Friday, February 22, 2013

मैं अब खुश हूँ ... - सतीश सक्सेना

आश्रय देने यहाँ न आना, मैंने जीना सीख लिया !
धीरे धीरे  बिना सहारे , हमने रहना सीख लिया !


मैं अब खुश हूँ तेरी दुनियां,मुझको नहीं बुलाती है ! 
हँसी चुराकर तस्वीरों से, हमने हंसना सीख लिया !

मैं अब खुश हूँ हाथ पकड़ने वाला कोई पास नहीं 
धीरे धीरे घुटनों के बल, हमने चलना सीख लिया ! 

मैं अब खुश हूँ, तेरे  सिक्के, नहीं चले, बाजारों में !

भूखे रहकर धीरे धीरे, कमा के खाना सीख लिया !

मैं अब खुश हूँ, मुझे ठण्ड में,याद न तेरी आती है !

हाथ जले,पर जैसे तैसे आग जलाना सीख लिया ! 

53 comments:

  1. जा को कुछू न चाहिये ,सो ही साहंसाह!

    ReplyDelete
  2. खुद जीना सीख लिया हर तरह से...... उम्दा ,अर्थपूर्ण पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर वहा वहा क्या बात है अद्भुत, सार्थक प्रस्तुति

    मेरी नई रचना


    खुशबू

    प्रेमविरह

    ReplyDelete
  4. क्या बात है ...

    ReplyDelete
  5. ...वाह क्या भरपूर गज़ल है.....इसमें गुरु की ज़रूरत भी नहीं है !

    ReplyDelete
  6. जब दुनिया ऐंठने लगे तो सीखना ही भला...बहुत सुन्दर कविता..

    ReplyDelete
  7. इस ग़ज़ल में जो बात हमें सबसे ज्यादा अच्छी लगी वो है-"मैं खुश हूँ....."
    :-)

    बहुत सुन्दर ख़याल...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  8. अच्छा किया जो सीख लिया ! वैसे भी, कुछ काम खुद से ही करने होते हैं...चाहे या अनचाहे....
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  9. स्‍वयं संघर्ष करने के विशेष भावों से युक्‍त प्रेरक पंक्तियां।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति |
    आभार ||

    ReplyDelete
  11. इसे कहते है आत्मनिर्भरता :)

    किसी के गीतों का लेकर सहारा
    हम ने भी गुनगुना सीख लिया !

    ReplyDelete
  12. बहुत लाजबाब,लेकिन जहां तक मेरी जानकारी मुताबिक़ बिना मतला कहे पूर्ण रूप से गजल नही कहलाती,,,,

    Recent post: गरीबी रेखा की खोज

    ReplyDelete
    Replies
    1. सक्सेना जी,,बहुत सुंदर मतला लिखा ,,,बधाई ,,,

      यारों की ज़रुरत नहीं हमने मतले को ठीक किया,
      धीरे धीरे, बिना सहारे के, गजल पढ़ना सीख लिया !,,,

      पोस्ट पर आने के लिए शुक्रिया,,,

      Delete
  13. अति उत्तम ग़ज़ल ; कहते हैं - अपना हाथ जगन्नाथ ,अति सुन्दर !
    latest postअनुभूति : कुम्भ मेला
    recent postमेरे विचार मेरी अनुभूति: पिंजड़े की पंछी

    ReplyDelete
  14. मैं अब खुश हूँ, तेरे सिक्के, नहीं चले, बाजारों में !
    धीरे धीरे हमने खुद ही,कमा के खाना सीख लिया !--- सहज पर गहरे भाव की रचना---
    बधाई





    ReplyDelete
  15. अनुभव की अभिव्यक्ति..!

    ReplyDelete
  16. मै खुश हूँ और मैंने जीना सिख लिया है..
    अब तो सब कुछ अच्छा ही होगा...
    बेहतरीन गजल...
    :-)

    ReplyDelete
  17. मैं अब खुश हूँ,मुझे ठण्ड में, याद न तेरी आती है !
    धीरे धीरे हमने खुद ही,आग जलाना,सीख लिया !

    वाह वाह, गुरूओं को गुरू की भला क्या जरूरत? जिंदगी की हकीकत के साथ साथ उत्साह वर्धन करती रचना के लिये बधाई स्वीकार किजिये.

    रामराम.

    ReplyDelete
  18. बहुत उम्दा भाव हैं रचना के सतीश जी।

    ReplyDelete
  19. आपने तो अँधेरे में दिया जलाकर चलन सिखला दिया ....

    ReplyDelete
  20. आपने तो अँधेरे में दिया जलाकर चलने का चलन सिखला दिया ....

    ReplyDelete
  21. अब उफनते ज्वार का आवेग मद्धिम हो चला है
    यह शिला पिघले न पिघले रास्ता नम हो चला है
    अब दरीचे ही बनेंगे द्वार
    अब तो पथ यही है ---दुष्यन्त कुमार ।

    ReplyDelete
  22. आश्रय देने मत आओ तुम मैने जीना सीख लिया है ....। बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  23. जो आत्मनिर्भर हो उसे कोई परेशानी नहीं होती संघर्ष करने में ... बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
  24. धीरे -धीरे सब सीख जाते हैं !
    प्रेरक गीत !

    ReplyDelete
  25. अच्‍छी रचना है। बधाई।

    ReplyDelete
  26. रचना को आशीष दें !
    thanks maere liyae itnae aashish aap ne maang liyae :)
    धीरे धीरे, बिना सहारे, मैंने चलना, सीख लिया !
    अब साथी की नहीं ज़रुरत,मैंने जीना सीख लिया best

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस रचना को गज़ल लिखना नहीं चाहता था अतः रचना शब्द का कई बार बेख्याली में प्रयोग हुआ था , कुछ बदलाव कर अब ठीक है !
      आपके साथ आशीषों का ढेर सदा है स्वीकार कर लेना !
      :)

      Delete
    2. @ रचना जी ,
      शेर पर सहमति !

      @ गज़ल को आशीष,
      अगर आप अपना हुनर यूंही तराशते रहे तो...आशीष वितरकों की राशन दुकाने अपने बंद हो जायेंगी और वो खुल्ले बाज़ार हर हुनरमंद को दस्तयाब होगा :)

      Delete
    3. आशीष वितरकों की राशन दुकाने अपने बंद हो जायेंगी

      ali ji

      kafi dukane band ho hi chuki haen
      lekin paathshala ab bhi uplabdh haen aur tarashnae kaa kaam ek guru sae behtar kaun kar saktaa

      ek guru kaa pataa satish ji ko mae dae chuki hun shaayad ek nayii rachna ki rachna karnae kaa maarg prashath ho sakae aur ek nayi gazal yaa haaikun ki rachna ho jaaye

      Delete
  27. खूबसूरत ख़याल . सारे शेर एक पर एक हैं.

    ReplyDelete
  28. bahut khoob...
    मैं अब खुश हूँ,दरवाजे पर,अब कोई रथवान नहीं !
    धीरे धीरे हमने खुद ही, पैदल चलना सीख लिया !

    ReplyDelete
  29. वाह बहुत खूब

    ReplyDelete
  30. बस हर हाल में खुश रहना ही महत्वपूर्ण है .
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  31. मैं अब खुश हूँ, तेरे सिक्के, नहीं चले, बाजारों में !
    धीरे धीरे हमने खुद ही,कमा के खाना सीख लिया !

    वाह!बहुत बढ़िया ग़ज़ल है.

    ReplyDelete
  32. मैं अब खुश हूँ, मुझे ठण्ड में,याद न तेरी आती है !
    धीरे धीरे हमने खुद ही,आग जलाना,सीख लिया ..


    वाह सतीश जी ... बहुत दूर तक जाने वाला शेर है ... धीरे धीरे खुद के पांवों पे खड़ा होना ही पड़ता है ... उम्दा गज़ल ...

    ReplyDelete
  33. मुदित हुआ मन अपना यह जानकर कि इस जहां में
    खुश रहने के तिकड़म भिड़ाना अब नामुमकिन नहीं। :)

    ReplyDelete
  34. क्या बात है सर आप ने तो बिना गुरु के ही ग़ज़ल लिख्ना सीख लिया :)

    ReplyDelete
  35. ये ख़ुशी सबों को ख़ुशी ही देती है..

    ReplyDelete
  36. आशीष की आवश्‍यकता हर कलम को नहीं होती

    ReplyDelete
    Replies
    1. मगर कहते हैं, गज़ल बनाये गए नियमानुसार लिखनी चाहिए काज़ल भाई और मैं अनाडी हूँ ??
      अब बताओ ??

      Delete
  37. धीरे धीरे बिन तेरे मैंने भी जीना सीख लिया -प्रशस्त रचना भाई साहब

    ReplyDelete
  38. धीरे धीरे बिन तेरे मैंने भी जीना सीख लिया -प्रशस्त रचना भाई साहब

    ReplyDelete
  39. धीरे धीरे, बिना सहारे, हमने चलना, सीख लिया !

    -आप तो खुद महा गुरु, ज्ञानी हो...ताऊ आपके खास दोस्त...फिर तो बचता ही क्या है. :)

    ReplyDelete
  40. उम्दा गज़ल. आपको व नीलम जी दोनों को बधाई.

    ReplyDelete
  41. बिना सहारे के जीना सीख लेना खुद में बहुत बड़ी उपलब्धि है। गज़ल शानदार है भाईजी।

    ReplyDelete
  42. सुंदर. प्रारंभिक पंक्तियाँ ही बहुत प्रेरणादायी हैं.

    ReplyDelete
  43. kisi ne sahi kaha.. upar
    anubhav ki abhivyakti...
    bhetareen sir..

    ReplyDelete
  44. मैं अब खुश हूँ, इंतज़ार में ,अब कोई रथवान नहीं !
    धीरे धीरे हमने खुद ही, पैदल चलना सीख लिया !

    बहुत सुन्दर रचना अभिव्यक्ति ... आभार

    ReplyDelete
  45. हर शेर बेहद अर्थपूर्ण और सकारात्मक सोच लिये है--किसकी उम्मीद,किसका आसरा ---शानदार अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,