Monday, August 19, 2013

अब रक्षा बंधन के दिन पर, घर के दरवाजे बैठे हैं -सतीश सक्सेना

ऐसे ही एक भावुक क्षण , निम्न कविता की रचना हुई है जिसमे एक स्नेही भाई और पिता की वेदना  का वर्णन किया गया है .....
बेटी की विदाई के साथ ही , उसका घर, मायके में बदल जाता है , हर लड़की के लिए और उसके भाई के लिए, एक कमी सी घर में हर समय कसकती है कि कहाँ चला गया इस घर का सबसे सुंदर टुकड़ा ...फिर एक मुस्कान कि हमारी लाडो अपने घर में बहुत खुश है ...  

हम दोनों जन्मे इस घर में 
औ साथ खेल कर बड़े हुए
अपने इस घर के आंगन में  
घुटनों बल,चलकर खड़े हुए
तू विदा हुई शादी करके 
पर इतना याद इसे रखना 
घर में पहले अधिकार तेरा,
मैं रक्षक हूँ , तेरे घर का  !
अब रक्षा बंधन के दिन पर , घर के दरवाजे , बैठे  हैं !

पहले  तेरे जन्मोत्सव पर
त्यौहार मनाया जाता था !
रंगोली  और  गुब्बारों से !
घरद्वार सजाया जाता था !
होली औ दिवाली उत्सव 
में,पकवान बनाये थे हमने 
लेकिन तेरे घर से जाते ही 
सारी रौनक ही चली गयी 
राखी के प्रति , अनुराग लिए , उम्मीद लगाए बैठे हैं  ! 

पहले इस घर के आंगन में

संगीत , सुनाई पड़ता था  !
पढ़कर घर बापस अाने पर ,
ये घर रोशन सा लगता था !
झंकार वायलिन की सुनकर
मेरे घर में उत्सव लगता था 
जब से तू जिज्जी विदा हुई 
झांझर पायल भी रूठ गयीं 
आहट  पैरों  की, सुनने  को, हम  कान  लगाए  बैठे  हैं  !

पहले घर में , प्रवेश करते ,

एक मैना चहका करती थी !
चीं चीं करती, अपनी  बातें 
सब मुझे सुनाया करती थी !
तेरे जाते ही चिड़ियों सी 
चहकार न जाने कहां गयी !
जबसे तू विदा हुई घर से , 
हम लुटे हुए से , बैठे हैं  !
टकटकी लगाये रस्ते में, घर के  दरवाजे  बैठे हैं !

पहले घर के,  हर कोने  में ,

एक गुडिया खेला करती थी
चूड़ी, पायल, कंगन, झुमका 
को संग खिलाया करती थी
पापा की लाई चीजों पर 
हर बात पे झगड़ा करती थी 
जबसे गुड्डे, संग विदा हुई , 
हम  ठगे हुए  से बैठे हैं  !
कौवे की बोली सुननें को, हम  कान  लगाये बैठे हैं !

पहले इस नंदन कानन में

एक राजकुमारी रहती थी
हम सब उसके अागे पीछे 
वो खूब लाडली होती थी  
तब राजमहल सा घर लगता
हर रोज दिवाली होती थी !
तेरे जाने के साथ साथ ,
चिड़ियों ने भी, आना छोड़ा !
चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद  लगाए बैठे    हैं !

35 comments:

  1. सच कहा बेटी तो घर की राज कुमारी ही होती है....
    उसके बिना पूरा घर सूना सा लगता है.
    बहुत ही भावयुक्त रचना ...

    ReplyDelete
  2. पहले इस नंदन कानन में
    एक राजकुमारी रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी !
    तेरे जाने के साथ साथ ,चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं ! very touching ......ummid jarur poori hogi .....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल {मंगलवार 20/08/2013} को
    हिंदी ब्लॉग समूह
    hindiblogsamuh.blogspot.com
    पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  4. निशब्द...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही भावुक कर दिया आपकी रचना ने, खुशदीप जी के शब्दों में निशब्द...

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर भावपूर्ण !
    यही मेरे लिये ऎसा होता
    पहले इस नंदन कानन में
    छ : राजकुमारियाँ रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही भावयुक्त रचना ...राखी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. एक एक शब्द सत्य है, बहुत ही भावपूर्ण

    ReplyDelete
  9. सावन औऱ ऱक्षांधन ,बेटी का मन भी थिर नहीं रह पाता ,कितने भी बरस बीत जायें वही देहरी बार-बार याद आती है.किसी का रक्षाबंधन सूना न रहे ,भाई-बहिन के स्नेह-आशीष से भरा रहे यह मंगलमय दिवस!

    ReplyDelete
  10. दिल को छू लेने वाला गीत । प्रसंग । बेटी भी, अब के बरस भेजो भैया को बाबुल ,जैसा अनुभव कर सजल नेत्रों से अपने भाई और पिता को याद करती होगी । पिता-पुत्र और भाई बहिन का रिश्ता अद्भुत है । अनौखा ।

    ReplyDelete
  11. भावपूर्ण..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  12. पहले इस नंदन कानन में
    एक राजकुमारी रहती थी
    घर राजमहल सा लगता था
    हर रोज दिवाली होती थी !
    तेरे जाने के साथ साथ ,चिड़ियों ने भी आना छोड़ा !
    चुग्गा पानी को लिए हुए , उम्मीद लगाए बैठे हैं !

    यह वेदना नहीं हर माँ बाप भाई के दिल की सच्चाई है आँखें तरस जाती हैं
    राखी के पावन अवसर पर भाव भरे गीत के काहे की बधाई बस मेरी आखें भर आई

    ReplyDelete
  13. ओह, क्या बात है।
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

  14. पहले घर के, हर कोने में ,
    एक गुडिया खेला करती थी
    चूड़ी, पायल, कंगन, झुमका
    को संग खिलाया करती थी
    जबसे गुड्डे संग विदा हुई , हम ठगे हुए से बैठे हैं !
    कौवे की बोली सुननें को, हम कान लगाये बैठे हैं !

    हर साल नया रस लिए आती यह रचना राखी सा।

    ReplyDelete
  15. पहले घर में , प्रवेश करते ,
    एक मैना चहका करती थी !
    चीं चीं करती, अपनी बातें
    सब मुझे सुनाया करती थी !
    जबसे वह विदा हुई घर से, हम लुटे हुए से बैठे हैं !
    टकटकी लगाये रस्ते में, घर के दरवाजे बैठे हैं !
    बिटिया होती ही ऐसी प्यारी है, पता है मेरी बेटी जब भी कॉलेज से घर लौटती है
    तो सारा घर लगता है चहक रहा है, दिनभर की बाते मुझे बताते नहीं थकती !
    मै तो उसके विदा होने की कल्पना मात्र से ही दुखी हो जाती हूँ !

    ReplyDelete
  16. बेटियाँ घर की खुशियाँ होती हैं
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण !

    ReplyDelete
  17. रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ बस एक ही बात कहना चाहूंगी
    आज हर उस स्त्री के व्यक्तित्व को चोट पहुँचाने वाले गिरोह का विरोध करना होगा और यह बहुत बड़ी जिम्मेदारी है पिता की, भाई की तभी हमारा यह त्यौहार,हमारी संस्कृति हार्दिक हो सकती है !

    ReplyDelete
  18. जबसे गुड्डे संग विदा हुई , हम ठगे हुए से बैठे हैं ! निशब्द...

    ReplyDelete
  19. माँ की एक मैना चहका करती थी !
    चीं चीं करती, अपनी बातें सब सुनाया करती थी !
    निशब्द................
    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामना

    ReplyDelete
  20. अंदर तक छूती है ये संवेदनशील रचना ... बेटियों से घर चहकता रहता है ...
    बहुत ही भावपूर्ण ओर सुन्दर गीत ... रक्षा बंधन की बधाई ओर शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  21. भावभीनी कविता..हर बेटी को ऐसा ही मान मिले

    ReplyDelete
  22. रक्षा बंधन की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  23. आपके ब्लॉग को ब्लॉग"दीप" में शामिल किया गया है ।
    जरुर पधारें ।

    ब्लॉग"दीप"

    ReplyDelete
  24. भावपूर्ण अभिव्यक्ति-पिता के स्नेहिल उदगार बिटिया के लिए !

    ReplyDelete
  25. घर की सुख-चैन है प्रीत-भरी बैन है । दूध की ऊफान है घर की पहचान है । मिट्टी की सुगंध है क्षिप्रा सी मंद है । अनकही भाषा है प्रेम की परिभाषा है । पूनम की चॉंद है सुरक्षा की मॉंद है ।सागर की शान्ति है विप्लव की क्रान्ति है । आँसू से भरी है भीतर से डरी है। अभावों में पली है गीतों में ढली है । मन्दिर की सीढी है पीढी दर पीढी है । दूध की मलाई है फिर भी पराई है । राखी की डोर है मानस की मोर है । निःशब्द शोर है उजली भोर है । जलती हुई आग है भैरवी राग है । काली की क्रान्ति है सरस्वती की शान्ति है ।

    ReplyDelete
  26. बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  27. बहुत ही भावुक कविता। आँखें नाम हो गई ।

    ReplyDelete
  28. कोमल कृति, संबंधों की सुखद छाँह में शब्द ऐसे ही बेफिक्र बह जाते हैं।

    ReplyDelete
  29. सतीश जी.… स्वप्न गीत comments accept नहीं कर रहा है।

    ReplyDelete
  30. यह कविता मुझे कितनी अच्छी लगी, मैं क्या कहूँ? बहुत भावपूर्ण है रूलाने वाली है।

    ReplyDelete
  31. yeh kavita padh kar shabd nahi aankhain bool padi... very very nice

    ReplyDelete
  32. राखी के प्रति,अनुराग लिए, उम्मीद लगाए बैठे हैं !
    ***
    भावपूर्ण!

    ReplyDelete
  33. भावना का सागर उमड़ रहा है आपकी इस कविता में...ह्रदयस्पर्शी है।

    ReplyDelete
  34. एक बार फिर पढ़ा आँखें भर आईं

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,