Friday, February 28, 2014

वे आवारा क्या समझेंगे ! -सतीश सक्सेना

जिनको माँ पर गुस्सा आये वे नाकारा क्या समझेंगे !
पशुओं जैसा जीवन जीते वे आवारा क्या समझेंगे !


कुछ जीव हमेशा बस्ती में,कीचड़ में ही रहते आये !
गंदे जल में रहने वाले, निर्मल धारा क्या समझेंगे !

वृद्धों को भरी बीमारी में,असहाय अकेले छोड़ दिया,
सर झुका नहीं माँ के आगे ठाकुरद्वारा क्या समझेंगे 

जानवर कहाँ ममता जानें हर जगह लार टपकाएंगे 
माँ के धन पर नज़रें रखते वे भंडारा क्या समझेंगे !

ये क्रूर ह्रदय, ऐसे ही हैं , हंसों के संग,न रह पायें !
अपने ही बसेरे भूल गए,वे गुरुद्वारा क्या समझेंगे !


22 comments:

  1. संबंधों के गाढ़ेपन को जिसने समझा, उसने पूजा..

    ReplyDelete
  2. जिनको माँ घर में बोझ लगे, वे नाकारा क्या समझेंगे !.. वाह शुरुआत ही जबरदस्त भाव के साथ.. बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  3. धन के पीछे भागते फिरें , वे ममता में क्या पाएंगे ?
    माँ के धन से भण्डार भरे, वे भंडारा क्या समझेंगे !
    bahut sundar !
    New post तुम कौन हो ?
    new post उम्मीदवार का चयन

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर। वृद्धाश्रमों के गेट पर प्रदर्शित किये जाने योज्ञ

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ..
    वृद्धों को भरी बीमारी में, असहाय अकेले छोड़ दिया,
    सर झुका नहीं माँ के आगे, ठाकुरद्वारा क्या समझेंगे !
    बेहद मर्मस्पर्शी ग़ज़ल....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. धन के पीछे भागते फिरें , वे ममता में क्या पाएंगे ?
    माँ के धन से भण्डार भरे, वे भंडारा क्या समझेंगे !
    बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 01/03/2014 को "सवालों से गुजरना जानते हैं" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1538 पर.

    ReplyDelete
  8. समझते यही
    लोग हैं बाबू
    नासमझ बस
    लिखते हैं वो सब
    जो वो सोचते हैं
    वो ही समझते हैं
    क्या समझे :)

    ReplyDelete
  9. कड़वी हकीकत.......दोषी कौन?????

    ReplyDelete
  10. बिन माँ , गोदी बीता मेरा बचपन
    क्या खोया मैंने .वो क्या समझेंगे .....

    स्वस्थ रहें भाई जी ....

    ReplyDelete
  11. जिनमें मानवीय संवेदना ही न हो वे स्वार्थी लोग पशुओं से भी गए-बीते हैं !

    ReplyDelete
  12. वृद्धों को भरी बीमारी में, असहाय अकेले छोड़ दिया,
    सर झुका नहीं माँ के आगे, ठाकुरद्वारा क्या समझेंगे !

    माँ संसार में अनमोल

    ReplyDelete
  13. bahut gehre bhav..........

    ReplyDelete
  14. कल 02/03/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  15. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  16. सुन्दर भावाभिव्यक्ति... लोग अपने माँ बाप के प्रति बहुत लापरवाह और मतलबी हो गए हैं.. कमजोर पड़ने लगी है रिश्तों की डोर...

    ReplyDelete
  17. वे तो पशुओं से भी गये बीते हैं!! आपके इन गीतों से शायद उनके अंतर्मन की मानवता जागे!!

    ReplyDelete
  18. ये क्रूर ह्रदय , ऐसे ही हैं , हंसों के संग , न रह पाये !
    अपने ही बसेरे, भूल गए , वे गुरुद्वारा क्या समझेंगे !
    सुन्दर कृति.

    ReplyDelete

  19. पूछता है जब कोई, दुनिया में मोहब्बत है कहाँ ,
    मुस्करा देता हूँ मैं और याद आ जाती है "माँ" !!

    ReplyDelete
  20. मातृदेवो भव कह श्रुति समझा रही है माता ही तो देवी है हमें समझना चाहिए ।
    लोक-परलोक दोनों उसी के चरण में है हमें फिर इधर-उधर नहीं भटकना चाहिए।

    ReplyDelete
  21. बहुत गहन और शानदार

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,