Wednesday, May 18, 2011

सारी रात जागती होगी ? - सतीश सक्सेना

आज बरसों बाद अपनी जननी को, जिसका चेहरा भी मुझे याद नहीं, खूब याद किया ...और बिलकुल अकेले में याद किया, जहाँ हम माँ बेटा दो ही थे, बंद कमरे में ....
भगवान् से कहा कि मुझ से सब कुछ ले ले... पर माँ का चेहरा केवल एक बार दिखा भर दे...बस एक बार उन्हें प्यार करने का दिल करता है, केवल एक बार ...कैसी होती है माँ ...??
कोई तो आकर, मुझे बताये , देखो, मां  ऎसी  होती  है ?
जगह जगह मैं रहा भटकता,बोलो  मां  कैसी  होती है ? 

कई बार, रातों में, उठकर
दूध गरम कर लाती होगी 
मुझे खिलाने की चिंता में 
खुद भूखी रह जाती होगी
मेरी  तकलीफों  में अम्मा !  
सारी रात जागती होगी   !
बरसों मन्नत मांग गरीबों को, भोजन करवाती होंगी !

सुबह सबेरे बड़े जतन से 
वे मुझको नहलाती होंगी
नज़र न लग जाए, बेटे को 
काला तिलक,लगाती होंगी 
चूड़ी ,कंगन और सहेली, 
उनको  कहाँ लुभाती होंगी  ?
बड़ी बड़ी आँखों की पलके,मुझको ही सहलाती होंगी !

सबसे  सुंदर चेहरे वाली ,
घर में रौनक लाती होगी 
बरसों बाद,गोद में पाकर 
बेटे को, इठलाती होंगीं  ! 
दूध मलीदा खिला के मुझको,
स्वयं तृप्त हो जाती होंगी !
अन्नपूर्णा , नज़रें भर भर, रोज  न्योछावर होतीं होंगीं  !

रात रात भर सो गीले में ,
मुझको गले लगाती होगी 
अपनी अंतिम बीमारी में ,
मुझको लेकर चिंतित होंगीं 
बेटा  कैसे  जी   पायेगा , 
वे  निश्चित ही, रोई  होंगी !
सबको प्यार बांटने वाली,अपना कष्ट छिपाती होंगी !

अपनी बीमारी  में, चिंता 
सिर्फ लाडले ,की ही होगी !
गहन कष्ट में भी,वे ऑंखें ,
मेरे कारण व्याकुल होंगी !
अपने अंत समय में अम्मा ,
मुझको गले लगाये होंगी !
मेरे नन्हें हाथ पकड़ कर,फफक फफक कर रोई होंगी !

95 comments:

  1. behad samvedan sheel ...maa ka chehra nishchit hi aisa hi hota hai ...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना पढवाई है दी है आपने ....आपके साथ साथ अशोक जी का धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. rachna ko aansuon ke madhyam se pahunchane ka naya pryog .nishabd

    ReplyDelete
  4. गुरु भाई ,
    बहुत-बहुत खुश रहो !
    ये सच है ,मैने अपनी माँ को नही देखा !एक साल का बच्चा क्या अपनी माँ का चेहरा याद रख सकता है ..? पर आज आपने अपने शब्दों के द्वारा मुझे मेरी माँ के दर्शन करा दिए| मैं तो सदा ही ये कहता हूँ कि मेरे पास शब्दों कि कमी है ...आप नही जानते आज आप ने मेरे को मेरी मनचाही मुराद दे दी ! इसके लिए आभार,धन्यावाद,जैसे शब्दों का कोई मूल्य नही !में दिल से आप के लिए आप की खुशी और आप के परिवार सहित आप के स्वस्थ जीवन की कामना करता हूँ !बाकी आप मेरी भावुकता को समझ सकते हैं ..... शुभकामनाएँ !अशोक सलूजा !

    ReplyDelete
  5. भावनाओं के समन्दर में गोते लगाने लग गया मैं तो

    ReplyDelete
  6. दुष्ट! टायटल ही ऐसा रखते हो कि कोई भी भावुक मन पिघले,बरसे और....बाद आ जाये. वैसे एक बात बताऊँ? मेरी अपनी मम्मी से इतनी निकटता कभी नही रही जितनी पापा से.मैं उनकी चाँद,सूरज,आँखों का तारा और...पूरा ब्रह्माण्ड थी.मम्मी के हाथो तो खूब जूत खाए हैं मैंने.हा हा हा किन्तु उनका बिस्तर पर पड़े हुए भी मेरे गाल और माथे को चूमना और ये कहाँ -'कब आएगी?' नही भूल सकती. बाबु! फिर कोई नही रहता इस तरह ये सब कहने के लिए.
    दुष्ट! दुष्ट ! दुष्ट सतीश ! तुमने आज मुझे बहुत रुलाया और तुम्हे कोई हक नही मुझे रुलाने का समझे.
    अब ऐसी रचनाये लिखी ना तो मार डालूंगी जान से. समझे? दुष्ट ! एकदम पागल! जाने किस दुनिया में जीता है.क्यों उन्हें याद करता है जो नही आयेंगे.माँ को खुद में समा लो बाबु और अपने हिस्से का प्यार भी अपने बच्चो को दे दो .
    गंदा लड़का!

    ReplyDelete
  7. हर मुसीबत में हर कोई ‘मां’ को ही पुकारता है ॥

    ReplyDelete
  8. सतीश जी,

    पहली बार, हाँ पहली बार किसी ब्लॉग-पोस्ट पढते हुए आँखे गीली हो गई, मन भर आया!!

    माँ के प्रति हमारी भावनाएँ कितनी सम्वेदनशील होती है कि उसके त्याग बलिदान ममत्व को लाखों बार याद करो, हर बार हृदय भर आता है।

    ReplyDelete
  9. आदरणीय सतीश सक्सेना जी
    नमस्कार !
    माँ शब्द में ही
    एक अदृश्य शक्ति होती है
    माँ कहते हीमाँ से बढ़कर कोई नहीं इस दुनिया में
    बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है!

    ReplyDelete
  10. मां से बढ़कर कोई नहीं... मां तो बस मां है...
    भगवान् का चेहरा किसने देखा ...वह तो माँ के रूप में साक्षात् हमारे पास होती है बस उस दिव्य स्वरुप को जो समझ गया, उसे फिर किया चाहिए ......
    माँ को सचे मनोभावों से सम्पर्पित रचना पढ़कर बहुत अच्छा लगा...
    हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. अपने अंत समय में अम्मा ,
    मुझको गले लगाये होंगी !
    मेरे नन्हें हाथ पकड़ कर ,
    फफक फफक कर रोई होंगी !

    jai baba banaras................

    ReplyDelete
  12. माँ का अति सुंदर स्वरूप आपने सामने ला दिया

    ReplyDelete
  13. bass ma hi ma ke jaise hoti hai......


    pranam.

    ReplyDelete
  14. रुला दिया भैया ......इस गीत ने
    क्या कहें ....

    ReplyDelete
  15. अति संवेदनशील रचना.माँ ऐसी ही तो होती है.

    ReplyDelete
  16. सुबह सबेरे बड़े जतन से
    वे मुझको नहलाती होंगी
    नज़र न लग जाए, बेटे को
    काला तिलक, लगाती होंगी
    चूड़ी ,कंगन और सहेली, उनको कहाँ लुभाती होंगी ?
    बड़ी बड़ी आँखों की पलके,मुझको ही सहलाती होंगी !
    bilkul... main maa hun , mujhe pata hai

    ReplyDelete
  17. आदरणीय सतीश जी
    नमन !

    बहुत मार्मिक रचना लिखी है आज …

    आपको पता है , मेरी मां का स्वास्थ्य पिछले दिनों सही न होने से मेरी मानसिक हालत अच्छी नहीं थी…
    मां से किसका मन कब भर सकता है …
    अच्छी भावपूर्ण रचना के लिए बधाई और आभार !

    मेरी एक रचना के कुछ अश्'आर आपके लिए सादर समर्पित हैं -

    तेरे दम से है रौनक़ घर मेरा आबाद है अम्मा !
    दुआओं से मुअत्तर है ये गुलशन शाद है अम्मा !

    तेरे क़दमों तले जन्नत , दफ़ीने बरकतों के हैं
    ख़ुदा का नाम भी दरअस्ल तेरे बाद है अम्मा !

    किसी भी हाल में रब अनसुना करता नहीं उसको
    किया करती जो बच्चों के लिए फ़रियाद है अम्मा !

    न दस बेटों से मिलकर एक मां पाली कभी जाती
    अकेली जूझ लेती है , तुझे लखदाद है अम्मा !


    ऐ मां तुझे सलाम !

    इस लिंक पर मां संबंधी मेरी रचनाएं समय निकाल कर देखें …

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  18. एक श्रेष्ठ भाव कविता सुभद्रा कुमारी चौहान जी की पढी थी जिन्हें अपनी बेटी को देखकर अपने बचपन की अनायास याद हो आयी थी.
    और दूसरी श्रेष्ठ कविता आपकी पढ़ी जो कि आपको ब्लॉगजगत में टहलते हुए बरबस याद हो आयीं.
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण और मार्मिक कविता.

    ReplyDelete
  19. कविता अच्छी लगी | पर माँ इससे भी कही ज्यादा कुछ करती है ,ये सब न करे उसे कोई दुख न हो बड़े आराम से हमें पाले फिर भी वो खास है क्योकि वो हमें निस्वार्थ प्यार करती है दुख और सुख सभी में पहले हमारे बारे में सोचती है |

    ReplyDelete
  20. माँ के लिए सम्भव नहीं होगी मुझसे कविता
    अमर चिऊँटियों का एक दस्ता मेरे मस्तिष्क में रेंगता रहता है
    माँ वहाँ हर रोज़ चुटकी-दो-चुटकी आटा डाल देती है
    मैं जब भी सोचना शुरू करता हूँ
    यह किस तरह होता होगा
    घट्टी पीसने की आवाज़ मुझे घेरने लगती है
    और मैं बैठे-बैठे दूसरी दुनिया में ऊँघने लगता हूँ
    जब कोई भी माँ छिलके उतार कर
    चने, मूँगफली या मटर के दाने नन्हीं हथेलियों पर रख देती है
    तब मेरे हाथ अपनी जगह पर थरथराने लगते हैं
    माँ ने हर चीज़ के छिलके उतारे मेरे लिए
    देह, आत्मा, आग और पानी तक के छिलके उतारे
    और मुझे कभी भूखा नहीं सोने दिया
    मैंने धरती पर कविता लिखी है
    चन्द्रमा को गिटार में बदला है
    समुद्र को शेर की तरह आकाश के पिंजरे में खड़ा कर दिया
    सूरज पर कभी भी कविता लिख दूँगा
    माँ पर नहीं लिख सकता कविता ! ……॥सुन्दर कविता हेतु आपके साथ साथ अशोक जी का धन्यवाद

    ReplyDelete
  21. माँ की गरिमा मै सारे जीवन का सार छिपा है सतीश जी

    " एक तू ही तो थी माँ
    जिसने मुझे मेरे होने का अस्तित्व दिया "
    माँ को नमन !

    ReplyDelete
  22. इसीलिए तो कहा गया है'
    *
    उसको नहीं देखा हमने कभी
    पर ऐ मां तेरी सूरत से अलग
    भगवान की सूरत क्‍या होगी
    *
    मां तो बस मां होती है।

    ReplyDelete
  23. सतीश जी ,

    आज की रचना मन को छू गयी ..अति संबेदनशील रचना ..सहज सरल शब्दों में गहन भाव लिए हुए ...

    ReplyDelete
  24. अपनी बीमारी में, चिंता
    सिर्फ लाडले ,की ही होगी !
    गहन कष्ट में भी, वे ऑंखें ,
    मेरे कारण चिंतित होंगी !
    अपने अंत समय में अम्मा ,मुझको गले लगाये होंगी !
    मेरे नन्हें हाथ पकड़ कर ,फफक फफक कर रोई होंगी !..............

    जी हाँ सतीश जी मैंने देखा है माँ को बिलकुल हुबहू ऐसी ही होती है माँ....
    बस इतना ही लिखूंगी आँखे भर आई हैं ...

    ReplyDelete
  25. आप तो कलापारखी कलाकार है ही,
    आपके हाथोंमे पड़कर हर रचना बड़ी खुबसूरत
    बन जाती है ! बधाई अशोक जी को,जिनकी रचना
    मैंने भी पढ़ी है ! बधाई आप को भी !

    ReplyDelete
  26. माँ कहते ही ..आगे कुछ नहीं कहा जाता है..शब्दों की सीमाएँ असीम को कभी समेट ही नहीं सकती..हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  27. बेहद संवेदनशील रचना।

    ReplyDelete
  28. सुबह सबेरे बड़े जतन से
    वे मुझको नहलाती होंगी
    नज़र न लग जाए, बेटे को
    काला तिलक, लगाती होंगी
    चूड़ी ,कंगन और सहेली, उनको कहाँ लुभाती होंगी ?
    बड़ी बड़ी आँखों की पलके,मुझको ही सहलाती होंगी !

    बेहद मार्मिक,पढ़ कर मन भर आया !
    सच कहा है, इस दुनियाँ में माँ का कोई विकल्प नहीं है !

    ReplyDelete
  29. सतीश जी,

    माँ के बारे में सब कुछ बयान कर आपने सबको अपनी माँ याद दिला दी. मन को द्रवित करने वाली कविता ने माँ है तब भी विचलित कर दिया. है तो दूर है विछोह जैसे लगता है.

    ReplyDelete
  30. कुछ कहने को नहीं है...अहसास रहा हूँ बस..

    ReplyDelete
  31. माँ पर लिखी रचनाओं पर मैं टिप्पणी नहीं करता -मुआफी चाहता हूँ !

    ReplyDelete
  32. सुन्दर मार्मिक प्रस्तुति.आपको और यार चाचू का बहुत बहुत आभार.पर सतीश जी आप हुए अशोक जी के गुरू भाई.फिर आपको क्या कहूँ ?

    ReplyDelete
  33. माँ तो बस माँ होती है उसकी तुलना तो मैं भगवन से भी करना नहीं चाहता
    आपकी रचना ने माँ की याद दिला दी
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  34. नाज़ुक मनोभावों को दर्शाती संवेदनशील गीत रचना ।
    आपके दिल से निकली बातें समझ आती हैं ।
    बहुत सुन्दर ।

    ReplyDelete
  35. बहुत ही भाव-प्रवण रचना,
    तारीफ़ के शब्द नहीं हैं, सचमुच !
    ऎ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान की मूरत क्या होगी !

    ReplyDelete
  36. कुछ बातें सिर्फ़ महसूस की जा सकती हैं।

    ReplyDelete
  37. गजब की हृदयस्‍पर्शी रचना .. शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  38. मेरी तकलीफों में अम्मा,सारी रात जागती होगी !
    बरसों मन्नत मांग गरीबों को, भोजन करवाती होंगी !
    रात रात भर जाकर बच्चे का सारा दर्द अपने हिस्से की मन्नत माँगती होगी.....गले में अटकता है कुछ... नम आँखें धुँधला जाती हैं फिर भी जाने क्यों बार बार पढ़ रही हूँ....

    ReplyDelete
  39. बहुत हृदयस्पर्शी रचना है आपकी , दिल को छू गई .

    ReplyDelete
  40. Mamma bilkul aisee hee hotee hai .
    Aankhe nam ho aaee.

    ReplyDelete
  41. बस एक कदम आगे बढ़ाएं और देखें मां के आशीर्वाद का हासिल.

    ReplyDelete
  42. Bhaiji ! maine ek ajeeb dard mehsoos kiya iss geet mei... Kya kahoon Geet padkar mann bahut udhas hogaya.. Aage koi sabd nahi hai.
    sadar

    ReplyDelete
  43. माँ पर लिखी वाकई बेजोड़ रचना है |अशोक अकेला जी और भाई सतीश जी आपको भी बधाई |

    ReplyDelete
  44. रात रात भर सो गीले में ,
    मुझको गले लगाती होगी
    अपनी अंतिम बीमारी में ,
    मुझको लेकर चिंतित होंगीं
    बच्चा कैसे जी पायेगा ,वे निश्चित ही रोई होंगी !
    सबको प्यार बांटने वाली,अपना कष्ट छिपाती होंगी !

    आँखें नम कर गयी रचना ..... बहुत सुंदर भावपूर्ण

    ReplyDelete
  45. मुझे नही पता मेरी मां कैसी थी, क्योकि उस समय मै बचपने मे था उस का प्यार समझ नही आया, आज अपनी बीबी को बच्चो के लिये भागते दोडते देखता हुं, उन के लिये रात रात भर जागते देखता हुं चाहे उस की तबियत खराब हो तब भी उसे बच्चो के लिये तडपते देखता हुं, तो महसूस होता हे मां केसी होती हे.... सच मे मां महान होती हे

    ReplyDelete
  46. माँ सबकी ऐसी होती है ,जैसा बिम्ब उकेरा तूने ....
    सुन्दर शब्द चित्र ,अमूर्त का मूर्तन .निर्गुण रूप माँ को आपने अपने मन से सगुन रूप दे दिया .माँ का ही तो अक्स है आप में मिठास और कोमलता भी ,ओज भी ,मुसबतों के आगे डेट रहने की कूवत भी उसी की है आपमें सक्सेना साहब .

    ReplyDelete
  47. जैसा तूने बिम्ब उकेरा ,माँ सबकी ऐसी होती है ,
    बोलो माँ कैसी होती है ।
    सबकी माँ जैसी होती है ।
    "मैं "से भैया माँ होती है ,
    "तय ".से ता-थैयां होती है .

    ReplyDelete
  48. इन्दुपुरी गोस्वामी ने जो भी लाड दुलार से कहा है ,शब्द उनके हैं ,
    भाव मेरे भी हैं ,हम सबके हैं ,
    आँख नम है ,आज फिर से माँ का गम है .
    उसके जाने के बाद मैं भी बहुत रोया था ,
    तीनों बच्चे मेरे भी तो उसने पाले थे ,
    बच्चों के बच्चे पाले थे ......

    ReplyDelete
  49. आज फिर आँख इतना नमक्यों है (दूसरी पंक्ति सक्सेना साहब आपको लिखनी है ).

    ReplyDelete
  50. @ वीरू भाई ,

    माँ के लिए कितना ही लिखें, कम लगता है ....

    आज फिर आँख इतना नम क्यों है
    आज फिर याद, उन की आई है !
    हवा के साथ यह माथे पर हाथ किसका था
    क्या मुझे देखने, माँ खुद ही चली आयीं हैं !
    लगता है दर्द मेरा, माँ को खींच लाया है
    कौन आहिस्ता से बालों को मेरे सहलाए !
    यह कौन थपकी देके मुझको सुला देता है
    नींद में कौन मेरे , आंसू पोंछ जाता है !

    इस रचना को पूरी करूंगा ...माँ के प्रति श्रद्धांजलि होगी ! आपका आभार !

    ReplyDelete
  51. पंक्तियाँ द्रवित कर गयीं।

    ReplyDelete
  52. इतना मर्म ........पढ़ते -पढ़ते ही ऑंखें छलक आईं | कोन आदमी अपने दिल मैं कितना दर्द लिए बैठा .........................कोई नहीं जनता ...............बस ओरों को देखा तो अपना दुःख ही कम नजर आया |.............................................सर जी लोगों को कम रुलाया करों |

    ReplyDelete
  53. पृथिव्यां पुत्रास्ते जननि बहवः सन्ति सरलाः
    परं तेषां मध्ये विरलतरोऽहं तव सुतः

    ReplyDelete
  54. एक अत्यंत सुंदर एवं मातॄत्व से ओत-प्रोत रचना को सुपलब्ध कराने के लिये बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  55. हृदयस्पर्शी रचना सतीश जी

    ReplyDelete
  56. सुबह सबेरे बड़े जतन से
    वे मुझको नहलाती होंगी
    नज़र न लग जाए, बेटे को
    काला तिलक, लगाती होंगी
    चूड़ी ,कंगन और सहेली, उनको कहाँ लुभाती होंगी ?
    बड़ी बड़ी आँखों की पलके,मुझको ही सहलाती होंगी !
    sach hi hai maa aesi hi hoti hai jo bachcho ke liye jeeti hai sundar rachna

    ReplyDelete
  57. जब छोटा था...माँ कि ममता को समझ पाना मुश्किल था...जब मैं अपनी पत्नी की अपने बच्चों के प्रति ममता और समर्पण को देखता हूँ...तो ये विश्वास होता है कि ऐसा निस्वार्थ प्रेम सिर्फ माँ ही दे सकती है...मेरा सर माँ और पत्नी दोनों के लिए गर्व से उठ जाता है...ये दुनिया की सभी माँओं के लिए है...

    ReplyDelete
  58. mother is a creation beyond thinking--
    no words --
    रात रात भर सो गीले में ,
    मुझको गले लगाती होगी
    अपनी अंतिम बीमारी में ,
    मुझको लेकर चिंतित होंगीं
    बच्चा कैसे जी पायेगा ,वे निश्चित ही रोई होंगी !
    सबको प्यार बांटने वाली,अपना कष्ट छिपाती होंगी !
    thanks for an emotional ----

    ReplyDelete
  59. mother is a creation beyond thinking--
    no words --
    रात रात भर सो गीले में ,
    मुझको गले लगाती होगी
    अपनी अंतिम बीमारी में ,
    मुझको लेकर चिंतित होंगीं
    बच्चा कैसे जी पायेगा ,वे निश्चित ही रोई होंगी !
    सबको प्यार बांटने वाली,अपना कष्ट छिपाती होंगी !
    thanks for an emotional ----

    ReplyDelete
  60. चर्चा -मंच पर आपका स्वागत है --आपके बारे मै मेरी क्या भावनाए है --आज ही आकर मुझे आवगत कराए -धन्यवाद !२०-५-११ ..
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  61. बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत मर्मस्पर्शी रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  62. Sateesh ji aankhe chalak aai yeh kavita padh kar.bahut marmik hai.aur aajkal main bhi apni maa ki bimari se chintit rahti hoon.bahut badi baat kahi gai hai is kavita me das bete bhi milkar maa ko paal nahi sakte.aur veh akeli kitni hi aulaad ko paal deti hai.

    ReplyDelete
  63. भावपूर्ण मन को द्रवित करती रचना.

    ReplyDelete
  64. हाँ सतीश जी, माँ ऐसी ही होती है, प्रकृति का अनोखा उपहार जो एक ही बार मिलता है.

    ReplyDelete
  65. सतीश जी ,
    'माँ'का चेहरा याद नहीं तो क्या हुआ ,मन में उमड़ती उसके प्रति आपकी भावनाएँ उस मातृत्व को समर्पित हो रही हैं .आप हैं वही उनके होने का प्रमाण है ,उनकी इस जीवन्त रचना (आपका व्यक्तित्व )में उनका अस्तित्व निरंतर विद्यमान है .

    ReplyDelete
  66. "....................."
    इनके बीच कुछ भी लिखा जाए कम है!!इसी देवी ने मुझे आस्तिक बना रखा है!!

    ReplyDelete
  67. बहुत बढ़िया गीत लिख रहे हैं आजकल सतीश जी.
    माँ के ममत्व की बेहतरीन प्रस्तुति,वाह.

    ReplyDelete
  68. आपके ब्लॉग पर आकर अक्सर भाउक हो जाता हूँ। कुछ लिखने के लिए प्रेरित होता हूँ। फिर चाहे वो आपका लिखा गद्य हो या पद्य। यह कविता तो है ही ह्रदय को झकझोर देने वाली।

    पिता जब नहीं रहते
    कैसी होती है माँ?
    ...........
    चुनती है जितना
    उतना ही रोती
    यादों के सागर में
    खुशियों के मोती

    न जागी न सोती
    रात भर
    भींगती रहती है माँ।

    ReplyDelete
  69. ऐ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान् की सूरत क्या होगी !!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  70. सच में बहुत ही मार्मिक कविता है....माँ तो बस ऐसी ही होती है...

    ReplyDelete
  71. आदरणीय सतीश जी ,
    आप तो अच्छा लिखते ही हैं ,पर ये अम्मा की यादें सच मन को भिगो गयी .......सादर !

    ReplyDelete
  72. माँ के ममत्व की बेहतरीन प्रस्तुति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  73. आपके माध्यम से सुन्दर रचना पढने को मिली
    माँ के स्वरूप का सुन्दर चित्रण, आखिर माँ तो बस माँ होती है

    ReplyDelete
  74. अकेला जी की कविता से आपके मस्तिष्क में जो भी विचार आये यह तो एक सज्जन और भावुक दृदय की पहिचान है और फिर मां की याद एक धुधली सी स्मृति या एक काल्पनिक चित्र ममता मयी मां को कमरा बन्द करके ही याद किया जाना चाहिये ताकि अश्रु का किसी को स्पष्टीकरण न देना पडे

    ReplyDelete
  75. खुद भी रोये ... हमें भी रुला गए ... बहुत दिन हो गए माँ को देखे ... कुछ दिनों बाद घर जाने का प्लान है ... तब माके हाथ के खाने का फिर लुत्फ़ उठाऊंगा ...

    ReplyDelete
  76. अपनी बीमारी में चिंता
    सिर्फ लाडले की ही होगी !
    गहन कष्ट में भी वे ऑंखें
    मेरे कारण चिंतित होंगी !
    अपने अंत समय में अम्मा ,मुझको गले लगाये होंगी !
    मेरे नन्हें हाथ पकड़ कर ,फफक फफक कर रोई होंगी !

    मां की अप्रतिम ममता की व्याख्या करती सुंदर रचना।
    कविता हृदयस्पर्शी है।
    मां को नमन।

    ReplyDelete
  77. माँ की ममता का बेहद मर्मस्पर्शी चित्रण अपनी इस रचना में आपने प्रस्तुत किया है । सभी की इन भावनाओं को शब्द देने के लिये आभार सहित...

    कुछ अतिरिक्त व्यस्तताओं के चलते ब्लाग्स पर न आ पाने की क्षमा भी...

    ReplyDelete
  78. गहन भावपूर्ण रचना के लिए हार्दिक बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  79. हवा के साथ ये माथे पे हाथ किसका था ,
    क्या मुझे देखने माँ खुद ही चली आई है .बेहद पुरसुकून तसव्वुर -
    अंदाज़ हु -बा हु तेरी आवाज़े पा का था ,
    बाहर निकलके देखा तो ,झोंका हवा का था .
    पा माने पैर ,आवाज़े पा .
    ये यूं भी हो सकता है -
    अंदाज़ हु -बा -हु आवाज़े माँ का था ,

    ReplyDelete
  80. bahut hi marmik kavita hai aankh bhar aai
    maa hoti hi aesi hai
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  81. हृदय विदीर्ण कर देने वाली रचना। आपके लिये तो विशेष महत्व रखती है।

    ReplyDelete
  82. काफी दिनों से कोई ब्लॉग पोस्ट पढ़ा... और आँखें नम हो गयीं... माँ तो एक भाव है उसे महसूस किया जा सकता है.. और माँ तो हर वक्त हमारे साथ होती है.. हमारे रक्त, अस्थि का एक एक कण उसका ही तो है... प्रणाम...

    ReplyDelete
  83. माँ से बढ़कर कुछ है भी नहीं ,वह हमारा अस्तित्व होती है !

    ReplyDelete
  84. itne sunder ahsas hain aapke,aapne toh unko bhi maat di hain jinhoine maa ke darshan kiye hain.....MAA TO BILKUL AISI HI HOTIN HAIN.....

    ReplyDelete
  85. आज , आपकी इस रचना को पढकर आंसू आ गए , सतीश जी , मेरी माँ नहीं है .. और माँ के नहीं होने का दर्द वही जान सकता है , जिनकी माँ नहीं है ..माँ ही ईश्वर का सच्चा स्वरुप होती है .. कुछ और नहीं लिखा जा रहा है .... नमन आपकी लेखनी को ...

    आभार
    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  86. अपनी बीमारी में, चिंता
    सिर्फ लाडले ,की ही होगी !
    गहन कष्ट में भी,वे ऑंखें ,
    मेरे कारण व्याकुल होंगी !
    अपने अंत समय में अम्मा ,मुझको गले लगाये होंगी !
    मेरे नन्हें हाथ पकड़ कर,फफक फफक कर रोई होंगी !!!!!

    ReplyDelete
  87. शानदार रचना........

    ReplyDelete
  88. कोई विकल्प नहीं ।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,