Wednesday, May 25, 2016

गर ह्रदय पर वजन हो, तभी दौड़िए - सतीश सक्सेना

आज बेहद ह्यूमिड मौसम में, पसीने से तर बतर, ओखला बर्ड सेंक्चुरी के साथ साथ दौड़ते हुए 49.09 मिनट में 6.8 Km की दूरी तय की !

कम से कम 2 Km रोज दौड़ते हुए,लगातार 100 दिन दौड़ने का व्रत 30 अप्रैल से लिया है , आज 26 मई तक रोज दौड़ते हुए 132.85 Km की दूरी तय कर चुका हूँ , पिछले 8 माह से 134 बार रनिंग करते हुए आजतक 1035.60 Km दौड़ चुका हूँ और यह सब बिना किसी ट्रेनिंग और अपने 62 वर्षीय शरीर के साथ कुछ ज्यादा ही सावधानी बरतते हुए किया है !

1000 km की दौड़ पार करते हुए, अब मुझे लगता है कि अनावश्यक सावधानी और तेज दौड़ने पर कुछ हो जाने का भय,मानवीय शक्ति को बेवजह डर में फंसाए रखता है नतीजा अथाह मानवीय शक्ति,मन के चंगुल में फंसकर अपने बैरियर कभी नहीं तोड़ पाती और इंसान पूरे जीवन,अपने मन का दास बनने को मजबूर रहता है 
अतः मन पर निर्दयता पूर्वक चोट करनी ही होगी !

अतः कल से 10 km एक स्पीड पर दौड़ने का प्रयत्न रहेगा और पहला टारगेट 10 km दूरी को 70 मिनट में आराम से दौड़ते हुए पूरा करने का मन है जो कि अब तक का मेरा पर्सनल बेस्ट है !
इस इलाके में यह मेरा पहला रन था और अगर मौसम में आद्रता कम होती तो इस खूबसूरत माहौल में यमुना के साथ साथ, दौड़ने का आनंद कुछ और ही होता ! दौड़ने में दुखी मन को भी राहत मिलती है ....

क्या पता भूल से दिल रुलाया कोई
गर ह्रदय पर वजन हो, तभी दौड़िए !

वायदे कुछ किये थे, किसी हाथ से
मरते दम तक निभाना,तो भी दौड़िए ! - सतीश सक्सेना

7 comments:

  1. आपके इस जज़्बे को सलाम सतीश भाई!

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत शुभकामना..आपका लक्ष्य मिले और हमें प्रेरणा..

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. क्या पता भूल से दिल रुलाया कोई
    गर ह्रदय पर वजन हो, तभी दौड़िए !
    वायदे कुछ किये थे, किसी हाथ से
    मरते दम तक निभाना,तो भी दौड़िए !
    ........ बहुत सुन्दर .
    जिंदगी में बिना दौड़ के कुछ नहीं मिलता .. जिन्दा रहने के लिए दौड़ ही तो लगाते रहते हैं हम इधर से उधर ..........
    अदम्य इच्छा शक्ति है तो कोई भी काम दुष्कर नहीं ...
    आपके जज्बे के सलाम

    ReplyDelete
  5. सतीश जी आपकी इस उम्र में इस प्रतिभा को प्रणाम आप आगे भी इस प्रकार से अपने आप को प्रेरित करते रहे और आप की कविता बहुत ही अच्छी है आप अपनी कविताएं शब्दनगरी पर भी प्रकाशित कर सकते हैं जिससे ये और भी पाठक तक पहुंच सके .......

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका ...

      Delete
  6. आपसे प्रेरणा मिलती है

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,