Friday, November 25, 2011

बुनियाद.... -सतीश सक्सेना


                  सामाजिक परिवेश में रहते हुए हमारे अपनों को, बहुत कम मौकों पर एक दूसरे की तरफ ,याचना युक्त द्रष्टि से देखा जाता है, हर हालत में इस नज़र का सम्मान किया जाना  चाहिए ! अपने ही घर में, महज अपनी आत्मसंतुष्टि  के लिए, अपनों को निराश करने की प्रवृत्ति , मानवीय प्रवृत्ति नहीं कही  जा सकती निस्संदेह ऐसी प्रवृत्तियों को समाज, समय के साथ ऐसा ही जवाब देगा मगर शायद तब तक समझने में, बहुत देर हो चुकी होगी !
                 किसी से भी आदर पाने के लिए स्नेह और आदर देना आवश्यक होता है ! और यही मजबूत घर की बुनियाद होती है !हमारे  होते , अपनों की आँख से आंसू नहीं गिरने चाहिए ,इन आँखों से गिरता हर आंसू, स्नेहमाला के टूटते हुए मोती हैं ....
               गंभीर और कष्टकारक स्थितियों में, हमें अपने बड़ों का साथ देना चाहिए न कि हम उनका उपहास करें और उनकी कमियां गिनाते हुए उपदेश दें , ऐसे  उदाहरण, मात्र क्रूरता माना जायेंगे ! ममता भरे आंसुओं को न पहचान सकने वाले अभागे हैं , भविष्य और इतिहास ऐसे लोगों को कभी  प्यार नहीं करेगा !


जब समय लिखे इतिहास कभी
जब  मुस्काए, तलवार कभी,
जब शक होगा, निज बाँहों पर ,
जब इंगित करती आँख  कहीं 
जब बिना कहे दुनिया जाने,  कृतियाँ, जीवित कैकेयी   की !
हम बिलख बिलख जब रोये थे, परिहास तुम्हारे चेहरे पर !
                         
                      निरंतर परिवर्तनशील समाज, किसी को भी, लगातार राज करने की स्वीकृति नहीं देता है ! जो आज ताकतवर है वह कल कमजोर होगा और जो आज कमजोर है वह कल राज करेगा ! वे मूर्ख हैं जो आज कमजोर की याचना का मान नहीं रखते ! गर्व को हमेशा झुकना पड़ा है और जीत विनम्रता की ही होती आई है!


साजिश है आग लगाने की
कोई रंजिश, हमें लड़ाने की
वह रंज लिए, बैठे दिल में
हम प्यार, बांटने निकले हैं!
इक सपना पाले बरसों से,लम्बी यात्रा पर जाने को     
हम आशा भरी नज़र लेकर, उम्मीद लगाए बैठे हैं !


तुम शंकित, कुंठित मन लेकर,
कुछ पत्थर हम पर फ़ेंक गए,
हम समझ नही पाए, हमको 
क्यों मारा ? इस बेदर्दी से 
फिर भी आँखों में अश्रु भरे, देखें तुमको उम्मीदों से !  
हम चोटें लेकर भी दिल पर, अरमान लगाये बैठे हैं !


                  भाई बहिन  के मध्य स्नेह को मैं बहुत महत्व देता हूँ , विवाह उपरान्त बहिन अपने पूरे जीवन, भाई की ओर आशान्वित निगाहों से देखती है जिसमें अपने प्रति भाई के प्यार का भरोसा रहता है ! यही भरोसा उसके जन्मस्थान से उसको जोड़े रहने में सहायक होता है ! जो लोग इस विश्वास स्नेह भरी नज़र को सम्मान नहीं दे पाते वे सच्चे प्यार को शायद ही कभी समझ पायेंगे !


किस घर को अपना बोलूं माँ  
किस दर को , अपना मानूं  !
भाग्यविधाता ने क्यों मुझको 
जन्म दिया है , नारी का, 
बड़े दिनों के बाद, आज भैया की याद सताती है 
पता नहीं क्यों सावन में पापा की यादें आती है !


                   अक्सर नारी ही कष्ट क्यों उठाती है ? उसे ही समझने में क्यों भूल की जाती है ? पुरुष प्रधान समाज में  पुरुषों का  अहम् , कोमल और स्नेही स्वभाव, माँ और बहिन को अक्सर रुलाता है !
इस सम्बन्ध में बेटी से मेरा कहना है ....


नर नारी में परम त्याग ,
कीशिक्षा देती है नारी ही ,
माता,पिता सहोदर भाई
और छोड़ती है निज घर को
भूल के बीते दिन की बातें, नयी रोशनी लानी होगी !
पहल करोगी अगर नंदिनी,घर की रानी तुम्ही रहोगी


सारा जीवन किया समर्पित
परमार्थ में नारी ही ने ,
विधि ने ऐसा धीरज लिखा
केवल भाग्य तुम्हारे में ही
उठो चुनौती लेकर बेटी , शक्तिमयी सी तुम्ही दिखोगी !
पहल करोगी अगर नंदिनी, घर की रानी तुम्ही रहोगी !

                   अन्याय और क्रूरता सहती ये महिलायें, कष्ट इसलिए सह रही हैं कि वे हमें प्यार करती हैं और इसी स्नेही और ममत्व स्वभाव की सजा को अक्सर महिलायें भोगती आई हैं !

हम पुरुष कब तक इस स्नेह को बिना पहचाने, आदिकालीन भावनात्मक शोषण जारी रखेंगे   ?
कई बार मुझे लगता है कि विद्रोह का समय आ गया है ...

भविष्य की मजबूत बुनियाद के लिए इन लड़कियों को मज़बूत होना चाहिए... 
इन्हें समझना होगा कि प्यार की भीख नहीं मांगी जाती !

61 comments:

  1. बुनियादों की बात करती हुई सारगर्भित पोस्ट!
    बेटी को संबोधित कर कही गयी आपकी पंक्तियाँ आँखें नम कर गयी!

    ReplyDelete
  2. पुरुष जब तक पुरुष होने के दंभ में जीते रहेंगे और अपने चारो और फैले इस आभामंडल को ध्वस्त नहीं करेंगे तब तक ऐसा चलता ही रहेगा. आवश्यकता गभीर प्रयासों की है.

    ReplyDelete
  3. आप जैसे स्वस्थ परिपक्व विचार हो जायं लोगो के तो यह संसार -ब्लोगजगत स्वर्ग न बन जाय ....

    ReplyDelete
  4. जो विश्वास, स्नेह भरी नज़र को सम्मान नहीं दे पाते वे सच्चे प्यार को शायद ही कभी समझ पायेंगे !
    ............
    परम पिता परमात्मा उन्हें कभी माफ़ नहीं करेगा !

    ReplyDelete
  5. 'हम बिलख बिलख जब रोये थे, परिहास तुम्हारे चेहरे पर !'

    यह पंक्ति बहुत प्रभावित करती है.

    बेटी के बहाने नारी के लिए आपकी सोच अभिनंदनीय है.दिल के भाव कागज पर उतारना एक मंझे हुए कवि के ही बूते की बात है !
    आखिरी पंक्तियाँ भावुक कर देती हैं !

    ReplyDelete
  6. सारा जीवन किया समर्पित
    परमार्थ में नारी ही ने ,
    विधि ने ऐसा धीरज लिखा
    केवल भाग्य तुम्हारे में ही

    सब कुछ अभिव्यक्त कर दिया आपने इन पंक्तियों में ...!

    ReplyDelete
  7. सारा जीवन किया समर्पित परमार्थ में नारी ही ने ,
    विधि ने ऐसा धीरज लिखाकेवल भाग्य तुम्हारे में ही
    उठो चुनौती लेकर बेटी , शक्तिमयी सी तुम्ही दिखोगी !
    पहल करोगी अगर नंदिनी, घर की रानी तुम्ही रहोगी !

    kya baat hai sir !
    ap ke geet to hamesha hi prabhavshali hote hain aur is bar to ek alag hi chhata bikhar rahi hai
    nari ke prati ap ki aadarpoorn bhavnaon ko naman !!

    ReplyDelete
  8. जिस दिन भारत अपनी पुरानी संस्‍कृति को धारण कर लेगा उस दिन से ही महिलाएं वास्‍तविक रूप से परिवार की स्‍वामिनी होंगी
    । हमारे यहाँ माँ गृहस्‍वामिनी थी लेकिन वर्तमान में पत्‍नी ने यह स्‍थान ले लिया है। इसलिए प्रत्‍येक महिला केवल नारी बनने पर ही तुल गयी है और पुरुष भी उसे माँ की दृष्टि से नहीं वरन केवल नारी की दृष्टि से देख रहा है।

    ReplyDelete
  9. भविष्य की मजबूत बुनियाद के लिए इन लड़कियों को मज़बूत होना चाहिए...
    इन्हें समझना होगा कि प्यार की भीख नहीं मांगी जाती !


    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ... अपनी ही लिखी रचनाओं से एक सुन्दर और सार्थक पोस्ट आपने पढवाई और सोचने पर विवश भी किया ... आभार

    ReplyDelete
  10. जब समय लिखे इतिहास कभी
    जब मुस्काए, तलवार कभी,
    जब शक होगा, निज बाँहों पर ,
    जब इंगित करती आँख कहीं

    बेहतरीन शब्‍दों का संगम है यह अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  11. नारी के प्रति बहुत स्नेह और सम्मान है आपके ह्रदय में जो आपके लेखन से झलक रहा है. बेटी को संबोधित कर कही गयी आपकी पंक्तियाँ भावुक कर गयी... आपके जैसे विचार तो इस दुनिया को बहुत सुन्दर बना देंगे स्वर्ग से भी सुन्दर.... शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  12. हमेशा की तरह एक सारगर्भित पोस्ट। आपको जितना अधिक जान रहा हूँ, आपके प्रति सम्मान की भावना उतनी ही बढती जाती है।

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब सर .....आप की मर्म लेखनी ब्लॉग जगत में आपको भीड़ से अलग करती है.... सादर

    ReplyDelete

  14. @ स्मार्ट इंडियन ( अनुराग शर्मा ) ,
    ब्लॉग जगत में से मेरी नज़र में सम्मानित सदस्यों में, आप का उच्च स्थान पर हैं !
    आपकी विद्वता और आदर्श मेरे लिए हमेशा न केवल सराहनीय रहे हैं बल्कि उनका अनुसरण करने का प्रयत्न करता हूँ !
    यहाँ आपका अभिनन्दन है !

    ReplyDelete
  15. इन्हें समझना होगा कि प्यार की भीख नहीं मांगी जाती !

    ्बिल्कुल सही कहा और आपने एक गंभीर मुद्दे को उठाया है पूरी संवेदनशीलता के साथ्…………बहुत सुन्दर्।

    ReplyDelete
  16. वह रंज लिए, बैठे दिल में
    हम प्यार, बांटने निकले हैं!
    bhawon se bhari bahut sunder rachna......

    ReplyDelete
  17. सुन्दर अभिव्यक्ति.....आभार

    ReplyDelete
  18. गीतों से रची आपकी यह पोस्ट निसंदेह
    बहुत सार्थक सन्देश दे रही है !
    विद्रोह अगर सकारात्मक होता तो हमारी
    सारी सभ्यता हार्दिक हो सकती थी !
    इस विद्रोह से बड़ी तेजी से घर परिवार
    टूट रहे है यह भी एक सच्चाई है !
    आभार अच्छी पोस्ट के लिये !

    ReplyDelete
  19. भूल के बीते दिन की बातें, नयी रोशनी लानी होगी !
    पहल करोगी अगर नंदिनी,घर की रानी तुम्ही रहोगी

    बहुत ही संवेदनशील......सारगर्भित रचना ...बधाई आपको सतीश जी ...

    ReplyDelete
  20. क्या कहूँ आपकी इस रचना के बारे में जिसमें अनेक रंग समाये हैं बहुत ही भावनातंक एवं विचारणीय प्रस्तुति... जब तक नारी सोच खुद के प्रति खुद नहीं बदलेगी और कोई उसे नहीं बदला सकता....संगीता जी की बात से सहमत हूँ। आपको कभी समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका सवाग्त है http://mhare-anubhav.blogspot.com/2011/11/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  21. बदलाव तब आयेगा जब बहू और बेटी में फरक ख़तम होगा
    बेटी अगर बहू बनेगी और अपने को असुरक्षित महसूस करेगी तो आप की क़ोई भी धर्य रखो जैसी शिक्षा काम नहीं आएगी
    बेटी अपनी हो या दूसरे की { यानी बहू } जब तक दोनों बराबर नहीं होगी तब तक बदलाव की बात करना बेकार हैं .
    हर पुरुष बेटी को विदा करते समय इतना सशंकित क्यूँ हो जाता हैं किस से उसको आशंका हैं और किस से वो अपनी बेटी को सुरक्षित करना चाहता हैं .
    2008
    जब आप ने ये कविता पहले पोस्ट की थी मैने कहा था जब भी कोई ख़त मेने पढ़ा हैं चाहे माँ लिखे या पिता , पुत्री को ही सीख और संस्कार दिये जाते हैं . क्या इसकी कोई ख़ास वजह हैं की कभी भी कोई ख़त किसी माँ या पिता नए अपनी पुत्र को नहीं लिखा हैं , ना कभी किसी पुत्र को संस्कार देने की बात की गयी हैं . क्यों ?? क्या इस लिये की लड़किया संस्कार विहीन पैदा होती हैं , या इसलिये की लड़के हमेशा सम्स्काओ के साथ दुनिया मे आते हैं ? या इस लिये की घर का मतलब हैं नारी की सारी जिम्मेदारी , फिर चाहे वोह माँ , हो या बेटी या सास या बहु ?? कभी कोई ख़त किसी पुत्र को भी लिखा जाता , चाहे माँ लिखती या पिता , या ससुर तो शायद भारतीये संस्कारो की गरिमा को कुछ आगे ले जाया जाता . http://satish-saxena.blogspot.com/2008/07/blog-post.html?showComment=1215355800000#c176490314890833262

    तब आप का उत्तर फरक था और आज २०११ में आप की पोस्ट वो कह रही हैं जो मैने तब कहा था

    ReplyDelete
  22. कल 26/11/2011को आपकी किसी पोस्टकी हलचल नयी पुरानी हलचल पर हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  23. विचारणीय आलेख ,आपके विचार सराहनीय हैं ..

    ReplyDelete
  24. बहुत ही मर्मस्पर्शी रचनाएं...गद्द्य और पद्द्य दोनों ही...

    ReplyDelete
  25. हर एक पंक्ति सार्थक है..

    ReplyDelete
  26. नारी के प्रति सम्मान रखने वाले व्यक्ति को ..शत शत नमन ....

    शब्दों से दिल को छू लेने वाले लेखन के लिए बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  27. भाव भरा उद्बोधन!!

    मन को अन्दर तक आन्दोलित कर देती अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  28. आपके विचार कित्ते अछे लगते हैं ..और चित्र भी तो .

    ReplyDelete
  29. ज़ाहिर है कि रचना पर आपसे व्यक्तिगत आलाप ही चाहूंगा !

    कुछ बंदे ज़ज्बातों और गणित में भेद नहीं करते पर मैं आपको सारे गणित से ऊपर गिनूंगा ! अमूमन मित्रों को जितना ज्यादा जानों उतनी ही पोल खुलती है लेकिन आपके मसले पर यह स्मार्ट इन्डियन के कहन जैसी है :)

    ReplyDelete
  30. विचारणीय पोस्ट है- बहुत से प्रश्न उठाती हुई .

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर ज़ज़्बात ।
    बेटी के लिए सही सीख है ।
    बेटियों को भी आत्मनिर्भर होते हुए भी अपने संस्कारों का पालन करते हुए परिवार में परस्पर प्यार बनाये रखने में अपना सहयोग देना चाहिए ।
    गीतों की सुन्दर पंक्तियाँ पहले भी पढ़ी हैं ।

    ReplyDelete
  32. और हाँ भाई जी , आप जो कहना चाहते थे , खुलकर कह सकते हैं । अब सब खुल रहा है । :)

    ReplyDelete
  33. मानवीय संबंधों और उनसे जुड़ी संवेदनाओं पर लिखी बहुत सुंदर पोस्ट. बहुत बढ़िया सक्सेना जी.

    ReplyDelete
  34. बड़े भाई!
    ये बुनियादी सीख... आपको जाना है, तब जाना है कि रिश्ते किसे कहते हैं और रिश्तों को निभाना क्या होता है!! जीवन के गणित में दोस्त उँगलियों पर नहीं धड़कनों में गिने जाते हैं!!
    सादर!

    ReplyDelete
  35. कवितामयी विचारमयी सोच के लिए मजबूर करती पोस्ट॥

    ReplyDelete
  36. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुती....

    ReplyDelete
  37. एक अर्थपूर्ण पोस्ट हर तरह से .. सुंदर आव्हान लिए और हमारी बुनियादों की बात करते हुए .....

    ReplyDelete
  38. बड़ी ही सारगर्भित सोच और पारदर्शी जीवनशैली, पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  39. सुन्दर अभिव्यक्ति.....आभार

    ReplyDelete
  40. बहुत लाजबाब प्रस्तुति !
    बधाई !

    ReplyDelete
  41. बहुमूल्य प्रस्तुति.... अंतर को स्पर्श करती...
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  42. आप का लेखन अब आदरणीय स्थान हासिल कर चुका है सतीशजी| आपको कई नवलेखक अपना मार्गदर्शक मानते हैं और मुझे लगता है हमसब शत-प्रतिशत सही हैं|

    हार्दिक शुभकामनायें आपके परिवार के लिए :]]]]

    ReplyDelete
  43. दादा ... आपके मन के जज्बातों को समझते हैं... और आपका लेखन दूसरों को सोचने पर मजबूर करता है... उन्ही में से एक है आज की ये पोस्ट...

    साधुवाद.

    ReplyDelete
  44. बहुत सारगर्भित प्रस्तुति...आप की सोच आज के समय बहुत प्रेरक और अनुकरणीय है...आभार

    ReplyDelete
  45. फिर आया हूँ -पहली बार से संतृप्ति नहीं ले पाया था -आज फिर से इस अनुपम गीतिका दर्शन को पढ़ा -
    महिलाओं को अंतिम उद्बोधन ठीक है मगर पुरुष के अपमान की बिना पर नहीं भाई साहब !:) बाकी तो यह पोस्ट नहीं
    जीवन दर्शन की एक संदर्भिका है -आपसे बहुत आशाएं हैं !

    ReplyDelete
  46. इन बातों को दोहराते रहना जरूरी है।

    ReplyDelete
  47. इस पोस्ट में कई बतें ऐसी हैं जो दिल को छु गईं और विचार मंथन के लिए छोड़ गईं।
    सदियों से शोषित वर्ग के प्रति आपके चिन्ता मुखर है और प्रेरित करती हैं कि इसके विरुद्ध आवाज़ उठाया जाए।
    कविता काफ़ी ओजपूर्ण और सुन्दर है।’बहुत अच्छी पोस्ट।

    ReplyDelete
  48. ऊपर से तो सब कुछ शुभ-शुभ चला आ रहा था। बस,लास्ट पैरा पढ़के टेंशन हो गया! हम तो ऐसे ही सुधरने को तैयार हैं,काहे भड़काते हैं हुजूर!

    ReplyDelete
  49. सारा जीवन किया समर्पित
    परमार्थ में नारी ही ने ,
    विधि ने ऐसा धीरज लिखा
    केवल भाग्य तुम्हारे में ही..
    बहुत ही संवेदनशील,सारगर्भित रचना,बधाई आपको सतीश जी इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए ...

    ReplyDelete
  50. That is a lovely article. And I love the work too, courtesy the picture.

    From everything is canvas

    ReplyDelete
  51. jab bhi ye padya padhate ho
    ankhon se ashru bahata hoon...

    aap bhai bare yahan sabke.....
    balak ko bhi bhaw de jate ho...


    pranam.

    ReplyDelete
  52. बुनियादी बातों को उजागर करती आपकी प्रस्तुति बहुत ही भावपूर्ण और सार्थक है.

    आपकी सुन्दर भावनाओं को नमन.

    ReplyDelete
  53. नमस्कार...
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ..इतना सुन्दर सार्थक ब्लॉग बनाने के लिए ह्रदय से बधाई..
    आपकी लिखी कुछ रचनाये अभी पढ़ी है..बहुत सुन्दर.

    किस घर को अपना बोलूं माँ
    किस दर को , अपना मानूं !
    भाग्यविधाता ने क्यों मुझको
    जन्म दिया है , नारी का,
    बड़े दिनों के बाद, आज भैया की याद सताती है
    पता नहीं क्यों सावन में पापा की यादें आती है !
    -सर कभी वक्त मिले तो आप मेरी कविताये भी पढियेगा.शायद आपको पसंद आये.

    ReplyDelete
  54. अच्छे संस्कार कभी धोखा नहीं देते। ईश्वर सबको सामर्थ्य दे कि सच्चे प्यार और विश्वास पर खरा उतरा जा सके।

    ReplyDelete
  55. vah saxena ji ,...vah .

    Hm samajh nahi paye tumko kyun mara is bedardi se . bahut achhi rachana .

    ReplyDelete
  56. पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ.....इतना सुन्दर ब्लॉग बनाने के लिए बधाई..
    आपकी लिखी कुछ रचनाये अभी पढ़ी है..बहुत सुन्दर.....

    ReplyDelete
  57. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  58. sathish Ji samajh nahi aata ki itne din aapke blog se door kaise raha......khair der aayad durust aayad...........is post ke liye haits off.

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,