Thursday, October 24, 2013

दिन में कसमें यारी की -सतीश सक्सेना

रात में जमकर धोखा देते,दिन में कसमें यारी की !
साकी और शराब रोज़ हो , रस्में चारदीवारी की !

अक्सर बासिन्दे शहरों के, असमंजस में दिखते हैं !      
अभिलाषाएं,धुएं में जीवित,चिंता है बीमारी की !

जब भी लगती आग,धमाका नहीं सुनाई पड़ता है !
ऎसी कौन सी ताकत होती,छोटी सी चिंगारी की !  

पता नहीं,ये शख्श भरोसे लायक,मुझे न लगता है !
मीठी मीठी , बातें करता , पर आँखें अय्यारी की ! 

इस बस्ती में लोग हमेशा , लगा मुखौटे रहते हैं ,
सूरत से धनवान दीखते, सीरत वही भिखारी की !

28 comments:

  1. बहुत बढ़िया ग़ज़ल....
    मौजूदा समाज के कडवे सत्य को उजागर करती....
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. सटीक वक्तव्य दिया है इस रचना ने।

    ReplyDelete
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25-10-2013) को " ऐसे ही रहना तुम (चर्चा -1409)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  4. इस बस्ती में लोग हमेशा, मास्क लगाये रहते है
    सूरत से धनवान दिखते सीरत वही भिखारी की !
    अब तो मास्क लगाने की इतनी आदत पड़ चुकी होती है कि,खुद को ही पता नहीं चलता असली चेहरा कौन सा है ! बिलकुल सही कहा सटीक रचना है !

    ReplyDelete
  5. हम हमारे आसपास की चीजों को तो अब बदल नहीं सकते, हाँ पर एक बात कर सकते है
    खुद को बदलने की, फिर देखिये लगता है सब कुछ बदल गया है !

    ReplyDelete
  6. सहज सच्ची अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  7. बबुत खूब ... हर शेर धमाकेदार ... आज का चित्रण ...

    ReplyDelete
  8. कल 25/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. अल्मारी दिख तो रही है
    बोतल नजर नहीं आ रही है
    मैं तो खाली खुश हो बैठा
    बात शराब और साकी से
    जब देखा शुरु की जा रही है !
    :) :) :)

    ReplyDelete
  10. ...बहुत खूब... हरेक शेर बहुत उम्दा..!!

    ReplyDelete
  11. सच है .. मुखौटे हैं चारों ओर ... किस पर विश्वास करें !!
    अच्छी रचना ,शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  12. अकसर एक छोटी सी चिंगारी ही ...घर जला कर राख कर देती है

    ReplyDelete
  13. सूरत से धनवान दिखते , सीरत वही भिखारी की !
    तन पर चढ़ाये चोले कितने , मन पर भी परते चढ़ती जाती हैं !
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  14. आज के समाज /व्यक्ति का सटीक चरित्र चित्रण
    नई पोस्ट मैं

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  16. सत्य और बेबाक ..मेरे भी ब्लॉग पर आयें.. दीपावली की बधाई

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर सही और सटीक।

    ReplyDelete
  18. वाह क्या बात है? आज तो समस्त ताऊ सदचरित्र महिमा का संपूर्ण बखान कर दिया आपने, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  19. खुबसूरत अभिवयक्ति......

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,