Sunday, January 19, 2014

सबके दिल को भाने वाले गीत नहीं लिख पाओगे -सतीश सक्सेना

महिमा गान सुनाने वालो,प्रीत नहीं लिख पाओगे !
ह्रदय तरंगित करने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

जाति धर्म पर मिटने वालो,कवि भले ही कहलाओ
जन मन में छा जाने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

शब्द चुराकर,लय में गाकर,प्रेमगीत तो लिख लोगे
मेघों के आकर्षण वाले , गीत नहीं लिख पाओगे !

सूरदास,रसखान को पहले,पढ़ आओ गाने वालो !
भक्ति तरंग उठाने वाले , गीत नहीं लिख पाओगे !


अगर नहीं आवाहन होगा दिल से, गहरे भावों का,
राधा को बुलवाने  वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

38 comments:

  1. सचमुच बिना भावों के गीत कहाँ संगीत कहाँ और कविकर्म कहाँ ?कवी होने के पहले कवि ह्रदय होना जरूरी है !

    ReplyDelete
  2. एक दम सही कहा...
    सच्चे गीत सच्चे अनुभवों के बाद ही लिखे जाते हैं..
    सुन्दर रचना..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. अगर जीव को देख कष्ट में, तुम्हे नहीं ममता आये !
    केशव की बांसुरियों वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !.............निश्‍चय ही।

    अगर कभी ठुकराया होगा, अपने घर के बूढ़ों को !
    घर से खींच के लाने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !...............बहुत अच्‍छा लिखा है।

    ReplyDelete
  4. अगर जीव को देख कष्ट में, तुम्हे नहीं ममता आये !
    केशव की बांसुरियों वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

    सुंदर भाव ...शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  5. शब्द चुराकर,लय से गाकर,पैरोडी तो लिख लोगे
    मन में हुड़क जगाने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

    बेहतरीन सटीक प्रस्तुति...!

    RECENT POST -: आप इतना यहाँ पर न इतराइये.

    ReplyDelete
  6. अगर कभी ठुकराया होगा, अपने घर के बूढ़ों को !
    घर से खींच के लाने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !
    सच्चे भाव। बहुत खूब!

    ReplyDelete
  7. उम्दा पेशकश -
    शुक्रिया महाशय -

    ReplyDelete
  8. पीड़ा गहरी हो तो गीत प्रभाव लाता है।

    ReplyDelete
  9. क्या बात है गुरुदेव...आजकल बहुत गहरे तीर मार रहे हैं...

    ReplyDelete
  10. सच्चे भाव....बेहतरीन प्रस्तुति........

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया ।बेहतरीन प्रस्तुति........

    ReplyDelete
  12. सटीक और अंतर्मन की आवाज़...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  13. अगर जीव को देख कष्ट में, तुम्हे नहीं ममता आये !
    केशव की बांसुरियों वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !
    बहुत सुंदर और सच भी !!

    ReplyDelete
  14. सूरदास,रसखान को पहले,पढ़ आओ गाने वालो !
    भक्ति तरंगें लाने वाले , गीत नहीं लिख पाओगे !
    बहुत सुंदर,

    ReplyDelete
  15. सूरदास,रसखान को पहले,पढ़ आओ गाने वालो !
    भक्ति तरंगें लाने वाले , गीत नहीं लिख पाओगे !
    बहुत सुंदर,

    ReplyDelete
  16. पण्डित अरविन्द मिश्रा जी की बात ही मैं भी कहना चाहूँगा...
    जो भरा नहीं हो भावों से, बहती जिसमें रसधार नहीं,
    वह कवि नहीं हो सकता..

    ReplyDelete
  17. सच में नहीं लिख पायेगें ......बहुत खुबसूरत .......नमस्ते

    ReplyDelete
  18. साहब, सबके अपने अपने कारण है लिखने के :)

    जारी रखिये।

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर और सही कहा |

    ReplyDelete
  20. जातिधर्म पर मिटने वालो,कवि भले ही कहलाओ
    सबके मन को छूने वाले, गीत नहीं लिख पाओगे !
    सबके के मन को वही छू सकता है जो अपने मन से संवेदनशील होता है, जो जाती धर्म से परे हो वही कवि और वही कविता क्योंकि कवि होना मनुष्य के आगे एक कदम है !

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  22. यहाँ आप जैसे कोई गीत लिख सकता हो .....हो नहीं सकता

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर संदेश देता गीत..

    ReplyDelete
  24. जोरदार आवाज़ है आपकी यह रचना मौलिकता के लिए.

    ReplyDelete
  25. कविता सूक्ष्म भावों की अभिव्यक्ति है।
    मगर लिखने और होने पर मैं हमेशा सहमत नहीं हूँ। कई बार अच्छा लिखने वाले विपरीत निकलते हैं , दरअसल लिखना शब्दों का खेल भी है !!

    ReplyDelete
  26. बढि़या भाव और सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
  27. शब्द चुराकर,लय से गाकर,पैरोडी तो लिख लोगे
    मन में हुड़क जगाने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !..बहुत सुंदर संदेश देता गीत....

    ReplyDelete
  28. आज काफी समय बाद आपके ब्लॉग पर आना हुआ...

    अगर नहीं आवाहन होगा,शब्दों और संवादों में !
    पढ़कर के शरमाने वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

    खरी-खरी कहता बहुत सुंदर गीत...
    हार्दिक साधुवाद;-))

    ReplyDelete
  29. अगर जीव को देख कष्ट में, तुम्हे नहीं ममता आये !
    केशव की बांसुरियों वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

    Panktiyaan bahut sundar hain...

    ReplyDelete
  30. अगर जीव को देख कष्ट में, तुम्हे नहीं ममता आये !
    केशव की बांसुरियों वाले,गीत नहीं लिख पाओगे !

    Panktiyaan dil ko choone vali hain...

    ReplyDelete
  31. वाह ... लयबद्ध गीत देख-पढ़ आनंद आ गया
    वो भी कैसी खरी-खरी

    ReplyDelete
  32. सटीक रचना

    ReplyDelete
  33. "स्तुति गीत भले ही लिख लो प्रीत नहीं लिख पाओगे"
    बहुत ही सुन्दर गीत मन को छू लिया ..... आभार

    ReplyDelete
  34. गूत के माध्यम से बहुत ही गूढ बात कह डाली आपने, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  35. अप्रतीम पंक्तियाँ!!

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,