Friday, April 8, 2016

सितारे भूल गलती से मेरे आँगन में आ बरसे - सतीश सक्सेना

तुम्हारी ओर के बादल, मेरे आँगन में आ बरसे !
लगा जैसे चमन को भूल मेरे बन में आ बरसे !

फरिश्तों से हुई गलती, पता अम्बर का देने में ,
सितारे भूल गलती से, मेरे दामन में आ बरसे !

लगा सहला गयीं यादें, उन्हें हमसे बिछड़ने की
बिना आवाज आहिस्ता से सूनेपन में आ बरसे ! 

हमारा घर तो कोसों दूर था,जल के किनारे से,
अचानक फूट के झरने मेरे जीवन में आ बरसे !

हमारा क्या अकेले हैं, कहीं सो जाएंगे थक के
तुम्ही पछताओगे ऐसे,कहाँ निर्जन में आ बरसे !

10 comments:

  1. वाह वाह - क्या बात है सर

    ReplyDelete
  2. अस्तित्त्व जब बरसने को आता है तो अता-पता नहीं देखता..

    ReplyDelete
  3. अच्छाई का फल देर से ही सही लेकिन मिलता जरूर है ....
    बहुत सुन्दर रचना ..
    आपको नवसंवत्‍सर और नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  4. अचानक फूट के झरने मेरे जीवन में आ बरसे !* *हमारा क्या अकेले हैं, कहीं सो जाएंगे थक के* *तुम्ही पछताओगे ऐसे,कहाँ निर्जन में आ बरसे !*
    बहुत सुन्दर वाह ...

    ReplyDelete
  5. बेहद सुंदर पंक्तिया । तुम्हारी और के बादल....

    ReplyDelete
  6. आजकल कुछ आलसी हो गई हूँ इसलिए ब्लॉग पर रचना पढ़ने में विलंब हो रहा है वैसे भी फेसबुक पर तो पढ़ना होता ही है :)
    एक से एक सभी लाजवाब शेर !

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,