Saturday, October 6, 2012

माँ, तुम्हे अपना भी तो कुछ, ख़याल रखना चाहिए - सतीश सक्सेना

नीचे लिखा पत्र ,डॉ गीता कदायप्रथ ( कैंसर कंसल्टेंट ) का है, जिसमें उन्होंने ब्रेस्ट कैंसर के खतरे के लिए , महिलाओं को जागरूक करने हेतु , एक रचना का अनुरोध किया है  ! डॉ गीता, मैक्स हॉस्पिटल, साकेत , दिल्ली में, कैंसर सर्जन के रूप में कार्यरत हैं !   

Dear Mr Saxena,
It was really good talking to you and am glad you are also enthusiastic about writing a few lines for creating breast cancer awareness.
Dr Geeta Kadayaprath 9810169286

1. Breast cancer is on the rise, and actually can be defeated just by early detection / screening.2. Health consciousness in terms of lifestyle: tobacco, food, exercise.3. pink and breast cancer should remain the main theme, touching indirectly on lifestyle and screening. 
The central idea is to make women realise they are all important to their families and the society at large.They need to take care of themselves and put their health as a priority.We all need her, as a mother,a sister, a daughter, a wife etc.For her to be able to do justice to all these roles, she has to look after herself.She has to listen to her body, she has to be familiar with her body, because she knows her body best. She has to come forth herself if she finds a problem and not postpone it for another day.The urgency to ensure her fitness should not diminish ever.This mindset that no disease can touch her has to go and her vulnerability should make her more aware and forthcoming in reporting a problem at the earliest

She lights up everyone's lives. She is an enigma,a pillar of strength- she is the sunshine, the rainbow, the gentle breeze,the earth, all enduring, selfless and patient.She gives endlessly.Let us care for her, nurture her and keep her healthy because our existence is inextricably linked to her.She means the world to us, so let us paint her canvas in pink and ensure she is aware of her own self and submits herself to a check even if she is ostensibly well.'
Sent from BlackBerry® on Airtel

Dr Geeta kadayaprath
MS, FRCS Senior Consultant (Breast Surgeon)

यदि तुम्ही अस्वस्थ हो
कैसे उठें,किलकारियां
अगर तुम ,भूखी रहीं ,
कैसे जमेंगी , बाजियां ,
अगर तुम चाहो कि हम भी, छू सकें वह आसमां !

माँ  तुम्हें भी स्वयं का कुछ  ध्यान रखना चाहिए !

याद रख , तेरी हँसी ,
जीवंत रखती है,हमें !
तेरी सेहत में कमी ,
बेचैन करती है,हमें !
जाना तो इक दिन सभी को, मगर अपनों के लिए
माँ, तुम्हे अपने बदन का , ध्यान रखना चाहिए !

कुछ बुरी बीमारियां 
खतरा है नारी के लिए
कैंसर सीने में जकड़े
उम्र , सारी के लिए
वक्त रहते जांच करवा कर, जियें, सब के लिए !

कुछ तो माँ अपने लिए ,अरमान रखना चाहिए !

तुमसे ही सुंदर लगे
संसार जीने के लिए
तुम नहीं,तो कौन है ?
हँसने,हंसाने के लिए
सिर्फ नारी  जगत में , जीती है गैरों के लिए !

माँ, हमें अपने लिए ,इक शक्तिरूपा चाहिए !

मायके में, आंख भर
आयी,तुझे ही यादकर
और मुंह में कौर न जा
पाए तुमको याद कर !
अगर मन में प्यार है ,परिवार  अपने के लिए !
माँ,शारीरिक व्याधियों की,जांच होनी चाहिए !

नारी आँचल में पले हैं ,
गाँठ  घातक रोग के !
धीरे धीरे कसते जाते
रेशे , दारुण रोग के !
इनके संकेतों की हमको , परख होनी चाहिए !
माँ , बड़ों की बात हमको याद रखना चाहिए !

106 comments:

  1. डॉ गीता कदायप्रथ ने महिलाओं में कैंसर जागरुकता का आह्वान किया है और आपकी पोस्ट इसे चरितार्थ कर रही है -सशक्त कविता!

    ReplyDelete
  2. कुछ तो माँ पापा की बातें ,याद रखना चाहिए !
    बेहद सार्थक प्रयास ...
    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी सलाह... डॉ गीता और आपका आभार

    ReplyDelete
  4. सार्थक रचना...सतीश जी !
    अक्सर भूल जाती है माँ ...कि वो भी एक इंसान ही है, किसी बीमारी के लिए...अंजान नहीं...!
    सादर !

    ReplyDelete
  5. बेहद संवेदनशील और जागरुक करती रचना।

    ReplyDelete
  6. इस प्रकार की जागरूकता फैलाना बहुत ज़रूरी है. मेरे नज़दीकी संबंधियों में ऐसे मामले देखे हैं. बहुत उपयोगी पोस्ट.

    ReplyDelete
  7. भावो को संजोये रचना......

    ReplyDelete
  8. डॉक्टर साहिबा का बहुत ही आत्मीय जागरूक करता पत्र
    और आपकी संवेदनशील कविता ने पोस्ट को महत्वपूर्ण बना दिया है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस जागरूकता को आगे बढाने का अनुरोध है...

      Delete
  9. सतीश जी , गीता जी के आलेख और आपकी कविता ने जो सन्देश दिया है वह बहुत जरूरी है आज के समय में . ये कैंसर कब और कैसे शरीर में पनपने लगता है नहीं जानते हैं . महिलायें खासतौर पर अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह होती हैं . वे अपने घर उअर परिवार की चिंता के आगे अपने कष्टों को नजरअंदाज करती रहती हैं जो गलत है. अगर वही स्वस्थ नहीं होती है तो सारा घर तितर बितर हो जाता है.
    इस सन्देश को जहाँ तक हो पहुंचना चाहिए.

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह सन्देश देने के लिए हम सबको योगदान करना होगा ! आभार आपका

      Delete
  10. डॉ गीता और सतीश भैया आपके प्रयास को नमन .....

    ReplyDelete
  11. माँ को वक्त कहाँ है अपना ख़याल रखने का...कोई और उसका ख़याल करे ये बड़ी बात है...
    सुन्दर और सार्थक रचना...
    आभार
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  12. Dr. geeta thanks..
    and sateesh ji thanks for writing such a valuable post...

    ReplyDelete
  13. डरावना सच, गांव में आज भी महिलाऐं इसको लेकर जागरूक नहीं होती है और पुरूषों के लाख समझाने पर भी अपने दर्द को भरसक छुपाने का प्रयास करते है जिससे स्थिति बिगड़ जाती है।

    ReplyDelete
  14. डॉक्टर साहब का कर्तव्य और आपकी भाव प्रबल रचना ...
    सभी एहसास मानवता से जुड़े हुए ...!!
    आभार इस प्रस्तुति के लिए ....!!

    ReplyDelete
  15. .


    याद रख , तेरी हँसी ,
    जीवंत रखती है,हमें !

    तेरी सेहत में कमी ,
    बेचैन करती है,हमें !

    जाना तो इक दिन सभी को,
    मगर अपनों के लिए
    माँ, तुम्हे अपने बदन का ,
    ध्यान रखना चाहिए !


    संवेदनशील संवेदना जगाती रचना है
    आदरणीय सतीश सक्सेना जी



    शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका राजेंद्र भाई ...

      Delete
  16. तुमसे ही सुंदर लगे
    संसार जीने के लिए
    तुम नहीं,तो कौन है ?
    हँसने, हंसाने के लिए
    सिर्फ नारी ही जगत में,जीती गैरों के लिए
    दूसरों की मदद करने , शक्तिरूपा चाहिए !

    Dr Geeta kadayaprath ji thanks SATISH JI SO NICE THANKS

    ReplyDelete
  17. बेहद संवेदनशील और जागरुक करती सार्थ्क रचना सतीश जी..

    ReplyDelete
  18. डा0 गीता का लिखा पत्र सच ही नारी को अपने बारे में सोचने पर विवश कर देगा ... उनसे परिचय कराने के लिए आभार ...

    आपकी रचना सशक्त जागृति संदेश दे रही है और आपने बहुत खूबसूरती से सच्चाई लिखी है कि नारी ही परिवार कि धुरी है .... आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह सच्चाई है , परिवार को इस धुरी का ख़याल रखना चाहिए ..

      Delete
  19. डा: गीता और आपका प्रयास जन कल्याणकारी है.कविता के माध्यम से मार्मिक प्रस्तुति .बधाई.

    ReplyDelete
  20. याद रख , तेरी हँसी ,
    जीवंत रखती है,हमें !
    तेरी सेहत में कमी ,
    बेचैन करती है,हमें !
    जाना तो इक दिन सभी को, मगर अपनों के लिए
    माँ, तुम्हे अपने बदन का , ध्यान रखना चाहिए !
    सुंदर पंक्तियाँ .....
    डॉ गीता कदायप्रथ जी का पत्र और आपकी रचना
    दोनों जागरूक करती है ..".precaution is better than cure"

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश सब महिलायें इसे समझ लें ...उन्हें अपना ध्यान रखना चाहिए !

      Delete
  21. जानकारी पूर्ण पोस्ट , आभार आपका कि आपने इतनी सशक्त रचना लिखी है. हर पंक्ति में अपनत्व का अहसास, फिक्र और जागरूकता समाहित है ...


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका इंदु जी

      Delete
  22. जानकारी पूर्ण पोस्ट , आभार आपका कि आपने इतनी सशक्त रचना लिखी है. हर पंक्ति में अपनत्व का अहसास, फिक्र और जागरूकता समाहित है ...


    सादर

    ReplyDelete
  23. Dr. Geetaji ke vicharon ki prastuti ke liye abhaar ...

    ReplyDelete
  24. सच कहा - नारी का एक मां , बहन , बेटी और पत्नी के रूप में -- सभी के लिए एक अहम् रोल रहता है . उसके स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना चाहिए .
    एक आवश्यक सन्देश के लिए आप दोनों बधाई के पात्र हैं .

    ReplyDelete
  25. एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दे पर सार्थक और सशक्त अभिव्यक्ति!
    बधाई और आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया डॉ अमर ..

      Delete
  26. सशक्त कविता और आलेख..शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  27. सुन्‍दर रचना । किमोथेरेपी और रेडियो थेरेपी का दर्द क्‍या होता है मैं अच्‍छी तरह समझता हूं। रचना के लिए साधुवाद आपको

    ReplyDelete
  28. सार्थक लेख
    संग्रहणीय पोस्ट

    ReplyDelete
  29. एक सार्थक संदेश। जागरूकता वाकई बहुत जरूरी है।

    ReplyDelete
  30. डा0 गीता के पत्र का अंतिम पैरा किसी भी संवेनदनशील व्यक्ति को जागरूक करने में समर्थ है।
    आपने इस पत्र की मूल भावनाओं के साथ न्याय करते हुए बड़े ही सशक्त ढंग से सुंदर गीत की रचना की है। आपने सिद्ध कर दिया कि कवि समाज को बहुत कुछ दे सकता है। कवि धर्म का निर्वाह करना कोई आपसे सीखे।

    अविनाश चन्द्र जी (शब्द सम्राट)से कहकर पत्र का हिंदी अनुवाद प्रकाशित कराते तो और भी अच्छा होता। इस अपील को हिंदी और लोक भाषा में लिखने और प्रचारित करने की जरूरत है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया देवेन्द्र भाई ...
      बढ़िया सुझाव है , अविनाश जी के साथ आपका भी स्वागत है :)

      Delete
  31. सतीश जी, इस महान सामाजिक दायित्व का निर्वाह कराती रचना के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  32. सुना है,कैंसर है होता,गांठ की मन से प्रिये
    कहो,खोलो आज बंधन,जल उठें मन के दीए

    ReplyDelete
  33. जागृत व भावपूर्ण सन्देश!!

    ReplyDelete
  34. सार्थक संदेश देती और लोगों को जागरूक करती एक बेहतर रचना के लिए आप निश्चय ही बधाई के पात्र हैं।

    ReplyDelete
  35. रचना नहीं..

    कविता है ये....कविता....

    ReplyDelete
  36. डॉ.गीता ,और आप दोनो की यह जागरूकता सबको संदेश दे रही है - नारी का स्वस्थ और प्रसन्न रहना सबके लिये आनन्द और मंगल का कारक है ! धन्यवाद .

    ReplyDelete
  37. जागरूक करते सशक्त भाव..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  38. जागरूक करते सशक्त भाव..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  39. धन्‍यवाद डॉ. गीता जी, सतीश जी.

    ReplyDelete
  40. जागरूकता आवश्यक है !
    आभार !

    ReplyDelete
  41. मुझे तो आपकी इस रचना ने भावनाओं में बहा दिया. पिछले तीन महीनों से माँ के पास ही हूँ. डाक्टर साहिबा को मेरा सलाम.

    ReplyDelete
  42. जागरूकता जरूरीहर लेवल पे हर एक को जागरूक होना चाहिए , बहुत अच्छा संदेश

    ReplyDelete
  43. .
    .
    .
    आदरणीय सतीश सक्सेना जी,

    स्तन कैंसर के प्रति महिलाओं को जागरूक करती बेहद प्रभावी रचना...
    हाँ यह जरूर कहूँगा कि कैंसर जीवाणु (बैक्टीरिया)जनित नहीं होता...
    इस गलती को सही करते हुऐ आखरी पैरा कुछ इस तरह का सुझाने का दुस्साहस कर रहा हूँ...आशा है अन्यथा नहीं लेंगे...


    "नारी वक्ष में , पल रहे ,
    ट्यूमर घातक रोग के
    बिन कहे, करते बसेरा
    उत्तक, दारुण रोग के !
    इनके संकेतों की समय रहते,पहचान करनी चाहिए !
    कुछ तो माँ पापा की बातें ,याद रखना चाहिए !"


    आभार!



    ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. @प्रवीण शाह,
      बहुत अच्छा सामयिक सुझाव दिया है आपने, कुछ बदलाव किया है , आशा है अर्थ स्पष्ट हो गया होगा !
      आभार आपका...

      Delete
  44. सार्थक पोस्ट......

    ReplyDelete
  45. बहुत प्रभावी जानकारीपूर्ण आलेख और किसी भी परिस्थितियों के लिये गीत लिखने में तो आपको महारत है ही.

    ReplyDelete
  46. जय हो ...


    दुर्गा भाभी को शत शत नमन - ब्लॉग बुलेटिन आज दुर्गा भाभी की ११० वीं जयंती पर पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम और पूरे ब्लॉग जगत की ओर से हम उनको नमन करते है ... आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    ReplyDelete
  47. कविता सुन्‍दर तो है ही, कारुणिक भी है। पढते-पढते ऑंखें भर आईं।

    ReplyDelete
  48. सार्थक रचना

    ReplyDelete
  49. बड़े भाई!
    यह रचना न सिर्फ एक गीत है स्तन कैंसर की जागरूकता के लिए, बल्कि इसे तो इस अभियान के लिए सन्देश के तौर पर प्रयोग किया जाना चाहिए.. डॉक्टर गीता के अनुरोध को आपने जिस रूप में स्वीकार किया और जो सन्देश उभर कर सामने आया वह नमनीय है!!

    ReplyDelete
  50. वाह! बढ़िया सन्देश... भावपूर्ण पंक्तियाँ....

    ReplyDelete
  51. अलेख तो अच्छा है ही लेकिन गीत भी बहुत सुन्दर है। बधाई।

    ReplyDelete
  52. स्रोत हो तुम प्राथमिक आहार का ,

    क्यों बनो तुम ग्रास कर्के-रोग का ?

    (कर्क रोग बोले तो कैंसर ,मुम्बैया में मराठी में कैंसर को कर्क रोग ही कहा जा रहा है )

    रौनकें आयद सभी तुमसे यहाँ ,

    आंच हो जिस वक्ष में नासूर क्यों ?

    आईने के सामने तुम आइए,

    वक्ष के अर्बुद से न घबराइए .

    राह है आसान अब हर रोग की ,

    वक्त से बस बा -खबर हो जाईये .

    सतीश जी आपने बहुत सार्थक गीत लिखा है और देखिए हमसे भी कुछ लिखवा लिया आपके इस रागात्मक संचारी गीत ने .आभार .

    ReplyDelete
  53. स्रोत हो तुम प्राथमिक आहार का ,

    क्यों बनो तुम ग्रास कर्के-रोग का ?

    (कर्क रोग बोले तो कैंसर ,मुम्बैया में मराठी में कैंसर को कर्क रोग ही कहा जा रहा है )

    रौनकें आयद सभी तुमसे यहाँ ,

    आंच हो जिस वक्ष में नासूर क्यों ?

    आईने के सामने तुम आइए,

    वक्ष के अर्बुद से न घबराइए .

    राह है आसान अब हर रोग की ,

    वक्त से बस बा -खबर हो जाईये .

    सतीश जी आपने बहुत सार्थक गीत लिखा है और देखिए हमसे भी कुछ लिखवा लिया आपके इस रागात्मक संचारी गीत ने .आभार .

    एक बात और सतीश जी ,यहाँ अमरीका के हरेक राज्य में जब तब पिंक वाल्क का आयोजन होता है .लोग दौड़तें हैं किसी न किसी के लिए ५ -१० -१५ -२० मील .जिसके लिए दौड़ते हैं वह कैंसर कोष के लिए चैक देता है .स्वेच्छा से .तमाम रास्ते दौड़ने वालों के लिए स्वयंसेवी पानी लिए खड़े रहते हैं .इस दिन सब कुछ पिंक होता है .लिबास पिंक ,साइकिल की गद्दी पिंक ,बास्किट पिंक ,पानी पिंक ,पिंक ही पिंक .पिंक रिबन वाली टोपी सब पहने रहते हैं .पिंक ट्रांसफोर्मर ,बम्बिल बी (सभी कार्टून करैक्टर्स ).

    ReplyDelete
  54. याद रख , तेरी हँसी ,
    जीवंत रखती है,हमें !

    तेरी सेहत में कमी ,
    बेचैन करती है,हमें !

    जाना तो इक दिन सभी को,
    मगर अपनों के लिए
    माँ, तुम्हे अपने बदन का ,
    ध्यान रखना चाहिए !
    पढ़कर आँखें भर आई कितना मर्म है इस कविता में छ महीने पहले ही माँ चली गई ब्रेन ट्यूमर से |ये पढ़ कर सब कुछ ताजा हो उठा बहुत अच्छी जागरूक करती हुई इस कविता के लिए हार्दिक बधाई इसकी चर्चा कल के चर्चा मंच पर भी देखिये

    ReplyDelete
  55. याद रख , तेरी हँसी ,
    जीवंत रखती है,हमें !
    तेरी सेहत में कमी ,
    बेचैन करती है,हमें !

    सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
  56. स्रोत हो तुम प्राथमिक आहार का ,स्रोत हो तुम सम्पूर्ण आहार का ,

    क्यों बनो तुम ग्रास कर्के-रोग का ?

    (कर्क रोग बोले तो कैंसर ,मुम्बैया में मराठी में कैंसर को कर्क रोग ही कहा जा रहा है )

    रौनकें आयद सभी तुमसे यहाँ ,

    आंच हो जिस वक्ष में नासूर क्यों ?प्यार हो जिस वक्ष में नासूर क्यों ,

    आईने के सामने तुम आइए,आईने के सामने खुद आईये

    वक्ष के अर्बुद से न घबराइए .

    राह है आसान अब हर रोग की ,

    वक्त से बस बा -खबर हो जाईये .

    सतीश जी आपने बहुत सार्थक गीत लिखा है और देखिए हमसे भी कुछ लिखवा लिया आपके इस रागात्मक संचारी गीत ने .आभार .

    एक बात और सतीश जी ,यहाँ अमरीका के हरेक राज्य में जब तब पिंक वाल्क का आयोजन होता है .लोग दौड़तें हैं किसी न किसी के लिए ५ -१० -१५ -२० मील .जिसके लिए दौड़ते हैं वह कैंसर कोष के लिए चैक देता है .स्वेच्छा से .तमाम रास्ते दौड़ने वालों के लिए स्वयंसेवी पानी लिए खड़े रहते हैं .इस दिन सब कुछ पिंक होता है .लिबास पिंक ,साइकिल की गद्दी पिंक ,बास्किट पिंक ,पानी पिंक ,पिंक ही पिंक .पिंक रिबन वाली टोपी सब पहने रहते हैं .पिंक ट्रांसफोर्मर ,बम्बिल बी (सभी कार्टून करैक्टर्स ).

    ReplyDelete
  57. मायके की आंख भर
    आयी तुझे ही यादकर
    और मुंह में कौर न
    जा पाए बच्चों के गले !
    अगर मन में प्यार है ,परिवार अपने के लिए !
    कैंसर बढ़ने से पहले , खुद संभलना चाहिए !

    हृदय से लिखी यह रचना अंतस् को प्रभावित करती है।

    ReplyDelete
  58. डॉ गीता जी को और आपको मेरा हार्दिक आभार और नमन.
    ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरूकता और चेतना जगाने के लिए.

    ReplyDelete
  59. Informative !

    साथ साथ आपकी रचना भी बहुत सशक्त लगी !

    ReplyDelete
  60. Informative !

    साथ साथ आपकी रचना भी बहुत सशक्त लगी !

    ReplyDelete
  61. जागरूक करती सार्थक रचना...
    आप दोनों का आभार..
    :-)

    ReplyDelete
  62. भारत की हर नारी की यही कहानी है पर अब महिला जागरूक तो हो रही है पर फिर भी अपनी उपेक्षा एक माँ,पत्नी कर ही देती है ,कई बार परिस्थितियों से मजबूर होकर या कहीं उपेक्षित हो कर |
    आपकी यह पोस्ट बहुत कुछ सोचने पर मजबूर कर रही है |आभार ,ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरूकता और चेतना जगाने के लिए.

    ReplyDelete
  63. kavita ke sath sath ek jagruk karya bhi aap ki ye soch bahut bahut prashansha ke kabil hai
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  64. माँ को अपना ख्याल रखने के बच्चों का उससे जुडा रहना अतिआवश्यक है । आपकी कविता यह जागरूकता लाती है । ख्याल रखे तो बीमारी का पता जल्द चले और इलाज भी ठीक से हो ।

    ReplyDelete
  65. कवितामयी संवेदनशील और जागरुक करती रचना हेतु आभार ।

    ReplyDelete
  66. इस बारे में सोचने पर विवश कर रही है.आभार

    ReplyDelete
  67. वाह सतीश्जी...इसे कहते हैं एक पंथ दो काज ....सुन्दर और श्रेष्ठ !!! गीताजी को शत शत आभार !!!!!

    ReplyDelete
  68. एक सार्थक संदेश देती बहुत संवेदनशील रचना जो दिल को गहराई तक छू गई...आभार सतीश भाई...

    ReplyDelete
  69. प्रेरणादायक रचना निरंतर बिना हारे आगे बढते रहने की प्रेरणा देती हुई सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  70. संवेदनशील और जागरुक करती बढ़िया प्रभावी रचना..

    ReplyDelete
  71. तुमसे ही सुंदर लगे
    संसार जीने के लिए
    तुम नहीं,तो कौन है ?
    हँसने, हंसाने के लिए
    सिर्फ नारी ही जगत में,जीती गैरों के लिए
    दूसरों की मदद करने , शक्तिरूपा चाहिए !
    बहुत प्रभावी ह्रदय छूने वाली प्रस्तुति आज फिर दुबारा पढ़ी पहले भी कमेन्ट किया था उसे ना पाकर दुःख हुआ इस लिए आज फिर कर रही हूँ मैं आपकी कोई पोस्ट मिस भी नहीं करना चाहती

    ReplyDelete
  72. बहुत प्रभावी ह्रदय छूने वाली प्रस्तुति आज फिर दुबारा पढ़ी पहले भी कमेन्ट किया था उसे ना पाकर दुःख हुआ इस लिए आज फिर कर रही हूँ मैं आपकी कोई पोस्ट मिस भी नहीं करना चाहती

    ReplyDelete
  73. is post ke liye bahut aabahar satish ji - sach hai - ham striyaan , ma / patni / .... role me itne busy rahte hain ki apne aap ko dekhna bhool jaati hain aksar. samay par jaanch avashya honi chaahiye

    ReplyDelete
  74. तुमसे ही सुंदर लगे
    संसार जीने के लिए
    तुम नहीं,तो कौन है ?
    हँसने, हंसाने के लिए
    सिर्फ नारी ही जगत में,जीती गैरों के लिए
    दूसरों की मदद करने , शक्तिरूपा चाहिए !
    बहुत सुन्दर ..सुन्दर सन्देश देती दिल को छू गयी ये रचना काश माँ को सब दिल में बसाये रखें
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  75. प्रेरणादायक....सार्थक रचना...

    ReplyDelete
  76. झझकोर कर जगाती रचना. काश! हर माँ के लिए यही भाव होता .

    ReplyDelete
  77. स्वास्थ्य सबसे बड़ी नियामत है..प्रेरणादायक रचना..

    ReplyDelete
  78. बेहद प्यारा लेख ..डॉ गीता को बधाई और सतीश जी सुन्दर नारी को अपनी सेहत के प्रति जागरूक करती कविता ...

    ReplyDelete
  79. bahut hi sarthak sandesh satish jee .....

    ReplyDelete
  80. वाह सतीशजी, ब्लाग पर आपकी सक्रियता देखकर हैरत होती है। मैंे चाहकर भी ऐसा नहीं कर पाता। बहुत दिनों बाद मित्रों के ब्लाग देखे और अपने ब्लाग पर भी नजर डाली। कैंसर को लेकर डाॅक्टर का पत्र और आपकी कविता दोनों बहुत महत्वपूर्ण हैं। कितनों को ही इस नामुराद बीमारी ने छीना है। मेरी अम्मा, मेरी साली और एक अच्छी दोस्त स्तन कैंसर का शिकार हो चुकी हैं। कितने ही परिचित इससे जूझ रहे हैंे। आपने इस मुद्दे को उठाकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया है। इसके लिए बधाई। अपनी निरंतरता बनाए रखें इससे दूसरों को भी प्रेरणा मिलती है।

    ReplyDelete
  81. शुक्रिया सतीश जी इस अर्बुद चेतना के लिए आपकी टिपण्णी के लिए .

    कैंसर रोग समूह इन दिनों गंगा के किनारे आबाद लोगों को तेज़ी से अपनी चपेट में ले रहा है ,प्रोस्टेट ,लीवर ,कोलन ...कैंसर .

    ReplyDelete
  82. कारुणिक, बहुत सशक्त रचना

    ReplyDelete
  83. आदरणीय, जागरूक करती इस पोस्ट के लिए धन्यवाद ! आजकल स्तन कैंसर आम बीमारी बन चुकी है ..असल में महिलाएं संकोचवश इस के बारे में नहीं बताती...पता चलने तक देर हो चुकी होती है...इस बीमारी का कोई भी रूप भयानक है.....मेरे पापा को ओरल और फीड कैनाल में कैंसर था....हमने उन्हें kho दिया ....पर यह भी सच है की 'अर्ली स्टेज' में पहचान हो जाये तो इलाज संभव है ....हम सब यहीं चुक कर जाते है....

    ReplyDelete
  84. विजयादशमी की शुभकामनाएं । मेरे नए पोस्ट पर आपका हार्दिक स्वागत है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  85. नारी हर रूप में एक छायादार वृक्ष है, उसकी अनुपस्थिति के बिना जीवन की कल्पना भी मुश्किल है. उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखना अपना ही ध्यान रखना. बहुत ही प्रेरणास्पद आलेक. शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  86. याद रख , तेरी हँसी ,
    जीवंत रखती है,हमें !
    तेरी सेहत में कमी ,
    बेचैन करती है,हमें !

    सार्थक पोस्ट


    meri post par aapka intzaar hai

    चार दिन ज़िन्दगी के .......
    बस यूँ ही चलते जाना है !!

    ReplyDelete
  87. vah kya khoob,jindgi ke kamaks ko alfazo me piroyee gyee behatareen prastuti

    ReplyDelete
  88. माँ तो अपना ख्याल रखे ... उनके बच्चों को भी ख्याल रखना जरूरी है ...
    चाहे चार दिन बाद ... पर जाना किसी का अच्छा नहीं लगता ...

    ReplyDelete
  89. सतीश भाई साहब आपको मैं बिना नागा पढ़ता हूँ . आप सबसे मैं नित्य प्रति कुछ न कुछ सीख रहा हूँ . HAR BAAR EK NAI ANUBHUTI LIYE BHAW.

    ReplyDelete
  90. बहुत बढ़िया प्रेरक सन्देश ...

    ReplyDelete
  91. बहुत सशक्त रचना..एक अति आवश्यक संदेश हर मातृशक्ति के लिए.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,