Saturday, January 18, 2014

बिन जाने तथ्यों की हंसी,उड़ाएंगे उल्लू के पट्ठे ! - सतीश सक्सेना

अक्सर हिंदी अधिपतियों के खिलाफ लिखने की, लेखकों की हिम्मत नहीं होती क्योंकि ऐसा करने वालों को न पुरस्कार मिलेगा, न मंच और उसकी कविता को सबसे बेकार रचना घोषित कर दिया जाएगा, किसकी हिम्मत है जो गुरु के खिलाफ लिखने वाले को छापे ! 
मंच पर परफ्यूम लगाए, हिंदी के मधुरिम आंगन में बदबू करते इन साहित्यकारों ने अपने चेहरे 
की भावभंगिमा,फूहड़ हास्य, और हुक्का भरने की क्षमता की बदौलत, हर जगह अध्यक्ष पद हथिया रखे हैं  और इस माहौल में टेलीविजन कैमरों के ऑपरेटर , जिन्हें कविता व साहित्य की समझ ही नहीं, इन्हें साहित्य सम्राट मानकर, चमकाए जा रहे हैं ! 
फूहड़ रचनाओं के धनी, हिंदी अधिपतियों,कवियों, नेताओं एवं उन सबको यह रचना आदर सहित भेंट, जिन्होंने हिन्दी को कंगाल कर दिया !

भारत में, तथ्यों की हंसी , उड़ाएंगे उल्लू के पट्ठे !
बिना पढ़े सबको इतिहास पढ़ाएंगे उल्लू के पट्ठे !

निपट झूठ को आसानी से,सत्य बनाए चुटकी में
निराधार को बार बार दोहराएंगे , उल्लू के पट्ठे !

नेताजी के पास खड़े हो पूंछ हिलाएं जोरजोर से  
गंगू तेली को ही भोज बताएँगे , उल्लू के पट्ठे !

चमचे लेकर,क्रीम लगाए, खादी पहने आएंगे !
बड़ी देर तक ताली खूब बजायेंगे उल्लू के पट्ठे !

विश्वभ्रमण,धन खूब मिलेगा, पूँछ उठाये घूमेंगे,
देश भक्ति के गीत जोर से गाएंगे उल्लू के पट्ठे !

28 comments:

  1. वाह !
    आज तो मैं ही मैं नजर आ रहा है
    चौदह पंक्तिया हैं और
    आठ बार मेरा नाम लिया जा रहा है :D

    ReplyDelete
    Replies
    1. डॉ जोशी ,
      आपका स्वागत है प्रभु !! यह तो आपके शिष्यों के लिए समर्पित है . . . . :)
      आपका आभार !

      Delete
  2. तल्ख़ तेवर.... सुन्दर गीत ......

    ReplyDelete
  3. गुल गए गुलशन गए अच्छे अच्छे मर गए उल्लू के पठ्ठे रह गए।

    ReplyDelete
  4. क्या बात है आदरणीय-
    शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  5. उल्लू के पट्ठे लड़ें, अब से युद्ध तमाम |
    ताम-झाम हर-मंच का, देता यह पैगाम |
    देता यह पैगाम, चमचई आदर पाये |
    बनते बिगड़े काम, चरण-चुम्बन गर आये |
    रविकर घोंचू-मूर्ख, धरे पानी इक चुल्लू |
    डूबे अवसर पाय, बड़ा ही अहमक उल्लू ||

    ReplyDelete
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर व्यंग्य !

    ReplyDelete
  8. काफी उम्दा प्रस्तुति.....
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (19-01-2014) को "तलाश एक कोने की...रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1497" पर भी रहेगी...!!!
    - मिश्रा राहुल

    ReplyDelete
  9. अच्छी खासी लताड दे डाली आपने । अवश्य कोई गहरा व्यक्तिगत अनुभव होगा । लेकिन अब तो हर जगह आपको ऐसा ही कुछ देखने मिलेगा ।

    ReplyDelete
  10. वाह भैया, करारी चोट कर दी आपने, सुंदर। माफी चाहता हूँ, कई दिनों से ब्लॉग जगत से दूर था।

    ReplyDelete
  11. ये उल्लू के पट्ठे !...बेहतरीन कटाक्ष!! जिओ!!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...

    आप सभी लोगो का मैं अपने ब्लॉग पर स्वागत करता हूँ मैंने भी एक ब्लॉग बनाया है मैं चाहता हूँ आप सभी मेरा ब्लॉग पर एक बार आकर सुझाव अवश्य दें...

    From : •٠• Education Portal •٠•
    Latest Post : •٠• General Knowledge 006 •٠•

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...

    आप सभी लोगो का मैं अपने ब्लॉग पर स्वागत करता हूँ मैंने भी एक ब्लॉग बनाया है मैं चाहता हूँ आप सभी मेरा ब्लॉग पर एक बार आकर सुझाव अवश्य दें...

    From : •٠• Education Portal •٠•
    Latest Post : •٠• General Knowledge 006 •٠•

    ReplyDelete
  14. उल्लू के पट्ठे ही नहीं उल्लू के बाप भी हैं :)

    ReplyDelete
  15. इतिहास सबके कारनामे लिखेगा..

    ReplyDelete
  16. काहे इतना नाराज हो गये!

    ReplyDelete
  17. ऊल्‍लू के पठ्ठे तो धनपति होते हैं ये तो सरस्‍वती के पठ्ठे हुए ना।

    ReplyDelete
  18. नाम छपाकर,क्रीम लगाए,खादी पहने निकलेंगे !
    हिन्दी संस्थानों पर कब्ज़ा,कर लेंगे उल्लू के पट्ठे ..
    गहरा कटाक्ष ... तल्खी वाजिब है ... सत्ता के करीबी सब कुछ खराब करने की हिमात रखते हैं ...

    ReplyDelete
  19. कटाक्ष करती प्रभावी प्रस्तुति...! बधाई सतीस जी ....

    RECENT POST -: आप इतना यहाँ पर न इतराइये.

    ReplyDelete
  20. अपने में से ही तो कुछ हैं जिनके हैं ये कर्म,
    हम से ही तो बनाते- बनाते है ये उल्लू के पट्ठे |

    जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनके भी अपराध
    यही कारनामा दिखलायेंगे मिलकर उल्लू के पट्ठे |

    ReplyDelete
  21. दुखद है ये। बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  22. नाम छपाकर,क्रीम लगाए,खादी पहने निकलेंगे !
    हिन्दी संस्थानों पर कब्ज़ा,कर लेंगे उल्लू के पट्ठे !
    बहुत सुंदर खरी खरी कहने में आपका कोई जवाब नहीं.

    ReplyDelete
  23. " निज भाषा उन्नति अहै निज उन्नति को मूल ।
    बिन निज भाषा ज्ञान के मिटे न हिय को शूल ॥"
    भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

    ReplyDelete
  24. हा हा हा हा ......भैया आपने तो बस एक ही गाली लिखी है ऐसा क्यों ...........कम से कम सबके दिल की भड़ास ओर अच्छे से तो निकाल देते ...........
    क्या करारा व्यंग्य किया है ....मज़ा आ गया

    ReplyDelete
  25. एकाध नाम भी तो बताईये उन कथित उल्लू के पट्ठों का ?
    कुमार विश्वास तो नहीं हो सकता -वह और कुछ भले हो उल्लू और गधा तो नहिये है !

    ReplyDelete
  26. :] kya baat hai sir, aaj tak eysi kavita nahi padhi. BRAVO!!!

    ReplyDelete
  27. चारों तरफ़ उल्लू के पठ्ठे ही पठ्ठे बैठे हैं, पर क्या किया जाये? इन्हीं उल्लूओं के बीच रहना है, बहुत सुंदर व्यंग गीत.

    रामराम.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,