Tuesday, August 16, 2011

ये आंसू - सतीश सक्सेना

आजकल बहिन भाई का नैसर्गिक प्यार भी, दिखावे का बन कर रह गया है ! आजकल पुरुषों में संवेदनशीलता का लगभग अभाव सा हो गया है जिसमें अपनी बहन के प्रति ममत्व और करुणा कहीं नज़र नहीं आती ! 

अक्सर संवेदनशील बहिन मायके को याद करते, मुंह छिपा कर आंसूं पोंछते देखी जाती हैं ...! यह बेचारी किससे कहे और किसे दिखाए कि वह अपने भाई को कितना प्यार करती है ??

मा पलायनम पर डॉ मनोज मिश्र   ( डॉ अरविन्द मिश्र के छोटे भाई  हैं ) के हाल के लिखे लेख पर उक्त कमेन्ट देते समय मेरा अस्थिर सा हो गया सोंचा कि यह क्यों न आप सबसे चर्चा करूँ !

संवेदनशीलता और स्नेह की अवहेलना, समय के साथ हमें और समाज को बहुत महंगी पड़ेगी ! यह याद रहे कि जिस स्नेह  और अपनत्व का हम तिरस्कार कर रहे हैं वही एक दिन भूत बनकर हमारे सामने होगा,  कहीं ऐसा न हो घर में हमारा व्यवहार सावधानी से देख रहे , हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी ! 

हमारे जीवित रहते, माँ और बहिन की आँखों में आंसू नहीं छलकने  चाहिये  !

53 comments:

  1. जी ज़रूर !

    ReplyDelete
  2. एक ओर सच से सामना करवा दिया ...बदलती दुनिया का सच ....खुली आँखों का सच ....जिसको हम रोज़ देखते है पर ये मन मानता ही नहीं है कि हर रिश्ता बदल रहा है

    ReplyDelete
  3. सही कहा आपने सर ! आजकल रिश्तो में वो गर्माहट ही नही रही ..जो एक दुसरे को आपस में बांधे रखती थी....

    ReplyDelete
  4. बस, मन के भाव न बदलें.

    ReplyDelete
  5. मानों तो मैं गंगा मां हूं, न मानो तो बहता पानी...

    हमारा देश दुनिया में इसी लिए अलग स्थान रखता है क्योंकि यहां बचपन से ही हमें रिश्तों की कद्र करना सिखाया जाता है...लेकिन दुनिया सिमट रही है तो हमारे मेट्रो शहरों में भी लोग मैट्रीलिस्टिक होते जा रहे हैं...ऐसा भी देखा गया है कि बचपन में एक दूसरे पर जान छिड़कने वाले भाई-भाई या भाई-बहन या बहन-बहन बड़े हो जाने पर पुश्तैनी संपत्ति के विवाद के चलते एक दूसरे का मुंह तक देखना छोड़ देते हैं...

    भावनाओं की ये बातें भावनाओं वाले ही जान सकते हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. हमारे जीवित रहते, माँ और बहिन की आँखों में आंसू नहीं छलकने चाहिये

    हमारे व्यक्तित्व पर तमाचा है, उनके आँसू।

    ReplyDelete
  7. हमारे जीवित रहते, माँ और बहिन की आँखों में आंसू नहीं छलकने चाहिये !

    सबका प्रयास यही रहता है जहाँ तक मैं समझता हूँ .....!

    ReplyDelete
  8. shat pratishat sahi ab vah bat nahin

    ReplyDelete
  9. @@संवेदनशीलता और ममत्व की अवहेलना, समय के साथ हमें और समाज को बहुत महंगी पड़ेगी ! यह याद रहे कि जिस ममत्व और अपनत्व का हम तिरस्कार कर रहे हैं वही एक दिन भूत बनकर हमारे सामने होगा, कहीं ऐसा न हो घर में हमारा व्यवहार सावधानी से देख रहे , हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी !
    भाई साहब निश्चित रूप से यही होने वाला है.हम सब की तरफ एक कहावत है कि जो बोया है वही काटेंगे अर्थात बोया पेड़ बबूल का आम कहाँ से होय.
    हम आज रिश्ते नातों से दूर भले ही अपनी एक अलग पहचान बना लें लेकिन अंततः सकून अपने ही लोंगो के बीच मिलने वाला है --मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे---जैसे उड़ी जहाज से पंछी फिर जहाज पे आवे......
    आपकी पोस्ट समय -समय पर इसी तरह जागृति का सन्देश देती रहे यही मेरी शुभकामना है ,बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  10. राखी के दिन मैंने दो महिला को बात करते सुना जिनके भाइयो ने कोई खोज-खबर नहीं ली थी. वे एक दूसरे को कह रही थी कि चलिए आपस में ही राखी बांधा जाय और मिठाई खिलाया जाय.मेरी आँखे नम हो गयी.

    ReplyDelete
  11. व्यक्तिगत संपत्ति रक्त संबंधों और भावनात्मक संबंधों का खून कर देती है।

    ReplyDelete
  12. भौतिकतावादी युग में हम कितने संवेदनहीन हो गए हैं...हमारे लिए रिश्ते महज़ औपचारिक बन गए हैं !

    ReplyDelete
  13. बिलकुल सही कहा है आपने
    सहमत हूँ....

    ReplyDelete
  14. संवेदनशीलता और ममत्व की अवहेलना, समय के साथ हमें और समाज को बहुत महंगी पड़ेगी ! यह याद रहे कि जिस ममत्व और अपनत्व का हम तिरस्कार कर रहे हैं वही एक दिन भूत बनकर हमारे सामने होगा, कहीं ऐसा न हो घर में हमारा व्यवहार सावधानी से देख रहे , हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी !

    इस तकलीफ को लोंग आज नहीं देख पा रहे ... बाद में सिवाय पछताने के कुछ हासिल नहीं होगा ..

    ReplyDelete
  15. सम्वेदनाएं कुंद होती जा रही है।

    निरन्तर क्रूर स्वार्थी और मनमौजी वातावरण में पलते हम लोग करूणा प्रेम और ममत्व की भावना कहां से ला पाएंगे?

    ReplyDelete
  16. गहन चिन्तनयुक्त प्रासंगिक अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  17. हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी !
    हमारे जीवित रहते, माँ और बहिन की आँखों में आंसू नहीं छलकने चाहिये !
    ....सही कहा आपने सतीश जी
    जय हिंद जय भारत
    *****************

    ReplyDelete
  18. वो प्यार वो ममता जिनसे मिले जो जो समर्पण दिए वो तो अनमोल हैं भला उन आँखों में क्यूँ आंसू लायेगे बहुत अच्छा लिखा है आपने....
    लेकिन आंसू तो आ सकते हैं सर जी वो भी खुशी के प्यार भरे आंसू जो मीठे लगते हैं....:)

    ReplyDelete
  19. आंसुओ की भी भाषा होती है पर इसे कोई संवेदनशील मन ही समझ सकता है।

    ReplyDelete
  20. भाग रही है ज़िन्दगी ....कुछ सोचने समझने का वक़्त कहाँ है...?भौतिकता तो गर्त में ही गिराएगी ...हम संभल जाएँ तो बहुत अच्छा है ...!!

    ReplyDelete
  21. रिश्तों की औपचारिकता दिल दुखाती ही है !

    ReplyDelete
  22. भाई बहन का प्यार भी बदले हुए समय की तर्ज़ पर बदल रहा है .
    फिर भी हमारे पर्व कहीं न कहीं हमारी परम्पराओं को जीवित रखे हुए हैं .
    हालाँकि अब इनपर भी पाश्चात्य व्यवसायिक प्रभाव पड़ता जा रहा है .

    मन को स्थिर रखो भाई . ये दुनिया बड़ी निष्ठुर है .
    शुभकामनायें आपको .

    ReplyDelete
  23. बहन के मन के दर्द को उकेर दिया आपने।

    ReplyDelete
  24. तभी तो... तभी तो ... मनवीय मूल्यों का क्षरण हो रहा है॥

    ReplyDelete
  25. रिश्तों के प्रति संवेदनशीलता तो रखनी ही पड़ेगी. सभी को इस विषय पर सोचना चाहिये. अच्छा और सामायिक विषय.

    ReplyDelete
  26. rishton ke naam pr bs mahaj oupcharikta hi nibha rahen hain hum log.....sahmat hun aapse.............

    ReplyDelete
  27. aaj bacche dekh rahe hain sabhi rishto ko pyar me tulte hue...kal vo bhi yahi tulna karenge.

    samvednsheel prastuti.

    ReplyDelete
  28. कहीं ऐसा न हो घर में हमारा व्यवहार सावधानी से देख रहे , हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी !

    प्रतिफ़लन तो पॄकॄति का अकाट्य नियम है. प्यार देंगे तो प्यार पायेंगे, नफ़रत देंगे तो नफ़रत पायेंगे.

    रामराम

    ReplyDelete
  29. बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  30. हमारा परिवार अपवाद है, इसलिए इसपर चुप रहता हूँ!!

    ReplyDelete
  31. ह्रदय से बंधे रिश्तों की डोर .......

    ReplyDelete
  32. रिश्तों का व्यवसाईकरण जो ना कराये वो कम...बहनें भी तो अपने गरीब भाइयों को भूलने में देर नहीं लगातीं...

    ReplyDelete
  33. bilkul sach kaha apne
    lekin
    ye zimmedaaree donon taraf se ho to sambandhon kee madhrta bani rahti hai

    ReplyDelete
  34. कबीरा तेरी झोंपड़ी गल कतियाँ के पास ,करेंगे सो भरेंगे तू क्यों भयो उदास . ..भाई -बहिन के छीजते रिश्तों से मुखातिब संवेदन शील पोस्ट . August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    सोमवार, १५ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ लिया है (दूसरी किश्त ).
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    त्रि -मूर्ती से तीन सवाल .

    ReplyDelete
  35. अर्थप्रधान युग में रिश्तों की वास्तविक गर्माहट अपना महत्व खोती जा रही है जो वाकई चिंतनीय है ।

    ReplyDelete
  36. कहीं ऐसा न हो घर में हमारा व्यवहार सावधानी से देख रहे , हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी !

    jai baba banaras.....

    ReplyDelete
  37. WE HAVE TO BRING THE CHANGE, WE HAVE TO BE CHANGE!

    ReplyDelete
  38. आपकी बातें मन को छूती हैं .लेकिन यह बुद्धि की प्रधानता का - व्यावहारिकता का, युग है.परस्पर स्नेह बना रहे वही बहुत है !

    ReplyDelete
  39. सही है. रिश्तों में अब वो गर्माहट नहीं रही. स्वार्थ-समृद्धि यहां भी हाबी हो गयी है.

    ReplyDelete
  40. कहीं ऐसा न हो घर में हमारा व्यवहार सावधानी से देख रहे , हमारे बच्चे, ब्याज समेत हमें लौटा दें और उस समय बहुत तकलीफ होगी !

    ऐसा होता आया है।
    हम सब को चाहिए कि हम ऐसा मौका ही न आने दें।

    ReplyDelete
  41. ऐसा होता तो है सतीश जी...ऐसी बहनें बहुत कम होंगी जिनके भाई उनकी आँखों में आँसू नहीं देख पाते..

    ReplyDelete
  42. आद. सतीश जी,
    आपके चंद पंक्तियों ने सीधे दिल पर चोट किया है ! वास्तव में हम संवेदनशून्यता की बहुत बड़ी क़ीमत चुका रहें हैं ! आज बिखरते हुए मूल्यों की कराह में इसकी प्रतिध्वनि साफ़ सुनी जा सकती है !
    आभार !

    ReplyDelete
  43. भावनाएँ /संवेदनशीलता रिश्तों को जोड़े रखती हैं.
    इसे नहीं खोना चाहिए.

    ReplyDelete
  44. बिल्कुल सही कह रहे हैं.

    ReplyDelete
  45. बहुत सच कहा है..रिश्तों की महत्ता को नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए..लेकिन आज समाज में दूसरा ही द्रश्य है.

    ReplyDelete
  46. मैं तो बस यही दुआ करता हूँ की मेरी बहनों और मेरे बीच का जो प्रेम है वो ऐसे ही बना रहे...वो सब सही में मेरी जिंदगी है..और कितने ही ऐसे तकलीफ भरे दिन में उन्होंने मुझे आगे बढ़ने का हौसला दिया..

    ReplyDelete
  47. सुंदर वैचारिक पोस्ट भाई सतीश जी बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  48. सुंदर वैचारिक पोस्ट भाई सतीश जी बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  49. संवेदनाओं का शिथिल होते जाना चिंता की बात है...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,