Wednesday, May 9, 2018

मेरी पहली बार, नंगे पैर सड़क दौड़ -सतीश सक्सेना

आज सुबह उठा तो लगा बाएं पैर में दर्द है, लग रहा था कि हड्डी में हेयर क्रैक हुआ है लंगड़ा कर टहलते हुए तय किया कि आज सिर्फ वाक पर जाऊंगा मगर जूते के अंदर मोजा नहीं मिला सो सोंचा कि पाँव में दर्द है सो क्यों न धीरे धीरे नंगे पैर टहला जाए और जिंदगी में पहली बार हम अपने घर से बेयर फुट बाहर निकले ! 

इससे पहले एनसीआर में मेरे कुछ रनर मित्र नंगे पैर दौड़ते हैं उनसे मेरा एक सवाल अक्सर होता था कि सड़क पर पड़े कांच का कोई टुकड़ा अगर पैर में घुस गया तो ? मगर अजय कुमार का कहना था कि नीचे देख कर ही पैर रखना है अन्यथा तो काफी दिन को रनिंग छूट जाएगी !

सो आज सड़क पर टहलते हुए लगा कि कोई ख़ास दर्द या समस्या नहीं लग रही क्यों न थोड़ी दूर दौड़कर देखूं और धीरे धीरे दौड़ना शुरू किया तो आसान सा लगा और दौड़ते दौड़ते घर से कब दूर निकल गया पता ही नहीं चला ! एक किलोमीटर जाने के बाद आत्मविश्वास और बढ़ गया लगा कि वाकायदा पूरा रन करना चाहिए और मैं अपनी सामान्य मस्ती में नंगे पैर दौड़ने का आनंद उठाता हुआ एक्सप्रेस वे पर पंहुच चुका था !

और हाँ वह हड्डी के टूटने जैसा दर्द कहाँ गया कुछ पता ही नहीं चला !

3 comments:

  1. जय हो आपकी। काबिले तारीफ है आपका जुनून।

    ReplyDelete
  2. aaka hausla kabiletarif hai ..
    http://recipeshindi.com/2017/04/14/gulab-jamun-recipe-in-hindi/

    ReplyDelete
  3. वाह ! बधाई हो

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,