Wednesday, May 29, 2013

शेर को,घेर के करी दुर्दशा, कुत्ते करते जिंदाबाद -सतीश सक्सेना

माओ वादियों  से अंत तक  लड़ने वाले, आदिवासी नेता  महेंद्र करमा, जिन्हें बस्तर शेर कहा जाता था, अंततः घेर के, मार दिए गए !

माओवादियों के द्वारा निर्दोषों को मारे जाने पर ,  उन्होंने अपने आपको, मरने के लिए, आतंकवादियों  और बरगलाई सशस्त्र भीड़  के हवाले कर दिया ! उसके बाद इस शेर को, धीरे धीरे मारने के लिए, उनको  चाकुओं से ७५ बार गोदा गया और अंत में गोलियां मार कर लाश पर, विजय नृत्य  किया गया !

यह विजय जुलूस था अपने आपको दलितों का मसीहा कहने वाले माओवादियों का , जिन्होंने अपने विरोध का, इस तरह दमन किया ...

धन्य है यह देश और हम बुजदिल, जो इन्हें दमन के रक्षक के रूप में, पाल रहे हैं ! इस मौत के बाद , इस देश में कोई शेर न जन्म ले, यही उनका मकसद है ! आइये  देखिये इनका जिंदाबाद  जुलूस  !! 


दमन और अन्याय पे बोलें
नाम   कमायें ,  जिंदाबाद !

देश का खाएं,जय दुश्मन की
गद्दारों की ,जय जयकार !
सारे देश में, फ़ैल चुके हैं, 

चीनी भाई, जिंदाबाद !
धन के भूखे,दमन पे रोयें,माओवादी जिंदाबाद !

नफ़रत के सौदागर खुश है
बट पे गोली ,  जिंदाबाद !
देशभक्त को देश में मारो
माओ भक्त हों जिंदाबाद !
सौम्य संस्कारों के कारण, 

देश में नक्सल जिंदाबाद !
आज शराफत के चोले की, धज्जी उड़तीं सरे बाज़ार !


नेता, चोर, हैं  भाई भाई 
फिर भी देश तो ऊपर है 
माओ देश को गोली मारे
चेले , उनसे  ऊपर   हैं !
थू है तेरी सोंच पर प्यारे, 

छक कर खाओ जिंदाबाद !
देश  में करके छेद , खूब आनंद, मनाओ जिंदाबाद !

बेशर्मों पर चर्बी चढ़ती ,
देश न दीखे, जिंदाबाद !
अपना"पेट"नज़र न आये
कहाँ देखते,  भ्रष्टाचार !
दर्द बहुत होता,जब देखें,

गैर के घर में जयजयकार
अपने घर, कब बजे बधाई,  कैसे होगी जिंदाबाद  ?

हिजड़ों के इस देश में प्यारे 
लाश पे नाचो,  जिंदाबाद !
देश में खा कर फूल रहे हो
करो वसूली  , जिंदाबाद  !
धोखे और कपट से घेरा, 
बस्तर के रखवाले को !
शेर को,घेर के करी दुर्दशा , कुत्ते करते जिंदाबाद ! 

42 comments:

  1. दर्दनाम, बस्तर के शेर को मार दिया।

    ReplyDelete
  2. नेता महेंद्र सिंह करमा जी हमेशा माओ वादियों के खिलाफ आवाज उठाते रहे,उनको सादर श्रधान्जली.सरकार को माओ वादियों के खिलाफ कठोर और कारगर कदम उठाना ही चाहिए.बहुत ही सार्थक और सटीक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  3. सार्थक और सटीक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  4. हिजड़ों के इस देश में प्यारे
    लाश पे नाचो, जिंदाबाद !
    देश में खा कर फूल रहे हो
    करो वसूली , जिंदाबाद !
    धोखे और कपट से घेरा, बस्तर के रखवाले को !
    शेर की,घेर के करी दुर्दशा,कुत्ते करते जिंदाबाद !

    क्या कहा जाये? इस देश की यही हालत है. हमने अपने कालेज के दिनों में कलकता का नक्सलाईट मूवमैंट (1969-1970 & 1971 सिद्धार्थ शंकर राय के मुख्यमंत्री बनने तक) चरम पर देखा और भुगता है जिसके दंश आज भी यादों में जिंदा हैं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. एक आदिवासी नेता को मारने पर कुटिल लालवादी कहते है एक 'नेता' की हत्या पर इतनी चिल्लम पों क्यों? लालवादीयों को सनद रहे कि वे खुद भी 'नेता' बने फिरते है। हिंसा प्रतिहिंसा का दुष्चक्र भयंकर है वह तुम्हारी हालत भी भस्मासूर जैसी करेगी। हिंसा को परोक्ष प्रोत्साहन से बचो जैसे को तैसा सिद्धांत लागू करने वालों, समानता चाहने वालों, हिंसा में समानता की स्थापना हुई तो कुछ भी शेष नहीं बचेगा।

    ReplyDelete
  6. नि:संदेह बेहद दर्दनाक..

    ReplyDelete
  7. आपने बस्तर के दर्द को पिरोकर स्व. महेंद्र कर्मा जी को श्रद्धांजली दी आपके बे बेबाक कथन को मेरा प्रणाम *******

    ReplyDelete
  8. नक्सलवाद और राजनीती दोनों ही एक से बढ़कर एक खतरनाक....
    दिल दहलाती हैं ऐसी घटनाएं..
    बेहद सशक्त प्रस्तुति!!
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  9. बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। हल तो निकाला ही जाना चाहिए।

    ReplyDelete
  10. हत्यारे कुत्तों द्वारा नोचे गए एक जन-प्रतिनिधि को इस काव्यात्मक श्रद्धांजलि के लिए आपका धन्यवाद! जब तक इस देश में अपराधी, हत्यारे और उनके समर्थक उन्मुक्त घूमते रहेंगे, हिंसा में कमी की आशा व्यर्थ है।

    ReplyDelete
  11. कभी फोन पे चर्चा करता हूं !

    ReplyDelete
  12. महेंद्र कर्मा जैसे निडर और बहादुर देशभक्त को श्रद्धांजलि के लिए अभिव्यक्त आपके शब्द खाली नही जाएंगे.जब लाखों हृदयों पर एक साथ प्रहार हुआ है तो उनसे फूटने वाली ज्वाला जरूर कुछ न कुछ रंग लाएगी.अफसोस यही है कि राजनीतिबाज इस घटना पर भी अपनी रोटी सेंकने के प्रयास में लगे हैं.

    ReplyDelete
  13. दिल दहलाने वाली घटना.सशक्त प्रस्तुति ,,

    Recent post: ओ प्यारी लली,

    ReplyDelete
  14. जब भी अवसर मिले, छद्म बुद्धिजीवियों को यह कविता जरूर सुनाएँ, इसे एनडीटीवी, आज तक और बीबीसी में भी सुनाएँ। शायद अब भी थोड़ा ईमान बाकी हो तो आपकी कविता पढ़कर पिघलेंगे।
    कविता पूरे हृदय से लिखी गई है और इसमें जनाक्रोश पूरी तौर पर छलका हो। माओवाद का अंत हो। हिंसा का अंत हो।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुझे सुनाने से परहेज़ रहा है हमेशा और फिर मैं इन्हें( मिडिया ) को जानता भी नहीं ...
      समस्त रचनाओं की तरह यह भी समाज को समर्पित है अगर कोई इसका कहीं उपयोग करना चाहे तो वह स्वतंत्र है ...
      आपका आभार !

      Delete
  15. निश्चित यह दर्दनाक घटना है ....सार्थक रचना !

    ReplyDelete
  16. दुर्भाग्यपूर्ण. दुखदाई,और शर्मसार करती त्रासदी.....

    ReplyDelete
  17. उन्हीं कुत्तों के आगे सरकार तो दुम हिलाती है और हम भी अपना दुम ही हिलाते हैं ..

    ReplyDelete
  18. उन्हीं कुत्तों के आगे सरकार तो दुम हिलाती है और हम भी अपना दुम ही हिलाते हैं ..

    ReplyDelete
  19. हिंसा तो कभी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकती ...

    आप अपनी रचनाओं में ही समाधान सुझाने से शुरुआत कर सकते है ...तब तक हम इसे भी 'रांट' की श्रेणी में ही मानेंगे :)

    लिखते रहिये ...

    ReplyDelete
  20. हिंसा का अंत हो।

    ReplyDelete
  21. लानत है उन लोगों पर जिनका जी ऐसे ताण़्डवों से अब तक नहीं भरा !

    ReplyDelete
  22. यही सरकार है रीत है ....वोट दिखा तो सलवा जुडूम से हाथ खींच लिए. बहुत बढ़िया लिखा है.

    ReplyDelete
  23. शर्मनाक और दुखद

    ReplyDelete
  24. बेहद दु:खद एवं दर्दनाक ..........

    ReplyDelete
  25. यह दर्दनाक घटना है ....!!!

    ReplyDelete
  26. दुखद,बेहद दर्दनाक घटना...सार्थक रचना !

    ReplyDelete
  27. गुस्‍सा वाजि‍ब है

    ReplyDelete
  28. कवि की सशक्त हुंकार देश के दुश्मनों ,आत्तातयियों के विरुद्ध -हिंसा स्वीकार्य नहीं!

    ReplyDelete
  29. गहन चिंतन कराती संवेदनशील प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  30. शर्मनाक , बेहद दर्दनाक घटना

    ReplyDelete
  31. कहां गये वे लोग जो देश के लिये कुर्बान हो जाते थे ।

    ReplyDelete
  32. घटना बहुत दुखद है. लेकिन जिस तरह का असंतुलित विकास हम कर रहे है इससे इस तरह की घटनाओं के भविष्य में भी न होने की आशंका समाप्त नहीं हो सकती.

    ReplyDelete
  33. देश का दुर्भाग्य है .... कहीं न कहीं राजनैतिक माहौल ऐसा है जो एक पैरलल सरकार चल रही है ....

    ReplyDelete
  34. आपके इस आक्रोश के आगे सिर झुका है मेरा । यह पीडा और आक्रोश हवा के साथ उडना चाहिये हवा जो प्राणवायु बन कर रक्त के कण-कण में मिलती है । हर जुबां से निकलने चाहिये ये शब्द । हर आँख से बहना चाहिये यह पीडा ।

    ReplyDelete
  35. being honest, aapka recent post padhne k baad laga ki pahle ise padhna chahiye... aapne bahut sahi likha hai... par is peeda, is aakrosh ka ant kaise hoga???
    na to ham naksali hai aur na hi neta... kya sirf likh kr hi shant ho jana sahi hai???
    mai cross question nahi kr rhi hu, bt I just want to kno ki ham kya kr skte hai... Till I kno about myself, I m nt goin to vote now, caz each-n-everyone s CHOR... may b m wrong bt can't get any another ryt way... :(

    ReplyDelete
    Replies
    1. काफी समय बाद आई हो पूजा :)
      तुम्हारा स्वागत है !

      Delete
  36. plzz forgive me, if I wrote anything wrong... n suggest me the ryt way...

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं पूजा ..
      तुमन सही बात रखी है, तुम्हारी शक्तिशाली कलम को स्नेह आशीर्वाद !

      Delete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,