Saturday, April 23, 2011

आओ, कुछ हम भी रंग बदलें - सतीश सक्सेना

                   अक्सर समाज में हम लोग दुहरे चेहरे के साथ जीते हैं ! पूरे जीवन, अपनी झूठी शानोशौकत से लदेफदे हम लोग , हर समय अपना काम येन केन प्रकारेण, निकालने में व्यस्त रहते हैं ! अपना काम निकालने के लिए , बेईमान जीवन के इन विभिन्न स्वरूपों को इस हलकी फुलकी  हास्य रचना के माध्यम से ढालने का प्रयत्न है, अगर इसे पढ़कर आप मुस्करा दिए तो इसका लिखना सार्थक हो जाएगा ! 


आओ हम भी कुछ नाम करें 
कुछ छपने लायक काम करें 
इक जैकपॉट लग जाये और 
बस जीवन भर आराम करें  
दुनिया न्योछावर हो हम पर, 
मोहक स्वरुप  के क्या कहने 
बगुला करले ख़ुदकुशी देख, जब जब हम अपना रंग बदलें 

हम चोरों और उचक्कों को 
उस्तादी के गुण सिखलाएं 
खुद परमब्रह्म भी  घबराएं 
जब हम  पूजा करने बैठें  ! 
भरपेट,आमरण अनशन कर, 
जब गाँधीवादी   बन  जाएँ !
सारा समाज भौचक्का हो,जब जब हम अपना रंग बदलें !

दयनीय भाव के साथ साथ 
हम हाथ जोड़, बेटी व्याहें
भरपूर गर्व के साथ साथ
हम पुत्र वधू  लेने  जाएँ  !
मंडप में क्रोधित रूप लिए , 
हम लगते विश्वविजेता से,
समधी बेचारे गश खाएं,जब जब हम अपना रंग बदलें !

माथे पर चन्दन तिलक लगा,
जब पीत वस्त्र धारण करते  !
शुक्राचार्यों की समझ  लिए ,
गुरु वशिष्ठ  जैसा  रूप  रखें !  
सन्यासी करते  त्राहि त्राहि, 
जब हम संतों  सा  वेश रखें  ! 
गिरगिट शर्मिंदा हो भागे ,जब जब हम अपना रंग बदलें  !

77 comments:

  1. रंग बदलने वाली स्थिति पर सधा तंज !!

    इस लय को तो सतीश-लय घोषित कर देनी चाहिये। सबेरे सबेरे सोचुवा दिये, यह जानते हुये कि कम सोचना जीवन के लिये जरूरी है। आभार ..!

    ReplyDelete
  2. आदरणीय सतीश सक्सेना जी
    नमस्कार !
    ! भरपेट,आमरण अनशन कर, जब गाँधीवादी बन जाएँ !
    सारा समाज पीछे चलता ,जब जब हम अपना रंग बदलें !
    दयनीय भाव, चेहरे पर लें ,
    हम हाथ जोड़, बेटी व्याहें
    मार्मिक पंक्तियां....
    भावनाओं का बहुत हृदयस्पर्शी चित्रण ....बधाई

    ReplyDelete
  3. गुरुदेव!
    सन्यासी करते त्राहि त्राहि, जब हम संतों सा वेश रखें
    बहुत ही बढ़िया आभार इस रचना के लिए
    ....हमारा भी मार्गदर्शन
    आभार
    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  4. इस रंग बदलती दुनिया में इन्सान की नियत ठीक नहीं...

    ReplyDelete
  5. आदरणीय सक्सेना जी,
    बहुत खूब है रचना.
    मुस्कराहट तो आयी लेकिन जल्दी ही इक गंभीर सोच में बदल गयी.
    हम सच में, pretend बहुत करते हैं इसी लिए जीवन का सही आनंद लेने में असफल रहते हैं.
    सार्थक रचना के लिए आभार.

    ReplyDelete
  6. कुछ छपने लायक काम करें


    -ये वाला तो हो ही गया छपने लायक...:)


    बहुत सटीक!!

    ReplyDelete
  7. कुछ छपने लायक काम करें


    -ये वाला तो हो ही गया छपने लायक...:)


    बहुत सटीक!!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर हास्य रचना है !
    मनुष्य जिंदगीभर ना जाने कितने मुखोटे लगाकर
    जीता है,उसी को पता नहीं चलता की अपना असली चेहरा कौनसा है ?

    ReplyDelete
  9. ज़बरदस्त व्यंग है , अच्छे गीत की बधाई सतीश जी.

    ReplyDelete
  10. अधिकतर इंसानों में गिरगिट के जीन्स होते हैं।

    ReplyDelete
  11. बहुत ही प्रेरणादायी , सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  12. वाह! सतीश जी वाह! क्या रंग बदला हैं आपने कि कितनों कि पोल खोल डाली और कितने ही रंगों को दिखा डाला.परन्तु रंग कुछ सकारात्मक,मंगलमय और खुशी के भी तो होने चाहियें.वैसे आपने जो रंग बदला है वह मंगलमय ही है.बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  13. अहंकार भरे छद्म व्यवहार का अच्छा चित्रण

    ReplyDelete
  14. महाराज इस पे कहते हैं कि आप कि हम मुस्कराएं!
    इस दोगलेपन पर चुल्लू भर पानी में क्यूं डूब न जाएँ!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही प्यारी कविता, हमारा प्रयास इन्हीं दुर्बलताओं को दूर करने में लग जाये तो समाज स्वर्ग बन जायेगा।

    ReplyDelete
  16. सतीश भाई,
    गिरगिट कितना सुंदर प्राणी होता है, खामख्वाह भाई लोगों ने उसे इनसानी फ़ितरत से जोड़ कर बदनाम कर दिया...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  17. aur kahan chapoge....jab dil pe chap diye ho......

    jai ho......kavitayi me ye vyang
    'jhannatedar cha fannatedar' laga...

    pranam.

    ReplyDelete
  18. प्रभु,आप को सरकार-बहादुर ढूँढ रहे हैं,बहुत 'फिट' रहोगे उनकी मंडली में !

    एक शानदार समयपरक व्यंग्य की बधाई !

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.... रचना भी जानदार लगी ... आभार

    ReplyDelete

  20. गिरगिट शर्मिंदा हो भागे ,जब जब हम अपना रंग बदलें

    व्यवहारिकता क्या पहने क्या निचोड़े जो हम अपना रँग न बदलें,
    नँईं नँईं ये तो एवेँई मुँ से निकल गिया था, कमबख़्त रँग बदल के


    सतीश जी, बदलते रँगों की फितरत आजकल व्यवहारिकता कहलाने लगी है, कभी इस पर भी दो लाइन लिखें ।

    ReplyDelete
  21. आदरणीय सतीश सक्सेना जी नमस्कार !
    इस रंग बदलती दुनिया में इन्सान की नियत ठीक नहीं, बहुत खूब है रचना.

    ReplyDelete
  22. सधा व्यंग है , बहुत खूब

    ReplyDelete
  23. व्यंग्यात्मक, रोचक, हास्य कविता के लिये बधाई !

    ReplyDelete
  24. बडी समस्या हो गई है हिन्दी में लिखने परहर स्पेस पर एस बन जाता है और अंगेजी में डाट लग लग जाता है पुराने लिखे दस्तावेज भी परविर्तत हो गये है। ऐसा लिख जारहा है है कृपया मार्गदर्शन करने की कृपा करें

    ReplyDelete
  25. कविता पढ़कर मुस्कराहट तैर गयी चेहरे पर लेकिन मन सोच में डूब गया --- अभी बहुत कुछ करना बाकी है.

    ReplyDelete
  26. समाज के सत्य को उजागर करती रचना.
    आभार.

    ReplyDelete
  27. रंग का व्‍यंग्‍य है या व्‍यंग्‍य का रंग है। पर है रंगदारी से।

    ReplyDelete
  28. @ भाई बृजमोहन श्रीवास्तव ,
    आपकी समस्या पाबला जी को भेज दी गयी है , वे निश्चित ही समर्थ हैं और आपकी मदद भी करेंगे ! शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  29. एक करारा प्रहार करती शानदार रचना है।

    ReplyDelete
  30. मस्तक पर चन्दन तिलक लगा,
    जब पीत वस्त्र धारण करते !
    शुक्राचार्यों की समझ लिए ,
    गुरु वशिष्ठ जैसा रूप रखें !
    सन्यासी करते त्राहि त्राहि, जब हम संतों सा वेश रखें !
    गिरगिट शर्मिंदा हो भागे ,जब जब हम अपना रंग बदलें !


    यथार्थ के धरातल पर रची गयी विचारोत्तेजक रचना के लिए के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  31. बहुत ही व्यंग्यात्मक और प्रभावशाली कविता सतीश जी बधाई |

    ReplyDelete
  32. भाई सतीश जी कुछ तकनीकी समस्या या नेटवर्क की वजह से इतने कमेंट्स एक साथ हो गए |यह बताने के लिए एक और करना पड़ा |

    ReplyDelete
  33. chhapane laayak kaam deegar.. chhaa jaane laayak geet hai yah gurudev!!

    ReplyDelete
  34. @ भाई जयकृष्ण राय तुषार ,
    आप जैसा मित्र सब ब्लोगर को मिले :-)
    ऐसा ही स्नेह हर बार बनाए रखें ! :-))
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  35. सतीश जी, बहुत ही अच्छी व्यंगात्मक लहजे में पोस्ट. .......... सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  36. karara vyang..
    .aur ye thaa
    apke lekhan ka
    naya rang .

    ReplyDelete
  37. सतीश जी कविता बहुत ही अच्छी लगी. आपने समाज के हर वर्ग की खूब खबर ली है .

    ReplyDelete
  38. दुनिया न्योछावर हो हम पर, मोहक स्वरुप के क्या कहने !
    बगुला करले ख़ुदकुशी, देख ! जब जब हम अपना रंग बदलें !

    सतीश जी मेरे ब्लोक पर आने का स्वागत है -
    बड़ा तीखा प्रहार है !

    ReplyDelete
  39. कविता-वविता तो सब चकाचक है जी लेकिन ये अरमान खतनाक हैं।दयनीय भाव, चेहरे पर लें ,
    हम हाथ जोड़, बेटी व्याहें
    भरपूर गर्व के साथ साथ
    हम पुत्रवधू लेने जाएँ !
    मंडप में क्रोधित रूप लिए , हम लगते विश्वविजेता से,
    समधी बेचारे गश खाएं,जब जब हम अपना रंग बदलें !

    अगर कहीं ऐसा हुआ और पुत्रवधू के घर वालों नें दहेज एक्ट में मुकदमा कर दिया तो मुश्किल हो सकती है। जमानत नहीं होती आजकल! :)

    ReplyDelete
  40. bahut hi sateek tipaadi ki hai aapne. bahut achha lagta hai aapke post padke.hamesha kuch seekhne ko milta hai.

    ReplyDelete
  41. bahut hi achha pran kiya hai...achhi natein seedhe ,saral aur sapat dhang se...bina kisi laag lapet ke kahna sabse kathin karya hai..jo asaani se aapne kiya hai...badhayi

    ReplyDelete
  42. पाबला जी से संपर्क हो गया और समस्या का समाधान भी हो गया आपको बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  43. दयनीय भाव, चेहरे पर लें ,
    हम हाथ जोड़, बेटी व्याहें
    भरपूर गर्व के साथ साथ
    हम पुत्रवधू लेने जाएँ !
    मंडप में क्रोधित रूप लिए , हम लगते विश्वविजेता से,
    समधी बेचारे गश खाएं,जब जब हम अपना रंग बदलें !
    आज की सामाजिक स्थिति का सुन्दर चित्रण किया है आपने !
    किन्तु इस स्थिति के लिए हम खुद ही दोषी हैं .
    कब तक हम लोगों की ख़ुशी के लिए असत्य का समर्थन करते रहेंगे ?
    आज हमें ऐसी स्थिति पैदा करनी ही होगी जब हम गर्व के साथ कह सकें की हम भी लड़की वाले है.
    हमें किसी किस्म का सौदा मंजूर नहीं !

    ReplyDelete
  44. आदरणीय सतीश सक्सेना जी नमस्कार !
    कविता बहुत ही अच्छी लगी. आपने समाज के हर वर्ग की खूब खबर ली है

    ReplyDelete
  45. व्यंग पसंद आया.
    बिलकुल सही लिखा है आपने ....

    इसीलिए कहते है-
    दान का चर्चा घर -२ होवे लूट की दौलत छुपी रहे.
    नक़ली चेहरा सामने आए असली सूरत छुपी रहे.

    ReplyDelete
  46. @ मदन शर्मा जी ,
    दुर्भाग्य से, आज भी समाज में अधिक जागरूकता एवं साहस का अभाव दिखता है ! पुत्र और पुत्री के विवाह पर हम चेहरे पर फर्क साफ़ साफ़ पढ़ सकते हैं ! मायूसी की स्थिति पर अगर ऐसी रचनाएं हम लोग पसंद कर रहे हैं तो यह भी एक अच्छा बदलाव है !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  47. दुनिया के दोगलेपन पर बढ़िया व्यंग ।

    ReplyDelete
  48. समाज के सत्य को उजागर करती रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  49. priy saxena ji ,
    ytharth aur samvedana ko ,fuhar ke madhyam se koyi itana bhi bhigota hai kya ? vasstvik kavy ka aanand mila jo kabhi mancho par pate hain , itani sarthak soch ko naya aayam milana hi chahiye, bodhgamy rachana . bhri-2
    prashansa ke patra hain aap.

    ReplyDelete
  50. kyaa baat hai. sundra-pyari rachana ke liye dilse badhai...

    ReplyDelete
  51. for a change yahaan wo baatey ho rahee haen jo naari blog par hotee haen

    ReplyDelete
  52. आज के समाज पर तीखा व्यंग करती रचना ....
    बहुत अच्छी लगी ..!!

    ReplyDelete
  53. सन्यासी करते त्राहि त्राहि, जब हम संतों सा वेश रखें !
    गिरगिट शर्मिंदा हो भागे ,जब जब हम अपना रंग बदलें !

    बहुत खूब... व्यंग्यात्मक, रोचक, हास्य कविता के लिये बधाई .......

    ReplyDelete
  54. बेहद बढिय़ा व्यंग्य सर।
    सत्य दर्शन करवाती एक बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  55. बहुत ही साफ़ सुथरा व्यंग्य है लेकिन लोग समझ कर भी अनजान बने रहते हैं.

    ReplyDelete
  56. behtareen...sahgal ji ki baat se sahmat hoon girgit vakai khubsoorat prani hai...rang badalna to insaani fitrat hai...

    ReplyDelete
  57. गिरगिट तो बेचारा जान बचाने के लिए रंग बदलता है
    यहाँ तो जान ले लेते हैं रंग बदल के

    ReplyDelete
  58. sabse pahle main aapko dhanyavaad deti hoon.aapke comment ke madhyam se aapke blog ka pata chala.aapki itni achchi rachna padhne ko mili.samaaj ki buraaiyon par bahut achcha kataksh kiya hai.i m following ur blog ...aapse bhi apeksha rakhti hoon taaki dashboard par ek doosra ki creation padhne ko mile.

    ReplyDelete
  59. bahut badhiya rachna ki hai aapne. Congrats.

    ReplyDelete
  60. दयनीय भाव, चेहरे पर लें ,
    हम हाथ जोड़, बेटी व्याहें
    भरपूर गर्व के साथ साथ
    हम पुत्रवधू लेने जाएँ !
    मंडप में क्रोधित रूप लिए , हम लगते विश्वविजेता से,
    समधी बेचारे गश खाएं,जब जब हम अपना रंग बदलें !

    ....कटु सत्य पर बहुत ही प्रभावशाली व्यंग..आभार

    ReplyDelete
  61. दयनीय भाव, चेहरे पर लें ,
    हम हाथ जोड़, बेटी व्याहें
    भरपूर गर्व के साथ साथ
    हम पुत्रवधू लेने जाएँ !
    मंडप में क्रोधित रूप लिए , हम लगते विश्वविजेता से,
    समधी बेचारे गश खाएं,जब जब हम अपना रंग बदलें !

    ....कटु सत्य पर बहुत ही प्रभावशाली व्यंग..आभार

    ReplyDelete
  62. मस्तक पर चन्दन तिलक लगाए
    जब पीत वस्त्र धारण करते !
    शुक्राचार्यों की समझ लिए ,
    गुरु वशिष्ठ जैसा रूप रखें!
    सन्यासी करते त्राहि त्राहि, जब हम संतों सा वेश रखें !
    गिरगिट शर्मिंदा हो भागे ,जब जब हम अपना रंग बदलें !

    वाह, आपने तो रोचक तरीके से हक़ीकत को शब्दों में पिरोया है।

    ReplyDelete
  63. आदराणीय सतीश जी ,
    आप ने तो मुस्कराहट की बात की थी पर ये तो मर्म को छूती हुई गंभीर कर गयी .....बहुत ही अच्छी संप्रेषण शैली ....सादर !

    ReplyDelete
  64. गिरगिट शर्मिंदा हो भागे ,जब जब हम अपना रंग बदलें !
    ...बेहतरीन कटाक्ष। वाह!

    ReplyDelete
  65. दुनिया न्योछावर हो हम पर, मोहक स्वरुप के क्या कहने !
    बगुला करले ख़ुदकुशी, देख ! जब जब हम अपना रंग बदलें !

    सतीश जी ,,,सनद रहे .... सभी रंग बदनले वाले आपके खिलाफ हो जायेंगे
    अलख जागते रहने का शुक्रिया.!

    ReplyDelete
  66. अच्छा हास्य व्यंग है|
    सतीशजी आपका गीत/कविता लेखन का अपना ही अलग अंदाज़ बनता जा रहा है, कृपया कुछ रंगों के छींटें नवलेखकों पर भी डालें...

    आभार!

    ReplyDelete
  67. शुक्राचार्यों की समझ लिए ,
    गुरु वशिष्ठ जैसा रूप रखें !

    Ummda gyan

    ReplyDelete
  68. समस्त समाज गिरगिट बन गया है |

    ReplyDelete
  69. सुन्दर अभिव्यक्ति..सार्थक रचना ..आभार

    ReplyDelete
  70. हास्य के परदे के पीछे तीखा व्यंग्य है... :)

    ReplyDelete
  71. गिरगिट शर्मिन्दा हो भागें जब जब हम अपना रंग बदलें ...बेचारा गिरगिट तो अपनी हिफाज़त में ही हिफाज़ती तौर पर रंग बदलता है परिवेश के अनुकूल यहाँ तो हालत यह है -
    जब भी जी चाहे नै सूरत बनालेतें हैं लोग ,एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेतें हैं लोग .

    ReplyDelete
  72. पोस्ट अच्छा लगा ..

    ReplyDelete
  73. वाह--क्या सटीक चोट दिए हैं।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,