Saturday, March 15, 2014

कैसे कैसे लोग यहाँ, इंसान बताये जाते हैं -सतीश सक्सेना

माथे लंबा तिलक लगाये  
रूप धुरंधर बना लिया !
एक हाथ में रामायण 
दूसरे में डंडा उठा लिया !
अलख जगाएं हर द्वारे , 
कुलवान बताये जाते हैं !
राजनीति में हैं जब से , गुणवान बताये जाते  हैं !

देश भक्ति के गाने गाके 
सारे जग को मूर्ख बनाके  
मोटे पेट को भरते जाके  
धर्म,देश गुणगान सुनाके 
सेवा कर मेवा खाओ, 
गुरुवाण बताये जाते हैं ! 
लिए तमंचा चाकू, ये हनुमान बताये जाते हैं !

नैतिक सामाजिक मूल्यों 
में बड़ी बनावट आयी है, 
राजाओं के आचरणों में 
बड़ी गिरावट, आयी है  ! 
चोर, उचक्के , राजा के , 
दीवान बताये जाते हैं !
करें दलाली फिर भी, पालनहार बताये जाते हैं !

नोट करोड़ों पड़ें दिखायी 
कीर्तन करते राजगुरु का !
इंतज़ार मे बस चुनाव के 
वंदन गाते महाबली का ! 
सारे शहर में भोंपू से , 
कुलवान  बताये जाते हैं !
धन के बल पर बस्ती में,बलवान बताये जाते हैं !

पढ़ न सके पर धंधे करके 
राजनीति से, नोट कमाए
बच्चों बच्चों ने देखा है ,
भोलेजन को मूर्ख बनाए 
हैवानों की महफ़िल में , 
इंसान  बताये जाते हैं ! 
गली गली तस्वीर लगा,भगवान् बताये जाते हैं !

घर के बूढ़े मार लालची 
अश्वमेध को निकले हैं !
और पुलिंदे हत्यारों  के 
शोधपत्र में , बदले हैं !
हाथ खून से रंगे देश की 
आन बताये जाते हैं !
चोर उचक्के शंकर का, वरदान बताये जाते हैं !

लगता अपना धर्म इन्हीं 
के बल पर चलता आया है ! 
इन्ही के बल पर लगता
जैसे देश सुरक्षित पाया है !
लम्बा चोगा पहनाकर,
अफगान बताये जाते हैं ! 
चिथड़े हैं, पर रेशम का ,ये थान बताये जाते हैं !

चुनाव धुलाई मशीन : आभार काजल कुमार 


19 comments:

  1. वाह....सामयिक दर्द।

    ReplyDelete
  2. बहुत बेहतरीन लिखा है आपने सतीश जी..बधाई..

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया ..होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. सामयिक उम्दा प्रस्तुति...!
    होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    RECENT POST - फिर से होली आई.

    ReplyDelete
  5. A fair satire on modern day character of so called higher ones. Satish ji has good flavor to depict the social dichotomies.

    ReplyDelete
  6. देश को यही देखना लिखा हो तो भाग्य को ही कोस सकते हैं।

    ReplyDelete
  7. कैसे कैसे लोग यहाँ, इंसान बताये जाते हैं -
    बहुत बढ़िया......सार्थक हमेशा की तरह !!
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  8. सभी की मति मारी गई है तभी तो देशका बंटाढार हो रहा है .

    ReplyDelete
  9. परम्पराओं की तुलना में विवेक को महत्व दिया जाना चाहिए । सदैव की तरह सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  10. सुंदर रचना...रंगों से सराबोर होली की शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  11. वाह ... बहुत ही करारा ... तेज धार लेखनी की .. मज़ा आ गया सतीश जी ... लाजवाब ...
    होली की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  12. सुन्दर प्रस्तुती,आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  13. ज़माना ही बस इनका रह गया है , लोग इनके पीछे ही भागते है क्या कर लीजे आप,जब सब इधर ही भाग रहा है सिवाय सर मारने के

    ReplyDelete
  14. सुन्दर रचना हमेशा की तरह काजल कुमार जी का यह
    कार्टून बड़ा अच्छा लगा :)

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर.
    होली की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  16. वाह! सुन्दर,सामयिक प्रस्तुति....आप को होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं....
    नयी पोस्ट@हास्यकविता/ जोरू का गुलाम

    ReplyDelete
  17. रंगों का ये पर्व खूब मुबारक़ हो आपको...

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया ..सुन्दर,सामयिक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  19. नैतिक सामाजिक मूल्यों
    में बड़ी बनावट आयी है,
    राजाओं के आचरणों में
    बड़ी गिरावट आयी है !
    चोर, उचक्के , राजा के , दीवान बताये जाते हैं !
    करें दलाली फिर भी, पालनहार बताये जाते हैं !
    -
    -
    क्या बेबाक सच्ची तस्वीर खींची है ,,,जितनी भी तारीफ़ करूँ कम है,,,, पढता गया और यूँ लगा मानो मंच पर बेहतरीन काव्य-पाठ चल रहा है ।

    अभिनन्दन ! अभिनन्दन !! अभिनन्दन !!!
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,