Monday, August 26, 2013

कौन किसे सम्मानित करता,खूब जानते मेरे गीत -सतीश सक्सेना

अक्सर अपने ही कामों से 
हम अपनी पहचान कराते 
नस्लें अपने खानदान की 
आते जाते खुद कह जाते ! 
चेहरे पर मुस्कान, ह्रदय से गाली देते,अक्सर मीत !
कौन किसे सम्मानित करता,खूब जानते मेरे गीत !

सरस्वती को ठोकर मारें 
ये कमज़ोर लेखनी वाले !
डमरू बजते भागे ,आयें   
पुरस्कार को लेने वाले  !
बेईमानी छिप न सकेगी,आशय खूब समझते गीत !
हुल्लड़ , हंगामे पैदा कर ,नाम कमायें  ऐसे  गीत !

कलम फुसफुसी रखने वाले 
पुरस्कार की जुगत भिड़ाये
जहाँ आज बंट रहीं अशर्फी  
प्रतिभा नाक रगडती पाये  !
अभिलाषाएं छिप न सकेंगी, कैसे  बनें  यशस्वी, गीत !
बेच प्रतिष्ठा, गौरव अपना , पुरस्कार हथियाते  गीत !

लार टपकती देख ज्ञान की 
कुछ राजे,  मुस्काते आये  !
मुट्ठी भर , ईनाम  फेंकते 
पंडित  गुणी , लूटने  धाएं  ! 
देख दुर्दशा आचार्यों की , सर धुन रोते , मेरे गीत  ! 
दबी हुई,राजा बनने की इच्छा,खूब समझते गीत  !

चारण,भांड हमेशा रचते 
रहे , गीत   रजवाड़ों  के  !
वफादार लेखनी रही थी ,
राजों और सुल्तानों की !
रहे मसखरे,जीवन भर हम,खूब सुनाये  स्तुति  गीत !
हुए पुरस्कृत दरबारों से,फिर भी नज़र मिलाते गीत !

हिंदी  का  अपमान कराएं 
लेखक खुद को कहने वाले 
रीति रिवाज़ समझ न पायें 
लोक गीत को, रचने वाले 
कविता का उपहास उड़ायें  ,करें प्रकाशित घटिया गीत !
गली गली के ज्ञानी लिखते,अपनी कविता,अपने गीत !

कविता,गद्य,छंद,ग़ज़लों पर ,
कब्ज़ा कर ,लहरायें  झंडा !
सुंदर शोभित नाम रख लिए 
ऐंठ के चलते , लेकर डंडा  !
भीड़ देख , इन आचार्यों  की, आतंकित  हैं, मेरे गीत  !
कहाँ गुरु को ढूंढें जाकर , कौन  सुधारे आकर,  गीत !  

48 comments:

  1. बढ़िया ह्रदयोद्गार।
    .
    ताजा-ताजा सम्मानित हुए और लाइन में लगे लोग सावधान हो जाएँ।

    ReplyDelete
  2. हिंदी का अपमान कराएं
    लेखक खुद को कहने वाले
    रीति रिवाज़ समझ न पायें
    लोक गीत को, रचने वाले
    कविता का उपहास बनाएं ,करें प्रकाशित घटिया गीत !
    गली गली के ज्ञानी लिखते,अपनी कविता,अपने गीत !
    बहुत बढ़िया गीत

    ReplyDelete
  3. उफ़्फ़ ! तौबा तौबा ! मार धाड़ ! धर पकड़ !
    सतीश भाई , आज तो आपने सही कोड़ा उठाया है. और कस कस के मारा है.
    लेकिन मोटी चमड़ी पर इसका कितना असर होगा , कहना मुश्किल है.
    बहरहाल , इस साहसी लेखन के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  4. हम तो अपनी शायरी पर खुदी को दाद दे और खुदी से दाद ले कर संतुष्ट है :)

    लिखते रहिये ...

    ReplyDelete
  5. सरस्वती को ठोकर मारें
    ये कमज़ोर लेखनी वाले !
    डमरू बजते भागे ,आयें
    पुरस्कार को लेने वाले !

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण सटीक रचना ...

    ReplyDelete
  6. बहुत व्यंग्य है इस कविता में

    ReplyDelete
  7. प्रभावशाली गीत.. बिल्कुल सही कहा ..

    ReplyDelete
  8. चारण,भांड हमेशा रचते
    रहे , गीत रजवाड़ों के !
    वफादार लेखनी रही थी ,
    राजों और सुल्तानों की !
    रहे मसखरे,जीवन भर हम,खूब सुनाये स्तुति गीत !
    हुए पुरस्कृत दरबारों से,फिर भी नज़र मिलाते गीत !
    लाजवाब ,सरल सहज शब्दों में उत्तम अभिव्यक्ति
    latest post आभार !
    latest post देश किधर जा रहा है ?

    ReplyDelete
  9. कौन किसे सम्मानित करता,खूब जानते मेरे गीत
    बहुत बढ़िया...
    अब तक सम्मानित न हो पानी की खुशी आज जाकर हुई :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  10. आज चारों तरफ़ यही तो हालात हो गये हैं, असल को मौका नही मिलता और चापलूस चारण कवि लेखक बन सम्मान बटोरते हैं, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. कलम फुसफुसी रखने वाले
    पुरस्कार की जुगत भिड़ाये
    जहाँ आज बंट रहीं अशर्फी
    प्रतिभा नाक रगडती पाये !
    अभिलाषाएं छिप न सकेंगी,इच्छा बनें यशस्वी गीत !
    बेच प्रतिष्ठा गौरव अपना , पुरस्कार हथियाते गीत !
    संपूर्ण गीत ही सार्थक और सटीक है, बधाई सुन्दर गीत के लिए !

    ReplyDelete
  12. मधुमक्खी ढूँढ़े सुमन को, मक्खी ढूँढे घाव,
    अपनी अपनी प्रकृति है, अपना अपना चाव।

    ReplyDelete
  13. ...जोरदार, धारदार कटाक्ष।

    एक्को कोना नाहीं छूटल
    गाय बजाय के मारे गीत।

    (गाय बचाय के मारना.. एक बनारसी मुहावरा है। मतलब दौड़ा-दौड़ा के खूब पिटाई करना।)

    ReplyDelete
  14. "कंकड पत्थर नहीं बीनते उस पर चलते मेरे गीत । भले हाशिये पर हों पर मुस्काते गाते मेरे गीत ।" प्रशंसनीय प्रस्तुति । " सहज मिले सो दूध सम मॉगा मिला सो पानी । कह कबीर वह रक्त सम जा में एचा तानी ।"

    ReplyDelete
  15. wo bhi padh liyaa aur yae bhi padh liyaa !!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  16. कहाँ गुरु को ढूंढें जाकर , कौन सुधारे आकर गीत !
    बहुत खूब .. सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  17. सच और सटीक,
    इस साहसी लेखन के लिए बधाई। सतीश जी,,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  18. जय हो तीर खैंच खैंच के चल रहे हैं गीत नाद में सतीश भाई :)

    ReplyDelete
  19. आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल मंगलवार २७ /८ /१३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  20. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} की पहली चर्चा हिम्मत करने वालों की हार नहीं होती -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-001 में आपका सह्य दिल से स्वागत करता है। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | सादर .... Lalit Chahar

    ReplyDelete
  21. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} किसी भी प्रकार की चर्चा आमंत्रित है दोनों ही सामूहिक ब्लौग है। कोई भी इनका रचनाकार बन सकता है। इन दोनों ब्लौगों का उदेश्य अच्छी रचनाओं का संग्रहण करना है। कविता मंच पर उजाले उनकी यादों के अंतर्गत पुराने कवियों की रचनआएं भी आमंत्रित हैं। आप kuldeepsingpinku@gmail.com पर मेल भेजकर इसके सदस्य बन सकते हैं। प्रत्येक रचनाकार का हृद्य से स्वागत है।

    ReplyDelete
  22. नो कमेंट्स बोल के निकल लेते हैं... वैसे ये एवार्ड वगैरह तो सब मोह-माया है...

    ReplyDelete
  23. आपके ब्लॉग के समर्थक ४२० हैं... देखिये तो सही, समर्थकों वाला विजेट... :P

    ReplyDelete
  24. अबके चौदह सितंबर पर यही गीत सुनाना है सबको।

    ReplyDelete
  25. कभी-कभी कोड़ा बरसें ,कस-कस मारें तेरे गीत !

    ReplyDelete
  26. इतना डरा सहमा क्यों हुआ है मेरा यह प्यारा गीत ? :-)

    ReplyDelete
  27. हमने तो यह भी देखा है
    करते करते ना नुकर
    पुरस्कार हथियाते गीत!

    ReplyDelete

  28. कौन किसे सम्मानित करता
    क्या कह गए आपके गीत !!!

    ReplyDelete
  29. सच सच जानते आपके गीत .....

    ReplyDelete
  30. इस सुंदर गीत को पढ़कर मध्यकालीन कवि ठाकुर की वो पंक्ति याद आ गई। ढेल सो बनाये आये मेलत सभा के बीच लोगन कबित्त करो खेल करि जानो है...., सभा के बीच में ढेले की तरह कविता फेंककर कवि कर्म का अपमान करने वाले कवियों के संबंध में आपने जो लिखा, वो ठाकुर की इसी कड़ी को आगे बढ़ाने वाला है।

    ReplyDelete
  31. पुरस्‍कारों की बंदर-बांट पर करारा तमाचा जड़ा है।

    ReplyDelete
  32. सुन्दर दबंग गीत..क्या बात है...

    ReplyDelete
  33. बहुत ही सटीक रचना

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  35. बहुत कुछ कह गया यह गीत
    सटीक !

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  37. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार- 28/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः7 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  38. सतीश भैया आप भी :)))))

    ReplyDelete
  39. लार टपकती देख ज्ञान की
    कुछ राजे, मुस्काते आये !
    मुट्ठी भर , ईनाम फेंकते
    पंडित गुणी , लूटने धाएं !
    देख दुर्दशा आचार्यों की , सर धुन रोते , मेरे गीत !
    दबी हुई,राजा बनने की इच्छा,खूब समझते गीत !

    सत्य को उद्घाटित करते गीत खुबसूरत ही नहीं गजब

    ReplyDelete
  40. -jyoti khare

    बेईमानी छिप न सकेगी,आशय खूब समझते गीत !
    हुल्लड़ , हंगामे पैदा कर ,नाम कमायें इनके गीत !------

    वाह- जो हो रहा है ,जो भोगा जा रहा है,उसका बेवाक चित्रण
    बहुत सटीक,सुंदर
    सादर
    ज्योति

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,