Friday, March 11, 2011

अरुणा शानबाग और हम लोग -सतीश सक्सेना

अरुणा शानबाग पर, गिरिजेश कुमार का यह लेख प्रसंशनीय है  ! शायद मेरे लेख की भी लोग तारीफ़ करेंगे मगर क्या हम लोग अरुणा के लिए कुछ भी ठोस कर पा रहे हैं ?? 

ऐसे मार्मिक मौकों पर, समाज ,पाठकों एवं तमाशबीनों की उपस्थिति  के बाद , इतिश्री हो जाती है ! इलेक्ट्रोनिक अथवा प्रिंट मीडिया की सफलता, लेख के सफल प्रदर्शन और प्रभाव पर निर्भर करती है और हम पाठक अक्सर तालियाँ बजा कर लेख का स्वागत करते हैं !

इसके बाद दर्शक गण, मदारी की तारीफ़ करते अपने घर जाते हैं और मदारी  किसी नए खेल और जमूरे के साथ  किसी और भीड़ भरी जगह की तलाश में !


क्या अरुणा को बचाने के प्रयास बंद कर देना चाहिए केवल इसीलिए कि उसका साथ  देने वाले परिवार जन न के बराबर है  ? क्या  और कुछ नहीं किया जा सकता  ? सम्मिलित शक्ति के साथ, अगर हम सब थोडा समय इस जीवंत समस्या  में लगायें तो शायद यह बदकिस्मत लड़की बच जाए !     

अरुणा का इलाज़ एलोपैथिक सिस्टम में संभव नहीं है  ....

मगर क्या आदिमकाल से मानव, पूरे विश्व में सिर्फ एलोपैथिक सिस्टम से इलाज़ करवाता आया है  ? 
क्या यह विज्ञानं व्यवस्था,  हमें एलोपैथिक सिस्टम के सामने घुटने टेकने के लिए मजबूर नहीं करती  ?? शक्तिशाली प्रचार तंत्र के होते , बंद  दिमाग लेकर चलते और जीते हम लोग, एलोपैथिक सिस्टम के आगे और कुछ सोंच ही नहीं पाते  ! 

एलोपैथी को छोड़ अगर हम वैकल्पिक चिकित्सा पर ध्यान  दें तो अरुणा को कोमा से बाहर लाया जा सकता है !  होमिओपैथी एवं विश्व की अन्य कई ऐसी विधियाँ हैं जो मृत प्राय लोगों को जिलाने की शक्ति रखती हैं ! 

अगर हो सके तो अरुणा के मित्र अथवा उसको मदद करते संगठन का पता लगा कर , उससे जुड़ने का प्रयत्न करें तो अभी भी कुछ हो सकता है !


मानव चाहे तो क्या नहीं कर सकता ......आवश्यकता सिर्फ सामूहिक ताकत का उपयोग करने का ही है , रास्ता निकल ही आएगा  !

63 comments:

  1. सतीश जी,
    क्या आपको उनका इलाज अब भी
    संभव लगता है पिछले ३७ सालसे
    वो कोमा में है और उनकी आयु
    लगभग ६५ साल है !

    ReplyDelete
  2. मानव चाहे तो क्या नहीं कर सकता ......आवश्यकता सिर्फ सामूहिक ताकत का उपयोग करने का ही है , रास्ता निकल ही आएगा
    .
    उम्मीद पे दुनिया काएम है और यह सही है की आयुर्वेद,होमिओपैथी ऐसे मरीजों के लिए अधिक कारगर हो सकती है.

    ReplyDelete
  3. @ सुमन ,
    कोई भी जानकार होमिओपैथ जिसे अरुणा की जानकारी होगी , उन्हें ठीक करने में समर्थ होगा ! मुझे यकीन है कि एक विद्वान् होमिओपैथ उसे कोमा से बापस लाने में समर्थ रहेगा !
    अन्य वैकल्पिक चिक्त्सायें जैसे अक्यूपंक्चर आदि में भी, इस प्रकार की बीमारी ठीक होते सुनी गयी है ! सवाल केवल जानकारों का ध्यान इस तरफ आकर्षित करने का है ! इस देश में ज्ञानिओं की कोई कमी नहीं है !

    ReplyDelete
  4. अच्छी भावना है बंधु :)

    ReplyDelete
  5. सतीश जी सही कह रहे हैं....जब एक से बात न बने तो क्यों ना दुसरे की और देखा जाये....कोशिश किया जाना चाहिए....

    ReplyDelete
  6. आदरणीय सतीश भाई जी
    आपकी संवेदनात्मक अभिव्यक्ति ...जीवन के निस्वार्थ भाव से सम्बंधित है , हम किसी के लिए कुछ कर पायें ..इससे बड़ी बात क्या हो सकती है ...अरुणा के लिए किया गया आपका आह्वान सच में प्रशंसनीय है

    ReplyDelete
  7. हर संवेदनशील इन्सान के विचार यही होंगें .... पर थोड़ा मुश्किल लगता है...

    ReplyDelete
  8. @मानव चाहे तो क्या नहीं कर सकता ......आवश्यकता सिर्फ सामूहिक ताकत का उपयोग करने का ही है , रास्ता निकल ही आएगा !
    सही कह रहे हैं भाई साहब.

    ReplyDelete
  9. उत्तम विचार बहुत ही सार्थक चिंतन.........बहुत सही कहा आप ने हमारी शुभकामनाये आपके साथ है,

    ReplyDelete
  10. सतीश जी आपकी भावनाएं सही हैं। और यदि आप जो सोच रहे हैं उस तरीके से अरूणा के ठीक होने के यदि एक फीसदी भी चांस हो तो भी प्रयास तो करना ही चाहिए। कहते हैं न कि हिम्‍मते मर्दा मददे खुदा।

    ReplyDelete
  11. सतीश जी आपकी भावनाएं सही हैं। और यदि आप जो सोच रहे हैं उस तरीके से अरूणा के ठीक होने के यदि एक फीसदी भी चांस हो तो भी प्रयास तो करना ही चाहिए। कहते हैं न कि हिम्‍मते मर्दा मददे खुदा।

    ReplyDelete
  12. उम्मीद पे दुनिया कायम है लेकिन क्या इतना लम्बा इन्तेजार
    आम आदमी के बस की बात है?

    ReplyDelete
  13. सतीशजी,
    मुझे भी आपकी बात काटने की ही इसलिये इच्छा हो रही है कि यदि वैकल्पिक चिकित्सा टाईप के कोई प्रयास इस रोगी के लिये होना उपर्युक्त थे तो उन्हें सालों पहले ही अमल में लाया जाना चाहिये था । अब 37 साल से कोमा का वो मरीज जो अब इसी अर्द्धमृत स्थिति में 65 की उम्र पार कर चुका हो । ये प्रयास मुझे संभव व सार्थक दोनों ही नहीं लगते । फिर भी यदि कोई काल्पनिक मुन्नाभाई MBBS शायद ऐसा कोई चमत्कार करवा दे तो बात अलग है ।

    ReplyDelete
  14. पूरी कोशिशें करने के बाद अरुणा को आधी-अधूरी ज़िन्दगी मिल भी गई तो किस मन से कैसे जी पाएगी वह ,और कैसा होगा वह जीवन?एक विवश नारी तन को जिलाए रखना (मन उस ज़िल्लत से कैसे छुटकारा पाएगा ?) ,मुझे सोच कर भी कष्ट होता है .
    अब तो वह मुक्त हो इस नरक से !

    ReplyDelete
  15. @ सुशील बाकलीवाल,
    मानव बुद्धि और समझ अपरिमित है सुशील भाई ...विशाल विश्व ज्ञान में हमारी समझ, एक ज़र्रा भी नहीं ...
    :-)

    ReplyDelete
  16. main nahi samajhti ki yah prayaas aruna ko zindagi degi, kis ghutan ko mahsoos karne ko wah phir hosh me aaye !!!

    ReplyDelete
  17. सतीश जी आपकी संवेदनाओं के लिए नतमस्तक.

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  19. इतना ही कहूंगा कि

    आप जैसे भावुक हृदय मानव की सुनले भगवान !

    ReplyDelete
  20. अगर एक मरते हुए व्यक्ति को नई जिंदगी मिले तो इससे ज्यादा हर्ष की बात कुछ नहीं हो सकती| अरुणा शानबाग का इलाज़ होमिओपैथी में है या नहीं मैं नहीं कह सकता| बहरहाल ऐसे प्रयास किये जाएँ तो अच्छा ही होगा|
    पोस्ट के शुरू में आपने एक अच्छा सवाल उठया है क्या हमलोग अरुणा के लिए कुछ ठोस कर पा रहे हैं?? थोड़ी देर के लिये हम यह मान लेते हैं कि अरुणा स्वस्थ हो गयी, क्या हमने कुछ ठोस कर लिया? माफ करेंगे अगर आप ऐसा सोचते हैं तो मैं इससे इत्तफाक नहीं रखता| कतई सहमत नहीं हो सकता| अरुणा शानबाग किसी बीमारी की शिकार नहीं थी, हवस के वहशी दरिंदे ने उसे इस स्थिति में लाकर छोड़ दिया| मैं तो यह समझता हूँ कि समाज से इस दरिंदगी को खत्म करने के प्रयास किये जाएँ तभी कह सकते हैं हमने कुछ ठोस किया ताकि फिर कोई अरुणा जिंदा लाश की तरह किसी अस्पताल में अस्पताल कर्मचारियों के भरोसे ना पड़ी रहे|
    गिरिजेश कुमार

    ReplyDelete
  21. मैने भी पारम्परिक चिकि्त्सा से कोमा से बाहर आते देखा है। वो अब अच्छे से पहले जैसे काम कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  22. आशा से आकाश टिका है...

    ReplyDelete
  23. मार्मिक.
    मुझे भी होमियोपैथी पर यक़ीन है.

    ReplyDelete
  24. मानव चाहे तो क्या नहीं कर सकता .....बस्स!!

    ReplyDelete
  25. कुदरत का चमत्कार कभी भी हो सकता है ! हमें उम्मीद की डोर नहीं छोड़नी चाहिए और अरुणा शानबाग के लिए प्रार्थना करनी चाहिए !

    ReplyDelete
  26. thank you dear "voice of youth "
    yours is the only comment that is worth reading and appreciating

    there is no point in posting such posts and discussing issues while ignoring the cause of it all

    sensitivity that benefits only one section of society is not sensitivity but selfishness

    we need posts on how to remove gender bias

    ReplyDelete
  27. अगर ऐसा हो पाए तो बहुत अच्छा हो..
    आपने कहा कि "ऐसे मार्मिक मौकों पर, समाज ,पाठकों एवं तमाशबीनों की उपस्थिति के बाद , इतिश्री हो जाती है !"
    पर बेचारा आम आदमी करे तो क्या अरुणा शानबाग से बदतर हालत वाले लोग हमारे चारों ओर पड़े हैं.. अरुणा तो कम से कम एक अच्छे अस्पताल के अच्छे वार्ड में भर्ती हैं और किसी भी विधि से कम से कम उनका इलाज चल रहा है. वरना हमारे गांवों में तो लोग इलाज के अभाव में हैजा से ही मर जाते हैं... न आज तक मैंने किसी को कोमा में जाते देखा न इच्छामृत्यु की जरुरत महसूस करते. मुझे लगता है अरुणा से ज्यदा होमियोपैथी वालों को ऐसे गरीबों की करनी चाहिए..

    ReplyDelete
  28. अरुणा के साथ उनका पूरी अस्पताल है और हमें नहीं लगता कि, इस अवस्था में उन्हें अगर होम्योपैथी की गोलीयां भी दे दी जायें तो किसी हो कोई आपत्ति होगी।

    पर बड़ा सवाल यह है कि चिकित्सा की सभी वैकल्पिक सुविधायें सभी को उप्लब्ध हों,चिकित्सा को एक लाभकारी धन्धा न बनाया जाये, "prevention is better than cure" ध्यान और योग को हम बड़े लोग अपनी दैनिकचर्या और आचरण में लायें।

    ReplyDelete
  29. आपकी भावना की कद्र करती हूँ लेकिन 37 साल मे तो जो तन्तू निर्जीव हो गये हैं उन्हें कैसे जीवित किया जा सकता है। लेकिन कोशिश कई बार असम्भव को भी सम्भव बना देती है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  30. 'asha hi jivan hai' ...... abhi-abhi padha hai.....doosri baat ye vichar
    apne rakhe hain......apki sadiksha
    safal ho ye kamna karte hain.....

    pranam.

    ReplyDelete
  31. बहुत ही सामयिक संवेदन शील मुद्दे पर विचारणीय पोस्ट ... आभार

    ReplyDelete
  32. कोई होम्योपैथी का जानकार ही इस बारे में कुछ कह सकता है।

    आपकी भावनाओं को नमन

    प्रणाम

    ReplyDelete
  33. सतीश जी,

    आपकी जिजीविषा भरी शुभचिंतन की भावना को प्रणाम।
    जहाँ 99 डूब गये वहाँ 1 का भी प्रयास करने में कोई हर्ज़ नहीं।
    प्रतिकूलता से लडने का नाम ही मानव है, और उसमें सफलता ही चमत्कार है।

    ReplyDelete
  34. what type of help ..she require ..? Pl. e-mail me on shaw.lpm@rediffmail.com.We will try to give some solution as possible pl .

    ReplyDelete
  35. बहुत कुछ सोचने पर विवश करती है आपकी पोस्ट, मैं आपके इस विचार से तो सहमत हूँ की जब तक सांस है तब तक आस नहीं छोड़ना चाहिए और इस ओर प्रयास भी उचित है परन्तु क्या वो स्त्री जो जिस हालात का शिकार होकर इस स्थिति में इतने सालों से जीवित है अगर उसे ज़िन्दगी मिल भी गई तो किस मन से और कैसे जी पाएगी वह... प्रयास उस दिशा में भी हो की फिर कोई अरुणा शानबाग जैसी स्थिति में न पहुंचे और न ही उसे इस तरह के न्याय या ईलाज की आवश्यकता हो..

    आपके विचार उन हजारों लोगों के लिए आशा की किरण साबित हो सकते हैं जो किसी बीमारी की वजह से कोमा में रहते हुए सालों से जिंदगी की बाट जोह रहे हैं....

    ReplyDelete
  36. आज लोग कहते हैं
    बेचारी लड़की के लिये कुछ करो
    भूल जाते हैं वो कि
    लड़की से वृद्धा का सफ़र
    तुमने अपने बिस्तर के साथ
    तय कर लिया हैं
    काट लिया कहना कुछ ज्यादा बेहतर होता

    ReplyDelete
  37. असली मुद्दा जब तक खत्म न हो, तब तक क्या ऐसे व्यक्तिगत मामलों पर ध्यान भी न दिया जाये?

    इस विषय पर आपकी भावना के साथ हमारा भीए जुड़ाव महसूस कीजियेगा।

    ReplyDelete
  38. मानव की आशावादिता ही उसका सबसे बड़ा संबल है -आशा बनाए रखें !

    ReplyDelete
  39. आपके जज्बे को सलाम, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  40. आपका सुझाव अच्छा है मगर हो सकता है वैकल्पिक तरीके भी आजमाये जा चुके हों अब तक्……………इतने बडे समय अन्तराल मे इंसान सभी तरीके आजमाने की कोशिश तो जरूर करता है ………………और अगर ऐसा नही हुआ है तो जरूर आजमाये जाने चाहिये मगर एक प्रश्न है …………अब वो ज़िन्दा रहकर करेगी क्या? क्या उस पीडा से मुक्त हो सकेगी? क्या एक बार फिर उस पीडा के दंश से नही जूझेगी? आज हम सभी यही सोच रहे है कि या तो उसे मौत मिल जाये या वो ठीक हो जाये मगर सोचने वाली बात ये है कि जिसमे उसका कोई कसूर नही वो सज़ा उसने बिस्तर पर लेटे लेटे भोगीहै मगर जिसने ये कुकर्म किया वो सिर्फ़ थोडी सी सज़ा पाकर आज भी आज़ाद घूम रहा है …………क्या ये जानकर वो दोबारा कोमा मे नही चली जायेगी या फिर जो उसकी आत्मा पर दाग लगा है उससे उबर पायेगी…………क्या उसके वापस होश मे आने से इस समस्या का हल मिल जायेगा? ऐसे ना जाने कितने प्रश्न है सतीश जी जो हमारे मनो को हिलाते हैं और जिनके जवाब हमारे पास नही हैं क्योंकि हम कुछ नही कर सकते सिवाय दुखी होने के…………कुछ गलत कह दिया हो तो क्षमाप्रार्थी हूँ …………दिल बहुत दुखी है आजकल के हालात से इसलिये जो दिल मे आया लिख दिया।

    ReplyDelete
  41. सतीश जी , आपके खयालात बहुत अच्छे हैं ।

    लेकिन डॉक्टरों को प्राथमिकता के बारे में भी सोचना पड़ता है ।
    इमरजेंसी में इसे ट्राईएज कहते हैं ।

    ReplyDelete
  42. जिजीविषा बनी रहे, राह तो निकल ही आयेगी।

    ReplyDelete
  43. उत्तम विचार....

    ReplyDelete
  44. मानव चाहे तो क्या नहीं कर सकता ...
    और अगर न भी कर सके तो उसका खामियाज़ा अरुणा शानबाग क्यों भुगते? इच्छा मृत्यु के नाम पर कोई हृदयहीन उसकी हत्या की बात कैसे कर सकता है?

    ReplyDelete
  45. सर्वे भवन्तु सुखिनः। सर्वे सन्तु निरामयाः।

    ReplyDelete
  46. बहुत सुन्दर बात कही आपने. होम्योपैथी एक बार ट्राई की जानी चाहिए.

    ReplyDelete
  47. अरुणा के लिए पूरी हमदर्दी बरतते हुए सोचते हैं कि ऐसी दशा में क्या अरुणा का नया चोला धारण करने का समय नहीं आ गया ?हालाँकि यह फैसला करने वाले हम नहीं हैं पर शायद अरुणा भी यही चाह रही होंगी (अपने अवचेतन मन में).

    ReplyDelete
  48. आदरणीय सतीश जी ,
    आपने बिलकुल सच लिखा है । अरुणा का बच पाना तो शायद मुश्किल हो ,परन्तु दूसरी अरुणा को बचा पाने में हम सफ़ल हो पायेंगे ,ऐसी उम्मीद तो जागती ही है ।

    ReplyDelete
  49. अरुण शानबाग के लिए आपकी पीड़ा मन को द्रवित कर गई।
    आपकी सदाशयता फलीभूत हो, यही मेरी कामना है।

    ReplyDelete
  50. सही कह रहे है सतीशजी ...जब इतनी सारी इलाज पध्धति उपलब्ध है तो फिर सिर्फ elopathy पर ही क्यों निर्भर रहा जाये ?? जरूरत है अन्य पद्धति के जानकारों को आगे आने की.

    ReplyDelete
  51. धन्य हैं केईएम अस्पताल के डॉक्टर और नर्स...

    उनका कहना है कि जब उन्हें अरुणा की देखभाल करने में कोई दिक्कत नहीं तो वो फिर क्यों उसके लिए इच्छामृत्यु की मांग की गई...

    सतीश जी ने प्रभावशाली बात कही है जिसे अरुणा के करीबियों तक पहुंचाया जाना चाहिए...

    लेकिन यहां समाज का एक कड़वा सच ये भी है कि हवस की आग में अंधा होकर कोई दरिंदा अरुणा को इस हाल में पहुंचा देता है...कुत्ते को बांधने वाली ज़ज़ीर से वो मानसिक आघात पहुंचाता है कि 38 साल बाद भी अरुणा सदमे से उभर नहीं पाती...सवाल ये भी है कि युग कोई भी हो, अरुणाओं को ऐसी स्थिति का शिकार क्यों बनना पड़ता है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  52. ये हादसा कितना पुराना है ? अगर कोर्ट की तारीख ना होती तो क्या हमें अरुणा ख्याल आता ?

    ReplyDelete
  53. मुझे ऐसी किसी चमत्कार के बारे में जानकारी नही है पर उम्मीद है...अगर ऐसा कुछ भी संभव है तो निश्चित रूप से एक सार्थक पहल की जानी चाहिए ताकि किसी को फिर से जीने की राह दिखे...बहुत बढ़िया विचार रखी आपने...प्रणाम

    ReplyDelete
  54. उत्तम विचार बहुत ही सार्थक चिंतन.........बहुत सही कहा आप ने हमारी शुभकामनाये आपके साथ है,

    ReplyDelete
  55. काश कोई संजीवनी बूटी ऐसी भी हो जिसे सूंघते ही अरुणा जी होश में आ जाएँ !

    ReplyDelete
  56. सतीश भाई,

    वयस्तता के कारण यह पोस्ट पढ़ ही नहीं पाया... वाकई, एकदम सही लिखा है आपने... इस ओर कोशिश की जानी चाहिए...

    ReplyDelete
  57. सतीश जी अच्छी कोशिश की है आपने ।
    हम आप का ब्लाग अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाने की कोशिश करेगें ।
    शयद यह उस जानकार तक पहुँच जाये जो इनका इलाज अरने में सक्षम हो ।

    ReplyDelete
  58. हर ह्रदय वाला व्यक्ति यही चाहेगा | काश हम कुछ कर पाते.....|
    बात सही है कि मात्र लेख लिखकर हमें अपने कर्तव्यों की इतिश्री नहीं मान लेना चाहिए |

    ReplyDelete
  59. भाई सतीश जी सादर अभिवादन |होली की सपरिवार रंगबिरंगी शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  60. सतीश जी आपकी संवेदनाओं के लिए नतमस्तक.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,