Tuesday, October 21, 2014

कवि कैसे वर्णन कर पाए , इतना दर्द लिखाई में - सतीश सक्सेना

कहीं क्षितिज में देख रही है
जाने क्या क्या सोंच रही है
किसको हंसी बेंच दी इसने
किस चिंतन में पड़ी हुई है

नारी व्यथा किसे समझाएं,
गीत और कविताई में !
कौन समझ पाया है उसको, तुलसी की चौपाई में !

उसे पता है,पुरुष बेचारा
पीड़ा नहीं समझ पायेगा
दीवारों में रहा सुरक्षित 
कैसे दर्द, समझ पायेगा
पौरुष कबसे वर्णन करता, 
आयी मोच कलाई में !
जगजननी मुस्कान ढूंढती , पुरुषों की प्रभुताई में !

पीड़ा,व्यथा, वेदना कैसे
संग निभाएं बचपन का 
कैसे माली को समझाएं 
26 अक्टूबर जनवाणी

कष्ट, कटी शाखाओं का 
सबसे कोमल शाखा झुलसी,
अनजानी गहराई में !
कितना फूट फूट कर रोयी , इक बच्ची तनहाई  में !

बेघर के दुःख कौन सुनेगा ,
कैसे उसको समझ सकेगा ?
अपने रोने से फुरसत कब
जो नारी को समझ सकेगा ?
कैसे छिपा सके तकलीफें, 
इतनी साफ़ ललाई में !
भरा दूध आँचल में लायी, आंसू मुंह दिखलाई में !

कैसे सबने उसके घर को
सिर्फ,मायका बना दिया
और पराये घर को सबने 
उसका मंदिर बना दिया
कवि कैसे वर्णन कर पाए , 
इतना दर्द लिखाई में !
कैसी व्यथा लिखा के लायी ,अपनी मांगभराई में !

27 comments:

  1. बेहद की सशक्त रचना।

    ReplyDelete
  2. दिल को बहुत गहरे से छू गयी है। आपकी इस कविता की तारीफ के लिए शब्द नहीं मेरे पास। Sharing on facebook.

    ReplyDelete
  3. बेटी के मर्म से जुड़े हर पल,रिश्तों को बहुत अच्छे से रखा - आँखें भर आईं

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बुधवार- 22/10/2014 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः 39
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर दिल से निकली कविता ।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर ...दिल से निकली कविता ।

    ReplyDelete
  8. आज भी नारी इस दर्द से मुक्त नहीं है । चंद शिखर पर पहुँच गयीं तो भी उसका इतिहास वहीं से शुरू होकर वहीं खत्म होता है ।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर एवं भावपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  10. सब कुछ उड़ेल देता है
    कवि दर्द के प्याले से
    दिखता नहीं है
    सभी को सभी कुछ
    देखने के ढंग अपने
    अपने निराले से

    बहुत सुंदर रचना
    सब कह तो दिया :)

    ReplyDelete
  11. बहुत प्रभावी ... नारी मन और उसकी स्थिति और उसकी क्षमता ... सभी कुछ लिख दिया ...
    प्रकाश पर्व की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  12. बहुत मर्मस्‍पर्शी।
    और दीपोत्‍सव की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  13. बहुत भावभीनी रचना...नये घर को अपना घर बना लेना...जो कल तक गैर थे उन्हें अपना मान अपनों से बढकर प्रेम और सम्मान देना...नारी ही यह कर सकती है...

    ReplyDelete
  14. बेहद सशक्त और मार्मिक रचना। सच में उन भावनाओं को शब्दों में ढालना कितना मुश्किल है,पर आपने किया है ---साधुवाद आपको।

    ReplyDelete



  15. सबसे कोमल शाखा झुलसी,अनजानी गहराई में !
    कितना फूट फूट कर रोयी,इक बच्ची तनहाई में !

    मर्म को स्पर्श करती सुरचना ।

    दीपावली की अशेष शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  16. गढ़वाली गीत, संगीत व गायन में अद्भुत पकड़ रखने वाले है हमारे गढ़वाल के एक सशक्त हस्ताक्षर हैं भाई नरेन्द्र सिंह नेगी जी। उनकी एक बेहतरीन रचना है जिसकी दो पंक्तियां इस प्रकार है;

    ‘कैमा छ लोळा तु खैरी लगाणी,
    कैका मनै की कैन नि जाणी। कैमा छ लोळा.........

    पूष जडों मां निठाणंेन्द घिण्डु़ड़ी,
    स्वीली पिड़ा मां बिबलान्द घुघुति।
    कैन नि पूछि दुख्यारि हिलांस गीत खुदेड़ किलै रान्दी गाणी।
    कैका मनै की कैन नि जाणी।......
    अभिप्राय है कि ‘हे नादान! तू किसके सामने अपनी व्यथा उड़ेल रहा है। किसी के मन की कोई जान पाया है क्या।
    पूष के जाड़ों में ठण्ड से कांपते हुये गौरेया की पीड़ा कौन समझा है।
    कोई भी प्रसव वेदना में तड़प् रही फाख्ते की चीख को नहीं सुनता है।
    किसी ने भी यह नहीं पूछा कि दुःखी मन से हिलांस(चातक) क्यों विरह गीत गाता रहता है......
    आपकी कविता भी कुछ ऐसे ही भाव पैदा करती है। बहुत सुन्दर रचना है यह। आभार।

    ReplyDelete
  17. अनुपम रचना.....आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete
  18. रचना के भाव मन को छू गए बहुत सुन्दर रचना है !
    परिवार सहित आप सभी को मंगलमय हो दीपावली !

    ReplyDelete
  19. Very Beautiful creation come out from heart. Only a poetic heart can realise others' pains. Regards.

    ReplyDelete
  20. Bahut marmsparshi...aansu aa gaye ..socha tha diwali ki badhaayi dungi..par in shabdo ka dard antas tak utar aaya... Yahi naari jiven ki niyati hai... Shashakt rachna... Diwali ki badhayi sweekar karein...mangalkamnaayein !!

    ReplyDelete
  21. Bahut marmsparshi...aansu aa gaye ..socha tha diwali ki badhaayi dungi..par in shabdo ka dard antas tak utar aaya... Yahi naari jiven ki niyati hai... Shashakt rachna... Diwali ki badhayi sweekar karein...mangalkamnaayein !!

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर.....एक बेटी या बेटी का पिता ही इसे लिख और समझ सकता है....
    बहुत ही मर्मस्पर्शी....
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  23. प्रभावशाली रचना, बधाई आदरणीय

    नवाकार

    ReplyDelete
  24. नारी व्यथा किसे समझाएं, गीत और कविताई में !
    कौन समझ पाया है उसको, तुलसी की चौपाई में !

    आपका काव्य मंदिर इसकी अनोखी सीढ़ियां, माननीय सतीश जी, आपकी कवितायेँ और आप जिस तरह से जीवन को स्पर्श करते हैं, वो जीवन की समीक्षा है,
    आपके भावों को मेरी अंजलि।
    आपका

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है आपका विवेकजी !
      काव्य के प्रति आपका स्नेही अनुराग आपकी संवेदनशीलता का परिचायक है , आप जैसे विद्वान के यह शब्द, निस्संदेह मेरी रचनाओं को और प्रभावी बनाने में मददगार होंगे !!
      आभार आपका !!

      Delete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,