Saturday, December 14, 2013

क्या होगा , यदि कल का सूरज, मेरे प्राण नहीं देखेंगे -सतीश सक्सेना

दुनिया तो चलती जायेगी 
केवल हम ही साथ न होंगे 
एक दिवस तो जाना ही है 
कुछ बरसों में यहाँ न होंगे 
सबका अंत समय आना है,
तब क्यों डर डर जलें बुझेंगे ! 
क्या होगा , यदि कल का सूरज, मेरे प्राण नहीं देखेंगे !

यदि भय से कमजोर पड़ेंगे 
लोग खुशी से, राज करेंगे ! 
जो हमने सींचा मेहनत से 
उसको वे , बरबाद करेंगे !
कैसे हम विश्वास कर सकें , 
कच्चे फूल नहीं तोड़ेंगे !
रेगिस्तान में  वृक्ष उगाये , इनकी जड़ें नहीं खोदेंगे !

दुनियां भरी पड़ी ऐसों  से 
अपने कद को बड़ा समझते 
आधा जीवन बीत चुका है 
सारे जग में अकड़ दिखाते
बुद्धि ज़रा सी लेकर आये , 
लेकिन ज्ञान बहुत बांटेंगे ! 
लुटते बार बार फिर भी,दरवाजा खोल के ही सोयेंगे !

ऐसे  कैसे  जीवन साथी 
अपनों को सम्मान न देते 
छोटी छोटी सी बातों पर 
अपना जीवन नर्क बनाते  
नीम के पौधे ,कड़वे लगते, 
गिरते दांतों  को रोयेंगे !
जुते  हुए  तांगे  में कब से , मरते दम,  सीधे देखेंगे !

काश मानवों को अपने घर 
खुश होकर रहना आ जाये 
काश एक ही छत के नीचे
जीवन खुशबू दार बनाएँ !
थोड़े से दिन लेकर आये, 
मन का जमा अहम्  धोएंगे !
हँसते हँसते आँख बंद हों,पता नहीं किस दिन सोयेंगे !

39 comments:

  1. मृत्यु की सोच भी जीवन जीना सीखने में सहायक होती है :)

    लिखते रहिये।

    ReplyDelete
  2. चचा गालिब याद आते हैं---

    न था कुछ तो ख़ुदा था, कुछ न होता तो ख़ुदा होता
    डुबोया मुझको होने ने न होता मैं तो क्या होता?

    ReplyDelete
  3. सुन्दर भाव संचरण ,बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. " मरने से ये जग डरा मेरो मन आनन्द । कब मरिहौं कब भेटिहौं पूरण-परमानन्द ॥ कबीर

    ReplyDelete
  5. आपसे ऐसी निराश रचना की उम्मीद नहीं थी :-(

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनु,
      हमें हकीकत को कभी कभी याद कर लेना चाहिए :)
      नहीं ?

      Delete
    2. @हमें हकीकत को कभी कभी याद कर लेना चाहिए :)
      नहीं ?
      नहीं, कभी कभी नहीं अकसर हर पल याद (ध्यान ) करना चाहिए,
      तभी जिंदगी में जिवंतता रहती है, आपने देखा होगा पथरों की अपेक्षा
      फूल अधिक जिवंत दिखाई देते है क्योंकि उन्हें सुबह खिलकर साँझ
      मुरझाना होता है !

      Delete
  6. थोड़े से दिन लेकर आये, मन का जमा अहम् धोएंगे !
    हँसते हँसते आँख बंद हों,पता नहीं किस दिन सोयेंगे !
    इस सत्य से आँखे मूंदे -मूंदे ही आँख मूंद लेते है .........बहुत सुन्दर रचना .........

    ReplyDelete
  7. जब तक हम हैं वो नहीं होगी
    और जब वो होगी तब हम नहीं होंगे
    -
    क्या चिंता करना
    -
    अंतिम सत्य को दर्शाती बहुत भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  8. वास्तविकता को स्वीकार करना ,उसको अनुभव करना ,उस अज्ञात भय पर विजय पाना है,|
    आपकी रचना यक्ष प्रश्न का जवाब है ,ऐसा मैं सोचता हूँ |
    नई पोस्ट विरोध
    new post हाइगा -जानवर

    ReplyDelete
  9. यह निराश रचना नहीं है...यही तो आशा का सच्चा संदेश देती है...मृत्यु किस घड़ी घटेगी कौन जानता है..हर घड़ी कमर कस के तैयार रहने वाला जीवन का हर पल पूर्णता से जीता है... सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  10. बढ़िया है भाई जी-
    आभार -

    ReplyDelete
  11. हर आदमी जब मैय्यत के साथ जाता है
    बस ये सोच के ही लौट आता है
    जिसे मरना था वो तो चला गया
    हमें कौन सा अभी मरना आता है :)

    ReplyDelete
  12. ये बात नेता याद रखें तो बात बने।

    ReplyDelete
  13. भगवान आपकी उम्र लम्बी करे!! आज बहुत सी बातें याद आ रही हैं.. मगर आदतन गुलज़ार साह्ब को कोट करना चाहूँगा:

    ज़िन्दगी फूलों की नहीं,

    फूलों की तरह मँहकी रहे!!

    एक बात बेंज़ामिन फ्रैंकलिन की याद आ रही है कि हर सुबह नौ बजे उठकर मैं सबसे पहले अख़बार लपकता हूँ और देखता हूँ कि मेरा नाम ऑबिच्युअरी वाले पन्ने पर तो नहीं है. और जब मेरा नाम नहीं होता है तो मैं जग जाता हूँ!
    :)

    ReplyDelete
  14. अनोखा लेकिन निराला अंदाज
    वाह भाई साहब सच का आइना

    ReplyDelete
  15. काश मानवों को अपने घर
    खुश होकर रहना आ जाये
    काश एक ही छत के नीचे
    जीवन खुशबू दार बनाएँ !...बहुत सुन्दर ख्याल.काश ऐसा होजाए..

    ReplyDelete
  16. सबका अंत समय आना है,तब क्यों डर डर जलें बुझेंगे !
    क्या होगा , यदि कल का सूरज, मेरे प्राण नहीं देखेंगे ?
    उत्तम भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति...!

    RECENT POST -: मजबूरी गाती है.

    ReplyDelete
  17. जग में रह जायेंगे प्यारे तेरे बोल...

    ReplyDelete
  18. जो रहा है, आज ही है,
    कल कहेंगे पुनः यह।

    ReplyDelete
  19. मन के निराश भाव को भी बहुत कुशलता से व्यक्त किया आपने...कभी कभी ये विचार मन को उदास कर देते हैं...इसे कहते हैं भाव समेटना...अगली रचना में खुशियों के भाव समेटिए...सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. यकीन करें , यहाँ उदासी बिलकुल नहीं हैं ऋता जी :)

      Delete
  20. आज 15 दिसम्बर है और है साथ में आप का जन्मदिन
    बहुत बहुत शुभकामनाऐं
    बहुत कुछ लिखें और
    लिखते ही चले जायें :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार जोशी सर ,
      ऐसा ही होगा !!

      Delete
  21. जन्म-दिन की अशेष शुभ-कामनायें । जीवन में प्रवाह-सँग प्रगति अनवरत बनी रहे ।

    ReplyDelete
  22. मृत्यु है इसीलिए जीवन में ताजगी है जिन्दादिलपन है, अगर मृत्यु न होती तो जीवन
    बिलकुल बोरिंग और बासा होता !

    ReplyDelete
  23. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें
    स्वीकार करे :)

    ReplyDelete
  24. अति सुन्दर भाव ...

    ReplyDelete
  25. सोना तो है
    पर सोने से पहले अपने सपनों के बीज आगत की आँखों में बोकर सोयेंगे
    सपनों की फसल हमेशा लहलहाये - इसकी कोशिश में ही नींद आये, … जब आये :)

    ReplyDelete
  26. प्रकृति , संसार , जीवन कितना सुन्दर है ! जिस व्यक्ति को मृत्यु याद रहती है , जीवन की कीमत वही जानता है।

    ReplyDelete
  27. काश कभी ऐसा संभव हो इस धरती पर जिसकी आपने कल्पना की है.

    ReplyDelete
  28. जीवन का यथार्थ , ,सत्य कहा आपने,

    ReplyDelete
  29. वाह ! बहुत ही गहन और सुन्दर ।

    ReplyDelete
  30. 'नीम के पौधे ,कड़वे लगते, गिरते दांतों को रोयेंगे !' bahut acchhi lines hain kyonki parhit karna chahiye chahe bura lagega thodi der ke liye par bhala to hoga uska..
    AAMEEM;.Ek ASMAN KI CHHAT KE NEECHE MILKAR RAHE HUM SAB

    ReplyDelete
  31. गहन,सुन्दर सी बात--ये तो शाश्वत सत्य है पर सोच कहाँ कोई पाता है ,आपने सोचा भी तो निराले अंदाज में---आप रहो न रहो ये गीत तो रहेंगे --क्या कम है?,

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,