Friday, April 1, 2011

वे काटें तो प्यार मुहब्बत हम बोलें तो अत्याचार -सतीश सक्सेना

बहुमुखी  प्रतिभा के धनी अनुराग शर्मा ने आज एक खस्ता शेर लिखा , जो सीधा दिल में, गहराई तक उतरता चला गया  ! हलके फुल्के हास्य व्यंग्य के लिए लिखी इस रचना का एक एक शेर, लगता है जीवन की सच्चाई बयान  कर रहा है !

अक्सर स्वार्थी हम लोग ,जब भी अपनों  का फायदा उठाते हैं तो अपनी योग्यता और अपनी ही पीठ थपथपाते रहते हैं कि हम इस योग्य है कि यह गधा मेरे लिए काम आ रहा है ! यह हमारी ही मुहब्बत है कि वह हमसे प्यार करता है ....

बेहद दर्द के साथ इन प्यारों का साथ छोड़ना ही बेहतर है ... दिल कहता है कि 

इंशा अब इन्हीं अजनबियों में चैन से सारी उम्र कटे
जिनके कारण बस्ती छोड़ी नाम न लो उन प्यारों का  

आज के समय में खोया पाने का आकलन करें तो लगता है  जीवन में आनंद ही नहीं है ! क्यों न बुरी संगति,  याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, जीवन के ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें  ! 


आज यह गाना कई बार सुना ...

80 comments:

  1. क्यों न बुरी संगति, याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें ! .....

    सही कहा आपने....

    गांधी जी के तीन बंदरों को हमें सदा याद रखना ही चाहिए....

    ReplyDelete
  2. बड़ा गहरा दर्द छुपा है इस शेर में ! सच्चाई की इससे बेहतर तस्वीर भला क्या होगी !
    आभार !

    ReplyDelete
  3. इंशा अब इन्हीं अजनबियों में चैन से सारी उम्र कटे
    जिनके कारण बस्ती छोड़ी नाम न लो उन प्यारों का

    समाहित कर दिया जिन्दगी को इसमें ...आपका आभार

    ReplyDelete
  4. ज़िन्दगी का फलसफा कुछ ऐसा है कि :

    " अल्लाह ने नवाज़ दिया है तो खुश रहो
    तुम क्या समझ रहे हो ये शोहतरत गज़ल से है"

    अनुराग जी से मिलवाने के लिये आपका शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  5. thik hai aap atyachar karte rahiye.......

    pranam.

    ReplyDelete
  6. दरार कभी बड़ी नहीं होती,
    भरने वाले हमेशा बड़े होते हैं,
    इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है,
    दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती,
    निभाने वाले हमेशा बड़े होते हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. सुन्दर विचार , शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  8. सही कहा आपने....


    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  9. बुरे लोगो से बचकर रहने मे ही भलाई है

    ReplyDelete
  10. वही गाना एक बार और सुन लीजिए हमारी तरफ से।

    ReplyDelete
  11. दर्द की दास्तानां, बेचैन करने वाला शेर।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया लिखा है -
    सटीक प्रस्तुति -
    anurag ji ko vishesh badhai -

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया लिखा है -
    सटीक प्रस्तुति -
    anurag ji ko vishesh badhai -

    ReplyDelete
  14. अपनो के हाथ का मारा है हर शख्स
    ज़िन्दा है मगर ज़िन्दगी का मारा है हर शख्स

    ज़िन्दगी की यही सच्चाई है

    ReplyDelete
  15. मेरा तो फंडा है- अच्छी बातें याद रखो, बुरी बातें भूल जाओ. किसी से कोई अपेक्षा ना रखो... बस किसी के लिए कुछ करो, लेकिन किसी प्रतिदान की आशा ना रखो... ये गाना मुझे भी बहुत अच्छा लगता है... हर फ़िक्र को धुँए में उड़ाता चला गया...

    ReplyDelete
  16. श्री अनुराग शर्मा जी की हर प्रस्तुति निराली होती है।
    मैं तो उनके स्पष्ठ और सुदृष्ट विचारों से हमेशा प्रभावित होता रहा हूँ

    यह नज़्म तो जैसे जीवन की असलीयत का प्रतिबिंब है। सटीक अभिव्यक्ति।

    इस प्रस्तुति के लिए आभार। सतीश भाई जी!!

    ReplyDelete
  17. वे काटें तो प्यार मुहब्बत हम बोलें तो अत्याचार.

    वास्तविक स्थिति जीवन की । आभार...

    ReplyDelete
  18. मेरे आंसू पोंछे और अब आप भी शुरू हो गए -सुश्री रचना जी ने मेरी पोस्ट पर अनुरक्ति में भी एक विरक्त भाव को बनाए जाने का बहुत आलेख संदर्भित किया है आपके लिए भी उतना ही लाभकर है जितना मेरे लिए -देख लें !
    खुदा करे दर्दे मुहब्बत न हो किसी को नसीब
    रोया मेरा रकीब भी गले लगा के मुझे !
    आह्वान हो चुका है, इन सबसे ऊपर उठिए अब!
    सबको आप उठायें अब आपको कौन उठाये? क्या खुदा ? अल्लाह रहम करें और आप शतन्जीवी हों !

    ReplyDelete
  19. आपके लेख ने सागर में गागर का काम किया है, सन्देश बहुत अच्छा है| हमें अपने जीवन मूल्यों के साथ-साथ बचपन से ही अपने/नयी पढ़ी के संस्कारों में शामिल करना चाहिए|

    शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  20. सुन्दर विचार .
    खुशदीप जी की बात -
    दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती,
    निभाने वाले हमेशा बड़े होते हैं..
    में भी दम है.

    ReplyDelete
  21. मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया ....

    लाजवाब गाना है...... फिल्म शराबी का.

    वे काटें तो प्यार मुहब्बत हम बोलें तो अत्याचार ..एकदम सही कहा.
    शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  22. सत्य वचन सतीश जी ......जिन्दगी में ये दंश झेलने ही हैं |

    ReplyDelete
  23. सही है।
    गांधी जी के बंदर हमारा मार्ग दर्शन करते रहते हैं।

    ReplyDelete
  24. एक खस्ता शेर पढ़ कर आये हैं :):)

    अक्सर स्वार्थी हम लोग ,जब भी अपनों का फायदा उठाते हैं तो अपनी योग्यता और अपनी ही पीठ थपथपाते रहते हैं कि हम इस योग्य है कि यह गधा मेरे लिए काम आ रहा है ! यह हमारी ही मुहब्बत है कि वह हमसे प्यार करता है ....

    लोगों के स्वार्थ को सही पहचाना है ...

    ReplyDelete
  25. एक खस्ता शेर पढ़ कर आये हैं :):)

    अक्सर स्वार्थी हम लोग ,जब भी अपनों का फायदा उठाते हैं तो अपनी योग्यता और अपनी ही पीठ थपथपाते रहते हैं कि हम इस योग्य है कि यह गधा मेरे लिए काम आ रहा है ! यह हमारी ही मुहब्बत है कि वह हमसे प्यार करता है ....

    लोगों के स्वार्थ को सही पहचाना है ...

    ReplyDelete
  26. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (2.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  27. Your photo is very impressive Satishji :]

    The pipe goes well with your personality.

    ReplyDelete
  28. शेर जानदार लगा...

    ReplyDelete
  29. stish bhaai gaagar men saagar bhr diyaa he chutili lekhni ke liyen mubark ho . khtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  30. सतीशजी, मेरी मान्‍यता है कि जीवन में सुखी वे हैं जिनके पास अच्‍छे लोगों की पहचान करने की कुव्‍वत है और दुखी वे हैं जो अच्‍छे लोगों को अपने जीवन से निकाल देते हैं।

    ReplyDelete
  31. कभी कभी ऐसा भी हो जाता है की हम जिसे प्यार करते है अपना समझाते है उसकी चीजो का हक़ से इस्तेमाल कर लेते है उससे हर तरह का सहयोग ले लेते है अपनी हर जरुरत पर सबसे पहले उसे ही याद करते है क्योकि वो अपना है हमें उम्मीद होती है की वो हमें कभी ना नहीं कहेगा और सामने वाले को लगता है की उसका इस्तेमाल किया जा रहा है | जो सामने वाला अपना है अपना प्यारा है तो अपनी कोई शंका उससे बिना हिचक बता देनी चाहिए |

    ReplyDelete
  32. @डॉ वर्षा सिंह जी,

    ये गाना देवानंद की फिल्म हम दोनों का है...इस गाने में देव साहब का सिगरेट के कश पर कश लगाने का अंदाज़ देखने वाला है....हर फिक्र को धुएं में उड़ाता चला गया, मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  33. एक 'भी' तो बनता है इसमें. काटें या बोलें में से किसी एक के बाद. तब और जमेगा. क्यों?

    ReplyDelete
  34. सुन्दर विचार .
    खुशदीप जी की बात -
    दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती,
    निभाने वाले हमेशा बड़े होते हैं..
    में भी दम है
    अनुराग जी से मिलवाने के लिये आपका शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  35. इसे कुछ इस तरह भी लिखा जा सकता है कि "वे काटें तो प्यार मुहब्बत हम बोलें तो अत्याचार -स.म.मासूम
    काश हम भी दीदी होते हमें भी मिलती ३-३ टिप्पणी. :)

    ReplyDelete
  36. कहीं गहरी चोट लगी है बंधु :(

    ReplyDelete
  37. कहां तक छोडेगे किस किस को छोडेगे किस किस शहर को छोडेंगे

    तुम हो नाखुश तो यहां कौन है खुश फिर भी फराज
    लोग रहते है इसी शहरे.दिल.आजार के बीच

    ReplyDelete
  38. आज के समय में खोया पाने का आकलन करें तो लगता है जीवन में आनंद ही नहीं है ! क्यों न बुरी संगति, याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, जीवन के ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें !
    यही है जिन्दगी....सार्थक प्रस्तुति के लिए आभार....

    ReplyDelete
  39. क्यों न बुरी संगति, याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, जीवन के ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें !

    आमीन ! सत्य कथन ।

    ReplyDelete
  40. .
    .
    .
    क्यों न बुरी संगति, याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, जीवन के ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें !

    भूलने की कोशिश न करें, भूल जायें... यह याद रखना चाहिये हमें, कि व्यक्तियों, चीजों या प्रसंगों को भूल जाना हमारा कुदरती गुण है, जबकि व्यक्तियों, चीजों या प्रसंगों को याद रखने के लिये हमें अपनी ओर से सक्रिय प्रयास करना होता है...


    ...

    ReplyDelete
  41. मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया ................................. वास्तव मैं जिन्दगी का साथ निभाना सबसे कठिन काम हैं | इसका साथ निभाने के चक्कर मैं मोज-मस्ती सब कुछ भूल जातें हैं | खोया-पाया का आकलन करना तो जिन्दगी के साथ नाइंसाफी होगी, क्यों-की हम लेकर क्या आये थे जो खोया जाये , हमने तो इस जिन्दगी मैं सिर्फ पाया-ही-पाया हैं | रही आनन्द की बात , यह तो हर इन्सान के व्यव्हार पर निर्भर करता हैं, कोई तो अपने आपको हर पल आनन्दमय महसूस करता हैं और कोई हमेसा दुखी ही नजर आता हैं |
    सर ,वैसे अगर जिन्दगी जीने का तरीका सीखना हो तो आपसे बहतर कोई विकल्प नहीं हैं |

    ReplyDelete
  42. जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया।

    ReplyDelete
  43. शेर भले ही खस्ता कहा गया हो पर बशीर बद्र की चार लाइनें याद दिला गया...

    मुझसे क्या बात लिखानी है कि अब मेरे लिए
    कभी सोने कभी चांदी के क़लम आते हैं ।
    मैंने दो चार किताबें तो पढ़ी हैं लेकिन
    शहर के तौर तरीक़े मुझे कम आते हैं ।

    ReplyDelete
  44. अच्छा क्या है, बुरा क्या है - इस विषय पर भी कोई ज्ञान गंगा बहाये तो और ज्यादा आनंद आ जाये।
    आज कल के चलन के हिसाब से तो जो बेवकूफ़ बनता रहे वो अच्छा है, ऐसा मुझे लगता है।

    इस गाने की बात मत करिये सतीश भाई, हम फ़िर शुरू हो जायेंगे:))

    ReplyDelete
  45. @जीवन में सुखी वे हैं जिनके पास अच्‍छे लोगों की पहचान करने की कुव्‍वत है और दुखी वे हैं जो अच्‍छे लोगों को अपने जीवन से निकाल देते हैं।

    अजित जी की बात से पूर्ण्तया सहमत। इब्ने इंशा (और आप) के फ़ैन तो हम पहले से ही हैं।

    ReplyDelete
  46. जी हाँ ,खराब पड़ावों को भूलने की कोशिश और अच्छे मंजरों को याद करने की आदत बना लें तो जिंदगी का सफर खूबसूरत होता जायेगा गाने के शानदार बोल 'मै जिंदगी का साथ निभाता चला गया ..' बेहतरीन सन्देश देतें हैं.
    मेरे ब्लॉग पर आपके दर्शन नहीं हो रहे हैं,क्या रूठे हुए हैं आप ?

    ReplyDelete
  47. जीवन के कई रूप है..कभी धूप, कभी छाँव, कभी नर्म,कभी गर्म,कभी हँसी,कभी गम,कभी दोस्त,कभी दुश्मन सब कुछ कदम कदम पर दिखता है..पर जीवन जीना उसी को कहते है जो हर पल को हँस कर जिए ..बस उन चीज़ों पर ध्यान दे जो कोई मकसद दे या हौसला बाकी चीज़ों पर व्यर्थ वक्त जाया करने में कुछ फ़ायदा नही है..


    आपने बड़े ही संक्षिप्त लेखनी में बहुत बड़ी बात कही है...एक अच्छा विचार ग्रहण करने योग्य...नमस्कार चाचा जी

    ReplyDelete
  48. waah kaya likha hai aapne....jitne gehre dard hai utni gehri rachna h aapki ....kehte hai ki insaan vid me v akela hota hai....sabka saath rehne ke babjud dhuk ki ghari me wo tanha hota hai..lekin humara sacchha sathi hum khud hote hai...gehre vaab ke lie baadhai............

    ReplyDelete
  49. .
    बहुत खूबसूरत गीत याद दिला दिया ,इस गीत में मेरी प्रिय पंक्तिया - जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया ...
    आभार ....

    ReplyDelete
  50. बात तो पते की है ....पर ....
    इस कथ्य के पीछे इशारा किस ओर है सतीश जी .....?

    ReplyDelete
  51. इंशा अब इन्हीं अजनबियों में चैन से सारी उम्र कटे
    जिनके कारण बस्ती छोड़ी नाम न लो उन प्यारों का

    सही कहा खराब पडाओं को भूल कर आगे बढ़ने का नाम ही जिंदगी है.

    ReplyDelete
  52. इंशा अब इन्हीं अजनबियों में चैन से सारी उम्र कटे
    जिनके कारण बस्ती छोड़ी नाम न लो उन प्यारों का
    wah...jabab nahin....

    ReplyDelete
  53. bilkul sahee baat..........
    vaise kadvee yado ko brain bhee block karne me saksham hai.........

    ReplyDelete
  54. आज के समय में खोया पाने का आकलन करें तो लगता है जीवन में आनंद ही नहीं है ! क्यों न बुरी संगति, याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, जीवन के ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें !
    सही कहा आपने....
    agar insaan itnee see baat samjh jay to phir rona kis baat ka!
    bahut prerak saarthak prastuti ke liya abhar

    ReplyDelete
  55. umda!!! mubarakbad lijiye dil se!!

    ReplyDelete
  56. इब्ने मरियम हुआ करे कोई
    मेरे दुःख की दवा करे कोई ...

    http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=%E0%A4%87%E0%A4%AC%E0%A5%8D%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%AE%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%AE_%E0%A4%B9%E0%A5%81%E0%A4%86_%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87_%E0%A4%95%E0%A5%8B%E0%A4%88_/_%E0%A4%97%E0%A4%BC%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%AC

    ReplyDelete
  57. गालिब का एक शेर याद आ रहा है..गलत लिखूं तो सुधार कर पढ़ लीजिएगा...

    दोस्त गमख्वारी में अब और फरमायेंगे क्या
    ज़ख्म के भरने तलक नाखून न बढ़ जायेंगे क्या

    ReplyDelete
  58. क्यों न बुरी संगति, याद ही न रखें और बेहतर आशाओं के साथ, जीवन के ख़राब पडावों को भूलने की कोशिश करें !

    ji gurudev.
    jo kaho satyvachan.

    :)

    ReplyDelete
  59. Sahji kaha hai Sateesh ji ...
    aur Anuraag ji ke somya chehre ko to ham abhi tak nahi bhoole ...

    ReplyDelete
  60. भाई सतीश जी बहुत ही सुंदर पोस्ट के लिए बधाई और नवसम्वत्सर की शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  61. इंशा अब इन्हीं अजनबियों में चैन से सारी उम्र कटे
    जिनके कारण बस्ती छोड़ी नाम न लो उन प्यारों का

    :)

    ReplyDelete
  62. नए संवत २०६८ विक्रमी की हार्दिक बधाई।
    नया साल आपके और आपके कुटुंब को आनंद प्रदायी हो।

    ReplyDelete
  63. swarthi kaun nahi...Yahan tak ki Maryada puroshattam ram bhi swarthi the...apni MARYADA aur PURUSHTWA ke dambh aur swarth ke vashibhoot unhone Seeta ji ka prityag kiya tha..

    Aapki rachna dharmita ko pranam...jeevan ki aapadhaapi mein iss tarah ke vicharon ka aadaan pradaan nihayat jaruri hai...

    ReplyDelete
  64. यथार्थ-लेखन है.आप सब को नवसंवत्सर तथा नवरात्रि पर्व की मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  65. बात तो सौ आने सच है

    ReplyDelete
  66. नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की हार्दिक बधाई .

    ReplyDelete
  67. कित्ती अच्छी सोच है...

    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  68. मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया.... मेरा भी पसंदीदा गीत है ...जीवन जीने की कला सिखाता हुआ।

    ReplyDelete
  69. http://thotaditya.blogspot.com/2011/04/blog-post.html

    समय मिले तो इसे भी देखे।।

    ReplyDelete
  70. http://thotaditya.blogspot.com/2011/04/blog-post.html

    समय मिले तो इसे भी देखे।।

    ReplyDelete
  71. जब फिक्र धुंआ हो जाता है तो जिन्दगी साथ निभाने लगती है ..अनुराग जी से मिलवाने के लिए आभार

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,