Saturday, December 10, 2011

श्रद्धा -सतीश सक्सेना

जाकी रही भावना जैसी , 
प्रभु मूरत देखी तिन तैसी....

तुलसी दास  की यह लाइनें, हम सबको इस विषय की गूढता समझाने के लिए काफी हैं ! सामजिक परिवेश में , इस का नमूना, लगभग हर रोज दिखाई देता है ! पूरी श्रद्धा के साथ ध्यान और आवाहन, किसी भी समय, किसी भी स्थिति में करें ,परमेश्वर का प्रत्यक्ष अहसास आपको उसी क्षण होगा !
परिवार में भली भांति एक दूसरे को समझने का  दावा  करने वाले हम लोग, शायद ही कभी पूर्वाग्रह रहित होकर,अपनों के बारे में, सही राय कायम कर पाते हों ! 

पत्थर की बनायीं एक मूर्ति, चाहे राम की हो या केशव की , मनचाहा फल देने में समर्थ है बशर्ते कि इस कामना में श्रद्धा शामिल हो ! रावण परम विद्वान था, यह बात मर्यादा पुरषोत्तम, महा शत्रुता के बाद भी नहीं भूले थे , मरते समय,एक आशा के साथ लक्ष्मण को आदेश दिया था कि अंतिम समय गुरु रावण से कुछ ग्रहण करने का प्रयत्न अवश्य करें !
साधारण से सरकारी कर्मचारी  नेकचंद ( बाद में पद्मश्री से विभूषित ) को कूड़े के ढेर में ऐसी सुन्दरता नज़र आई कि उसने भारतीय शिल्पकला की झलक लिए पूरा पार्क ही रच दिया और विश्व ने उसे कला का एक नायाब नमूना माना ! सकारात्मक, आशावादी स्वभाव  का यह उदाहरण ,विश्व में दुर्लभ है  ! काश हम सबको  ऐसी नज़र मिल पायें !
अपने आपको ब्रह्माण्ड का सबसे विद्वान मानने की भूल, एवं अपनों पर अविश्वास , अक्सर अर्थ का अनर्थ करवाने के लिए पर्याप्त है !

53 comments:

  1. श्रद्धा ही ..विश्वास है ...
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी बात कही आपने....
    सकारात्मक सोच याने आधी मंजिल तय...

    ReplyDelete
  3. अपने आपको ब्रह्माण्ड का सबसे विद्वान मानने की भूल, एवं अपनों पर अविश्वास , अक्सर अर्थ का अनर्थ करवाने के लिए पर्याप्त है !

    वाह... क्या बात कही है सतीश भाई... सौ प्रतिशत सहमत हूँ...


    'छोटी बात' पर:
    कोलकाता जैसे हादसों के ज़िम्मेदार हम हैं!

    ReplyDelete
  4. kitni saargarbhit baat aur kitne sahaj dhang se ...

    ReplyDelete
  5. सही कहा आप ने। लगन और लक्ष्य के प्रति एकाग्रता महत्वपूर्ण हैं।

    ReplyDelete
  6. नेकचंद की नेक नसीहत.

    ReplyDelete
  7. जाकी रही भावना जैसी ,
    प्रभु मूरत देखी तिन तैसी....

    जहां तक मैने समझा हैं इन पंक्तियों का अर्थ हैं
    जिस की भावना जैसी होती हैं उसको प्रभु की मूरत वैसी ही दिखाई देती हैं
    ना की आप जहां भी देखे वहाँ इश्वर दिखेगा
    जहां तक मेरा ख्याल हैं ये धनुष तोडने वाले प्रसंग में कहा गया था जहां श्री राम लोगो को कोमल बच्चे समान लग रहे थे

    ReplyDelete
  8. मिलते हे २३/१२ के बाद....? सांपला मे ओर कहां?

    ReplyDelete
  9. मेरी इन दोनो टिपण्णियो को प्रकाशित ना करे, मिटा दे. धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. @ रचना जी ,
    सच कह रही हैं आप !
    जैसी भावना होती है वहां वैसा ही महसूस होता है ...
    पूरी पोस्ट के परिप्रेक्ष्य में वही भावना है जो आपने अर्थ बताया है ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  11. (१)
    मित्रवर आपकी सुन्दर और सुशील रचना के अंतिम पैरे को उलटने की हिमाकत कर रहा हूं...

    "असाधारण से सरकारी अधिकारी फेंकचंद (बाद में छद्मश्री से विभूषित) को पूरे पार्क में ऐसी असुन्दरता नज़र आई कि उसने भारतीय विद्ध्वंशकला के प्रदर्शन बतौर उसे कूड़े का ढेर कर दिया ! नकारात्मक , निराशावादी स्वभाव का यह उदाहरण विश्व में सर्वसुलभ है ! काश ऐसी नज़रों से हम महरूम रहें और अपने आप को मोहल्ले पड़ोस का सबसे अल्पज्ञ मानते हुए ऐसे अपनों पर अविश्वास कर पायें ताकि अर्थ अपने अर्थ में बना रहे"

    (२)
    सतीश भाई प्रभु की मूरत का हवाला आपने दे तो दिया है पर इस मसले में एक गड़बड़ है ! दरअसल हम जिसकी भक्ति / जिसकी दोस्ती /जिसकी मोहब्बत में होते हैं वहां सावन के अंधे को हरा ही हरा की तर्ज़ पर हमारे ऊपर भक्ति /मित्रता /आशिकी का सम्मोहन ऐसा चढ़ता है कि ससुरा अपनी देखने की शक्ति खत्म और उसकी दिखाने की शक्ति का सुरूर / ज़लवा कायम हो जाता है ! यूं समझिए सारी गडबड यहीं पे होती है कि उसके मद में मदहोश हम अपनी तरफ से उसका नंगपन नहीं देख पाते और देखते वही है जो तिलिस्म उसने रचा है :)

    ReplyDelete
  12. नेकचंद ने तो सचमुच बड़ा नेक काम किया है ।
    लेकिन आजकल विश्वास योग्य लोग कम ही नज़र आते हैं भाई जी ।

    ReplyDelete
  13. सब भावना और श्रद्धा का ही तो खेल है जैसा चाहते है वैसा देखते हैं।

    ReplyDelete
  14. श्रद्धा और विश्वास ही तो है जो पत्थर को भगवान् बना देता है ...
    सकरात्मक सोच अच्छे परिणाम ही देती है !
    पोस्ट की भावना से सहमत !

    ReplyDelete
  15. One of the best posts ever!!!! Bahut bahut dhanyawaad is chhoti par behad sateek post key liye :-)

    ReplyDelete
  16. संत का धर्म है परोपकार, सर्प का धर्म है संहार...

    सर्प के संहार के बाद भी संत परोपकार नहीं छोड़ता...

    लेकिन सर्प न हों और सारे संत ही हों तो फिर संत की महत्ता को कौन समझेगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  17. प्रिय भैया जी !
    सहज मार्गदर्शन सहज प्रेम कि धारा ! नमन आपको !!

    ReplyDelete
  18. :) आपके आलेख और अली जी की टिप्पणी से नेकचन्द और फेंकचन्द का अंतर स्पष्ट हुआ।

    ReplyDelete
  19. बुद्धि थक कर बैठ जाती है... श्रद्धा अघटित कार्य सिद्ध करती है!

    ReplyDelete
  20. बड़े उदबोधनात्मक हो उठे हैं भाई ,खैरियत तो है :) ?

    ReplyDelete
  21. आशा और आशावादिता में थोडा फर्क होता है ,यह आवश्यक हैं की जीवन की डोर को आशावादिता में सम्यक रूप से बंधा जाये जो परमार्थ कल्याण को प्रतिरूपित करती हो ,परन्तु निजता, सुखानुभूति की आशा ,निराशा को ही प्राप्त होती है /इसी लिए कहा गया है -उदारचरितानाम तू बसुधैव कुटुम्बकम .../आशावादी होना ,नैसर्गिक होना है ....../ मित्र बहुत सुन्दर ,विचारणीय आलेख ,/ हाँ मित्रों को याद करना भी एक आशावादिता का सर्वग्राह्य लक्षण है ....चक दे फट्टे...../

    ReplyDelete
  22. जीवन हो अब शत प्रतिशत,
    अन्दाज समझना होगा।

    ReplyDelete
  23. पत्थर की बनायीं एक मूर्ति, चाहे राम की हो या केशव की , मनचाहा फल देने में समर्थ है बशर्ते कि इस कामना में श्रद्धा शामिल हो !

    सच है ...बस यही सच है.....

    ReplyDelete
  24. हमने देखी है रॉक गार्डेन की जिवंतता। आदमी चाहे तो पत्थर में जान ला सकता है।

    ReplyDelete
  25. एक असाधारण पोस्ट।

    चंडीगढ़ में रहा हूं। अनेकों बार उस रॉकगार्डेन में गया हूं। उपेक्षित चीज़ों से उन्होंने असाधारण चिज़ गढ़ डाली है।

    ReplyDelete
  26. mai kya kahu mujhe nahi pata par ...kuch sabdon me bahut sari samjh samete hai

    ReplyDelete
  27. अपने आपको ब्रह्माण्ड का सबसे विद्वान मानने की भूल, एवं अपनों पर अविश्वास , अक्सर अर्थ का अनर्थ करवाने के लिए पर्याप्त है !

    सकारात्मक सोच का परिणाम है आपका आलेख.

    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  28. जिसकी जैसी भावना है उसी हिसाब से आपकी यह पोस्ट पढ़ रहा है और गुन रहा है .. सार्थक लिखा है ...

    ReplyDelete
  29. bahut uttam sarthak prastuti apne me vishvaas hi pragati ka maarg nishchit karta hai.aur jis paark ka aapne varnan kiya hai nekchand ji ke apne upar vishvaar aur himmat ki hi missal hai durlabh park hai maine bhi dekha hai chadigarh gai thi ek baar.

    ReplyDelete
  30. कल 12/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  31. आदरणीय सतीश जी नमस्ते!
    पत्थर की मूर्ति तो हमें उस महापुरुष की याद दिलाती है तथा उसके मार्ग पर चलने को प्रेरित करती है आपका ये कहना की "पत्थर की बनायीं एक मूर्ति, चाहे राम की हो या केशव की , मनचाहा फल देने में समर्थ है बशर्ते कि इस कामना में श्रद्धा शामिल हो ! " मै इससे बिलकुल सहमत नहीं हूँ ! ये तो बस वही बात हुई अजगर करे न चाकरी पंछी करे ना काम , दास मलूका कह गए सबके दाता राम !!!मेरे विचार से कामना के साथ साथ उसे पूरा करने के लिए अपना पूरा प्रयास भी होना चाहिए !! सिर्फ श्रद्धा से काम नहीं चलेगा !!! आप की नज़रों में हो सकता है मै गलत होऊं क्यों की "अपने आपको ब्रह्माण्ड का सबसे विद्वान मानने की भूल, एवं अपनों पर अविश्वास , अक्सर अर्थ का अनर्थ करवाने के लिए पर्याप्त है " किन्तु ऐसे बातों को वैज्ञानिक नज़रिए से भी देखना बहुत जरुरी है !!

    ReplyDelete
  32. नेकचंद जी जैसे और भी हैं। भोपाल के चिनार पार्क में लोहे के कबाड़ से सुंदर आकृतियां बनाई गई हैं।
    बहरहाल यहां आपका उद्देश्‍य नजरिए का महत्‍व बताने का था। वह तो स्‍पष्‍ट होता ही है।

    ReplyDelete
  33. अपने आपको ब्रह्माण्ड का सबसे विद्वान मानने की भूल, एवं अपनों पर अविश्वास , अक्सर अर्थ का अनर्थ करवाने के लिए पर्याप्त है !

    बिलकुल सही कहा है आपने ! सार्थक सकारात्मक पोस्ट !

    ReplyDelete
  34. जाकी रही भावना जैसी ,
    प्रभु मूरत देखी तिन तैसी....

    bahut sundar baat kahi hai ... duniya men shraddha or vishvaas hi sab kuch hai...abhar

    ReplyDelete
  35. सीधी और सच्ची बात यही है सतीश जी, दरअसल हम अपने आपको पहचानने में ही भूल कर देते है , जो हम है उसे किसी को नहीं समझने देते और जो नहीं है उसे जग जाहिर करने में सारा जीवन लगा देते है .

    ReplyDelete
  36. सार्थक प्रस्तुति. असाधारण पोस्ट...शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  37. @ आपके परिप्रेक्ष्य में आपका नजरिया बिलकुल ठीक है ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  38. प्रेरक व प्रभावी आलेख .

    ReplyDelete
  39. सतीश जी, सकारात्मकता एक जीवनशैली है... शायद इसे सिखाया जाना बहुत मुश्किल है

    ReplyDelete
  40. सकारात्मकता से परिपूर्ण और प्रेरक बात कही है .

    ReplyDelete
  41. अपने सद् लक्ष्य में आस्था और निरंतर कार्य के साथ ईश्वर पर विश्वास जीवन को सार्थकता देता है. बहुत सुंदर तरीके से आपने बात कही है सतीश जी.

    ReplyDelete
  42. जाकी रही भावना जैसी ---

    सच ही तो है | तभी तो, कोई तो पत्थर में भी भगवान् देख लेता है, तो किसी को साक्षात भगवान् भी पत्थर लगते हैं :)

    ReplyDelete
  43. सच कहा आपने नजरिये में ही वो ताकत होती है जो किसी भी उपेक्षित वस्तु(इंसान भी )को सुन्दर सुन्दरतम बना सकती है

    ReplyDelete
  44. नेकचंद जी और सुदर्शन पटनायक जैसे लोग हमें कला के नए आयाम बताते हैं !

    ReplyDelete
  45. बेहतर सीख देती पोस्‍ट।
    नेकचंद से काफी कुछ सीखा जा सकता है....
    आभार.....

    ReplyDelete
  46. जीवन में उतारने योग्य सार्थक लेख !
    आभार !

    ReplyDelete
  47. प्रेरक बात कही है....बहुत सुंदर तरीके से

    ReplyDelete
  48. अपने आपको ब्रह्माण्ड का सबसे विद्वान मानने की भूल, एवं अपनों पर अविश्वास , अक्सर अर्थ का अनर्थ करवाने के लिए पर्याप्त है !

    इतनी गहरी बात को सरल शब्दों में समझाने के लिए शुक्रिया .....गहन लेख

    ReplyDelete
  49. बस सोच सकारात्मक होनी चाहिए...फिर कुछ भी मुश्किल नहीं रहता...
    बहुत ही प्रभावी आलेख...

    ReplyDelete
  50. आदरणीय सतीश जी
    नमस्कार !
    आपको जन्म दिन की ढेर सारी शुभकामनाएं. आपके कलम की रवानी यूं ही बनी रहे!

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,