Tuesday, August 6, 2013

ये लड़कियां -सतीश सक्सेना


सावन में, हरियाली तीजों का त्यौहार,लड़कियों के लिए बहुत महत्व रखता है  ! हरियाली तीज अथवा कजली पर विवाहित लड़कियों को घर (जो विवाह बाद ही समाज द्वारा, मायके में बदल दिया जाता है ) बुलाने का रिवाज़ है , और बेटियों को भेंट आदि दी जाती हैं !
विवाह के बाद, अक्सर बेटी,सावन में अपने पिता और भाई की तरफ देखती है कि सावन में, उसके घर से  पिता अथवा  भाई ,उसे अपने घर ले जाने ,उसकी ससुराल आएगा !

आज के माहौल में, अधिकतर घरों में लड़कियों को वह स्नेह नहीं मिल पाता, जिसकी वे हकदार होती हैं , इसके पीछे अक्सर ननद भाभी के मध्य उत्पन्न कडवाहट ही अधिक होती है ! दुखद है कि माँ बाप के कमज़ोर होते होते, यह तेजतर्रार लड़कियां, धीरे धीरे अपने घर (मायके)  से बिलकुल कट सी जाती हैं !

अक्सर लड़कियां,अपने आपको, अपने भाई का सबसे बड़ा हितचिन्तक समझती हैं , नतीजा अनजाने में , बहु के प्रति, माँ और बेटी की आपस में खुसुर पुसुर शुरू हो जाती है, यही कडवाहट की पहली वज़ह होती है ! कोई भी लड़की यह नहीं चाहती कि उसके परिवार में ननद की दखलंदाजी हो, नतीजा एक रस्साकशी की बुनियाद, पहले दिन से ही, उनके घर में रख जाती है , और भुक्त भोगी होता है पति, जो बेचारा यह तय ही नहीं कर पाता कि वह क्या करे !

लड़कियों को चाहिए कि शादी के बाद वे,अपनी भाभी को, भाई से अधिक सम्मान , दिल से दें, मायके में अनाधिकार हस्तक्षेप न करके, अपने नए घर की परवाह करें और उसे संवारने में अपना समय लगाएं न कि पूरे जीवन के लिए अपनी  भाभी के घर में लड़ाई की नींव रखें , ऐसा होने पर यकीन करें, भाभी इस कष्ट को कभी भुला न पायेगी !याद रखने की आवश्यकता है कि कोई लड़की अपने ऊपर हर समय नज़र रखा जाना पसंद नहीं करेगी ! 

                  यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि नयी बहू, को अधिक देर तक उसके हको से वंचित नहीं किया जा सकता और समझदार माता पिता कभी भी , आने वाली बच्ची पर अपनी इच्छाएं नहीं लादते बल्कि अपनी बेटी से अधिक उसे पहले दिन से प्यार करते हैं ! 

                  और आज जब मैं किसी बहिन को, अपने ही घर के ड्राइंग रूम में, मेहमान की तरह बैठे देखता हूँ तब मुझे बेहद तकलीफ होती है  !

अगर यह विषय अच्छा लगा हो तो यह भी पढ़ें ...क्लिक  करें  

54 comments:


  1. और आज जब मैं किसी बहिन को, अपने भाई के ड्राइंग रूम में, मेहमान की तरह बैठे देखता हूँ तब मुझे बेहद तकलीफ होती है !

    ह्रदय स्पर्शी !!!

    ReplyDelete
  2. बात आपकी सही है...पर आपने सिर्फ एक पहलू पेश किया...कभी कभी घर में आने वाली चतुर लड़कियाँ (बहुएँ) अपने व्यवहार से यह जतलाने में सफल रहती हैं कि अब यह तुम्हारा घर नहीं...ननद-भाभी दोनों समझदार हों तो रिश्ता एक दोस्त की तरह मीठा भी होता है|

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुरुआत में शायद ही कोई लड़की ऐसा अहसास दिला पाए , हाँ कुछ साल गुजरने के बात तो यह अक्सर ही होता है ! उस समय यह लड़की भूल जाती है कि वह भी किसी भाई की बहिन है !

      Delete
  3. स्नेह से बने इन रिश्तों में हर पड़ाव पर परिस्थितयां एक सी नहीं रहती .... संतुलन बना रहे इसके लिए समझ और सहयोग ज़रूरी है ....

    ReplyDelete
  4. सतीश भैया ....आज कल रिश्तों में प्यार पहले से ज्यादा है...बच्चे बहुत समझदार है ...चाहता कोई भी नहीं पर ऐसा फर्क वक्त के साथ अपने आप आ जाता है...जिस पर किसी का बस नहीं चलता |

    ReplyDelete
  5. सतीश भैया ....आपकी बात सही है...ह्रदय स्पर्शी.....

    ReplyDelete
  6. सही
    समय - समझ - सहयोग
    संभाल सकता है सब

    ReplyDelete
  7. हर तरह के लोग हैं...हर तरह के रिश्ते....
    हाँ रिश्तों में कडवाहट चुभती तो है....
    माँ बाप के चले जाने पर भाई बहनों में दूरियां न आये तो बात है...सच कहा...
    मन को छू जाती हैं आपकी बातें...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  8. बिलकुल सही कहा

    ReplyDelete
  9. नई रोशनी का असर है अब घरों में वह पहलेवाली तना-तनी नहीं रहती.मन में पालने की घुटन से मुक्ति और खुल कर कह देने से भी स्वच्छता बढ़ गई है.अधिक समय किसी के पास नहीं ,थोड़े समय साथ रहना और खुश रहना स्वभाव बनता जा रहा है .

    ReplyDelete
  10. मुझे लगता हैकि आपके सुझाव बहुत ही सार्थक और जमीनी हकीकत है।
    सभी तक ये संदेश पहुंचे और अमल भी हो। कहानी घर घर की।
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  11. जितना प्रेम मन में होता है, वह सब बाँट भी दिया जाये तब भी प्रेम लबालब भरा होता है, अच्छी और सच्ची सलाह।

    ReplyDelete
  12. सतीश जी मुझे लगता है कि‍ आजकल बेटि‍यां माता पि‍ता से अपेक्षाकृत अधि‍क जुड़ी रहती हैं बनि‍स्‍पत बीते हुए कल के

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूर्ण सहमत .

      Delete
    2. सहमत हूँ और उन्हें जुड़ना भी चाहिए , मगर उतना ही अपनी भाभी के नज़दीक होना चाहिए ! एक बार घर में बहू/भाभी आने के बाद, घर का हर छोटे बड़े फैसले में उसकी राय लेना आवश्यक है !
      इससे नयी बहू जिम्मेवार बनेगी और वह अपने घर को " अपना घर " आसानी से समझ सकेगी !

      Delete
  13. @और आज जब मैं किसी बहिन को, अपने भाई के ड्राइंग रूम में, मेहमान की तरह बैठे देखता हूँ तब मुझे बेहद तकलीफ होती है !
    मार्मिक लगी यह पंक्तियाँ …. अक्सर आप अपने बहुत से पोस्ट में पारिवारिक मूल्यों की बात करते है मुझे बहुत अच्छा लगता है ! लेकिन आज समय बदल गया है जाहिर सी बात है सब कुछ तेजी से बदल रहा है ! आज पहले की अपेक्षा सास, ननद जिनको एक विलन के रूप में देखा जाता है आज अपने बहु के प्रति सास का, अपने भाभी के प्रति ननद के रिश्ते में काफी सुधार हुआ है या फिर हालात ने ही सब कुछ समझा दिया है । हर तीज त्यौहार पर मायके जाने की बजाय कभी किसी त्यौहार पर अपने भाई भाभी को भी अपने घर बुला ले ननद तो भाभी भाई को भी अच्छा लगेगा ! चार बार उनसे तोहफे लेती है तो कभी एखाद बार अपनी भाभी को भी अच्छा सा अपने ऐपत के अनुसार तोहफा भी दे तो उनको अच्छा लगेगा … कहने का मतलब है आज हर रिश्ता व्यावहारिक बन गया है प्यार एक तरफ़ा नहीं चल रहा है, दोनों और से लेन देन चल रहा है … बेटी मायके जाकर मै तुम्हारी मेहमान हूँ यह न जताते हुए घर के सभी सदस्यों से घुल मिल कर पहले की तरह आत्मीयता से पेश आये , अगर इस प्रकार की छोटी छोटी बातों का ध्यान रखकर किसी के व्यकिगत जीवन में दखल न देते हुए चले तो तभी रिश्ते मधुर बने रह सकते है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने बहुत बढ़िया सुझाव दिया है ..
      महतवपूर्ण यही है कि आशा और उम्मीदें न रखकर एक दुसरे के प्रति स्नेह मन से उत्पन्न हो , तभी यह रिश्ते सफल हो सकते हैं !
      माता पिता की सक्रियता और खुली द्रष्टि बेहद आवश्यक है , एक दो साल के बाद सब कुछ सामान्य हो जाता है !

      Delete
  14. जलकुकड़ा-पना तो व्यक्तिगत ऐब है, इसका किसी लिंग विशेष ताल्लुक नहीं है. जिंदगी लग जाती है बचपना जाने में साहब .. :)

    लिखते रहिये

    ReplyDelete
  15. जो प्रेम से भरा होगा वह सबको समान रूप से प्रेम बांटता है, यदि कोई स्वयं ही दुखी हो तो उससे उम्मीद नहीं करनी चाहिए...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बदकिस्मती से प्रेम भरे लोग बहुत कम हैं यहाँ , सिर्फ एक दुसरे के प्यार पर शक से भरे लोग हैं !
      काश बिना शक प्यार की पहल हो !!

      Delete
  16. अपना अपना स्वभाव है जिसने झगड़े करवाने हों वो कहीं भी करवा देती /देते हैं.
    आज कल लडकियाँ/बहुएँ अपने मायके आने- जाने उनकी खैर खबर लेते रहने में उनसे लगातार जुड़े रह सकने में अधिक स्वतंत्र हैं.
    अब वो समय कहाँ कि माँ-पिता के घर आने जाने के लिए सावन का इंतज़ार हो...जब जिसे नौकरी से /घर से अवकाश मिल सकता है तब जाती रहती हैं,न्यूक्लियर परिवार में रहते हुए यह स्वतंत्रता अधिक है.
    आप ने जो कुछ लिखा वह अपनी जगह दुरुस्त है..ननद की अनावश्यक दखलंदाज़ी भाई के घर में अपना महत्व कम करा सकती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वभाव बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है काश उसे नतीजे की चिंता रहती ..

      Delete
  17. betiyon ko paraya dhan kehnaa band kardae wo mehmaan nahin banegi
    har matbhedh kaa karan insecurity hotaa haen wo khatam ho jaaye sab theek hogaa

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने रचना !
      सहमत हूँ !

      Delete
  18. अक्सर यह ज्यादातर घरों की कहानी है. जब तक आपकी बात समझ आये तब तक बहुत देर हो चुकी होती है यानि कडवाहट इतनी घुल जाती है कि ताउम्र बनी रहती है, बहुत ही उपयोगी आलेख.

    रामराम.

    ReplyDelete
  19. लेख की समस्‍याएं वाकई दुखदायी हैं, ननद और भाभी के बीच आदर्श स्थिति होनी चाहिए।

    ReplyDelete
  20. हर एक का स्वभाव अलग होता है और समझ भी । कई बार परिस्थितियाँ कब और कैसे बिगड़ती हैं पता ही नहीं चलता ... सबसे बड़ी बात कि ताली कभी एक हाथ से नहीं बजती ...

    विचारणीय लेख ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह ...
      मगर सुधरने की गुंजाइश बनी रहती है !

      Delete
  21. शुरू की कुछ पंक्तियाँ पढ़कर एक पुराना गीत याद आ गया..
    'अब के बरस भेजो... भैया को बाबुल...'
    आपके विचार प्रशंसनीय हैं....! बात बस यही है... कि ताली दोनों हाथों से बजती है! और विडम्बना ये.... कहीं एक हाथ कड़ा पड़ जाता है... तो कहीं एक मुलायम...! काश! प्रेम-भाव,क्षमाशीलता, understanding दोनों तरफ हो... तो हर आँगन में खुशियाँ चहकेंगी... :)

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  22. यह रिश्ते ही ऐसे होते है कि कब कहां क्या और क्यों हो जाता है निश्चय करना ही मुश्किल हो जाता है। कभी गैरसमझ, कभी परिस्थिति, कभी प्रेम तो कभी ईगो ही कारण बन जाता है।

    ReplyDelete
  23. भाई के घर में बहन मेहमान बन जाय, तो ये बात मन को दूखी करती है,,

    RECENT POST : तस्वीर नही बदली

    ReplyDelete
  24. भावपूर्ण पोस्ट, इस पोस्ट में मेरी माँ का दर्द भी छिपा है। धीरे-धीरे वो इतनी बेदखल कर दी गई मायके से कि बुढ़ी माँ के स्मृति लोप होने पर उन्हें तीज त्योहार में बुलाया भी नहीं गया, मामा चाहते थे लेकिन मामी के विवाद खड़ा करने के कारण उन्होंने ऐसा नहीं किया। इस साल मेरी नानी भी नहीं रही। अगर अंतिम तीज त्योहार मेरी माँ नानी के साथ बिता लेती तो उन्हें जीवन भर संतोष रहता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उफ़ ..
      आपकी चंद लाइनों ने, इस पोस्ट को पूरा कर दिया भाई ! इस घटना से बड़ा दर्द किसी को और क्या हो सकता है कि वे अपने आखिरी समय तक वह चौखट नहीं देख पायीं जो कभी उनकी अपनी थी !
      एक महिला ने दूसरी को घर से बेदखल कर दिया !
      बेहद दर्दनाक !

      Delete
    2. आपकी टिप्पणी दिल छू गई सतीश जी, मैं इस पर कुछ कह नहीं सकता।

      Delete

  25. अत्यन्त हर्ष के साथ सूचित कर रही हूँ कि
    आपकी इस बेहतरीन रचना की चर्चा शुक्रवार 09-08-2013 के .....मेरे लिए ईद का मतलब ग़ालिब का यह शेर होता है :चर्चा मंच 1332 .... पर भी होगी!
    सादर...!

    ReplyDelete
  26. दिशा निर्देशक पोस्ट समाज सापेक्ष बहुत सार्थक लेखन लिए आते हैं सतीश भाई।

    ReplyDelete
  27. प्यार करो नित बहुओं (कन्या )को भी यह कहते हैं मेरे गीत।

    ReplyDelete
  28. आपने बिलकुल सही कहा, बल्कि थोडा-बहुत भी हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। हर इक कि अलग सोच होती है, जो एक के लिए सही वह दूसरे के लिए गलत होता ही है, इसलिए हर इक को अपनी सोच को अपने परिवार तक ही सीमित रखना अधिक श्रेयकर है! खुशियों को समेटकर रखने के लिए यह बेहद आवश्यक है! वर्ना खुशियाँ फट से फुर्र हो जाती हैं!

    ReplyDelete
  29. सतीश भाई,
    भाभी-ननद के रिश्ते कैसे है, ये माता-पिता पर भी बहुत निर्भर करता है...अक्सर माता-पिता (खासकर माताएं) उम्मीद करती हैं कि उनकी बेटियां कुछ-कुछ अंतराल के बाद मायके आती रहें...लेकिन बहू अगर ऐसा करती है तो कहा जाता है कि इसे मायके जाने से ही फुर्सत नहीं मिलती...फिर-फिर बात में बेटी की तारीफ़ करते रहना और बहू की उपेक्षा करना भी ननद-भाभी के रिश्तों में खिंचाव उत्पन्न करता है...ज़रूरत बस बहू को भी बेटी की तरह समझने की होती है...वही बहू को भी ससुराल को मायके जैसा ही अपना घर मानते हुए रिश्तों का मान रखना चाहिए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  30. जीवन के लघु पथ कटान में
    रिश्तों के सब तार बह गये।

    हम नदिया की धार बह गये।

    ReplyDelete
  31. सटीक !
    मायके से मिले संस्कार और ससुराल से मिले प्यार
    हो जाती है दो परिवारों की नैय्या भवसागर पार !

    ReplyDelete
  32. भाई बहन का प्रेम और ससुराल मायके के बीच डोलती बहन को सीख देती और लाड मनुहार सहित त्यौहार के रंग में रंगी पोस्ट के लिए बधाई

    ReplyDelete
  33. सार्थक सामयिक पोस्ट
    दिल को छूता आलेख
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  34. सतीश भाई मजाक नहीं दिल से कह रहा हूं दिल्ली में एक यूनाईटेड फैमैली काऊन्सिलिंग सेंटर खोल लें -जनसेवा के साथ साथ जीवन की संतुष्टि का मेवा मुफ्त !
    आप डिफरेंट हो !

    ReplyDelete
  35. बहुत ही अच्छी आलेख.... हर ननद भाभी कोशिश करे तो उनके रिश्ते में आई दरार कम हो सकती है ....

    ReplyDelete
  36. behad sanjidgi se bahi behatareen prastuti, vakayee me gazab ki post, badhayee bhayee ji,

    ReplyDelete
  37. बहुत खूब..ऐसे काम कुछ ही लोगों से होते हैं...

    ReplyDelete
  38. सुंदर विचार! छोटी-छोटी बातें कब बड़ी फांस बन जाती हैं पता ही नहीं लगता। मन निष्कलुष हो तो मैल धुलते भी पल भर ही जाता है।

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर और शिक्षा प्रद आलेख , सामयिक और ज्ञानवर्धक भी .

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,