Monday, June 27, 2011

परिवार में विषबेल बोते हम लोग - सतीश सक्सेना

मानव कुल में रहते हम लोग, शायद अपने सांस्कृतिक पारिवारिक गुणों को भूलते जा रहे हैं ! पीढ़ियों से चलता आया परस्पर पारिवारिक स्नेह, आज न  केवल  दुर्लभ नज़र आता है , बल्कि  एक चालाकी और चतुरता का भाव अवश्य सब जगह नज़र आता है , जिसके चलते हम लोग एक दूसरे के प्यार पर शक करते हुए भी, साथ रहने को बाध्य होते हैं !

पारिवारिक व्यवस्था में सबसे पहले बहू का स्थान आता है , यह नवोदित लड़की, आने वाले समय में इस घर की मालकिन होगी इस तथ्य को लोग कभी याद ही नहीं करना चाहते न कोई उसे यह अहसास दिलाता  है कि वह घर में प्रथम सदस्य का दर्ज़ा महसूस कर सके ! छोटे छोटे फैसले लेते समय भी, वह बच्ची अपनी सास अथवा पति के मुँह देखने को मजबूर रहती है और अक्सर परिवार के लोग इस बात पर खुश होते हैं कि बहू आज्ञाकारी मिली है ! शुरुआत के दिनों में, अपने ही घर में कोई निर्णय न ले सकने की, उस घुटन का अहसास, करने का कोई प्रयत्न नहीं करता ! समय के साथ ,अपने मन को अभिव्यक्त न कर पाने की तड़प, न चाहते हुए भी उस बच्ची को इस नए परिवार से दूरी बनाये रखने को, पर्याप्त आधार देने के लिए, काफी होती है  ! 

इस प्रकार एक अनचाहा  कड़वा बीज, घर के आँगन में कब लग गया, कोई नहीं जान पाता और हम लोग समय समय पर, अनजाने में, इसे खाद पानी और देते रहते हैं !

जहाँ तक माँ बाप का सवाल है वे अपनी ही असुरक्षा में घिरे रहते हैं ! अपनी ही औलाद से, अपनी जीवन भर की कमाई को, पढ़ाई लिखाई और बच्चों की परिवरिश पर खर्च हो चुकी, बताने में कोई कसर नहीं छोड़ते ! उन्हें अक्सर यह लगता है कि बच्चों ने अगर बुढापे में मदद न की तो क्या होगा ? अतः अपनी शेष जमापूंजी आदि बच्चों की नज़र से दूर ही रखा जाए तभी अच्छा होगा ! उनकी यह समझ और झूठ , बच्चों को पता लगते अधिक देर नहीं लगती ! अपने ही बड़ों द्वारा, उन पर विश्वास न किये जाने पर, रिश्तों में ठहराव और एक बड़ी दरार आना स्वाभाविक हो जाता है ! 

अक्सर  अपनी असुरक्षा की भावना लिए, बड़ों की यह बेईमानी, उस परिवार में अपनों के प्रति शक के माहौल को पैदा करने में, बड़ी भूमिका निभाती है एवं अनजाने में एक भयंकर विष बीज और रोप दिया जाता है ! जहाँ ममता, स्नेह और सुनहरे भविष्य का मज़बूत आधार, परस्पर मिलकर तैयार किया जाना चाहिए वहीँ शक और शिकायतों का एक मजबूत आधार बन जाता है !   

मुझे याद आता है ,मेरे एक सीधे साधे साथी के रिटायरमेंट पार्टी पर, उनकी पत्नी तथा बच्चों ने मुझसे आखिरी चेक की रकम फुसफुसाते हुए जाननी चाही  और साथ ही यह भी कि उनके पति, को इस बारे में न बताया जाए , तो मैं  निशब्द रह गया !


पुत्री सबसे अधिक अपने परिवार से जुडी होती है ! कुछ समय बाद अपने घर से दूर हो जाने का भय उसे अपने परिवार के प्रति और भी भावुक बना देता है ! अनजाने में सबसे अधिक अन्याय इसी के साथ किया जाता है, अपने घर में भी और नए घर में भी ! अफ़सोस है कि उसकी माँ भी उसे यह अहसास दिलाने में आगे रहती है कि यह घर उसके भाई का है जबकि अधिकतर लड़कियां अपने भाई के लिए कुछ भी देने के लिए तैयार रहती हैं ! अगर भावनात्मक तौर पर ही भाई और माँ उसे स्नेह का विश्वास दिला दें तो शायद ही कोई लड़की अपने आपको अकेला महसूस करे  !


हर भाई को अपनी बहिन से स्नेह चाहिए मगर हर बार हम भूल जाते हैं कि परिवार वृक्ष  की यह सबसे सुन्दर टहनी ही सबसे कमजोर होती है और वह जीवन भर अपने पिता और भाई से प्यार की आशा लगाए रहती है ! और हम ...??
आइये, पूंछे अपने दिल से   !


( यह लेख दैनिक जागरण में दैनिक जागरण में ७ जुलाई २०११ को छपा है )

102 comments:

  1. सतीश भाई, गंभीर विषय पर आज कलम चलाई।
    मेरे एक बुजुर्ग मित्र थे,रिटायरमेंट के बाद मिलने आए। उन्होने बताया कि रिटायरमेंट के बाद 18 लाख मिले। जिसमें से उन्होने 10 लाख रुपए एक धार्मिक संस्था को दे दिए और घर वालों को 8 लाख मिलने की बात बताई साथ ही मुझे ताकीद दी कि मैं यह बात किसी से न बताऊँ।

    नहीं तो महाभारत मचने की आशंका थी।

    आभार

    ReplyDelete
  2. अफ़सोस है कि तकनीकी भूल के कारण सुबह से कमेन्ट प्रकाशित नहीं हो पा रहे थे ! मेल से मिला डॉ अरविन्द मिश्र का कमेन्ट प्रकाशित कर रहा हूँ !

    अहो भाग्य ,आज खिड़की खुली मिली है....अच्छे विचार हैं आपके ..मगर असहमतियों के स्वर भी उठें तो विमर्श हो सकेगा ...
    फिर लौटूंगा ..खिड़की खुली रखियेगा और अन्दर का बल्ब भी ...ऐसे ही ...

    उफ़ यह तो अभी भी बंद है ..मेरा समय जाया हुआ....

    ReplyDelete
  3. रिश्तों का गणित बहुत जटिल है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. बहुत सारगर्भित विवेचन है भाई साहेब,परिवार चलाना देश चलाने से भी कठिन होता जा रहा है.दरअसल हाल के दशक में आये सांस्कृतिक बदलाओं ने भी पारिवारिक रिश्तों को प्रभावित किया है.

    ReplyDelete
  5. Tippani ke prati samvedansheel hona lekhan-dharm hai. Aapka aahvaahan swagat yogy hai.post bhi samvedansheel hai.aabhar

    ReplyDelete
  6. पैसे की अंधी दौड़ ने रिश्तों की चटनी बना दी है.

    ReplyDelete
  7. अरे वाह ..आज आपने पाठकों को कुछ कहने का अवसर दिया ...

    आपने सटीक नजरिया रखा है ..बहुत विचारणीय बिंदु दिए हैं ... सुन्दर लेख ..

    ReplyDelete
  8. गुरुदेव! आपके वातायन खुले और मन्द बयार ने स्वागत किया.. लगा जैसे वृष्टि के आगमन पर हम झरोखे खोलकर बैठ जाते हैं आनन्द लेने, बस वैसे ही आपने आनन्द का अवसर प्रदान किया.. बिल्कुल घर घर की कहानी प्रस्तुत की है!!

    ReplyDelete
  9. सतीश भाई,

    मेरी नींद, मेरा चैन (टिप्पणी करने का हक़) लौटाने के लिए शुक्रिया...

    शायद मेरी वैष्णोदेवी यात्रा का असर है कि आपके दरबार में मेरी बात इतनी जल्दी सुन ली गई...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  10. पारिवारिक रिश्तों का अच्छा विश्लेण किया है आपने... हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब सतीश जी ...आपकी बातो से मैं सहमत हूँ ..हम ही है इस विष के दाता..हम अनजाने ही यह सब करते है और देखते भी है फिर भी कुछ कर नही पाते ..यही विडम्बना है ..

    ReplyDelete
  12. स्वागत है !गुरुभाई ..
    आते ही एक कढ़वी सच्चाई,खूबसूरती से बयाँ कर दी |
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  13. चलिये लोगो को राहत होगई कमेन्ट कर सकते हैं अब कुछ ही जगह होती हैं जहां लोग ये कह सकते हैं "वाह" उस जगह कमेन्ट बंद हो जाए तो "वाह" कहने वाले पाठक कहा जाये . इस मुद्दे पर दिनेश , वाणी , प्रवीण और सुमन ने बहुत कुछ लिखा पर मंथन करने वाले कमेन्ट थे नहीं क्युकी "वाह" कहकर वहाँ काम चलना नहीं था
    ख़ैर पोस्ट की बात कर लूँ तो चलूँ !!!
    इन सब मुद्दों पर आप लिखेगे तो नारी ब्लॉग बंद करना होगा , मुझे मंजूर हैं अगर और लोग भी इन मुद्दों पर सही आकलन करे और वाह की जगह मंथन करे अपना मत भी दे

    ReplyDelete
  14. सतीश जी

    ये लेख लिखने के लिए धन्यवाद | समाज में जब पुरुष किसी बात को कहे तो उसे जरा ज्यादा ध्यान से सुना जाता है उम्मीद है बुजुर्ग और पुरुष इस पक्ष को भी समझेंगे जो वास्तव में परिवारों के टूटने की सबसे बड़ी वजहों में एक है | बड़े अक्सर बच्चो से और परिवार तथा समाज बहु और बहनों से ही हमेसा झुकने त्याग करने परिवार के हिसाब से चलने की उम्मीद करता है कोई भी एक कदम अपनी तरफ से नहीं बढाता है और उम्मीद करता है की नारी ही परिवार को बचाने के लिए सब करे | शायद अब समय आ गया है की पुरुषो ओ बुजुर्गो को भी अपनी तरफ से एक कदम बढ़ाना चाहिए परिवार को बचाने के लिए |

    ReplyDelete
  15. पुत्री सबसे अधिक अपने परिवार से जुडी होती है ! कुछ समय बाद अपने घर से दूर हो जाने का भय उसे अपने परिवार के प्रति और भी भावुक बना देता है ! अनजाने में सबसे अधिक अन्याय इसी के साथ किया जाता है, अपने घर में भी और नए घर में भी ! अफ़सोस है कि उसकी माँ भी उसे यह अहसास दिलाने में आगे रहती है कि यह घर उसके भाई का है जबकि अधिकतर लड़कियां अपने भाई के लिए कुछ भी देने के लिए तैयार रहती हैं ! ...per kahan samajhte hain log

    ReplyDelete
  16. पारिवारिक समीकरण की अच्छी विश्लेषणात्मक व्याख्या की हे आपने.

    ReplyDelete
  17. संवेदनाओं के धरातल पर बहुत अच्छा और पठनीय लेख.

    ReplyDelete
  18. सतीश भाई परिवार में भी कम से कम वयस्क मताधिकार वाला लोकतंत्र होना चाहिए।

    ReplyDelete
  19. पारिवारिक रिश्तों का अच्छा विश्लेण किया है| आभार|

    ReplyDelete
  20. पारिवारिक रिश्तों का अच्छा विश्लेण किया है| आभार|

    ReplyDelete
  21. सच कहा गया है कि गृहस्थाश्रम में जीवन का सबसे कठिन समय बीतता है...हर दिन एक नए प्रयोग के साथ शुरु होता है...आज खिड़की खुली तो अच्छा लगा..

    ReplyDelete
  22. सारगर्भित विश्लेषण

    ReplyDelete
  23. अच्छी पोस्ट..
    न्यूक्लियर फैमिली के प्रति बढ़ते रुझान को लेकर आप क्या कहेंगे ?

    ReplyDelete
  24. सतीश जी नमस्ते ! सर्वप्रथम धन्यवाद आपको की आपने कॉमेंट्स का दरवाजा तो खोला कृपया इसे आइन्दा बंद करने की कोशिश न करें तो अच्छा होगा !
    आपने सटीक नजरिया रखा है ..बहुत विचारणीय बिंदु दिए हैं ..........आभार

    ReplyDelete
  25. sach kaha aapne satish sir...!!
    pata nahi kahan ham ja rahe hain, kaise soch hote ja rahe hain...sirf post ki hi nahi...khud kee family ke liye bhi sochta hoon, to aisa hi kuchh pata hoon..

    ReplyDelete
  26. ऐसा विषय है जिस पर समय समय पर चर्चा होती ही रहनी चाहिए।

    ReplyDelete
  27. @ टिप्पणी बाक्स,
    शुक्रिया :)

    @ पोस्ट ,
    कभी गौर किया हो तो जो युवा आज भुक्त भोगी है कल वही बन्दा अपने दिन भूल कर अपनी बुज़ुर्गियत/अपनी मनमर्जी नई पीढ़ी पर थोपता है ! ये प्रवृत्तिगत / व्यवहारगत द्वैध हमेशा दोहराया जाता है ! मसलन एक विवाह योग्य लड़की जो अपने पिता के दहेज ना दे पाने की विवशता पे कराह उठती है वही सास बनते ही किसी और लड़की से दहेज लेने का ज़बरदस्त जुगाड/आग्रह करती है ! बहु होते हुए जो पीड़ा खुद भोगती है वही सास बनते ही अपनी बहु को देती है ! मर्दों के साथ भी ऐसा ही होता है ! मेरे ख्याल से सामूहिकता / सांस्कृतिकता के विरुद्ध व्यक्तिवाद / निजस्वार्थवाद का डामिनेंस इसका मुख्य कारण है ! इसे आप अवसरवादिता भी कह सकते हैं !

    यह कि अपने अपने समय की अपेक्षायें हमेशा अतृप्त बनी ही रहेंगी जबतक कि हर कोई अपने गिरेहबान में झांक कर देखना और दूसरों को स्पेस देने लायक दिल गुर्दे लेकर चलना ना सीख जाए :)

    ReplyDelete
  28. एक एक अक्षर सत्य कहा है सतीश जी ।
    आजकल पैसा सबसे बड़ी पूँजी बन गया है ।

    ReplyDelete
  29. परिवार के ताने-बाने, कुछ सुलझे कुछ उलझे.

    ReplyDelete
  30. भाई तरक्की इतनी कीमत तो मांगती है...अमेरिका होने जा रहे हो...मनमोहना के राज में...और रिश्ते भी ढ़ोना चाहते हो...कमाल है...

    ReplyDelete
  31. सुबह की मेरी टिप्पणी जिसे मैंने दो बार रीपिट किया था अंततः वह नहीं आ पाई ।

    ReplyDelete
  32. एक कड़वी सच्चाई है ये, हम सब कुछ जानते हुए भी अपने आप ही अपने घर में दरार पैदा करते है
    आभार

    ReplyDelete
  33. bahut hi sunderta se aapne ladki,bahu nari sabke pakh mein likha ...
    sunder lekh

    ReplyDelete
  34. प्रेम की नींव विश्वास पर टिकी है। विश्वास करो तो पूर्ण विश्वास करो। नहीं कर सकते तो पूर्णतया प्रैक्टिकल हो जाओ। ऐ पार रहो या ओ पार । जैसे रहो, जब तक जीयो, मस्त रहो।

    ReplyDelete
  35. किसी भी नई नवेली बहू को परिवार से जुड़ने की पहली शर्त होती है कि वह इस परिवार को अपना समझे। अपनत्व हो गया तो सारे दीवार ढह जाते हैं।

    ReplyDelete
  36. @ चला बिहारी ,
    आपके आने का शीतल झोंका मैंने भी महसूस किया है सलिल सर !
    शुभकामनायें स्वीकार करें !

    @ खुशदीप सहगल,
    आपका आदेश टाला नहीं जा सकता ....
    आभार !

    ReplyDelete
  37. bhawbhinee bhasha men behad gambheer visay uthaya hai....achcha kiya.

    ReplyDelete

  38. @ रचना ,
    नारी ब्लॉग अपने आप में एक आन्दोलन का प्रतीक हैं जिसे आपने बरसों से अपनी द्रढ़ता और परिश्रम से ब्लोगर समाज को दिया है ! उसे बंद करने के बारे में सोंचा भी नहीं जा सकता ! जहाँ तक नारी मुद्दों की बातें हैं उस पर अधिकार पुरुषों का भी है ... :-)
    अच्छा लगा कि आपको यह लेख पसंद आया !
    आभार !

    ReplyDelete
  39. @ डॉ अमर कुमार ,
    @ न्यूक्लीयर फैमिली ,
    शायद नारी के चारो और ही घूमती है इसकी धुरी ...

    अगर आपही विवेचना करें तो शायद अधिक उपयुक्त होगा और उसे सही स्वरुप भी मिल पायेगा !
    आभार !

    ReplyDelete
  40. @ अली सर,
    आपकी टिपण्णी में कड़वा सच है ...अपनी बारी आते ही हम अपनी औकात बता देते हैं !
    सादर !

    ReplyDelete
  41. @ सुशील बाकलीवाल
    सुबह की पहली कुछ टिप्पणियां टेक्नीकल भूल की भेंट चली गयी भाई जी ! खेद है !

    ReplyDelete
  42. इन दिनों इतने विषणण क्यों हो भाई !
    अभी तो बहार के दिन हैं कुछ यार वार मजेदार लिखो न:)
    ई सब पचड़े की बातों को नारी ब्लॉग के लिए ही छोड़े रहो हजूर!

    ReplyDelete
  43. कल 29/06/2011को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है-
    आपके विचारों का स्वागत है .
    धन्यवाद
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  44. जिंदगी के फ़लसफ़े को समझाती एक अच्छी पोस्ट । बहुत ही बढिया विश्लेषण किया सतीश भाई

    ReplyDelete
  45. कई बार कुछ अनुभव सुनकर ये बात झूठी लगने लगती है कि परिवार दुनियादारी से हमें बचाता है...यदि परिवार वाले आपस में स्वार्थ सिद्धि के लिए ही रह जाएँगे तो व्यक्ति कहाँ जाएगा....फिर उसे परिवार की आवश्यकता ही क्यों होगी, स्वार्थ के ही दर्शन करने होंगे तो उसके लिए तो ये दुनिया ही काफी है....

    ReplyDelete
  46. Thanks God.
    मेरा विश्वास कायम रहा !
    बहुत बढ़िया लेख के लिए बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  47. जहाँ तक नारी मुद्दों की बातें हैं उस पर अधिकार पुरुषों का भी है ... :-)



    हम दूर क्यूँ जाते हैं इस ब्लॉग जगत में जितनी बेहूदा बेशर्मी से भरी पोस्ट मेरे ऊपर आयी हैं शायद ही किसी के ऊपर आयी हो . और महज इस लिये क्युकी मैने नारी ब्लॉग बना कर मोरल पोलिसिंग की ब्लॉग जगत के उन पुरुषो की जो नितान्त बेहुदे हैं और महिला को दोयम का दर्जा देते हैं . मोरल पोलिसिंग के पुरुष के अधिकार को मैने अपने हाथ में ले लिया तो तिलमिला गया वो पुरुष समाज जो हमेशा महिला के ऊपर मोरल पोलिसिंग करता रहा हैं और फिर मेरे ऊपर व्यक्तिगत आक्षेप लगते रहे और लोग दांत निपोरते रहे . नीरज रोहिला , निशांत मिश्र , अमित , हिमांशु , दीप पाण्डेय , कुछ गिने चुने नाम हैं जिन्होने हर समय आपत्ति दर्ज की ऐसी पोस्ट पर . बाकी वो जो अपने को बड़ा भाई , दादा { पिता के पिता } , चाचा इत्यादि कहते हैं हमेशा चुप रहे और तमाशा देखते रहे क्युकी उनको ब्लॉग पर टीप चाहिये अपने अपने .
    थूकने का मन करता हैं मेरा जब जो मेरे ऊपर बेशर्मी की हद को पार करती हुई पोस्ट अपने ब्लॉग पर लगाते हैं , कमेन्ट मोद्रशन के बाद भी अप्रोव करते हैं वही दूसरे ब्लॉग पर जा कर जहां किसी पुरुष ने नारी विषय पर पोस्ट दी हो तुरंत अपनी सहमति दर्ज कराते हैं

    ReplyDelete
  48. रिश्तो को मान मर्यादा में जीने ...और मन की घुटन हो बहुत अच्छे से समझाने में आप सफल रहे है .....रिश्ता कोई भी हो ...वो सांसे चाहता है ...जीना चाहता है खुल कर ....पर ऐसा हो नहीं पाता....मन की घुटन मन में ही दबती चली जाती है ....और वो कब विस्फोटक रूप धरान करती जली जाती है ...कोई समझ नहीं पाता ......और फिर रिश्ते दरकने शुरू हो जाते है

    आभार आपके इस लेख के लिए और हम यहाँ टिपण्णी कर पा रहे है ...उसके लिए

    ReplyDelete
  49. टि‍प्‍पणी तो सूझ नहीं रही थी पर अरवि‍न्‍द मि‍श्रा जी ने वि‍वश कि‍या - वे इतने अहम वि‍षय को नारी ब्‍लॉग के लि‍ये छोड़ने को कह रहे हैं।
    हकीकत यही है कि‍ हम बहुत सारी अहम चीजों को बहुत ही सतही स्‍तर पर छोड़ देते हैं और ये ताजि‍न्‍दगी हमारे सर पर बला सी सवार रहती हैं चेतन में और अचेतन में .... और हम यार, वार, मजेदार जैसी बेहोशी में खोये रहने में ही जीवन की सार्थकता मानते हैं। या टेम्‍पररी अस्‍थायी, तत्‍कालि‍क उपाय ढूंढते हैं, जि‍समें दबाव बढ़ते बढ़ते ...प्रेशरकुकर बम की तरह कभी भी फट पड़ता है, तब हमें होश आता है कि‍ अरे...ये क्‍या हो गया। ये तो नारी ब्‍लॉग वाली छोटी सी बात थी।

    ReplyDelete
  50. रिश्तों को सामान धूप पानी और खाद मिलनी चाहिए तभी वो सहज पनप सकते अहिं और लंबे समय तक मीठे रह सकते हैं ... अच्छा लिखा है आज ... बहुत उपयोगी सतीश जी ...

    ReplyDelete
  51. पाठकों से एक अनुरोध अवश्य करना चाहूँगा ! कृपया इस ब्लॉग पर किसी भी व्यक्ति, धर्म के बारे में अपमानजनक शब्द न कहें किसी भी हालत में प्रकाशित नहीं किया जाएगा !
    :-)
    आभार आप सबका !

    ReplyDelete
  52. एक नए परिवेश में आई हुई लड़की के मनोभावों का अच्छा वर्णन . आभार .

    ReplyDelete
  53. sarthak charchaa. rishte bache rahe. yah zarooree hai.

    ReplyDelete
  54. सराहनीय पोस्ट....
    परिवार सामाजिक जीवन की सबसे महत्वपूर्ण इकाई है। यह भारतीय जीवन-पद्धति में पारिवारिक-आधार की सुदृढ़ता है जिसके कारण हमारे सांस्कृतिक मूल्यों में अभी तक स्पंदन विद्यमान है। आपने इस पोस्ट में जिन बातों का उल्लेख किया है वे एक अर्थ में पारिवारिक जीवन में लोकतंत्र की स्थापना कहा जा सकता है। मर्यादा के अंदर परिवार के सुख-दुख में भावनात्मक साझेदारी में सभी को अवसर मिलना चाहिए। लोकतंत्र का विकास परिवार के योगदान से संभव है।

    ReplyDelete
  55. rishton mein Beti, Bahu kee bhumika ka paksh mukhar karne ke liye aabhar...
    gaon se lautne par blog par ruteen banana ab thoda-thoda sambhav ho paa raha hai...

    ReplyDelete
  56. सयुंक्त परिवारों का टूटना, एक दूसरे के प्रति अविश्वास, ही इस सब की जड़ है

    ReplyDelete
  57. सर्वप्रथम तो आपको हम जैसे पाठकों के लिए 'खिड़की' खोलने का शुक्रिया !आज ज़रूरी है कि रचनाकार अपने पाठक के संपर्क में रहे !

    आपने इक बेहद महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दे को छुआ है.हम बड़े पहले बातें तो बड़ी-बड़ी करते हैं,जिस लड़के के लिए बहू लाने में जी-जान लगा देते हैं,उसके घर पर आते ही उसे अपने प्यार को बाँट लेनेवाली मान लेते हैं !कई परिवार इस तरह के असुरक्षा बोध के चलते छिन्न-भिन्न हो जाते हैं !ज़रुरत है की हम समय के साथ साम्य स्थापित कर सकें !

    ReplyDelete
  58. .
    .
    .
    " हर भाई को अपनी बहिन से स्नेह चाहिए मगर हर बार हम भूल जाते हैं कि परिवार वृक्ष की यह सबसे सुन्दर टहनी ही सबसे कमजोर होती है और वह जीवन भर अपने पिता और भाई से प्यार की आशा लगाए रहती है ! और हम ...??
    आइये, पूंछे अपने दिल से !"


    दिल को छू गई आपकी यह बात सतीश जी , कम से कम अपने परिवार वृक्ष की इस सुन्दर टहनी का पूरा ख्याल रखा जायेगा, धन्यवाद इस आँखें खोलने वाले आलेख के लिये!



    ...

    ReplyDelete
  59. pranam !
    behad samvedan sheel hai rishto ko samjhna aur nibhana . achcha vishay .badhai
    saadar

    ReplyDelete
  60. सुन्दर विचारणीय लेख....

    बहुत अच्छा किया सतीश जी .........टिप्पणी बॉक्स खोल दिया ......शत-शत आभार

    ReplyDelete
  61. सतीश जी ये केवल परिवार की ही बात नहीं हम पूरे सामाजिक ढांचे को खोखला कर रहे हैं
    छोटी छोटी बातों पर मन मुटाव हो जाना कुछ भी ऐसा कह देना जो दूसरे व्यक्ति के मन को आघात पहुंचाए ,,,बड़ी सामान्य सी बातें हैं
    जहां तक बात बेटी की है ,,वो तो हमें बचपन से संस्कार ही यही दिये जाते हैं कि हालात जो भी हों संतुलन और सामंजस्य उसी की ज़िम्मेदारी है
    आगे उस की क़िस्मत
    अच्छे टॉपिक पर चर्चा के लिये बधाई

    ReplyDelete
  62. मेरा-तेरा के भेद से बाहर निकले बिना ऐसी समस्याओं का हल कैसे होगा। जहाँ बहू और बेटी को एक इज़्ज़त दी जाये वहाँ ऐसी समस्यायें होने की सम्भावना कम है। पर साथ ही बहू को भी परिपक्वता की ज़रूरत है। एक बसे-बसाये घर में पहुँचे नये व्यक्ति के लिये यह सब आसान नहीं है। कुल मिलाकर एक अच्छा आलेख!

    ReplyDelete
  63. bhawpoorn prastuti..sir ji.
    ap bhi aaeye.... hamara bhi hausla badhaiye

    ReplyDelete
  64. aadarniy sateesh bhai ji
    main kuchh dino pahle aapke blog par aai thi par us par no comment k ashabd padh kar ek man medhakka sa laga.dukh bhi hua .ki akhir aisa kun hai.-fil hal aapki nai post padhne ko mili to man prasannta se khil utha.pata nahi ye bhai shabd se akanjane sneh se jud sa gaya hai .main aap me apne bhai ki hi kjhalak paati hun.
    aapke lekh ka ek ek shabd man me utarta chala gaya. bahut hi yatharth v bilkul sateek vivaran prastut kiya hai .aage kya likhun samjh nahi pa rahi hun .
    mera bhi swasthy idhar gadbad hi rahta hai .atah ab type nahi kar pa rahi hun .
    aapki sneh ki aakanxhi bahan
    poonam

    ReplyDelete
  65. सतीश जी आज अभी देखा तो आप कि टिप्पणी खुली मिली. चलिए कुछ कहने का मौक़ा मिलता रहेगा. यह लेख पसंद आया और कल बगीची मैं चर्चा मैं इसे लगाया जा रहा है.

    ReplyDelete
  66. सतीश जी आपकी पोस्ट एकदम सटीक मर्म को छूती हुयी है , नयी बहू जब तक सम्हले वो अनगिनित जालों में गिर जाती है और यही से जन्म होता है आक्रोश का. ज्यादातर घरों में देखा जाता है ससुर के प्रति आक्रोश कम होता है सीधी सी बात है बहू से उसे कोई असुरक्छा का भय नहीं होता, सासे कालांतर में अशुरक्छा से घिर जाती है और इसका कारण भी वही है सकारात्मक संवाद की कमी . घर टूटने का मुख्य कारण भी यही छोटा सा है शायद.

    ReplyDelete
  67. पारिवारिक रिश्तों और उनकी समस्याओं का अच्छा विश्लेषण किया है. लेकिन मैं निर्मला कपिला जी की बात से सहमत हूँ कि रिश्तों का गणित बहुत जटिल है. लेकिन एक अच्छे रिश्ते बनाने का प्रयास तो ज़रूर किया जा सकता है. शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  68. सतीश भाई साहब कबसे आपको ढूंढ रहे थे .आपने टिपियाने के तमाम रास्ते ही बंद कर दिए .टिप्पणियों का निषेध कर दिया था .हम बेहद निराश थे .लदे के एक भाई मिला .रूस गया .दूर जा बैठा .आपने सही मुद्दों पर हाथ रख दिया है .इतना अपना पन सबमे हो तो परिवार चन्दन से सुवासित हो जाएँ .विष दंत गिर जाएँ तमाम .

    ReplyDelete
  69. रिश्तों के बंधन इतने शिथिल पहले कभी नहीं थे जितने आज हैं।

    ReplyDelete
  70. यह देख संतोष हुआ कि टिप्पणी चालू हुई...

    बाकी रिश्तों और उनके समीकरण...कुछ न कहना ही बेहतर है...जो भोगे वो अहसासे वाली बात है वरना कब कभी सोचा भी था...

    ReplyDelete
  71. इसमें कोई शक नहीं कि रिश्ते निभाने में स्त्रियाँ हम पुरुषों से कहीं आगे हैं।
    बदलते वक्त के साथ रिश्तों का मतलब भी बदल रहा है, और प्राय: हम समझते तभी हैं जब पानी सर से ऊपर निकल जाता है। अच्छी नीयत से किये गये कामों का नतीजा अच्छा आ सकता है लेकिन विषब्ले बोई जायेगी तो गंभीर परिणाम आना तय ही है।

    ReplyDelete
  72. bahut sahi aur gahri baat kahi hai aapne shayad ye chhupi samsya hai janta har koi hai pr shayad soch kisi ne na hoga aapke siva
    abhar
    rachana

    ReplyDelete
  73. बहुत बढिया. क्या विवेचना किया है आपने, लेकिन ये रिश्तों की डोर बहुत ही नाजुक होती है।

    ReplyDelete
  74. The Flip Side :On your retirement and post retirement children want you to spend in the real state to boost their economy .They are going for big flats in and around the Metropolis like Gurgaon ,or Navi Mumbai.They target whatever little money you got on yr retirement .You have got to be a selfsustaining system all yr life and not a praracite,shuld be able to meet all contingencies,diseases and surgeries .I have undergone two major surgeries at Escorts Delhi,CABG(coronary artery By pass grafting )and prolapse disc incision and have paid for it .I wish to know life in all its ramifications and go around the globe .I thank the moral family support I got from all quarters but I have to be sustainable all by myself .Rest I agree with you Bhai sahab .

    ReplyDelete
  75. काफी गंभीर विषय पर चर्चा की है आपने

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  76. नाज़ुक रिश्तों की मज़बूत डोर का पूरा पता है आपके लेख में !
    सूक्ष्मता से लिखे गए इस गंभीर लेख की बातें जीवन में उतारने लायक है !
    आभार !

    ReplyDelete
  77. परिवार में एक सामान्य सा छोटा ईगो कब सिर उठा लेता है और एक द्वेष परम्परा को जन्म दे जाता है। जिसे कोई भी पक्ष वास्तव में तो पसंद नहीं कर रहा होता, पर ईगो इस परम्परा को रूकने नहीं देता।

    ReplyDelete
  78. Gambheer wishay chintan par iska doosara pahaloo bhee hai. Rishte shak aur sandeh se ghir gaye hain ye bat aapki sachchi hai.

    ReplyDelete
  79. आदरणीय सतीश सक्सेना जी
    नमस्कार !
    पारिवारिक रिश्तों का अच्छा विश्लेण किया है|

    ReplyDelete
  80. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  81. शुक्रिया भाई साहब .अगला लेख इसी की अगली कड़ी के रूप में जड़ी पढियेगा .

    ReplyDelete
  82. पारिवारिक रिश्तों और कर्तव्यों को बड़ी सहजता से समझाता आपका उपयोगी लेख ............अति हितकर,अति सुन्दर

    ReplyDelete
  83. वाकई हमारी छोटी छोटी दुर्बलताएं परिवार जैसी इकाई को कमजोर कर रही हैं.

    ReplyDelete
  84. प्रकृति से छेड़छाड़ की तो पर्यावरण बदल गया.
    संस्कारों से छेड़छाड़ की -वातावरण बदल गया.
    सोच ऐसे ही नहीं बदल गई.बहुत से कारक हैं इस बदलाव के लिये.तकलीफ होने लगी तो पर्यावरण-संतुलन के प्रति चेतना जागी.अभियान चले,वृक्षारोपण होने लगे,हानिकारक कारकों पर प्रतिबंध लगाया गया.रिश्तों का संतुलन बिगड़ा-पीड़ा होने लगी.कब अभियान चलेगा ? संतुलन बिगाड़नेवाले कारकों पर कब प्रतिबंध लगेगा ? क्या प्रकृति संतुलन की तरह रिश्तों के संतुलन के लिये गम्भीरता से विचार करना जरूरी नहीं है,अभियान चलाना जरूरी नहीं है ? सोचें-मनन करें..

    ReplyDelete
  85. ई सब पचड़े की बातों को नारी ब्लॉग के लिए ही छोड़े रहो...

    :)

    रश्मि रविजा को ये पचड़ा हाजिर किया जाये ......

    ReplyDelete
  86. प्रतिक्षा है एक धाँसू नई पोस्ट की!!

    ReplyDelete
  87. Kitna kux sikha diya is post ne..
    Badhai...bhaiya.

    ReplyDelete
  88. आपकी नै रचना का इंतज़ार कब तक करें .

    ReplyDelete
  89. रिश्ते दुतरफ़ा मारक और प्रेरक होते हैं, जिसके भाग्य में जो हो, शायद उसी अनूरूप कार्यकलाप हो जाते हैं. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  90. जब संवेदनशीलता अपने-पराये के निकष पर प्रकट की जाती है तो विषबेल ही उगता है. अच्छी लगी पोस्ट.

    ReplyDelete
  91. आपकी ये पोस्ट बहुत कुछ सोचने को विवस करती है ।

    ReplyDelete
  92. बहुत सारगर्भित विवेचन है.आभार.

    ReplyDelete
  93. सुन्दर विचारणीय लेख....सक्सेना जी

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,