Wednesday, February 23, 2011

हताश अपेक्षाएं - सतीश सक्सेना

जिनको पूरे जीवन आपने भरपूर प्यार किया हो , जिनके हर कष्ट को, आपने अपने दिल पर महसूस किया हो, अगर वही प्यारा, आपको मार्मिक चोट पंहुचाने लगे, तब कोमल दिल कहीं गहराई तक घायल होता है ! अक्सर इस चोट से आहत दिल, आने वाले समय में किसी भी प्यार और स्नेह पर विश्वास नहीं कर पाता  ! 


अपने प्यारों से अपेक्षा करने को, अक्सर मानवीय कमजोरी बताया जाता है , प्यार के साथ अधिकार की भावना आ ही जाती है  जबकि आपके अधिकार को,  उचित सम्मान देने वाले नहीं मिलते  और यह आवश्यक तो बिलकुल नहीं कि आपका प्यारा भी आपको उतना हो प्यार करे जितना आप कर रहे हों ! हताशा यहीं से शुरू होती है  ...

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो  हुई
लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया  ! 

आप सब लोगों का अक्सर एक ही सलाह होगी यहाँ ...अपेक्षा मत करिए !
मगर क्या संवेदनशील दिल को समझाना इतना आसान है ??

103 comments:

  1. बहुत संवेदनशील विचार ...... प्रेरणादायी हैं

    ReplyDelete
  2. सतीश जी ,
    आप की पोस्ट पढ़ कर किसी शायर का एक शेर याद आ गया कि ------

    जो उम्मीदें करेगा कम
    उसे सदमे भी कम होंगे

    सच्चाई तो यही है कि कभी कभी ये आशाएं और अधिकार हताशा में परिवर्तित हो जाते हैं जो बहुत तकलीफ़देह स्थिति होती है इसलिये बेहतर है कि उम्मीदें ही न की जाएं

    ReplyDelete
  3. दिल तो नादाँ है इसे यूँ ही तो बहलाया नहीं जाता
    जख्म जो दे अपना तो इतना सहलाया नहीं जाता

    पता नहीं क्यों दिल पे लगा बैठते है बातों को कुछ इतनी
    अमित क्या पता उन्हें कुछ खबर ना रही हो जख्मे दिल की

    ReplyDelete
  4. इस मन को कैसे समझाये ये तो उसी का प्यार करने से बाज नही आता जो उसे हताश करता है
    आपका कहना भी सही है कि अपेक्षा ना की जाये लेकिन से सम्भव कहाँ है प्रेम है तो अपेक्षा भी निश्चित है

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्‍दर प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्‍दर प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. कुछ जख्म दिखाये नही जाते
    कुछ प्रश्न उठाये नही जाते
    चुपचाप सह लो दर्दे गम
    कुछ् दिल बहलाये नही जाते

    बहुत वाज़िब सवाल है मगर वाज़िब जवाब नही। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. अपने प्रियजन से अपेक्षाएं तो स्‍वाभाविक रूप से होती ही हैं लेकिन यह सच है जब बार-बार उपेक्षा होने लगे तो व्‍यक्ति से समझ जाना चाहिए और अपेक्षा के स्‍थान पर अपने दिल को मजबूत कर लेना चाहिए। यह जोर जबरदस्‍ती का सौदा नहीं है।

    ReplyDelete
  9. बहुत संवेदनशील विचार .

    ReplyDelete
  10. सर सवाल तो सही है पर जितना आसान सा ये सवाल है उतना आसान इसका जवाब नही है। सदियॉ बीत जाएगी फिर भी इसका सही जवाब खोजना आसान नहीं होगा।

    ReplyDelete
  11. बशीर बद्र जी के इस शेर से इत्तेफाक है हमारा :

    पूजने से पत्थर भी देवता हो जायेगा,
    इतना मत चाहो उसे वो बेबफा हो जायेगा

    ReplyDelete
  12. satish ji,
    aapke vichar ache lage padhkar par apki salah mai nahi manungi mai to hamesha srshstha ki chah karti hun, bhalehi mile naa mile......

    ReplyDelete
  13. bahut sundar vichar, sanay mile to idhar bhi nazar mariyega :-

    http://taarkeshwargiri.blogspot.com/2011/02/blog-post_23.html

    ReplyDelete
  14. सर , इस दर्द का कोई इलाज नहीं | अगर बस मै होता अपेछायें करना -नाकरना इन्सान के,तो भगवान को कौन याद करता ............

    ReplyDelete
  15. कभी-कभी अपने इतना दर्द दे जाते हैं, इतना परायापन भर जाते हैं मन में कि भरी हुई आँखों के आँसू भी उनके नाम पर छलकने से मना कर देते हैं...अपेक्षाएँ मत कीजिए सही कहा आपने...एक कथन याद आ गया सतीश जी जाने कहाँ पढ़ा था - मैंने तुमपर आँखें बन्द कर विश्वास किया और तुमने मुझे ये जता दिया कि मैं अन्धा था...

    ReplyDelete
  16. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !
    सच्चाई तो यही है
    बहुत ही सुन्‍दर प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  17. चोट तो अपनों से ही पहुँचता है. दुश्मन थोड़े ही दिल दुखा सकते हैं. अपेक्षाएं करने से निस्संदेह दुःख मिलता है, पर हम कोई पत्थर तो नहीं कि अपनों से बिल्कुल भी उम्मीद ना करें.
    लेकिन मुझे लगता है कि कभी-कभी हम अति भावुकतावश या एकांगी सोच के कारण चीज़ों को गलत ढंग से ले लेते हैं. हो सकता है कि सामने वाले की वो मंशा ना रही हो या कोई मजबूरी रही हो... एक बार ठन्डे दिमाग से फिर से सोचिये. खुद को अगले की जगह रखकर देखिये. हो सकता है कि आपका दिल जिस बात से दुखा हो वो बात वैसी ना हो जैसी आप सोच रहे हैं. या हो सकता है कि सामने वाला भी उतना ही दुखी हो जितना आप.

    ReplyDelete
  18. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !


    सही कहा आपने, पर हमारा हाल तो इससे भी बुरा हुआ....

    इस दिल के टुकडे हजार हुये,
    कोई पांव तले कुचल गया कोई चार लठ्ठ मार गया


    रामराम.

    ReplyDelete
  19. कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता. कभी जमीं तो कभी आसमां नहीं मिलता.

    ReplyDelete
  20. कोई किसी का नहीं ये झूठे नाते हैं,
    नातों का क्या,
    कसमे वादे प्यार वफ़ा सब,
    बातें हैं बातों का क्या...

    होगा मसीहा...
    होगा मसीहा सामने तेरे,
    फिर भी न तू बच पाएगा,
    तेरा अपना खून ही आखिर तुझको आग लगाएगा,
    आसमान में उड़ने वाले मिट्टी में मिल जाएगा,

    कसमे वादे प्यार वफ़ा सब,
    बातें हैं बातों का क्या...

    सुख में तेरे....
    सुख में तेरे साथ चलेंगे,
    दुख में सब मुख मोड़ेंगे,
    दुनिया वाले...
    दुनिया वाले तेरे बन कर तेरा ही दिल तोड़ेंगे,
    देते हैं भगवान को धोखा,
    इनसान को क्या छोड़ेंगे,

    कसमे वादे प्यार वफ़ा सब,
    बातें हैं बातों का क्या...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  21. हरेक के प्‍यार करने का तरीका भी तो अलग होता है और कुछ आत्‍माएं देवदास बन कर ही समग्र/तृप्‍त होती हैं.

    ReplyDelete
  22. नहीं होता ... और किसी के कहने से कुछ होता भी नहीं है ... बल्कि कई बार बार तो खीज होने लगती है की हर कोई, सभी ऐसे कह रहे हैं ....
    समय अपने आप सब कुछ कर देता है ... बस इश्वर पर विशवास नहीं खोना चाहिए ...

    ReplyDelete
  23. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !


    बहुत प्रेरक और सार्थक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  24. कहनें को हम कितना भी 'निस्वार्थ प्यार' कह दें।
    पर जीवन की यही सच्चाई होती है।
    हर प्यार के साथ मोह सलग्न होता है।
    "मैनें निस्वार्थ प्यार किया बस इतना मान ले"
    यह भी एक अपेक्षा होती है।
    किसी से भी जितनी गहनता से लगाव रखें, प्रतिकूलता में दुख भी उसी गहनता से होता है।

    ReplyDelete
  25. अपनों से मिली चोट होती भी ज्यादा गहरी हैं... लेकिन क्या करें!!! प्यार और उम्मीद अधिकार को जन्म देती ही हैं. यह तो कुदरत का नियम है... हम इससे अलग कैसे हो सकते हैं???

    ReplyDelete
  26. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  27. अर्थात -
    कर्मण्ये वाधिकारस्ते मां फलेषु कदाचन:
    बहुत ही सुन्‍दर प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  28. अर्थात -
    कर्मण्ये वाधिकारस्ते मां फलेषु कदाचन:
    बहुत ही सुन्‍दर प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  29. bilkul sahi kaha bohot gehraee ki baat hai

    ReplyDelete
  30. मगर क्या संवेदनशील दिल को समझाना इतना आसान है ??

    -बस, यही तो मजबूरी हो जाती है भाई!!

    ReplyDelete
  31. ummid na rakhe..ye to sahi hai..lekin manav man ye manane ko tayar nahi hota....wo to sirf ummid pe rahta hai..:)...ki har jagah usko sirf aur sirf pyar mile...apekshaayen na ho...aisa ho sakta hai kya?

    ReplyDelete
  32. ummid na rakhe..ye to sahi hai..lekin manav man ye manane ko tayar nahi hota....wo to sirf ummid pe rahta hai..:)...ki har jagah usko sirf aur sirf pyar mile...apekshaayen na ho...aisa ho sakta hai kya?

    ReplyDelete
  33. आदरणीय सतीश जी ,
    जिन रास्तों पर सहजता से चलते जाते हैं ,उन
    रास्तों को कोई याद भी नही करता है । ठोकरें
    ही हाथ भी थामती है और राहे भी ।
    वैसे एक पुराना गीत है आपने अवश्य सुना होगा
    "है इसी मे प्यार की आबरू ,वो ज़फ़ा करे मै
    वफ़ा करू ...."

    ReplyDelete
  34. अब ये क्या हुआ ? मगर ये आपकी ही कोई कहानी नहीं है -यह राज की मेरी अपनी और उनकी कहानी भी है -
    दिल ही तो है न संगो खिस्त दर्द से भर न जाए क्यों
    रोयेंगें हम हजार बार कोई हमें रुलाये क्यों ?

    कर रहा था गमें जहां का हिसाब
    आज वे याद बेहिसाब आये ....

    ReplyDelete
  35. इस दर्द का कोई इलाज नहीं .

    ReplyDelete
  36. ऐसे सात दिन से तो आप हर दिन भले थे !


    फिलहाल मुझे मुक्ति की बात संतुलित नज़र आ रही है !

    ReplyDelete
  37. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !
    बहुत संवेदनशील विचार...

    ReplyDelete
  38. ये सब जीवन के कटु यथार्थ है....कभी ना कभी इनसे दो-चार होना ही पड़ता है...
    उम्र भर के लिए ये एक सीख दे जाते हैं और दिल को मजबूत भी कर जाते हैं....अगली बार चोट उतनी जोर से नहीं लगती.

    ReplyDelete
  39. हताशा अमूनन अपेक्षा से ही होती है.
    अपेक्षा मत रखिये .
    फिर जितना मिलेगा ,ज़्यादा लगेगा.
    जितना मिल रहा है,उतने के लिए भगवान् को धन्यवाद कहना मत भूलिए.
    सलाम.

    ReplyDelete
  40. बात सही है गुरुदेव! अपेक्षाओं से ही उपेक्षा का भय बना रहता है!
    सब शायरी कर रहे हैं,तो एक शेर मेरे ज़हन में भी कुलबुला रहा है.. समाद फ़रमाएँः
    तेरे जहान में ऐसा नहीं कि प्यार नहीं,
    जहाँ उम्मीद हो इसकी, वहाँ नहीं मिलता!
    आप तो ख़ुद ही मुझे सम्वेदनशीलता के इस ख़तरे से आगाह करते रहते हैं, फिर कैसा अफ़सोस!!

    ReplyDelete
  41. सुन्दर विचार सुन्दर आलेख बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  42. सुन्दर विचार सुन्दर आलेख बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  43. सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  44. दिल टूटेगा पर आवाज़ न होगी :(

    ReplyDelete
  45. अपेक्षा की दो बेटियाँ हैं
    आशा और निराशा
    तीनो जिस घर में रहती हैं उसका नाम दिल है
    दिल कांच का नहीं पारे का बना है
    टूटता है तो आवाज नहीं होती
    जर्रा-जर्रा बिखर जाता है
    जुटता है तो आवाज नहीं होती
    हौले-हौले संवर जाता है
    सब वक्त-वक्त की बात है
    कभी हमारे तो कभी
    तुम्हारे साथ है
    किसी ने कहा भी है..
    धैर्य हो तो रहो थिर
    निकालेगा धुन
    समय कोई।
    ....आपकी पोस्ट को पढ़कर जाने क्या लिख गया! कहीं कविता तो नहीं बन गई!

    ReplyDelete
  46. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !


    टुच वुड ....... मन की बात कह दी आपने.

    ReplyDelete
  47. मेरा कमेंट तो प्रकाशित हुआ नहीं। मैने तो उस कमेंट की एक पोस्ट भी बना दी!

    ReplyDelete
  48. ek bahut hi kadwa sach samne le aaye aap jo kabhi na kabhi sabko aahat kar jati hai.

    ReplyDelete
  49. " दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया ! "

    सत्य वचन !

    ReplyDelete
  50. कम शब्दों में सार्थक बात कह दी आपने.

    ReplyDelete
  51. अपेक्षाएं तकलीफ का कारण बनती हैं...किसी ने कहा है...
    नारियल का खोल टूटने पर नारियल को कुछ नहीं होता अगर नारियल खुद को सिकोड़ कर अपने बाह्य खोल से अलग कर ले...और टूटने के पश्चात वो साबुत बचा रहता है...

    ReplyDelete
  52. ek imandar rachana-----
    jo dil ki baat kahati hai----
    ki aaj aap ke saath kiya huya ------

    jai baba banaras----
    is dard ka marham kaha milaga -----
    ham jakar le aate hai----
    jai baba banaras---

    ReplyDelete
  53. खुदा की कसम जो पी रहा हूँ मैं साकी
    यदि जहर है तो भी दवा हो जायेगा....
    क्या भाई जी दुःख न हो तो सुख का एहसास कैसा.
    हमारे प्रिय कवि स्व.रूपनारायण जी कहा करते थे-
    ये तो यार दुनिया है ,करवटें बदलती है,
    कभी ये फिसलती है कभी ये संभलती है.

    ReplyDelete
  54. नही आराम, नही एक टीस मिल जाती हे, एक ऎसा जख्म जो जिन्दगी भर का दर्द दे देता हे,
    बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete

  55. सँभवतः सँदर्भ
    वाह से आह तक का है !

    ReplyDelete
  56. कहीं मेरे लिए ही तो नहीं लिखी आपने ये पोस्ट ......
    ): ):

    पर दिलतो नादां है समझता ही नहीं
    उम्र भर का आराम चाहता ही नहीं ......

    ReplyDelete
  57. @यह आवश्यक तो बिलकुल नहीं कि आपका प्यारा भी आपको उतना हो प्यार करे जितना आप कर रहे हों

    बिलकुल सही कहा वैसे कहते है की प्यार कभी किसी से अपेक्षाए नही करता है वो तो निस्वार्थ भाव से किया जाता है बिना किसी चीज के इच्छा किये |

    ReplyDelete
  58. अपेक्षा ही हताशा की जननी है. इसके साथ जियें या इसके बिना, इच्छा हमारी ही है.


    नोट : मेरे उपरोक्त विचार आपके लेख को पढ़ कर ही उत्पन्न हुए हैं जिन्हें मैं "तेरा तुझको अर्पण" वाली तर्ज पर यहाँ टिपण्णी रूप में दर्ज कर रहा हूँ. इस टिपण्णी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य नहीं है. आप इसे उधार में दी गयी टिपण्णी समझ कर प्रतिउत्तर में मेरे ब्लॉग पर टिपण्णी करने के लिए बाध्य नहीं हैं.

    ReplyDelete
  59. लेकिन यहाँ आगाह करने से कुछ नहीं होता !

    ReplyDelete
  60. जब जरुरी नहीं की आपका प्यारा आपको भी प्यार करे तो अपेक्षा यही ख़त्म हो जाती है ..
    संवेदनशील लोगों को एक बार चोट लगती है , अगली बार के लिए मजबूत हो जाते हैं ..
    अच्छा लिखा है !

    ReplyDelete
  61. कुछ मसले बेहद नाज़ुक और निजी होते हैं उन पर प्रतिक्रया देना अटपटा सा लगता है लेकिन आपकी पोस्ट पढ़ कर रोक नहीं पाई स्वयं को !
    "काँटा निकला पीर गयी !"
    जिस प्यार की किसीको कद्र ही ना हो और जो इसका मोल ही ना समझे उसे वहाँ व्यर्थ लुटाने से क्या फ़ायदा ! तकलीफ तो बहुत होती है इसमें कोई शक नहीं लेकिन समय के साथ यह ज़ख्म भी भर ही जायेगा ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  62. .

    आदरणीय सतीश जी ,

    सच कहा आपने , कभी कभी ऐसा भी होता है की जिसे हम बहुत प्यार करते वो हमें निराश कर देता है । लेकिन ये उस व्यक्ति की समझ का दोष है जिसने प्यार का मोल समझने में भूल कर दी । लेकिन प्यार एक शाश्वत सत्य है । वो व्यक्ति जो भी है , आपसे थोड़े समय नाराज़ तो रह सकता है लेकिन आपके प्यार में इतनी शक्ति है की उसे वापस खींच लाएगी । ऐसा मेरा विश्वास है ।

    अपेक्षाएं जीवन का अभिन्न अंग हैं । कभी-कभी यही अपेक्षाएं दिल कों इतनी जोर से निचोड़ती हैं की पिछला सारा दर्द निकल जाता है और एक नयी ऊर्जा का संचार करता है ।

    आप हताश मत हुआ कीजिये , मैं उदास हो जाती हूँ।

    सादर ,

    .

    ReplyDelete
  63. दुख से जूझना दुख देता है, स्वीकार करना शान्ति। स्वीकार कर लीजिये।

    ReplyDelete
  64. नहीं सतीश भाई ,
    अपेक्षा तो करनी ही चाहिए , या फ़िर ये कहिए न कि ये तो स्वयमेव ही हो आती है , किससे , कितनी , क्यों ? ये अलग मसला है ? आखिर अपेक्षाएं टूटेंगी तभी तो उनमें से सत्य और दर्द निकल कर सामने आएगा ..वर्ना जीवन तो सपाट ही चलता जाएगा । इसलिए अपेक्षाएं करते रहिए ..और उन्हें टूटने या पूरा होने के छोड दीजीए ...

    ReplyDelete
  65. ye man ke andar ke bhaw hain...prayah
    roj hi hum sab samvedanshil prani ko
    .....dainik roop se is bhaw ko jina
    parta hai......

    apekshyayen kyon na hon? ...........
    discovery par dekhte hain....kit-patang aur phool-vanaspati me bhi paya jata hai.....

    ek baat aap nishit roop se jaan len
    harek vyakti ke apne kuch "maulik acharan hain" apki vishit ta kisi se chupi nahi hai.....

    lekin mere 'jaiki dada'....kya apne kabhi socha 'ek apke dukhi hone' se
    kitne log dukhi hote hain......oon kitno me se kaion ko sayad rone ko kandha bhi na milta ho.....

    isi post par aap ek 'light le yaar'
    mod me mast tippani den.....nahi to balak kutti pa lega.....

    pranam.
    pranam.

    ReplyDelete
  66. सतीश जी ! दुखती रग को छेड़ता है आपका लेख

    ReplyDelete
  67. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !
    बहुत ही संवेदनशील और प्रेरणादायक विचार ..
    अपेक्षा मत करिए !
    मैं आपके इस विचार से बिलकुल सहमत हूँ ..अपेक्षा नहीं होगी तो हताशा भी नहीं होगी..

    ReplyDelete
  68. हम प्यार करते हैं प्यार पाने के लिए ! अन्यथा कोई कारण नहीं की जिसे जीवन भर प्यार दिया और जिसके कष्ट को अपना वो हमें कोई चोट पहुंचा सके ! घरेलू इलाज़ तो कोई नहीं इस समस्या का !वैसे ; जब चोट खाया दिल ये बातें समझने लगता है तो उसका दर्द भी कम होने लगता है ! प्रेम अन-कंडीशनल ही होना चाहिए ! बहुत ही अच्छे विचार लिखे हैं आपने !एक सच्चाई ! धन्यवाद

    ReplyDelete
  69. @ डॉ आराधना चतुर्वेदी,
    आपकी बात और सलाह दोनों मान ली हैं, यकीनन कष्ट में आराम है ! फीस बताइए कहाँ भिजवानी है ?
    आभार !

    ReplyDelete
  70. @ प्रज्ञा ,
    @ - मैंने तुमपर आँखें बन्द कर विश्वास किया और तुमने मुझे ये जता दिया कि मैं अन्धा था...
    यही अहसास था प्रज्ञा ! आभार

    @ ताऊ रामपुरिया ,
    वाकई ताऊ ...आपका दर्द महसूस कर सकता हूँ !

    @ सुज्ञ ,
    किसी से भी जितनी गहनता से लगाव रखें, प्रतिकूलता में दुख भी उसी गहनता से होता है
    अफ़सोस यही रहा अन्यथा दुःख क्यों होता ! आभार आपका

    @ संजय झा ,
    तुम्हारा अपनापन हर वाकया से झलकता है यार ! क्यों कर्ज़दार बनाते जाते हो !
    मैं हमेशा हर बात को हलके में ही लेता रहा हूँ ! दुखी होना मेरे स्वभाव में ही नहीं मेरे भाई ! मगर कई बार कुछ प्यारे ऐसा कर जाते हैं तो सोंचा इस बार ब्लॉग पर साझा करूँ शायद कुछ मित्र सबक लें ! एक अनुरोध है आगे से रोमन में न लिखकर हिंदी में लिखा करो अथवा मैं...

    ReplyDelete
  71. सतीश जी , आपको भी हार्दिक शुभकामनायें ...कमेन्ट तो सभी अच्छा ही करते हैं पर आपका कमेन्ट मुझे एक जिम्मेवारी दे रहा है कि मुझे और बेहतर करना है ... उपरवाले की कृपा .. मुझे भी अपनी हर रचना की उत्सुकता से प्रतीक्षा होती है कि ..अब क्या उतरेगा ..परिणाम आप सबों के सामने है .रही बात आपकी लेखनी की तो ........प्रत्यक्षं किम प्रमाणं..

    ReplyDelete
  72. आद. सतीश जी,
    आपके इस संवेदनशील लेख ने न जाने कितने लोगों को शुकून की रोशनी दी होगी !
    आभार एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  73. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  74. मगर क्या संवेदनशील दिल को समझाना इतना आसान है ??....

    समझाना बिलकुल आसान नहीं होता...संवेदना ही तो है जो इंसान को रुलाती भी है, हंसाती भी है।

    .....गहन चिन्तनयुक्त विचारणीय पोस्ट ...

    ReplyDelete
  75. aapki yah snavednaa se bhari post kal bhi charchamanch par hogi... bahut sundar aur dard me doobi..

    ReplyDelete
  76. अपने प्यारों से अपेक्षा करने को, अक्सर मानवीय कमजोरी बताया जाता है
    .
    सही तो है लेकिन यह कमजोरी सभी के पास हुआ करती है. मैंने भी इस ब्लॉगजगत मैं कुछ को अपना मान के अपेक्षा कि और तकलीफ हुई. लेकिन

    दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !.

    ReplyDelete
  77. 'दुःख' और 'दिल' पर इतने अनुकरणीय लोगों के इतने अच्छे विचार आ चुके हैं कि चुप रहना बेहतर होगा फिर भी दिल है कि ससुरा मानता नहीं !

    धूप-छाँव का खेल भर है जी , और ज्यादा सीरियसली किसी को लीजिये ही न , हाँ मुझे भी , ब्लॉगबुड में रहने के बाद भी यह सीख न आ सके तो समझिये ब्लागरी ने आपके व्यक्तित्व को एकदम 'इनक्रीज' नहीं किया ! :)

    देव , अब हबीब पेंटर साब' की यह कौव्वाली गौर से सुनिए , बहुत कुछ कहती है :
    http://www.youtube.com/watch?v=47hSVU0ajtg&feature=related

    और ... इस तरह से दुःख-चर्चा से कुछ लप्पू-झन्ना/झन्नी भी दुखी नहीं बल्कि खुशी ही होते हैं , काहे मौक़ा देना किसी को जी ! :)

    ReplyDelete
  78. पृष्ठभूमि नहीं मालूम,हम तो इतना मात्र जानते हैं कि जो होता है अच्छे के लिये होता है।
    बड़े भाई, मस्त रहने का। एक जगह ठोकर लगी तो सफ़र रुकता नहीं।
    वैसे पता है कि आप सुधरने वाले हैं नही:)) और बेसिक कैरेक्टर को बदलना आसान भी नहीं।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  79. बहुत ही सुन्‍दर प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।
    कभी समय मिले तोhttp://shiva12877.blogspot.com ब्लॉग पर भी अपनी एक नज़र डालें
    कृपया फालोवर बनकर उत्साह वर्धन कीजिये.

    ReplyDelete
  80. जब ज़रूरत से ज्यादा उम्मीदें की जाती हैं तभी हताशा होती है ....

    ReplyDelete
  81. कुछ जख्म दिखाये नही जाते
    कुछ प्रश्न उठाये नही जाते
    चुपचाप सह लो दर्दे गम
    कुछ् दिल बहलाये नही जाते

    बहुत संवेदनशील विचार ...... शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  82. दो पंक्तियाँ मेरी तरफ से भी ..

    ये ऋतुओं का बदलना तो, मुझे भी खूब भाता है !
    यूँ अपनों के बदलने का,चलन भाया नहीं मुझको !!

    ReplyDelete
  83. अच्छी प्रस्तुति
    आशा

    ReplyDelete
  84. सच कहा है आपने. दुख होता है. बहुत दुख होता है.

    ReplyDelete
  85. आपने बा ओ सौ आने सच कही
    मगर ये कहाँ मुंकिन हो पाता है कि बिना किसी उम्मीद के प्यार किया जाय , कम से कम मिलन की उम्मीद तो की ही जाती है ।
    और यही कभी कभी उम्र भर के गम का सबब बन जाता है ।
    दर्द तो मिट जाते है ऐसा समझ लेते हम भी , गर जख्मों के निशा मिटाने का नुस्खा कोई बता देता ........

    ReplyDelete
  86. प्यार में अपेक्षाएं, दिल का टूटना और फिर उपेक्षा...जीवन भर यही सब तो चलता है।

    ReplyDelete
  87. संवेदना से जुड़ी हुई,विचारणीय,सुन्दर पोस्ट.

    ReplyDelete
  88. सतीश जी,नमस्कार !
    आप की जिंदादिली का कायल हूँ मैं ,
    हताशा का नही | मैं यहाँ आप सब से कुछ सीखने आया हूँ | अभी टिप्पणी के तो मैं काबिल ही नही पर आप से उम्र मैं बड़ा होने के नाते एक बात केहना चाहता हूँ ?
    लोगो के लिए आप तब तक अच्छे हो ,जब तक आप उनकी उम्मीदों को पूरा करते हो और सभी लोग अच्छे हैं ,जब तक आप उनसे कोई उम्मीद न करो |

    खुश और सेहतमंद रहें |

    ReplyDelete
  89. दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !
    ..बहुत सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  90. विचारणीय प्रस्तुति. पर आखिर कब तक विचार करें ????

    ReplyDelete
  91. मानव जीवन अपेक्षाओं से मुक्त हो ही नहीं सकता.

    पोस्ट में कुछ अधूरापन सा है...ऐसा लगा कि आप बहुत कुछ कहते-कहते रुक गए
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !
    कहाँ का आराम जनाब ?
    जिन्दगी भर कसक बनी रहती है.

    सुन्दर पोस्ट है.

    ReplyDelete
  92. आपकी पंक्तियों को कुछ इस तरह पूरा करना चाहूँगा
    दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई
    लेकिन तमाम उम्र का आराम मिल गया !
    हम जिसे समझ ना सके उम्र भर ,
    उसी सवाल से ज़िन्दगी का जवाब मिल गया
    तमाम उम्र का आराम मिल गया .................................

    ReplyDelete
  93. सतीश जी, दिल तो बच्चा है जी। समझाएंगे तो मान ही जाए।

    ReplyDelete
  94. aapne bahut sahi baat kahi hai , lekin sir , jiska dil tutta hai , wahi to dard ko jaanta hai ... lekin aapke sher ne sahi message pahuncha diya, thode der ki takleef hi sahi , lekin umr bhar ka aaram to mila.

    aapko bahut saadhuwaad.

    vijay

    -----------
    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .
    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.
    """" इस कविता का लिंक है ::::
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html
    विजय

    ReplyDelete
  95. एक गुज़ारिश--- लेख की स्याही कुछ गहरी करें, पढ़ने में कठिनाई होती है :)

    ReplyDelete
  96. पहली पोस्ट और ये पोस्ट में थोड़ी बहुत समानता भी मुझे इसलिए लगी की आजकल जो हालात देख रहा हूँ अपने आसपास वो लगभग ऐसे ही हैं...
    और आपने अंकल एकदम सही बात कही है...

    ReplyDelete
  97. आपकी पोस्‍ट से बहुत कुछ सीखने योग्‍य मिला।

    ReplyDelete
  98. प्यार तो प्यार है, दुत्कार से भी कम नहीं होता।

    ReplyDelete
  99. abhi tak pyaar nahi hua hain isliye is dard ka ehsaas hi nahi hain

    ReplyDelete
  100. pyaar nahi hua hain isliye iska ehsaas nahi hain toh aur kuch nahi keh sakti hoon

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,