Sunday, August 4, 2013

कैसे कैसे चीप मिनिस्टर -सतीश सक्सेना

जब  से आये  हैं , सत्ता में ,
इनके कुत्तों के दिन पलटे
चपरासी,ड्राईवर औ माली 
झाड़ू  वालों के दिन पलटे !
इनके नाम पर दस प्रोपर्टी,
रखते अपने पास मिनिस्टर !
बीस पुश्त खाएं , घर बैठे ,इतना जोड़ के बने युधिष्ठर !

डायरेक्टर होर्टीकल्चर का 
पानी लगा रहा पौधों  में  !
जिले के एसपी को भेजा है   
बच्चों को, स्कूल से लाने  !
सुबह से दरवाजे पर बैठे ,
हाथ में लेकर बैग,कलक्टर !  
चरणधूल माथे पर लेकर, तब अपने को कहें कलक्टर ! 

डी एस पी की डयूटी पहली 
मैडम को , बाज़ार कराएं  !
वाइस चांसलर कहाँ खड़ा 
है,जो बोले हैं,पास कराये !   
बड़े व्यस्त सीएमओ सर्जन,
डॉग की सेवा करें डाक्टर ! 
बिना दर्द काँटा खींचा है, देते सार्टीफिकेट मिनिस्टर !

पहले दिन  व्यापारी आये ,
साथ नकद नारायण लाये  !
जो अधिकारी है,नालायक 
उसे निलंबित,अभी कराये !
जैसे चाहो खूब कमाओ ,
जबतक खुश हो रहे मिनिस्टर !
बड़े बड़ों को सीधा करते , जब गुस्से में रहें,  मिनिस्टर !

जो भी अधिकारी आए हैं  
दल्लों से परिचय पाये हैं !
हाथ मिलाएं,पहले इनसे,
तभी वहां , कुर्सी पाए हैं ! 
शहर,गाँव,कस्बे का शासन , 
चमचों से ही,चले  निरंतर !
अफसर वही करेगा शासन,जिस पर रखते हाथ मिनिस्टर !

बड़े लोग , दल्ले बनवाये ,
चमचे,व्यापारी कहलायें !
जातिधर्म पर काबू है,तो 
कसबे का सरदार कहाए !   
जो धन आएगा पब्लिक से ,
करते हिस्से बाँट मिनिस्टर !
हर विभाग से पैसा पंहुचे ,खुश  रहते हैं, चीप  मिनिस्टर  !

46 comments:

  1. पढ़ने में हरदम प्रथम, उसको रहा गुमान |
    बुड़बक सबको समझता, हमको भी नादान |
    हमको भी नादान, किया बी टेक था उसने |
    बना आई एस वीर, नहीं देता था घुसने |
    पलटा रविकर भाग्य, विधाता नेता हूँ हम |
    आई यस करे प्रणाम, कहाँ पढ़ने में हर दम ||

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  3. पूरा खाका खीच दिया...एक एक शब्द अक्षरशः सत्य...सटीक कहानी चीप मिनिस्टर कीः)

    ReplyDelete
  4. सब कुछ बड़ा चीपेस्‍ट हो रहा है इन दिनों यूपी में
    सजा पा रहा अधिकारी जो ईमानदार है ड्यूटी में

    ReplyDelete
  5. अभी तो पिक्चर शुरू ही हुई है क्लाइमेक्स तो अभी तीन-चार साल दूर है....

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन...............
    सटीक वर्णन.....................

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. इसी लिए तो हमारे देश की ये हालात हैं.... बढ़िया पोस्ट ...

    ReplyDelete
  8. चीप मिनिस्टर के सत्ता में आने के बाद इनके प्रिय चाचाश्री ने समाजवादी लग्गु-भग्गुओं और चमचे अधिकारियों को नसीहत दी थी कि चोरी बेशक करो लेकिन डाका डालने से बचना...ये बात अलग है कि ये चाचाश्री खुद की जगह भतीजे के सीएम बनने से शुरू में बड़े जले भुने थे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब...बेहतरीन...............सटीक....................

    ReplyDelete
  10. सच है, यही असल तस्वीर
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  11. आँख खोलने वाला गीत.

    पैसा पैसा करते करते , मर जायेंगे इक दिन मिस्टर,
    रह जायेंगे भरे हुए ये , पैसे के सब यहीं कनस्तर।
    साथ भी ना जा पाएंगे , कोठी , बंगला , धन दौलत ,
    रह जायेगा अंत सफ़र में, चार कन्धों का बना बिस्तर।

    ReplyDelete
  12. बड़े लोग , दल्ले बनवाये ,
    चमचे,व्यापारी कहलायें !
    जातिधर्म पर काबू है,तो
    कसबे का सरदार कहाए !
    जो धन आएगा पब्लिक से ,करते हिस्से बाँट मिनिस्टर !
    हर विभाग से पैसा पंहुचे ,खुश रहते हैं, चीप मिनिस्टर !

    बहुत ही सटीक और सामयिक रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. आक्रोश तो सभी के दिलों मे है पर मंजिल किधर से मिलेगी, यह नही सूझता.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. सुन्दर व्यंग्य चीप मिनिस्टरों पर
    सादर!

    ReplyDelete
  15. ऐसा तेवर जनकवि नागार्जुन में ही हुआ करता था . जब वे कहते थे :
    पांच पूत भारतमाता के, दुश्मन था खूंखार, गोली खाकर एक मर गया, बाकी बच गए चार !!
    चार पूत भारतमाता के, चारों चतुर-प्रवीन, देश निकाला मिला एक को, बाकी बच गए तीन !!
    तीन पूत भारतमाता के, लड़ने लग गए वो, अलग हो गया उधर एक, अब बाकी बच गए दो !!
    दो बेटे भारतमाता के, छोड़ पुरानीटेक, चिपक गया एक गद्दी से, बाकी बचगया एक !!
    एक पूत भारतमाता का, कंधे पर था झंडा, पुलिस पकड़ कर जेल ले गई, बाकी बच गया अंडा !!

    ReplyDelete
  16. पहले दिन व्यापारी आये ,
    साथ नकद नारायण लाये !
    जो अधिकारी है,नालायक
    उसे निलंबित,अभी कराये !
    जैसे चाहो खूब कमाओ ,जबतक खुश हो रहे मिनिस्टर !
    बड़े बड़ों को सीधा करते , जब गुस्से में रहें, मिनिस्टर !

    आज येही सब तो हो रहा है,

    ReplyDelete
  17. यही समय है चेतने का !

    ReplyDelete
  18. क्या कहने !
    इसे'सामायिक' विषय पर बढ़िया कविता .

    ReplyDelete
  19. जो भी अधिकारी आए हैं
    दल्लों से परिचय पाये हैं !
    हाथ मिलाएं,पहले इनसे,
    तभी वहां , कुर्सी पाए हैं !
    शहर, गाँव, कसबे का शासन , चमचों से ही , चले निरंतर !
    अफसर वही करेगा शासन,जिसपर रखता हाथ मिनिस्टर

    करारा व्यंग सुप्रभात संग बधाई और प्रणाम स्वीकारें

    ReplyDelete
  20. Gud one uncle... but ek cheez to rah hi gai, jis officer ki gal5i nahi nikaal pate uska transfer bhi bekaar jagah karwa dene ki dhamki dete hai aur officer nahi maanta to karwa bhi dete hai... aur jo officer ye sari baatein nahi maanta usse to apni jaan se bhi haanth dho baithna padta hai...
    But, you wrote it amazingly...

    ReplyDelete
  21. कैसे कैसे करते खूब पोल खोली।
    आजकल व्यवस्था यही है देश की !

    ReplyDelete
  22. सेवा के नाम पर
    लुट,अवनिती
    जिसमे अब
    नहीं बची कोई नीति
    वही नेता,राजनीती ..

    चीप शब्द का अच्छा प्रयोग किया है !

    ReplyDelete
  23. भड़ासु-मय :)

    ReplyDelete
  24. सटीक और सामयिक व्यंग्य!! शुभकामनाएं…

    ReplyDelete
  25. सामायिक' विषय पर बढ़िया सटीक,कविता.

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया साटीक व्यंग..

    ReplyDelete
  27. वाह…………चीप मिनिस्टर वाह

    ReplyDelete
  28. सटीक और सच्चा चित्र खींचा है इन सभी चीप नेताओं का ... खुद भी चीप और सभी को चीप बना रहे हैं ... पता नहीं कब देश में बदलाव की बयार आएगी ...

    ReplyDelete
  29. शब्द कितने प्रभावशाली होते हैं...
    एक ही काफ़ी है चमत्कार उत्पन्न करने के लिए!
    So well used: "चीप" मिनिस्टर
    Awesome!

    ReplyDelete
  30. बहुत ही सुन्दर और सामयिक रचना |भाई सतीश जी आभार |

    ReplyDelete
  31. ये सुधरें तब सब सुधरेंगे।

    ReplyDelete
  32. आपकी यह पोस्ट आज के (०५ अगस्त, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - कब कहलायेगा देश महान ? पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  33. bahut satik aur sachchai batata geet
    aapko badhai
    rachana

    ReplyDelete
  34. बहुत लाजबाब पोस्ट
    एक बात ,
    सुतुर्गमुर्ग और मोटी खाल वाले को
    कुछ भी कह लो कोई फर्क नहीं पड़ता

    ReplyDelete
  35. बहुत लाजबाब पोस्ट
    एक बात ,शुतुर्गमुर्ग और मोटी खाल वाले को कुछ भी कह लो कोई फर्क नहीं पड़ता

    ReplyDelete
  36. सुन्दर ,सटीक और प्रभाबशाली रचना। कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  37. जो धन आएगा पब्लिक से ,करते हिस्से बाँट मिनिस्टर !
    हर विभाग से पैसा पंहुचे ,खुश रहते हैं, चीप मिनिस्टर !


    सही ही तो है आज हर नेता चीप ही तो हो गया है ...अपनी राजनीति की दुकान चलाने के लिए तरह तरह के प्रलोभन जो देता है ...:)

    ReplyDelete
  38. heheheh bejod... jabab nahi sir aapka
    Eid Mubarak..... ईद मुबारक...عید مبارک....

    ReplyDelete
  39. आपकी इस प्रस्तुति को शुभारंभ : हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 1 अगस्त से 5 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete


  40. जब से आये हैं , सत्ता में ,
    इनके कुत्तों के दिन पलटे
    चपरासी,ड्राईवर औ माली
    झाड़ू वालों के दिन पलटे !
    इनके नाम पर दस प्रोपर्टी,रखते अपने पास मिनिस्टर !

    कैसे कैसे चीप मिनिस्टर !!


    वाह !
    जवाब नहीं आपका आदरणीय सतीश जी
    आपकी रचनाओं में आपका रंग बोलता है हमेशा...


    बधाई और शुभकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,