Saturday, January 19, 2013

भाषा इन गूंगो की -सतीश सक्सेना

कुछ दिन पूर्व, घर के बाहर, ४ नन्हें दुधमुहों ने जन्म लिया, माँ द्वारा एक झुरमुट में सुरक्षित छिपाए जाने के बावजूद, ये नन्हे भाग भाग कर सड़क पर आ जाते थे  ! तेज जाती हुई कारों को सावधानी से चलाने के लिए कहतीं इनकी माँ द्वारा, कार के पीछे भौंकते हुए दौड़ने से, होते शोर से पडोसी परेशान थे  ! 
गुडिया के बुलाने पर, मैं बाहर गया तो एक को छोड़ सारे बच्चे, भाग कर माँ के पास छुप गए ! केवल एक था जो निडरता के साथ खड़ा रहा और बढे हुए हाथ की उंगलियाँ अपने नन्हे दांतों से काटने का प्रयत्न करने लगा ! कुछ बिस्कुट इन बच्चों और उस वात्सल्यमयी को देकर हम दोनों बाप बेटी घर आ गए !
अगले दिन सुबह ,घर के बाहर अजीब सन्नाटा देख बाहर गया तो दिल धक् से रह गया , वही निडर बच्चा, किसी तेज और असंवेदनशील कार  द्वारा सड़क पर कुचला पड़ा था .......
और उसकी माँ बिना भौंके, अपने ३ बच्चों के साथ उदास निगाहों से मुझसे पूंछ रही थी मेरे बच्चे का कसूर क्या था , क्यों मार दिया तुम लोगों ने  ??

60 comments:

  1. बड़ी संवेदना है आपमें जी। जय हो। बनाये रखें इसे।

    ReplyDelete
  2. काश आप उसे घर ले आते ... :(

    बाकियों के साथ ऐसा न हो ... देखिएगा ...

    ReplyDelete
  3. कथा मार्मिक मातु की, करे मार्मिक प्रश्न |
    लेकिन हमको क्या पड़ी, जगत मनाये जश्न |
    जगत मनाये जश्न, सोच उनकी आकाशी |
    करते बंटाधार, चाल है सत्यानाशी |
    मारक होती माय, किन्तु बस में नहिं उसके |
    थी भोजन में व्यस्त, कुचल के पशुता खिसके |

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्य हो रविकर जी ...
      आभार आपका !

      Delete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  5. बहुत संवेदनशील अभिव्यक्ति,,,काश,,,,,,

    recent post : बस्तर-बाला,,,

    ReplyDelete
  6. :-(
    मन भी मोह पाल ही लेता है फिर आहत होता है..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. इस घटना के मानवीय निहितार्थों को भी समझाना होगा

    ReplyDelete
  8. संवेदनशील,उत्कृष्ट और मार्मिक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. इस संवेदना की आवश्‍यकता सम्‍पूर्ण समाज को है। बहुत मार्मिक।

    ReplyDelete
  10. बच्चों के मामले में जानवरों में भी वही ममता होती है जो इंसानों में।
    ध्यान से देखो और सोचो तो दुःख होता है।

    ReplyDelete
  11. बड़ी ही संवेदनशील और मार्मिक ...
    सोचने को विवश करती, मानवीय मूल्यों के सन्दर्भ में ....
    प्रभावशाली लेखन !
    सादर !

    ReplyDelete
  12. जब जानवर कोई इनसान को मारे,
    कहते हैं दुनिया में वहशी उसे सारे,
    इक जानवर की जान आज इनसानों ने ली है,
    चुप क्यों है संसार...
    नफ़रत की दुनिया छोड़कर प्यार की दुनिया में,
    खुश रहना मेरे यार...

    बचपन में देखी फिल्म का गाना याद आ गया सतीश भाई...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  13. ऐसी मानवीय संवेदनाएं हो आप में एक बेजुबान के लिए हैं काश ! मानव में मानव केलिए होती?

    ReplyDelete
  14. उफ, यह तो अपने समाज को इंगित करती संवेदना है, कई साहसी बच्चा इसी तरह बेरहमी की मौत मार दिया जाता है... उफ

    ReplyDelete
  15. महसूस करने वाला दिल ही महसूस कर सकता है, ऐसे दुखद वाकये नित्य होते हैं जिन पर किसी का ध्यान ही नही जाता.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. दुखद, उत्तर नहीं है हमारे पास। आजकल ८ को एक साथ ही पाल रहा हूँ, जब आँखों में देखते हैं तो लगता है कुछ कहना चाह रहे हैं। एक है जो कि खाये पिये मस्त ही रहता है, बाकी सब बतियाते हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बधाई आपको प्रवीण भाई ..
      घर में जश्न का माहौल होगा ...
      आपको छप्पर फाड़ कर मिला है , अब संभालिये ...
      :)

      Delete
  17. ओफ्फ ,,, ये अच्छा नहीं हुआ
    मानवीय संवेदनाएं ख़त्म हो गयी है।

    ReplyDelete
  18. अपने आस पास कोई भी जब ऐसे घटनाएँ घटती हैं तो अपने मन में जाने कितने संवेदनाएं जाग्रत हो उठती हैं ...संवेदनशील प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  19. मूक जानवरों की तकलीफें कहाँ समझ पाते हैं हम.............

    ReplyDelete
  20. संवेदनशील और मार्मिक .....

    ReplyDelete
  21. सतीश भाई साहब आपने आज श्री राहुल कुमार सिंह जी के पिता श्री सत्येन्द्र कुमार सिंह जी यांने संत बाबू की याद दिला दी . आप हमेशा पशु पक्षी से सीधे चर्चा करते थे। एक बार वो जुलाहा पक्षी से बात कर रहे थे और कह रहे थे कि अरे अभी तुम घोसला बना रही हो और अभी वो कौआ आएगा तुम्हारा घोसला उजाड़ देगा .पहले उसकी व्यवस्था बना डालो . इसी प्रकार एक काली कुतिया जूली से बात करके उसका हाल चाल पूछ लिया करते थे . आपने मझले मामा जी की याद दिलाकर बहुत नेक काम किया . प्रणाम स्वीकार करें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. @ रमाकांत सिंह जी,

      राहुल सिंह के पिताजी आपके मामा थे, यह तो आजतक पता ही नहीं था ! संस्कारों में इतनी साम्यता इसी लिए है, मुझे यह जानकार वाकई अच्छा लगा !

      राहुल सिंह जी से सपरिवार एक बार मिलने का सौभाग्य मिला है !उनके पिता जी निस्संदेह बेहद संवेदनशील होंगे तभी वे पक्षियों के इतना नज़दीक थे , उनकी यही संवेदनशीलता राहुल सिंह जी में स्पष्ट नज़र आती है !

      इस परिचय के लिए आपका आभार !

      Delete
  22. संवेदन हीनता पर क्या कहे ,कुछ बोलना नहीं सिर्फ महसूस करना है.
    New post : शहीद की मज़ार से
    New post कुछ पता नहीं !!! (द्वितीय भाग )

    ReplyDelete
  23. इस ब्लॉग में तो संवेदना का सागर हिलोरें मारता रहता है। दिल मजबूत करके आना होता है यहाँ।

    ReplyDelete
  24. इस मामले में मैं भाग्यशाली हूँ.. कोलकाता में मैं ऑफिस जल्दी पहुंचता था.. रोज देखता कि एक बुज़ुर्ग महिला जो सामने जीवन बीमा निगम में काम करती थीं, फुटपाथ पर कुत्तों के बीच बैठकर उनको अपने हाथ से बिस्किट (बंगाल में बिस्कुट कहते हैं) खिलाती थीं.
    और यहाँ गुजरात में तो मत पूछिए.. गायों को दूर दूर से लोग सुबह सुबह हरा चारा लाकर खिलाते हैं और कुत्तों को बिस्किट.. मेरे घर के सामने... देखकर बहुत सुकून हासिल होता है!!
    दिल्ली/एं.सी.आर. में तो इंसानों को कुत्तों की तरह ट्रीट करते हैं तो फिर कुत्तों का क्या!!
    आपकी ट्रेड मार्क पोस्ट!!

    ReplyDelete
  25. कल बाइक से सड़क के किनारे किनारे जा रहा था। एक कार वाले भाई को जल्दी थी और खरोच मारते निकल गए। इश्वर की कृपा थी कि सलामत हूँ। असंवेदनशील है यह समय। जानवर के लिए क्या आदमी के लिए क्या। गीतों की द्रवित कर गई यह पोस्ट भी। संस्मरण में स्थान दीजियेगा इसे।

    ReplyDelete
  26. ऑफ़िस से लौटते हुए बेटा घर पहुंचते -पहुंचते फोन पर बताता है .. कुछ दिनों से एक श्वान साहब इन्तजार करते हैं डिनर पर उनका ....अगर खुद घर न खाना हो तो ब्रेड लेकर आते हैं..उन्हें खिलाते हैं तब जाते है बाहर...और यहाँ मैं फोन पर सुनकर ही उन्हें जानने लगी हूँ ...बस थोड़ा स्नेह ही तो चाहिए और मन मिल ही जाता है ...
    काश सब समझें ...देख कर चलें... :-(

    ReplyDelete
  27. सतीश भाई! कुछ कहा नहीं जा रहा है। बस महसूस किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  28. bhawon ki gahrayee hai......udvelit karti hai.....

    ReplyDelete
  29. भावनात्मक.

    इस प्रकृति चक्र में सभी का अपना योगदान है.

    ReplyDelete
  30. दिल बहुत खराब होता है ये सब देख के ... पर कई बार बस नहीं होता ...

    ReplyDelete
  31. दिल्‍ली जैसे महानगरों में तो तेज रफ्‍तार कारों से न जाने कितने मासूम कुचल जाते हैं।

    ReplyDelete
  32. बड़े भाई, आपके इस दर्द में शामिल हैं ...

    ReplyDelete
  33. आज जब इंसान ,इंसान के प्रति संवेदनाहीन हो गया है ,क्रूरतम व्यवहार के उदाहरण रोज़
    सुनाई देते हैं ,तब सड़स के इन निरीह जीवों की बात करनेवाले कुछ बिरले लोग ही दिखाई देते हैं!

    ReplyDelete
  34. भईय, इस घटना ने मुझे भी कुछ याद दिला दिया...यू पी एस सी की मुख्या परीक्षा होनेवाली थी..बगल के स्टोर रूम में बिल्ली बच्चे को जन्म देकर छोड़कर चली गयी...बच्चा रात भर रोता रहा...सुबह उस अधमरे बच्चे को मैंने और माँ ने पुचकारा ..बड़ी मुश्किल से रूई के फाहे से दूध पिलाया ..ठण्ड थी अतः स्वेटर में लपेटकर अपने पास रखा...जान बच गयी...दो-चार दिनों में वह ठीक हो गया...हमसे खूब हिल-मिल गया था...उछल-कूद करने लगा था...एक दिन वह दूसरे कमरे में सो रहा था ...मै पढ़ रही थी कि अचानक हलकी सी आवाज़ आयी...लगा कि कुनमुना रहा है...थोड़ी देर बाद धम्म से आवाज़ आई जाकर देखा तो खून पसरा था...खिड़की खुली थी ...किसी जानवर ने उसे खा लिया था ....बहुत बुरा लगा था..और आज आपकी यह पोस्ट...मन विचलित हो गया ...

    ReplyDelete
  35. भैया आपकी संवेदना स्तुत्य है ... काश प्रकृति सभी में यही भाव भार पाती !

    ReplyDelete
  36. जहाँ मानवीय संवेदनाएँ प्रति दिन कम होती जा रही है
    वहां यह घटना सबके लिए मामूली हो सकती है पर संवेदनशील मन के लिए
    बहुत बड़ी दुखद घटना है यह ....!

    ReplyDelete
  37. ऐसी घटनाएँ महसूस करने वाले ही कर सकते है |

    ReplyDelete
  38. रफ्तार अगर तेज हो तो कोई न कोई कुचला ही जाता है। अक्सर जानवर इस रफ्तार की भेंट चढ़ जाते हैं और कभी-कभी इनसान भी।

    ReplyDelete
  39. बहुत संवेदनशील पोस्ट ....

    ReplyDelete
  40. ये बेजुबान प्राणी जो हमारे इतने निकट होता है उसकी हम कब खबर लेते हैं? बहुत ही सुंदर और बेहद संवेदनशील पोस्ट। आभार

    ReplyDelete
  41. मन दुखी हुआ इस घटना को पढकर ...असंवेदनशीलता बढ़ रही है हम मनुष्यों में .

    ReplyDelete
  42. जीव जगत से जुदा समाज आज भी जीव संवेदना को महसूस करता है .बड़ा मार्मिक प्रसंग आपने बुना है .

    ReplyDelete
  43. बहुत संवेदनशील प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  44. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  45. मानवीय संवेदना अब तो भाषा से परे हो गयी है .

    ReplyDelete
  46. ये बिना बोले ही अपने चेहरे के भाव से सब कुछ बता देते हैं बस समझने वाला दिल चाहिए,ऐसा एक वाकया मेरे घर के पीछॆ हुआ एक ढ़की हुई नाली में एक खतरनाक सी कुतिया ने आठ बच्चों को जन्म दिया तीन चार दिन के ही हुए होंगे तैज़ बारिश से उनके उस गढ़े में पानी भार गया तो मेरी बिटिया जो उस वक़्त 10 में पढ़ रही थी ने जाकर बिना डरे आठों बच्चों को बाल्टी में भर कर मेरे सर्वेंट क्वातर में (जो उस वक्त खाली था )लाकर छोड़ दिया और लगभग दो महीने तक कोई सर्वेंट भी नही रखने दिया ,सबसे बड़ी बात ये हुई कि उस वक्त उस कुतिया ने कुछ भी नही कहा

    ReplyDelete
  47. मार्मिक घटना ....

    कई घटनाएं ऐसी होती हैं पर हम जानवर समझ अनदेखा कर जाते हैं ...

    आपकी गोद में बड़ा प्यारा लग रहा है ....!!

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,