Thursday, July 10, 2014

कैसे कैसे लोग भी, गंगा नहाये इन दिनों ! ! -सतीश सक्सेना

अनपढ़ों के वोट से , बरसीं घटायें  इन दिनों !
साधू सन्यासी भी आ मूरख बनायें इन दिनों !

झूठ, मक्कारी, मदारी और धन के जोर पर ,  
कैसे कैसे लोग भी , योद्धा कहायें इन दिनों !

सैकड़ों बलवान चुनकर , राजधानी आ गए !
आप संसद के लिए, आंसू बहायें इन दिनों !

देखते ही देखते सरदार को , रुखसत किया ,
बंदरों ने सीख लीं कितनी कलायें इन दिनों !

ये वही नाला है जमुना नाम था,जिसके लिए, 
साफ़ करने के लिए, चलती हवायें इन दिनों !



20 comments:

  1. नदियों को कूड़ा करने का यह सिलसिला पुराना है :(
    अच्छी रचना !

    ReplyDelete
  2. सटीक , समसामयिक पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  3. गंगा तो सबको स्वच्छ कर देती है शायद इनका भी भला हो जाये...

    ReplyDelete
  4. चोर डाकू चुन चुना के , राजधानी आ गए ,
    आप संसद के लिए, आंसू बहायें इन दिनों !
    ..दिखाना पड़ता है जनता को कि हमें कितनी चिंता है

    बहुत सटीक

    ReplyDelete
  5. चोर डाकू चुन चुना के , राजधानी आ गए ,
    आप संसद के लिए, आंसू बहायें इन दिनों ...
    सच लिखा है ... अखाड़ा बन चूका है आज अपना संसद भवन ....

    ReplyDelete
  6. आपकी इस रचना का लिंक कल दिनांक - ११ . ७ . २०१४ को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर होगा , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. पढ़े लिखों के वोट कहाँ गये :) ?
    बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर और सटीक ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  9. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  10. अबकी तो आशा बँधी है - गंगा स्वच्छ होंगी अविरल होंगी ,यमुना आदि नदियों का भी उद्धार होगा !
    होगा ,होगा ,अवश्य होगा !

    ReplyDelete
  11. वाह बेहतरीन गजल सुन्दर कटाक्ष
    घाट भी सजते गये काशी के देखो ।
    कैसे कैसे लोग भी गंगा नहाए इन दिनों।।

    ReplyDelete
  12. बहुत कुछ होरहा है इन दिनों..बढ़िया प्रस्तुति-

    ReplyDelete
  13. ये वही नाला है जमुना नाम था,जिसके लिए,
    साफ़ करने के लिए, चलती हवायें इन दिनों !..kya baat hai !

    ReplyDelete
  14. चोर डाकू चुन चुना के , राजधानी आ गए ,
    आप संसद के लिए, आंसू बहायें इन दिनों !
    ​वाह ! क्या बात है

    ReplyDelete
  15. ये वही नाला है जमुना नाम था,जिसके लिए,
    साफ़ करने के लिए, चलती हवायें इन दिनों !
    नदियों को पहले गन्दा करो फिर करोडो डालकर साफ करो ये कहाँ की बात है ? जब तक ये पापी लोग पाप धोने के लिए नदियों का प्रयोग करते रहेंगे जमुना जैसी पवित्र नदियों का अस्तित्व खतरे में रहेगा ! सटीक रचना !

    ReplyDelete
  16. satik chot deti hui rachna...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,