Wednesday, October 21, 2015

कौन आये साथ मेरे दर्द सहने के लिए -सतीश सक्सेना

कौन आये साथ , गहरे दर्द सहने के लिए,
हम अकेले ही भले,जंगल में रहने के लिए !

जिस जगह जाएँ वहां बौछार फूलों की रहे 
तुम बनाये ही गए , सम्मान पाने के लिए !

शिष्ट सुन्दर सुखद मनहर देवता आदर करें
कौन लाया जंगली से प्यार करने के लिए !

माँद के अंदर न जाएँ, ज़ख्म ताजे बह रहे
समय देना है,बबर के घाव भरने के लिए !

जाति,मज़हब,देश से इंसान भी आज़ाद हो,  
पक्षियों  से सीखिये,उन्मुक्त उड़ने के लिए !




16 comments:

  1. "पक्षियों से सीखिये, उन्मुक्त उड़ने के लिए"

    ReplyDelete
  2. पक्षियों से सीखिये,उन्मुक्त उड़ने के लिए !

    वाह!

    ReplyDelete
  3. जिस जगह जाएँ वहां बौछार फूलों की रहे
    तुम बनाये ही गए , सम्मान पाने के लिए !
    ...बहुत सही ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ....

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया सतीश जी

    ReplyDelete
  6. हम अकेले ही भले,जंगल में रहने के लिए !

    ReplyDelete
  7. पक्षियों से सीखिये उन्मुक्त उड़ने ने के लिए.... बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन प्रस्तुति, आभार आपका।

    ReplyDelete
  9. सीखने को बहुत कुछ बाकी है - मन में चाव जाग उठे बस इसी की प्रतीक्षा है .

    ReplyDelete
  10. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    self publishing india

    ReplyDelete
  11. कौन आये साथ , गहरे दर्द सहने के लिए,
    हम अकेले ही भले,जंगल में रहने के लिए !
    सुख में सबको साझीदार बनाएँ
    लेकिन हम अकेले ही भले दुःख में :)
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  12. सीखने का शौकीन तो किसी से भी सीख सकता है। भले ही सिखाने वाला इंसान हो या पक्षी।

    ReplyDelete
  13. जाति,मज़हब,देश से इंसान भी आज़ाद हो,
    पक्षियों से सीखिये,उन्मुक्त उड़ने के लिए !

    बहुत सुन्दर गीत ....

    ReplyDelete
  14. बहुत प्रभावशाली और सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  15. सतीश जी ,खूबसूरत भाव है ..कौन आये साथ दर्द सहने के लिए ...

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,