Monday, July 22, 2013

मानव वेश में अक्सर फिरें, शैतान दुनिया में -सतीश सक्सेना

अगर ताकत तुम्हारे पास,सब स्वीकार दुनियां में !
कभी मांगे नहीं मिलते,यहाँ अधिकार, दुनिया में !

फैसलों की घडी आये तो अपनी समझ से लेना,
मदारी रोज लगवाते हैं, जय जयकार दुनिया में !

किताबें खूब पढ़ डालीं,यहाँ कोई न लिख पाया
पर्वत भी लिया करते हैं अब प्रतिकार,दुनिया में !

इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ  शैतान  रहते हैं !
बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !

हमेशा गिरने वाले घर के,अन्दर ही फिसलते  हैं !
तुम्हारे हर कदम पर,ध्यान की दरकार,दुनियां में !

48 comments:

  1. हमेशा की तरह सुन्दर बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ शैतान रहते हैं !
    बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !
    - बिलकुल सही और सटीक बात कही है -ऊपर से भेद करना मुश्किलहै !

    ReplyDelete
  3. badi behatareen gazal padhwayee aap ne, किताबे सब पढ़ीं थीं मगर,यह कोई न लिख पाया !
    पर्वत भी लिया करते हैं,कुछ प्रतिकार, दुनिया में !
    sadar aabhar

    ReplyDelete
  4. अच्छी अभिव्यक्ति!

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  5. बहुत ही गहन कथ्य है. अक्षरश: आज संसार ऐसा ही हो चला है. आपने गजल में बांधकर मनोभावों को बहुत ही सशक्त रूप में प्रस्तुत किया है, बहुत ही लाजवाब.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर गजल -
    दूरभाष पर आपके साथ बातचीत के बाद
    जितना सीख सका सादर प्रस्तुत है

    गुरु पूर्णिमा की बधाइयां
    आदरणीय सतीश जी-

    रचना की कोशिश जारी है |
    रविकर करता तैयारी है |

    लिखता रहता था कुण्डलियाँ--
    गजलों की अब की बारी है |

    ब्लॉग जगत पर कई विधाएं-
    देखो तो मारामारी है |

    अगर खिंचाई कर दे कोई-
    मुँह पर ही देता गारी है |

    लगातार लिखता पढता हूँ-
    रविकर यह क्या बीमारी है-

    ReplyDelete
    Replies
    1. बधाई रविकर जी ,
      आपकी ग़ज़लों का इंतज़ार रहेगा !

      Delete
    2. रविकर जी,
      मैं अपने आपको , रविकर को सिखाने योग्य नहीं समझता ! आप जैसे व्यक्तियों से अभी हम खुद कितने वर्षों सीखेंगे ! आपके द्वारा किया गया कार्य बेहतरीन और आदर योग्य है !

      Delete
    3. रविकर भाई कविवर हैं।

      Delete
  7. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  8. किताबे सब पढ़ीं थीं मगर,यह कोई न लिख पाया !
    पर्वत भी लिया करते हैं,कुछ प्रतिकार, दुनिया में !
    हम जड़ बुद्धि होकर पर्वत को जड़ समझते है लेकिन थोड़े विस्तृत दृष्टिकोण से देखे तो,कण कण में उसी परमात्मा की उर्जा काम कर रही है पर्वत भी प्रतिकार करते है प्रतिसाद भी देते है !
    बढ़िया रचना है …

    ReplyDelete
  9. किताबे सब पढ़ीं थीं मगर,यह कोई न लिख पाया !
    पर्वत भी लिया करते हैं,कुछ प्रतिकार, दुनिया में !

    जे… बात!!!

    ReplyDelete
  10. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति है सतीश जी !बधाई !
    latest post क्या अर्पण करूँ !
    latest post सुख -दुःख

    ReplyDelete
  11. यह दुनिया ऐसी क्यूँ हो गयी है...

    ReplyDelete
  12. आदमी के मिले कितने प्रकार दुनिया में।

    ReplyDelete
  13. वाह
    अगर ताकत तुम्हारे पास,सब स्वीकार दुनियां में !
    कभी मांगे नहीं मिलते, यहाँ अधिकार, दुनिया में !

    फैसले जब,कभी लेना ,तो अपनी बुद्धि से लेना !
    मदारी रोज लगवाते हैं ,जय जयकार दुनिया में !

    ReplyDelete
  14. हमेशा गिरने वाले घर के , अन्दर ही फिसलते हैं !
    तुम्हारे हर कदम पर,ध्यान की दरकार,दुनियां में
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर सटीक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ शैतान रहते हैं !
    बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !..

    आज के इंसानों की हकीकत ... समाज को आइना दिखाता शेर है ...

    ReplyDelete
  17. इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ शैतान रहते हैं !
    बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !....बहुत सुंदर सटीक अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  18. शानदार और धाँसू

    ReplyDelete
  19. मानव रूप में, , कुछ शैतान रहते हैं !
    .... खूबसूरत रचना......

    शब्दों की मुस्कुराहट पर .... हादसों के शहर में :)

    ReplyDelete
  20. बधाई के साथ मेरा आभार स्वीकार भी करें। इस ग़ज़ल मुझे आज तो खूब प्रभावित किया। जिसकी जैसी मनःस्थिति होती है वैसी ही छूती है अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  22. आपकी इस शानदार प्रस्तुति की चर्चा कल मंगलवार २३/७ /१३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है सस्नेह ।

    ReplyDelete
  23. खुबसूरत अभिव्यक्ति!...भाई जी !

    ReplyDelete
  24. बहुत ही सुंदर, मैंने भी एक कोशिश की है गजल लिखने की,पहली गजल लिखी है, आप भी यहाँ पधारे


    यहाँ भी पधारे
    गुरु को समर्पित
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  25. चौथे अशार को पढ़ते वक़्त आपके और अपने एक खास मित्र का ख्याल क्यों आया कहना मुश्किल है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः।
      गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः।।

      Delete
  26. इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ शैतान रहते हैं !
    बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !
    .....बहुत सही ..बहुत मुश्किल पहचान होती है इनकी..

    ReplyDelete
  27. फैसले जब,कभी लेना ,तो अपनी बुद्धि से लेना !
    मदारी रोज लगवाते हैं ,जय जयकार दुनिया में !

    क्या बात

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर गजल … वाकई दुनिया मक्कारों से भरी पड़ी है

    ReplyDelete
  29. इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ शैतान रहते हैं !
    बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !

    बहुत सुन्दर बात कही अपने …………!

    ReplyDelete
  30. पहले की ही तरह ज़ोरदार

    ReplyDelete
  31. अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  32. वाह बहुत खूब जी

    ReplyDelete
  33. वाह....क्या बात है

    ReplyDelete
  34. आखिरी पंक्तियाँ तो सबसे बेमिसाल.....

    ReplyDelete
  35. किताबे सब पढ़ीं थीं मगर,यह कोई न लिख पाया !
    पर्वत भी लिया करते हैं,अब प्रतिकार, दुनिया में !

    इसी बस्ती में, मानव रूप , कुछ शैतान रहते हैं !
    बड़े सजधज सुशोभित रूप में मक्कार दुनियां में !

    बेहद सुंदर सच्ची गज़ल । क्या बात है !

    ReplyDelete
  36. राजनीति के धंधे बाजों पर अच्छा कटाक्ष

    ReplyDelete
  37. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 27/07/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  38. सावन के मौसम में राग भी रस भरे आलापे, तो ज्यादा जचेंगे ..

    जारी रखिये ....

    ReplyDelete
  39. व्‍यवस्‍थापकों के बारे में कड़वा सच।

    ReplyDelete
  40. बहुत ही उम्दा लेखन |
    शब्द शब्द सटीकता और यथार्थ |

    ReplyDelete
  41. फैसले जब,कभी लेना ,तो अपनी बुद्धि से लेना !
    मदारी रोज लगवाते हैं ,जय जयकार दुनिया में !

    क्या बात बहुत ही उम्दा लेखन |

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,