंद मर्मज्ञ ,
    आपके स्नेह के लिए आभार

    @ अजय कुमार झा ,
    पाबला जी की विशेषताएं पसंद आयीं ...मेरे हिसाब से
    आ भला पा भला

    @ सुज्ञ जी ,
    हमनें तो पागल के साथ बला समझ रखा है।;))उनकी तो गल न करो
    आनंद आ गया आपकी टिप्पणी में, बिलकुल गल हटा दिया जी

    ReplyDelete
  56. @ चला बिहारी ब्लोगर बनने,
    अब जैसे भी हैं सलिल भैया , आपके परिवार से हूँ झेलते रहें !

    ReplyDelete
  57. धन्यवाद सतीशजी ,

    हार्दिक शुभकामनाएं
    पाबलाजी साडे इलाके दी शान हैं और तकनीक के गुणा दी खान हैं.

    ReplyDelete
  58. @ ताऊ ,
    कहने को तो लट्ठ ताई के पास भी है , मगर धार तो तुम्हारे लट्ठ में ही है ताऊ !!

    @ अदिति चौहान ,
    हर इंसान का चरित्र और ईमानदारी उसका लेखन बताने में समर्थ होता है ! पाबला जी की पहली पोस्ट यहाँ दे राखी है , पढ़िए , आपको झलकती ईमानदारी पता चल जायेगी ! अफ़सोस है कि ब्लॉग जगत में किसी को समझने की आदत ही नहीं है केवल समझाना चाहते हैं !!

    ReplyDelete
  59. @ डॉ अरविन्द मिश्र ,
    @ इन्हें नींद बहुत आती है ...
    पाबला जी ध्यान दें , डॉ अरविन्द मिश्र के बारे में कम से कम न सोयें :-))

    @ डॉ अमर कुमार ,
    आनंद आ गया भाई जी आपको यहाँ देख और पाबला जी के प्रति आपका स्नेह देख ! सादर

    ReplyDelete
  60. @ ललित शर्मा ,
    आनंद आ गया , आप होली पर सरदार की खिंचाई प्रोग्राम रखें, मैं और अजय कुमार झा शामिल होंगे :-))

    @ राहुल सिंह ,
    मेहरबानी हुजूर, मेरी भी चाहत अजय से मिलती जुलती है !

    @ स्मार्ट इंडियन ,
    वाकई नहीं हिला यह बंदा , पाबला की नाराजी भी धाकड़ है, मस्त है !

    ReplyDelete
  61. @ उदयवीर सिंह,
    शुक्रिया आपके आने का ! पाबला जी के बहाने आपसे परिचय इस पोस्ट की उपलब्द्धि मानूंगा !

    @ सुमन जी ,
    आशा है अब तक समझ पायी होंगी , आपकी मासूम टिप्पणी वाकई असरदार रही ! सादर

    ReplyDelete
  62. @ संजय ...( मो सम कौन )
    आपके अनुराग का आभारी हूँ संजय !

    जो बुरा कर जाते हैं अथवा बुरा कहते हैं उन्हें बदले में उनसे अधिक मज़बूत गालिया देना कोई मुश्किल काम नहीं और ऐसा करके लोगों को आसानी से आकर्षित भी किया जा सकता है मगर यह काम और बहुत से ब्लोगर कर रहे हैं :-)

    मेरा सोंचना है कि जिसका लिखा पसंद न आये वहां जाना बंद कर दें न कि उसका विरोध करें ! लाखों लोग अच्छे हैं समय के साथ वे अवश्य पहचान लेंगे !

    पचासों कमेंट्स में से एक भी कमेन्ट अगर स्नेह का मिल जाए तो लेखन धन्य हो जाता है !

    ReplyDelete

  63. @ अली साहब ,
    आपकी बात से सहमत हूँ ! जो व्यक्ति हर एक की मदद को तत्पर रहे वह मेरी निगाह अच्छा इंसान है ! कोई भी व्यक्ति हर किसी को खुश नहीं रख सकता सबके अपने अपने कारण होंगे ! मेरे अपने अनुसार यह मिलनसार ब्लॉग सरदार अनुकरणीय है ! ऐसे लोग देर सवेर समाज से आदर पाते ही हैं !

    ReplyDelete
  64. ab bahut kuch samajh me aa raha hai...

    ReplyDelete
  65. आप सभी की अनूठी स्नेहाभिव्यक्तिओं से अभिभूत हूँ.
    एक अच्छा इन्सान बनने की जद्दोजहद में सेवाभाव के गुण ने मेरी कार्य ऊर्जा बनाए रखी है
    मुझे नहीं मालूम था, अभी भी साथियों की सदिच्छाएं मेरे साथ हैं

    आप सभी का आभार, स्नेह बनाए रखिएगा

    और सतीश जी!
    आपको तो देख लूंगा एक दिन :-)

    ReplyDelete
  66. @ बी एस पाबला (और सतीश जी! आपको तो देख लूंगा एक दिन :-)

    आपके इस शब्दों में छिपे स्नेह को मैं इतनी दूर से महसूस कर रहा हूँ ,जबकि हम आज तक कभी आमने सामने मिल भी नहीं पाए हैं !

    अफ़सोस यह है कि लोग यहाँ एक दूसरे की अच्छाइयां देखने की कोशिश ही नहीं करते हैं ! एक से एक बेहतरीन लोगों से मिलने का, इस आभासी जगत में रोज शुभावसर मिलता है मगर मेरा कालर ही सबसे अच्छा है, मानकर अपने कालर पर ही हाथ फेरते रह जाते हैं !

    कितना अच्छा हो कि हम लोग सद्गुण ढूँढने का थोडा सा भी प्रयत्न करें तो यकीनन , आभासी जीवन में ही नहीं वास्तविक जीवन में भी रोज पाबला जी मिलेंगे , और तब शायद हँसना भी सीख जायेंगे !
    सादर

    ReplyDelete
  67. धन्य हैं आप पाबला साहब ।
    हुण मर जावाँ खँड पा के..
    यानि कि आप बिना कुछ सोचे ही लगे रहे पाबला प्राजी ?


    मुझे नहीं मालूम था, अभी भी साथियों की सदिच्छाएं मेरे साथ हैं

    यानि कि आप बिना कुछ सोचे ही लगे रहे पाबला प्राजी ?
    ऎसा गुण तो अब तलक ्श्री हनुमान जी में ही पाया था कि,
    किस की बीबी किस ने भगाई.. और लँका को फूँक डाला,
    बल्कि यह समझो कि पूरी रामायण में हलाकान होते रहे सिर्फ़ आप !
    बोल हनु्मँतवतार पाबला महाराज की जै !
    आपकी मेहरबानी से ।

    ReplyDelete
  68. @ सतीश जी, ऎन होली के सीज़न में मॉडरेशन हटा दिया ?
    ज़रा ठीक से लपेट सपेट कर रक्खो भाई, इस तँगहाली में भी न जाने आपको कौन छेड़ दे ?
    कोई चुपके से यहाँ सरर रर वगैरह कर देगा तो मॉडरेशन को जॅस्टिफ़ाई करोगे ?
    बडी महीन चीज हो गुरु आप !

    ReplyDelete
  69. होली आने से पहले ही गले मिल लिए सतीश जी आप..
    मित्र हो तो आप जैसा .....

    ReplyDelete
  70. पाबला जी की जय हो।

    ReplyDelete
  71. भाई सतीश जी अद्भुत लगता है आपकी पोस्ट को पढ़ना |बधाई |

    ReplyDelete
  72. भाई सतीश जी अद्भुत लगता है आपकी पोस्ट को पढ़ना |बधाई |

    ReplyDelete
  73. kamaal hai bhai ji....dekhiye....ek ye sardaar or ek vo jo dilli me madam ke isharon par naachta hai.....

    kitna fark hai....


    sach hai parmatma ek jaise do piece nahi banata..

    aap sabhi ko naman karta hoon..

    ReplyDelete
  74. हा हा हा

    डॉ अमर कुमार की पहली टिप्पणी पर मेरे एक गैर-ब्लॉगर मित्र का कहना है कि सरदार के साथ 'पागल' लगाने की ज़रूरत क्या है!?

    उन्होंने मेरी सरदारों के बारह क्यों बजते हैं पोस्ट पढ़ रखी है।

    ReplyDelete
  75. @पाबला जी,
    लगता है मेरी तरह आप भी डॉ अमर कुमार को समझ नहीं पाए हैं ! अक्सर इनकी टिप्पणी, मेरे जैसे सामान्य समझ वाले, आदमी की समझ में नहीं आती ( हमारे हिसाब से बेसिर पैर की )

    मगर कोई कारण नहीं कि डॉ अमर कुमार जैसा व्यक्तित्व, जो कि देश के विभिन्न समुदाय और संस्कृतियों की बारीक समझ और विभिन्न भाषाओं का गुरु ज्ञान रखता हो सिक्खों के इतिहास से अनजान हों !

    हाँ यह हो सकता है कि वे आपसे उखड़े हों :-)
    .....जारी

    ReplyDelete
  76. हो सकता है कि वे आपसे उखड़े हों :-)

    ना जी ना, ये तो गलतबयानी है
    ये फेविकोल का जोड़ है, टूटेगा नहीं

    डॉ सा'ब का स्नेह पाना हर किसी के बस की बात नहीं। इस मामले में मैं सौभाग्यशाली हूँ

    ReplyDelete
  77. .....मुझे लगता है सरदार के मस्तमौला व्यक्तित्व पर उनका एक मज़ाक भर है ...आशा है गंभीरता से नहीं लेंगे
    मगर बहुत दिन बाद उनकी ( डॉ अमर कुमार ) टिप्पणी देख बहुत अच्छा लगा , कैन्सर जैसी भयानक बीमारी से लड़ते इस बढ़िया इंसान, को भगवान् हमारी उम्र दे दे !

    ReplyDelete
  78. बहुत ही रोचक पोस्ट है...ज्यादा समय तो नहीं हुआ फिर भी उनसे परिचित हूं...ब्लॉग के ही माध्यम से...लेखन में तो उनका कोई जवाब नहीं, उतने ही अच्छे इंसान भी हैं...

    ReplyDelete
  79. बहुत ही रोचक पोस्ट है...ज्यादा समय तो नहीं हुआ फिर भी उनसे परिचित हूं...ब्लॉग के ही माध्यम से...लेखन में तो उनका कोई जवाब नहीं, उतने ही अच्छे इंसान भी हैं...

    ReplyDelete
  80. Dono blogers ko hamaara salaam ...
    Aapki post bahut rochak hai Sateesh ji ... mazaa aa gaya padh kar ...

    ReplyDelete
  81. आहा! मैं पहचान गया था सच! इत्ते वडे पंजाबी पुत्तर, जो आज प्रा जी और पापा जी के नाम से मशहूर हैं, उन्हें न पहचानने का गुनाह कैसे कर सकता हूँ.
    बन्धु, लेकिन समस्या एक और है, आप सबके बारे में लिखते रहते हैं, कभी सतीश सक्सेना की बाबत कुछ लिखें.

    ReplyDelete
  82. अजय कुमार झा जी, पाबला जी और आपको हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  83. दोनों ही ब्लॉग जगत के धुरंधर हैं.... उनको शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  84. ये बात तो है.. पाबला जी कुछ ऐसे ही व्यक्तित्व वाले व्यक्ति है...वैसे ब्लॉग-जगत के लोकप्रिय लोगों में सम्मिलित हो जाना आसान बात भी नही...

    बढ़िया पोस्ट ..बधाई

    ReplyDelete
  85. आदरणीय सतीश जी ,
    झा जी के कमेन्ट्स तो पढे हैं । सच में अच्छे तो
    लगते हैं । अभी मेरा ब्लाग प्ले-ग्रुप के दौर से गुज़र
    इसलिये उनकी टिप्पणियों से अछूता ही है । शायद
    कभी वो मज़ेदार टिप्पणियां अपने ब्लाग पर भी देख
    पाऊं । दूसरे महानुभाव को नहीं जानती ।पोस्ट तो
    आपकी रोचक थी । धन्यवाद !

    ReplyDelete
  86. दोनों ही धुरंधर हैं ... हालाँकि अभी तक किसी से मिलने का सौभाग्य प्राप्त नहीं हुआ है... लेकिन पहचान तो हो ही जाती है.... :)

    ReplyDelete
  87. आभार इस जानकारी के लिये।

    ReplyDelete
  88. आपके ब्लॉग पर आकर बहुत अच्छा लगा .आपके दर्शन फरवरी २०११ की ब्लॉग मीटिंग में हुए थे .बहुत सुखद और प्रेरणाप्रद अनुभव रहा था .उसके बाद से ही मैंने 'मनसा वाचा कर्मणा '
    के ब्लॉग पर लिखना शुरू कर दिया .आपका हार्दिक स्वागत है मेरे ब्लॉग पर.आपके मार्गदर्शन से मै सदा अनुग्रहित रहूँगा .

    ReplyDelete
  89. आपके ब्लॉग पर आकर बहुत अच्छा लगा .आपके दर्शन फरवरी २०११ की ब्लॉग मीटिंग में हुए थे .बहुत सुखद और प्रेरणाप्रद अनुभव रहा था .उसके बाद से ही मैंने 'मनसा वाचा कर्मणा '
    के ब्लॉग पर लिखना शुरू कर दिया .आपका हार्दिक स्वागत है मेरे ब्लॉग पर.आपके मार्गदर्शन से मै सदा अनुग्रहित रहूँगा .

    ReplyDelete
  90. आपके ब्लॉग पर आकर बहुत अच्छा लगा .आपके दर्शन फरवरी २०११ की ब्लॉग मीटिंग में हुए थे .बहुत सुखद और प्रेरणाप्रद अनुभव रहा था .उसके बाद से ही मैंने 'मनसा वाचा कर्मणा '
    के ब्लॉग पर लिखना शुरू कर दिया .आपका हार्दिक स्वागत है मेरे ब्लॉग पर.आपके मार्गदर्शन से मै सदा अनुग्रहित रहूँगा .

    ReplyDelete
  91. Jha ji and pabla ji,and you satish sir all of you r grt blog saradars,

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,