Tuesday, October 22, 2013

करवाचौथ पर भूखे प्यासे,कैसा लोकाचार किया - सतीश सक्सेना

जीवन भर तपते मरुथल को, नंगे पैरों पार किया !
रंजिश अपने द्वारे पाकर,उसका भी सत्कार किया !

क्या देखोगे ज़ख्म हमारे, कहाँ कहाँ पर चोट लगी !
जैसा मौका जिसने पाया , उसने वैसा वार किया !

पशुपक्षी और असहायों को गले लगाके जीवन में   
हमने सारे नियम तोड़कर,कैसे वर्जित प्यार किया !

लोग यहाँ पर,जुआ खेलकर,लक्ष्मी पूजा करते हैं !  
आधे जीवन  रहे  मुसद्दी, आधे  हाहाकार किया !

पूरे जीवन रो कर हंस कर , जैसे तैसे काट लिया,
करवाचौथ पर भूखेप्यासे, कैसे लोकाचार किया !

24 comments:

  1. सच ही है, क्या करना था और क्या करते हैं हम।

    ReplyDelete
  2. bahut badhiya ...saari batten sacchi .....

    ReplyDelete
  3. सब बता दिया :) बहुत खूब !

    ReplyDelete
  4. अपना प्यार अगर सच्चा है, पूरा साथ निभायेंगे
    करावाचौथ पर भूखे प्यासे, कैसा लोकाचार किया !

    प्यार अगर सच्चा होता तो किसी दिखावे की जरुरत ही नहीं थी,
    एक जनम भी ठीक से निभा दे तो बहुत होता है लेकिन सात जन्मों के लिए ईश्वर से मांग लिया जाता है :) कितनी अविश्सनीय सी बात लगती है न ? इस आधुनिक युग में फेक, लंगड़ी परंपराओं को हम सिर पर ढो कर लोकाचार ही तो निभा रहे है ! सभी सटीक पंक्तियाँ लगी मुझे !

    ReplyDelete
  5. वाह.....सटीक.......
    अब खा पी कर किया जाय व्रत :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. पूरा साथ निभाएंगे ही , व्रत करके भी :)

    ReplyDelete
  7. khub khayenge karwachauth manayenge :)
    fir sahi rahega na sir :)

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  9. "कर्तव्य सभी दे दिए हैं हमको पर अपना अधिकार रखा ।" सटीक शब्द -चयन ,सुन्दर भाव ।

    ReplyDelete
  10. वाह..... बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. वाह वाह ,,बहुत सुंदर रचना है सतीश जी

    ReplyDelete
  13. एक दिन के लिये ही सही , पुरुष भी देवता बन जाते हैं ! :)

    ReplyDelete
  14. मन तो न जाने कितनी बार भूखा प्‍यासा रहता है यदि प्रेम बताने के लिए तन एक दिन भूखा प्‍यासा रह जाएगा तो बिगड़ जाएगा। वैसे कविता अच्‍छी है।

    ReplyDelete
  15. sundar rachanabivyakti ... abhar

    ReplyDelete
  16. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-24/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -33 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  17. वैसे तो करवाचौथ भी दिखावा नहीं ... प्रेम का एक प्रतीक ही है ...
    पर हां प्रेम है तो सदा दिखता है हर पल में दिखता है ...

    ReplyDelete
  18. वाह ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति
    सादर

    ReplyDelete
  19. करवाचौथ पर ही पति पत्नी का प्यार सबको दिखता हैं या कहे दिखाया जाता हैं ......वैसे जब माँ यह व्रत करती थी तब किसी को यह ख्याल नही आया कि पापा भी व्रत करे :)) उम्दा पोस्ट :))

    ReplyDelete
  20. apne chot pr hi to dusra chot de jata hai.....shandar.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,