Sunday, November 30, 2014

मगर हृदय ने पढ़ लीं कैसे, इतनी सदियाँ आँखों में -सतीश सक्सेना

अरसे बाद मिली हैं नज़रें,छलके खुशियां आँखों में !
लगता खड़े खड़े ही होंगीं, जीभर बतियाँ आँखों में !

बरसों बाद सामने पाकर, शब्द न जाने कहाँ गए !
मगर हृदय ने पढ़ लीं कैसे इतनी सदियाँ आँखों में ! 

इतना भी आसान न होता, गुमसुम दर्द भुला पाना !
बहतीं और सूखती रहतीं,कितनी नदियां आँखों में !

सावन की हरियाली जाने कबसे याद न आयी है ,
तुम्हें देख लहरायीं कैसे, इतनी बगियाँ आँखों में !

इतना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
कब से आंसू  रोके बैठीं, गीली गलियां आँखों में ! 



25 comments:

  1. दिल को छू आँखों से छलक जाये,ऐसी अभिव्यक्ति ---बेमिशाल

    ReplyDelete
  2. बहुत ही उम्दा ग़ज़ल,भावों से लबालब।

    ReplyDelete
  3. आँखें सब कहने में सक्षम

    ReplyDelete

  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन गज़ल । चरैवेति -----

    ReplyDelete
  6. शब्द भावों का सुन्दर तालमेल सुन्दर गजल !

    ReplyDelete
  7. वाह ! बिछुड़े हुओं के मिलन की सारी बातें आपने इन पंक्तियों में कितनी खूबसूरती से कह डाली हैं...बधाई !

    ReplyDelete
  8. इतना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
    कब से आंसू रोके बैठीं , गीली गलियां आँखों में !
    ..सच अंदर दर्द छुपा है तो वह छलक ही जाता है..
    मर्मस्पर्शी रचना ..

    ReplyDelete
  9. इतना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
    कब से आंसू रोके बैठीं , गीली गलियां आँखों में !
    ..सच अंदर दर्द छुपा है तो वह छलक ही जाता है..
    मर्मस्पर्शी रचना ..

    ReplyDelete
  10. समझो न आँखों की भाषा पिया...

    ReplyDelete
  11. इतना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
    कब से आंसू रोके बैठीं , गीली गलियां आँखों में !
    ...वाह...दिल को छूती लाज़वाब प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  12. बेटे पानी जैसे पैसे बहा रहे हैं मदिरा में
    माता लिये हुए बैठी है सूखी नदिया आँखों में!

    दिल को छू लिया आपने भाई साहब और मेरे मुख से भी यह पंक्तियाँ निकल पड़ीं!!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर


    अरसे बाद मिली हैं नज़रें,छलके खुशियां आँखों में !
    लगता खड़े खड़े ही होंगीं, जीभर बतियाँ आँखों में !

    ReplyDelete
  14. इतना भी आसान न होता, गुमसुम दर्द भुला पाना !
    बहतीं और सूखती रहतीं,कितनी नदियां आँखों में !
    वाह ... लाजवाब पंक्तियाँ .... सच में दर्द को भुलाना आसान नहीं होता ...

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया ....यादें मरती हैं क्या कभी .....सादर नमस्ते भैया

    ReplyDelete
  16. तना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
    कब से आंसू रोके बैठीं , गीली गलियां आँखों में !
    bahut sunder
    rachana

    ReplyDelete
  17. इतना भी आसान न होता, गुमसुम दर्द भुला पाना !
    बहतीं और सूखती रहतीं,कितनी नदियां आँखों में !
    ख़ूबसूरत और भावपूर्ण पंक्तियाँ...बेहद उम्दा, बधाई!!

    ReplyDelete
  18. आँखें मन का दर्पण हैं - सब कह देती हैं कोई हो अगर झाँकनेवाला !

    ReplyDelete
    Replies

    1. इतना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
      कब से आंसू रोके बैठीं , गीली गलियां आँखों में !

      Delete

  19. इतना हंस हंस बतलाते हो कितना दर्द छिपाओगे !
    कब से आंसू रोके बैठीं , गीली गलियां आँखों में !
    बेहद मार्मिक.,.,,

    ReplyDelete
  20. कोई तो देखे उन गीली आँखों को...बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  21. इतना भी आसान न होता, गुमसुम दर्द भुला पाना !
    बहतीं और सूखती रहतीं,कितनी नदियां आँखों में !

    सावन में बागों के झूले , कब से याद न आये थे
    तुम्हें देख लहरायीं कैसे, इतनी बगियाँ आँखों में ......Waah !bahut khoobsoorat bhavo s bhari dil ko hole s chu jati h panktiya....

    ReplyDelete
  22. आँखें पढ़ने और कविता गढ़ने का अवसर होना चाहिए ।
    बहुत खूबसूरत लिखा है ।सुंदर कविता

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,