Friday, May 4, 2012

आओ बच्चो मिल कर के ये कसम उठानी है - सतीश सक्सेना

कल ज्योतिपर्व प्रकाशन के डिज़ाईनर अबनीश ने मेरे  गीत पर काम करते करते , मुझे बताया  कि उन्हें गीतों का  गहरा शौक है  एक बार पिता के कहने पर उन्होंने चार लाइने लिख कर एक मंच पर सुनाई थी , पहली लाइन "शीर्षक " सुनकर, अवनीश के अनुरोध पर यह रचना की गयी ,  आओ बच्चो मिलकर के इक कसम उठानी है  पर लिखी इस रचना को महसूस करें !
अवनीश को ही समर्पित है यह गीत !

एक रंग है सबके अन्दर  
एक   सा  भोजन  पायें  !  
एक पिता है सबके अंदर
तब क्यों नज़र झुकाएं  !
फिर क्यों  ऊँच नीच समझाती, राम कहानी है !
आदि ग्रन्थ बदले स्वारथबस , यही कहानी है  !

कमजोरों को प्यार करेंगे 
साथ बैठकर  बात करेंगे 
कष्ट दूसरों का समझेंगे  !
एक  साथ खाना खायेंगे  !
और आक्रमणकारी  को  इक ,सीख  सिखानी है 
आओ बच्चो मिलकर के, इक कसम उठानी है !

अपनी माँ  की इज्ज़त जैसी 
महिलाओं की  इज्ज़त होगी 
जैसी अपनी बहिन सुरक्षित 
और सभी की करनी होगी  !
प्रथम सुरक्षा  उनकी , जिनकी भीत पुरानी है !
आओ बच्चों मिलकर के ,एक प्रीत जगानी है !  

थके चरण कमजोर पड़े हैं !
हम बच्चों के लिए चले हैं ,
हाथ थक गए मेहनत करते 
हमको मंजिल पर पंहुचाते  
कसम तुम्हे इन छालों की, इक आस जगानी है 
नेह दिया, मृदु बाती  से , एक ज्योति जगानी है  ! 

44 comments:

  1. बहुत बहुत अच्छी रचना है यह...जिनसे प्रेरणा मिली वे बधाई के पात्र हैं...
    आप दोनों को शुभकामनाएँ!!!

    ReplyDelete
  2. कसम तुम्हे इन छालों की, इक आस जगानी है
    नेह दिया, मृदु बाती में, एक ज्योति जगानी है !

    वाह,...बहुत सुंदर रचना //

    ReplyDelete
  3. बहुत ठहरे हुआ लेखन का परिचय ...आपके ब्लॉग पर पढ़ने को मिला हैं ...हर विषय पर आपकी सोच और पकड़ बहुत अच्छी हैं .....आभार

    ReplyDelete
  4. फिर क्यों उंच - नीच समझाती, राम कहानी है !
    आदि ग्रन्थ बदले स्वारथबस, यही कहानी है !
    फिर क्यों ऊँच नीच समझाती .....यहाँ उंच हटा दें .
    बेहतरीन सांगीतिक अर्थ पूर्ण सौदेश्य गीत बधाई स्वीकार करें .


    Read more: http://satish-saxena.blogspot.com/#ixzz0Y1iyiwgb
    प्रथम सुरक्षा उनकी , जिनकी भीत पुरानी है !
    आओ बच्चों मिलकर के ,एक प्रीत जगानी है !

    Read more: http://satish-saxena.blogspot.com/2012/05/blog-post_04.html#ixzz0Y1iVIHi6

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया वीरू भाई ...

      Delete
  5. नेह दिया, मृदु बाती से , एक ज्योति जगानी है !

    सात्विकता से युक्त सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. कसम तुम्हे इन छालों की, इक आस जगानी है
    नेह दिया, मृदु बाती से , एक ज्योति जगानी है !

    bahut sambhavnaye hai . inhe badhaate rahna

    ReplyDelete
  7. भाई जी ! बस यू ही प्यार लुटाते चलो सब पर ...
    अपनी खुशी भी इसी में है और सुकून भी ..?
    बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. सार्थक संदेश देती प्रभावी रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  9. कसम तुम्हे इन छालों की, इक आस जगानी है
    नेह दिया, मृदु बाती से , एक ज्योति जगानी है !

    बहुत सुन्दर भावों से सजी खूबसूरत रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. Waah! Achhi panktiyan hain.... Hirey ki parakh to aap jaise johri ko hi ho sakti hai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शाहनवाज भाई ....

      Delete
    2. और जौहरी को जो हम इत्ते दिनों से परखते रहे / कदर करते रहे उसका क्या :)

      Delete
    3. जौहरी आपका हो गया ...
      धंधा ठप

      Delete
  11. बहुत प्यारा एवं प्रेरणादायक गीत
    आभार

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर शब्द संयोजन खुबसूरत .
    नाराज न हों तो कविता संकलन के लिए मेल करने का कष्ट
    करें .भावों संग चिंतन को दिशा देती कविता .......

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप कापी कर सकते हैं , स्वागत है !

      Delete
  13. अति सुन्दर और उत्साहवर्धक ...
    आपकी प्यारी कविता की हर सीख सुहानी है
    अच्छी ,प्रेरक ,सुन्दर है ये मन की वाणी है

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर भावों को सँजोये सार्थक संदेश देता गीत ...

    ReplyDelete
  15. हर बच्चे के लिए अनुकरणीय सीख लिए गीत ....बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  16. काफी सकारात्मक चिंतन है !

    ReplyDelete
  17. सार्थक संदेश देती प्रभावी रचना.....सकारात्मक चिंतन बहुत -2 शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  18. बच्चे मन के सच्चे ..काश हम बच्चे ही होते ? तो ही इतना सरल सोच पाते ..?

    ReplyDelete
  19. sundar.....saral......arthpurn......bodhgamya......

    aap rachte...rachvate rahen.....hum padhte...padhvate rahenge.....

    pyare avnish ko subhkamnayen.

    pranam aapko.

    ReplyDelete
  20. सुन्दर रचना प्रस्तुति .... आभार ...

    ReplyDelete
  21. अपनी माँ की इज्ज़त जैसी
    महिलाओं की इज्ज़त होगी
    जैसी अपनी बहिन सुरक्षित
    और सभी की करनी होगी !

    आमीन ... काश हम सब मिल के एक ऐसा भारत देश बना सकें ... सुन्दर रचना है सतीश जी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. haan agar sab logo kee soch aapki or hamari tarha hoo gayi to bharat desh jarur esa ho jayega

      Delete
  22. सार्थक प्रस्तुति,


    साधुवाद.

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर भावों को सँजोये सुन्दर रचना...........

    ReplyDelete
  24. संस्कारों की दृढ़ता ऐसे ही परिलक्षित होती है।

    ReplyDelete
  25. बहत कल्याणकारी संकल्प -साधु !

    ReplyDelete
  26. थके चरण कमजोर पड़े हैं !
    हम बच्चों के लिए चले हैं ,
    हाथ थक गए मेहनत करते
    हमको मंजिल पर पंहुचाते
    कसम तुम्हे इन छालों की, इक आस जगानी है

    नई पीढ़ी में यही तो भाव जगाने हैं, सुंदर रचना, वाह !!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  27. सूचनार्थ: ब्लॉग4वार्ता के पाठकों के लिए खुशखबरी है कि वार्ता का प्रकाशन नित्य प्रिंट मीडिया में भी किया जा रहा है, जिससे चिट्ठाकारों को अधिक पाठक उपलब्ध हो सकें। 

    ReplyDelete
  28. प्रेरणास्‍पद रचना।

    ReplyDelete
  29. प्रेम, सद्भावना, भाईचारे और हौसला बढ़ाने वाले इस सुन्दर सार्थक एवं ओजपूर्ण गीत के लिये बहुत बहुत बधाई ! हर शब्द जोश और प्रेरणा से ओत-प्रोत है ! आज की पीढ़ी को इस गीत के माध्यम से बहुत ही सुन्दर संदेश दिया है ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  30. सुंदर गीत और खूबसूरत भाव और सन्देश निहित है इस गीत में. प्रेरणा दायक लेखन. बधाई

    ReplyDelete
  31. satish je apne jo, jo mene socha tha usse bhi kahi acha is line ka bana diya, apne jis tarha bhichara badane kee baat kahi hai or us se bhi badkar main kahunga ke jis tarha hum apni maa or behen ko khus or us par koi atyachar nahi seh sakte to bakki pe hote huwe kyu sehte hai, aao mere bhaiyo mil ke yee kasam utha le ki is desh se jaati baat or mahilao pe hone wale atyachar ke khilaf hame mil ke kadam badana hai or main samajhta hoon kee is geet kee maddat sey jo main kehna chahta tha wo satish ji ne kar diya, main satis ji ko tahe dil se dhanyabaad deta hoon.

    ReplyDelete
  32. aap ko hamari or se hardik dhanybaat

    ReplyDelete
  33. main Avneesh kumar jike baare main satish ji ne pehle bhi batya kee main jyotiparb prakashn main Designer hoon or as a social Worker bhi hoon or Mahilao pe hone wale atychar ke khilaf hamesha tyar rehta hoon] or Women Anti Crime Mission jo kee ek NGO hai uska national vice president hoon or] or satish ji jinse main pehli baar mila or unka diwana ho gya or jab maine unke like geet pade do mano ye laga kee ab tak main in se dur kyu tha unke geet jo kee mahilao or baccho or unlogo ke baare main jin ke baare main log dhyan hee nahi dete par satish ji ne unki vednao ka samjha or apni kalam se use likh dala main satish ji ko tahe dil se badhai deta hoon- or satish ji ne bahut saare geet likhe wo saare ke saare geet dil ko choo jaate hai unhe geeto main ek geet aao bacho mil kar ke ek kasam uthani hai jiski line jesa satis ji ne kaha kee maine dee magar line dene se or geet kar nahi ban jata par us line ko geet ka roop satish ji ne diya hai- is geet ke bhav or sandesh jo ke logo ko sochne par majboor kar denge kee kyu na hum bhi apni ma or behen ko jis tarha surakshit dekhna chahte hain usi tarha har maa or behan ko kyu nahi] isi ke sath main aap sab ko bhi jinhone is geet par comments diye unko badhai deta hoon

    ReplyDelete
  34. खूबसूरत मन के भाव

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,