Tuesday, April 10, 2018

हेल्थ ब्लंडर्स 5 - सतीश सक्सेना

@कमज़ोर आदमी हूँ। कोई संकल्प लेता भी हूँ तो कमज़ोर इच्छा शक्ति की वजह से बहुत जल्दी टूट जाता है। इसका इलाज बताइये ?
7 अप्रैल को यह कमेंट पढ़कर अपने पुराने थके हुए दिन याद आ गए , दो वर्ष पूर्व कायाकल्प की शुरुआत में संकल्प पर
-आज घुटने में अजीब सा दर्द है
-कल रात देर से सोये थे सो आज नींद जरूरी है कल चलेंगे
-सप्ताह में रेस्ट आवश्यक है और उससे फायदा ही है
-आज पेट हैवी लग रहा है कल चलेंगे
-आज मौसम अधिक गर्म या वारिश होने वाली है
-अधिक उम्र में रोज नहीं दौड़ना है डॉ ने मना किया था
-मैं मेहनत बहुत कर रहा हूँ सो आज नहीं जाएंगे तो कोई फर्क नहीं पडेगा
-आज ट्रेफिक अधिक है सो बस एक चक्कर काफी है
अडिग रहने में सबसे बड़ी रुकावट खुद का मन होता है जो शरीर को परिश्रम करने से रोकने में सबसे बड़ी भूमिका अपनाता है ! यह इच्छा शक्ति को हर संभव कारण बताता रहता है कि आज कम दौड़ना है क्योंकि
और जैसे ही आप सहमत हुए उसका काम हो गया फिर कितनी ही कोशिश करें आपका पैर नहीं उठेगा !
मन की इस सुखद गंगा से निकलने के लिए खुद से एक ही बात कहता हूँ कि मर जाओगे बेट्टा अगर आलस किया तो, सोंचो कि सुनसान जंगल में रहकर अपने परिवार का पेट भरने के लिए कितनी दौड़ भाग करनी चाहिए और ऊपर वाले ने यह लम्बे हाथ पैर आराम के लिए नहीं बल्कि रोज दौड़ भाग के लिए दिए हैं अन्यथा खुद तो बर्बाद होंगे ही परिवार जो तुम पर निर्भर है वह भी दर दर भटकने को मजबूर हो जाएगा सो उठो और मजबूत रहने के लिए दौड़ो अगर हृदय स्ट्रोक और डायबिटीज से बचना है तब !

हमेशा याद रखें कि बॉडी कोर में अवस्थित शरीर के महत्वपूर्ण अंग ह्रदय ,लीवर ,किडनी , पेन्क्रियास ,फेफड़ों को स्वस्थ रखना है तो पैरों द्वारा body weight impact एक्सरसाइज (रनिंग) करने से ही कम्पन होगा और वे स्वस्थ रहेंगे अभी वे तीन तीन बार खा खाकर बैठे रहते हैं बिना हिला डुले, और खुद को फैट से लपेट कर बीमार बना लेते हैं और जल्दी ही मेडिकल व्यवसाय के दानव के चंगुल में होते हैं उसके बाद बचे हुए जीवन में, चाहते हुए भी हंस नहीं पाते !

रोज सुबह दौड़ने से पहले यथासंभव दंड बैठक ( squat and Planks exercise ) लगाकर सड़क पर निकलता हूँ और दौड़ के बाद पैरों की, जांघों की स्ट्रेचिंग बेहद आवश्यक है अन्यथा दर्द और मसल्स इंजरी का ख़तरा बना रहता है !
कुछ लोग आपको बहुत प्यार करते हैं उनके लिए जागिये अपनी शक्तिशाली समझ, समय रहते अपने शरीर की डिजाईन पर लगाइए निस्संदेह आप अपने शरीर का रोना महसूस करेंगे !
सस्नेह

5 comments:

  1. कोशिश कर रहे हैं जागने की जितनी जल्दी टूटे नींद उतना अच्छा।

    ReplyDelete
  2. सदा की तरह प्रेरणादायक पोस्ट !

    ReplyDelete
  3. सारगर्वित विचारणीय पोस्ट ... आभार

    ReplyDelete
  4. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' १६ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक में ख्यातिप्राप्त वरिष्ठ प्रतिष्ठित साहित्यकार आदरणीया देवी नागरानी जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,