Saturday, December 17, 2011

अब शब्दों की जिम्मेदारी -सतीश सक्सेना


पिछली पोस्ट में प्रवीण पाण्डेय की टिप्पणी पढ़कर देखता ही रह गया ...
"मैंने तो मन की लिख डाली, 
अब शब्दों की जिम्मेदारी  ! "और उनको एक पत्र लिखा ...
प्रवीण भाई,
आपकी दी हुई उपरोक्त दो लाइने अच्छी लगी हैं ! इस गीत को आगे पूरा करने का दिल है ...इजाज़त दें तो  ... :-) 
और जवाब तुरंत आया ....
आपको पूरा अधिकार है, निश्चय ही बहुत सुन्दर सृजन होगा, कुछ पंक्तियाँ लिखी हैं मैने भी पर भाव अलग हैं। प्रतीक्षा रहेगी आपके गीत की। सादर ,   प्रवीण
प्रवीण पाण्डेय,मेरी नज़र में बहुत ऊंचा स्थान ही नहीं रखते अपितु उनकी रचनाओं से हमेशा कुछ न कुछ सीखने को मिलता है ! हिंदी भाषा का यह सौम्य सपूत वास्तव में बहुत आदर योग्य है ! 
उनके प्रति आभार के साथ, इस रचना का आनंद लें ...अगर आप लोग आनंदित हुए तो रचना सफल मानी जायेगी !

रचनाकारों की नगरी में 
मैंने कुछ रंग सजाये हैं  
आते जाते ही नज़र पड़े 
ऐसे  अरमान जगाये हैं ,
यदि मन के भाव समझ पाओ,
तो झूम उठे,दुनिया सारी !
मैंने तो मन की लिख डाली, अब शब्दों की जिम्मेदारी  !

जो शब्द ह्रदय से निकले हैं 

उन पर न कोई संशय आये
वाक्यों  के अर्थ बहुत से हैं,
मन के भावों  से पहचानें !
मैंने तो अपनी रचना की , 
हर पंक्ति तुम्हारे नाम लिखी !
जाने क्या अर्थ निकालेगी, इन छंदों का,  दुनिया सारी !

असहाय,गरीबों, मूकों की 

आवाज़ उठाना लाजिम है !
मानव की कुछ करतूतों से  
आवरण उठाना वाजिब है !
पाशविक प्रवृत्ति का नाश करे,
मानवता हो मंगल कारी
इच्छा है, अपनी भूलों को, स्वीकार करे दुनिया सारी !

जिस तरह  प्रकृति का नाश ,

करें खुद ही मानव की संताने
फल,फूल,नदी,कल कल झरने
यादें लगती, बीते  कल  की  !
गहरा प्रभाव छोड़े अपना, 
कुछ ऐसी करें कलमकारी !
ईश्वर की सुंदर रचना का, सम्मान करे दुनिया सारी !

मृदु भावों का अहसास रहे ,

पिछली पीढ़ी का ध्यान रहे
बचपन से, मांगे  मुक्त हंसी
स्वागत सबका,सम्मान रहे !
दुश्मनी रंजिशें भूल अगर,
झूमेगी जब  महफ़िल सारी !
तब  गैरों की भी पीड़ा का,अहसास करे दुनिया भारी !

बच्चों को , रोकें, हंसने से !

शिशुओं को माँ के आंचल से
अपनों के प्रति,शंकित होकर
जीवन पर प्रश्न उठाने से  !
क्रोधितमन, कुंठाएं पालें, 
ये बुद्धि गयी कैसे मारी ! 
गुरुकुल की, शिक्षाएं भूले,यह कैसी है पहरेदारी !

कुछ ऐसा राग रचें मिलकर

सुनकर उल्लास उठे मन से  
कुछ ऐसी लय संगीत  बजे 
सब बाहर आयें,घरोंदों  से !
गीतों में यदि झंकार न हो,
तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी  !
रचना के मूल्यांकन में है , इन  शब्दों की जिम्मेदारी  !

103 comments:

  1. क्या ही उम्दा ज़रिये से ,खूब निभाई ज़िम्मेदारी,
    शब्दों को अर्थ मिले रचना से,दोनों की जय-जयकारी !

    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  2. bahut addbhut prabhaav shali kavita bani hai shabdon ne bhi apni jimmedari bakhoobi nibhaai hai.sateesh ji aur praveen ji aap dono ko badhaai aur shubhkamnaayen.

    ReplyDelete
  3. प्रवीण जी का आभार... इतने सुन्दर गीत के सृजन की नींव डालने के लिए...! आपकी लेखनी को पुनः नमन सतीश जी!
    सहृदयों के भाव जुड़े तो गीत जन्मा अनुकूल
    जीवन के प्रतिमान क्या.. बस जुड़ाव ही है मूल

    @praveen ji, quoting you, "कुछ पंक्तियाँ लिखी हैं मैने भी पर भाव अलग हैं।"
    - अब तो 'न दैन्यं न पलायनम' पर भी गीत पढ़ने की प्रतीक्षा रहेगी!

    ReplyDelete
  4. आपने तो अपने मन की लिख डाली , लेकिन हमें भाव विभोर कर डाला ..........अतिउत्तम ...............जन्मदिन मुबारक हो सरजी ................

    ReplyDelete
  5. पूरी जिम्‍मेदारी से निभाए गए और निभे शब्‍द, बधाई.

    ReplyDelete
  6. सचमुच प्रवीण जी जितने अच्छे रचनाकार हैं उतने ही अच्छे व्यक्ति ! हाल ही उनसे मेरी मुलाक़ात रेलवे में आयोजित एक कवि सम्मलेन के दौरान हुई थी ! उनकी आत्मीयता और व्यक्तित्व की खुशबू ने अभी तक मेरे मन को सुवासित कर रखा है ! उनकी पंक्तियों पर आपने बहुत ही सुन्दर गीत रचा है !
    बधाई हो !

    ReplyDelete
  7. अद्भुत ! अनुपम !!
    प्रवीण जी का जो उद्दात भाव, जो आतंरिक दर्शन है उसे आपने काव्य में ढालकर सब पर बरसा दिया है.
    आज जो कमेन्ट उनके ब्लॉग पर कुछ सकुचाते हुए लिखा था, वही उदगार यहाँ उत्साह से लिख रहा हूँ -----
    "मैंने हमेशा महसूस किया है और आज शत-प्रतिशत प्रमाणिकता से कह सकता हूँ की आपका चिंतन आपके ब्लॉग-नाम से शत-प्रतिशत साम्य रखता है............................. हर पोस्ट में परीपाटित दार्शनिक वितंडतावाद से इतर, मानवीय दौर्बल्य तजकर झंझावातों से टकराने के सूत्र यहाँ मिलतें है, चाहे आप उन्हें शब्द दें या ना दें ................ मैं प्रवीण पाण्डेय को जानता नहीं हूँ, पर जितना समझ सका हूँ उसका शत-प्रतिशत सार है ------
    न दैन्यं न पलायनम्"


    आपने बिलकुल सही कहा है कि उनकी रचनाओं से हमेशा कुछ न कुछ सीखने को मिलता है ! हिंदी भाषा का यह सौम्य सपूत वास्तव में बहुत आदर योग्य है !
    *****************
    और हाँ रचना सफल रही है :)

    ReplyDelete
  8. प्रवीण जी ने नींव रखी और आपने सुन्दर इमारत खड़ी कर दी,आप दोनों को बधाई|

    संक्षिप्त,सटीक और सार्थक टिप्पणी देने का प्रवीण जी अंदाज बहुत अच्छा लगता हे|

    ReplyDelete
  9. गुरुदेव इस गीत में आपने शब्दों को निभाया ही नहीं साधा है... बस दिल में उतरती जा रही हैं ये पंक्तियाँ..

    ReplyDelete
  10. शब्दों की ज़िम्मेदारी ... रचना बहुत प्यारी ..बधाई और शुभकामनायें हमारी ..

    ReplyDelete
  11. सतीश भाई शब्‍द अगर जिम्‍मेदार रचनाकार के हाथ में हों तो वे भी अपनी जिम्‍मेदारी निभाते हैं। आप और प्रवीण जी दोनों ही जिम्‍मेदार रचनाकार हैं इसमें कोई शक नहीं है।
    तो इस गीत में भी आप और आपके शब्‍द जिम्‍मेदारी पर खरे हैं।

    ReplyDelete
  12. दो महानुभावों(महा+अनुभावों)का संगम एक अर्थपूर्ण ,विशद कविता रच गया .चित्त प्रसन्न हो गया .दोनो को मेरा नमन !
    अभी रचना-क्रम का अगला भाग (प्रवीण जी की कविता)शेष है-प्रतीक्षा है पूर्णानन्द की !

    ReplyDelete
  13. प्रवीण जी के क्या कहने जिनते अच्छे इंसान उतने ही अच्छे रचनाकार हैं

    ReplyDelete
  14. गजब का लिखा है और शब्दों ने भाव यथावत पहुँचा कर अपनी जिम्मेदारी निभायी है।

    ReplyDelete
  15. आपने तो पूरी निष्ठा के साथ जिम्मेदारी निभा दी………शानदार प्रस्तुतिकरण्।

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  17. सतीश भाई ,
    शब्दों से निपटने आया था फिलहाल फोटो से निपट कर जा रहा हूं दोबारा वापस आकर आपकी कविता पर प्रतिक्रिया दूंगा !
    हुआ ये कि कविता से पहले प्रवीण जी की मनोहारी फोटो पर नज़र पड़ गई और ये ख्याल आया...

    "वरदन्त की पंगत कुंद कली अधराधर पल्लव खोलन की...

    ReplyDelete
  18. तो अब पाण्डेय जी की बारी है :) हम तो केवल शब्दों को झेल रहे है!!!!!!

    ReplyDelete
  19. पहले अली भाई की उद्धृत कविता रसखान की पंक्ति की अगली पंक्ति जोड़ दूं -
    चपला चमके घन बीच जगे छवि मोतिन माल अमोलन की...
    मगर प्रवीण जी को मैंने चाक्षुष निहारा है वे किशन सरीखे घने तो नहीं हैं हाँ उनकी कविताई घनी है !
    ..और आपकी इस कविता के क्या कहने ..कैसे कैसे बोध हो रहे हैं ....
    वागर्थविव संपृक्तौ वागर्थ प्रतिपत्तये ....रचना और भाव ऐसे ही जुड़े हैं भाई जी ....
    कभी कभी रचनाएं शब्दों के भी ऊपर उठ जाती हैं तो कभी शब्द मंडित दीखते हैं ..
    सटीक तालमेल किसी दक्ष कवि के ही वश की बात है !

    ReplyDelete
  20. शब्दों की जिम्मेदारी और प्रवीण जी की बारी...

    आपने तो अपने पाली शत प्रतिशत निभा डाली...


    आनन्द आ गया.

    ReplyDelete
  21. खूब जमी , जब मिल बैठे यार दो !
    बेहतरीन जुगलबंदी है आप दोनों की ।

    बधाई और शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  22. बहुत मार्मिक रचना सुंदर लगी !
    बधाई प्रवीण जी को और आपको भी
    हमने भी मन की बात लिख डाली !

    ReplyDelete
  23. बहुत मार्मिक रचना सुंदर लगी !
    बधाई प्रवीण जी को और आपको भी
    हमने भी मन की बात लिख डाली !

    ReplyDelete
  24. सच कहूँ तो बहुत ही बेहतरीन लिखा है आपने... प्रवीण जी के लफ़्ज़ों को अपनी भावनाओं में पीरों कर कमाल ही कर दिया है...

    ReplyDelete
  25. आपने तो अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई है .....बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  27. "मैंने तो मन की लिख डाली,
    अब शब्दों की जिम्मेदारी ! "

    ऊपर से सतीश जी का अप्रतिम गीत जैसे पिकासो की चित्रकारी...

    अब कहां से लाए हम टिप्पणी के लिए ज़रूरी समझदारी...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  28. काश सभी आपके और प्रवीण जी के ..शब्दों जैसे सच्चे और ईमानदार होते .....

    ReplyDelete
  29. इस गीत को पढ़कर साहिर लुधियानवी के कई गीत अनायास मन में चलने लगे।

    गीत का भाव मन में जगह बनाते हैं। कुछ रचनाएं न सिर्फ़ दिल के लिए होती हैं, बल्कि मन के लिए भी। यह उनमें से एक है।

    ReplyDelete
  30. मृदु भावों का अहसास रहे
    पिछली पीढ़ी का ध्यान रहे
    बचपन से, मांगे मुक्त हंसी
    स्वागत कर सकें, बहारों का
    दुश्मनी रंजिशें भूल अगर, झूमेगी तब महफ़िल सारी !
    जब गैरों की भी पीड़ा का, अहसास करे दुनिया भारी

    ....लाज़वाब...भावों का प्रवाह अपने साथ बहा ले जाता है..बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति...आभार

    ReplyDelete
  31. प्रवीण जी की शब्द संपदा बेजोड़ है।
    आपकी कविता/गीत अच्छा है।

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर...अति उत्तम.
    वाकई कभी कभी कैसे २-४ शब्द प्रेरणा बन इतनी खूबसूरत कृति को जन्मते हैं..
    बधाई सर.

    ReplyDelete
  33. अली भाई गज़ब की दृष्टि रखते हैं,सुदर्शन छवि देखकर बौरा गए !

    ReplyDelete
  34. कितना सुंदर तालमेल..... एक अद्भुत रचना पढने को मिली आपके शब्द संयोजन से ..... आभार
    प्रवीणजी का लेखन सच में प्रेरणादायी है ......

    ReplyDelete
  35. अदभुत प्रभावशाली सुंदर रचना के लिए सतीश जी
    आपको बहुत२ बधाई....आभार
    मेरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  36. यदि मन के भाव समझ पाओ,तो झूम उठे,दुनिया सारी !
    मैंने तो मन की लिख डाली, अब शब्दों की जिम्मेदारी !

    आप दोनों का बहुत -बहुत आभार...आपने अपने मन की लिख डाली और बन गयी हम सब के मन की... सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  37. गीतों में यदि झंकार न हो, तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी !
    रचना के मूल्यांकन में है , इन शब्दों की जिम्मेदारी !
    बहुत सुंदर रचना बन पड़ी है |बहुत बहुत बधाई आपको |आप दोनों का प्रभावशाली लेखन है ....शब्द बखूबी ज़िम्मेदारी निभा रहे हैं .......

    ReplyDelete
  38. अदभुत गीत रच डाला है ,आप ने। पर 'इस दुनिया के विद्रूपों' और 'सुनकर मृदुभाव जगें मन में' के बीच जो अंतराल है वह पूरे गीत में ब्लेक मैटर की तरह महसूस होता है।

    ReplyDelete
  39. बेशक सम्पूर्ण गीत बना है.पंक्तियाँ ही कमाल थीं प्रवीण जी की.

    ReplyDelete
  40. प्रवीण पांडे जी की उक्त टिप्पणी मैंने पढ़ी थी और उसमें निहित इस अभिव्यक्ति पर ध्यान गया था. आपने उस टिप्पणी को मानव मूल्यों की मंजूषा में बदल दिया है. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  41. प्रेरणा कहीं से मिले, मिले...यूँ कमाल धमाल करे।
    सुंदर गीत बन पड़ा है। बधाई स्वीकार करें।

    प्रवीण जी के एक पंक्ति के कमेंट सारगर्भित होते हैं और महसूस होता है कि उन्होने पूरी पोस्ट को खूब अच्छे से पढ़ा है। कभी-कभी इतने गोल मोल होते हैं कि शक भी होता है। हर ब्लॉग में हर पोस्ट को कैसे इतने अच्छे से पढ़ पाते हैं यही सोचकर मन उनका मुरीद हो जाता है ।

    वैसे जिस एक पंक्ति ने इस गीत का सृजन किया ...अब शब्दों की जिम्मेदारी..यह मेरी समझ में नहीं आ रहा है। इसमें बेचारे शब्दों पर मुझे बड़ी दया आ रही है। करा धरा कवि का..पाठक का..जिम्मेदारी शब्दों के माथे! काहे को भाई..?

    ReplyDelete
  42. यदि मन के भाव समझ पाओ,तो झूम उठे,दुनिया सारी !
    मैंने तो मन की लिख डाली, अब शब्दों की जिम्मेदारी !

    वैसे सतीश जी शब्दों का काफी जिम्मेदारी से प्रयोग किया है जिससे सुंदर कविता की रचना हुई है.

    ReplyDelete
  43. खूब ताल से ताल मिलाई है ,
    बोले तो रिपचिक कविताई है .
    बहुत अच्छा लिखा आपने .

    ReplyDelete
  44. आपका पोस्ट मन को प्रभावित करने में सार्थक रहा । बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट 'खुशवंत सिंह' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  45. @ देवेन्द्र पाण्डेय जी ,
    वास्ते आपके कमेन्ट का दूसरा पैरा... :):):)

    वास्ते आपके कमेन्ट का तीसरा पैरा...
    शुक्रिया कि आप भीड़ में से एक नहीं हैं :)
    आपकी व्याख्या पसंद आई !



    @ सतीश भाई ,
    (१) वास्ते प्रेरणा स्रोत पंक्तियां...
    प्रतिनिधि शब्दों का चयन कवि अपने भावों के प्रकटन के लिए स्वयं करता है ! अगर उसने सही भाव के लिए सही शब्द ना चुने हों तो ?

    आपको ज्ञात है कि भाव इंसान को कहीं का नहीं छोड़ते उसे पक्षपातपूर्ण भी बना सकते हैं और तटस्थ भी ! अब अगर मन की लिख डालते वक्त इंसान तटस्थ हो तो कोई दिक्कत नहीं पर दिक्कत ये है कि कवि ज्यादातर कल्पना लोक में विचरते हैं और उनके यथार्थ के धरातल पे वास्तविक फैसले लेने के हालात में होने कल्पना भी दूभर है :)

    जैसा कि मैंने कहा भावों के प्रकटन के लिए प्रतिनिधि का चयन स्वयं कवि का होता है तो प्रतिनिधि जो भी अर्थ ध्वनित करे वह भी कवि की ही जिम्मेदारी हुई कि नहीं ?

    संभव है अनावश्यक लगे पर एक दृष्टांत सूझ रहा है ! एक हिंसक व्यक्ति अपनी बात मनवाने के लिए किसी इंसानी ढाल का चयन खुद करे और फिर कहे कि यह पुलिस की गलती जो उस इंसानी ढाल को मार दिया जबकि ढाल के मरने का पूरा दोष उस हिंसक व्यक्ति का ही हुआ क्योंकि उसने अपनी गलत मांग के लिए एक इंसान को चुना जो उसकी गलत मांग का प्रतिनिधि नहीं है वह केवल चुनी गई / पकड़ ली गई ढाल है और हिंसक व्यक्ति की मांग चाहे जायज हो या नाजायज ढाल की जिम्मेदारी नहीं है :) ... ठीक इसी तरह से एक कवि अपने भावों को मनवाने के लिए शब्दों की ढाल बना ले / शब्दों की पकड़ कर ले उसके बाद आलोचक अगर शब्दों को छलनी छलनी कर दे तो क्या कवि के असफल भावों के लिए प्राण देना शब्दों का दायित्व था या कि ऐसा कवि की पकड़ /चयन के कारण हुआ :)

    नि:संदेह शब्द चुने जाते हैं वे खुद से होकर ठंसते नहीं , वे जबरिया भाव प्रतिनिधि बनते नहीं तो फिर कवि के अच्छे बुरे भावों के लिए वे स्वयं उत्तरदाई कैसे हुए ?

    लेखक को इतना ईमानदार तो होना ही चाहिए कि वह शब्दों की आड़ ना ले अगर भाव अच्छे हैं तो तारीफ़ भी उसकी ,अगर भाव बुरे हैं तो निंदा भी उसकी और अगर चयनित शब्द सुसंगत हैं तो सुसंगत चयन की प्रशंसा भी उसकी अपनी है ! आशय यह कि आगे की जिम्मेदारी भी सम्बंधित कवि की ही है :)

    आपके मन की / आपकी लिखी / आपकी शब्द ढाल, आप ही की जिम्मेदारी है :)

    शब्द निर्दोष होते हैं क़ासिद की तरह ! लिफ़ाफ़े के मजमून लिखने वाले की जिम्मेदारी होते हैं ये जरुर है कि लिखने वाले के चक्कर में क़ासिद अक्सर पिट जाते हैं ! शब्दों की जिम्मेदारी केवल पाठकों तक पहुंचना है उनसे ध्वनित होता सही या गलत अर्थ लेखक का स्वयं अपना है !


    (२) वास्ते आपकी कविता...
    दूसरा छंद कहता कि मैंने हर पंक्ति 'तुम्हारे' नाम लिखी और वह सशंकित है कि 'दुनिया' क्या अर्थ निकालेगी ? जबकि पहला छंद कहता है कि मन के भाव(जाहिर है किसी तुम को संबोधित है)अगर समझ जाओ तो दुनिया झूम उठे !
    मतलब ये कि झूमने की वज़ह से तुम और दुनिया में कोई अन्तर नहीं होना चाहिए वर्ना दोनों छंदों में कंट्रास्ट है !

    तीसरा छंद दर्द सिक्त है शुभकामी है और चौथे से सातवाँ भी लोक कल्याण आकांक्षी !

    अतः ये पाँचों छंद पहले दोनों छंदों से भिन्न माने जायें !

    शुभता और प्रेम के भाव के प्रकटन के लिए आपका शब्द चयन ठीक ठाक है और वह पाठकों तक पहुंचता भी है किन्तु जैसा कि मैंने पहले ही कहा यह सफलता और कंट्रास्ट आपका है यह शब्दों की जिम्मेदारी नहीं थी क्योंकि वे तो आपकी पकड़ से मजबूर हैं :)

    उन्हें आपका किया भुगतना था / है :)


    (३)वास्ते मेरी टीप...
    सतीश भाई आपकी कल्याणमयी भावनाओं से जुड़ा हुआ हूं सो निंदा या प्रशंसा शायद ढंग से ना कर पाया होऊँ किन्तु जो कुछ मैंने अपनी टीप में कहा अच्छा या बुरा वह केवल मेरी जिम्मेदारी है इसमें उन शब्दों का कोई दोष नहीं जिन्हें मैंने अपनी अभिव्यक्ति के लिए सवारी बतौर गांठ लिया है :)

    आपकी पोस्ट पर शुरुवाती टिप्पणी नहीं करने का यही मेरा स्पष्टीकरण भी है :)

    ReplyDelete
  46. @ अली साहब,
    पहले अपनी रचना पर आपकी टिप्पणी( पार्ट २ ) का जवाब देने का प्रयत्न कर रहा हूँ ...
    पहली पंक्ति लोक समर्पित है ..
    यदि सामान्य जन मेरे मन के भाव समझ पाए तो मन झूम उठेगा कि मैं अपने प्रयत्नों में कामयाब रहा हूँ !
    दूसरे छंद में भी "हर पंक्ति तुम्हारे नाम लिखी " लोक समर्पित है और इसे समझने का अनुरोध मात्र है, कवि ने शक व्यक्त किया है कि रचना का अर्थ गलत न लगाया जाए ......
    आपने शायद "तुम्हारे नाम" को किसी का नाम ही समझ लिया भाई जी !
    :-)

    ReplyDelete
  47. @इन दिनों अली भाई अपनी सृजनात्मकता के उरूज या उफान पर हैं .....आईये सब मिलकर उनके प्रेरणा स्रोत की तलाश करें :बिना ऊर्जा के एक बड़े और सर्वथा नए आवेग के यह संभव नहीं देता ...मेरे शब्द ही नहीं इन दो वाक्यों के अंतराल के गुम्फित सच को भी पढ़ा जाय :)

    ReplyDelete
  48. अली सा...
    एक बात क्लियर हुई/थी भी... झूमने की वजह से तुम और दुनियाँ में कोई अंतर नहीं है।

    ReplyDelete
  49. @ देवेन्द्र पाण्डेय ,
    झूम उठे दुनिया सारी में ....
    दुनिया कवि का दिल है देवेन्द्र भाई...

    रामनाथ अवस्थी की एक रचना ....
    मेरी रचना के अर्थ बहुत से हैं
    जो भी तुमसे लग जाए लगा लेना

    हर रचना कवि के तात्कालिक मनस्थिति पर ही निर्भर होती है उसे आपकी आँख से सही पारिभाषित नहीं किया जा सकता तथापि समीक्षा अपने अपने भावानुसार की जाती है और की जाती रहेगी !
    शायद कोई गलत नहीं है ....
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  50. @ आदरणीय सतीश जी
    आपकी रचना काव्यात्मकता के लिहाज़ से अच्छी बन पड़ी है मगर अली साहब और देवेन्द्र पाण्डेय जी ने जिस दृष्टि से उसे व्याख्यायित किया है,वह निराला जी की शैली रही है.पंतजी की सुमधुर रचनाओं को वे तर्क की कसौटी पर कसकर बताते कि क्या और कहाँ अतार्किक या भ्रामक है ?

    वैसे अली साब का कहना इस लिहाज़ से दुरुस्त है कि हम या रचनाकार जो भी शब्द-चयन करता है,उसके लिए अर्थ निकालने कि ज़िम्मेदारी अंततः उसी की मानी जाएगी,शब्द की नहीं.

    रमानाथ जी की कविता पाठकों के लिए अपने अलग-अलग अर्थ निकालने को स्वतंत्र करती है पर यहाँ शब्द को उस तरह की आज़ादी नहीं है. तुलसीदास बाबा की 'मानस' के तो अर्थ न जाने किस तरह से लगाये जाते हैं,अपनी-अपनी बुद्धि के अनुसार !

    बहरहाल,प्रवीण जी का आशय यहाँ इस तरह की तार्किकता के बजाय पारलौकिकता या कल्पनाशीलता की तरफ़ ज़्यादा था.

    ReplyDelete
  51. सतीश जी पहले तो ब्लाग पर आने का बहुत -बहुत धन्यवाद । वह यों कि वरना मैं शायद आपकी इतनी अच्छी रचनाएं पढने से फिलहाल तो वंचित ही रहती । दो पंक्तियों को लेकर आपने पूरा एक सार्थक व सुन्दर गीत लिख दिया । आप सच्चे रचनाकार हैं ।

    ReplyDelete
  52. दुनिया कवि का दिल है।

    सहमत न होने का कोई कारण नहीं बनता। जैसे समझना पाठका का अधिकार है वैसे शब्द का मतलब समझाना कवि का अधिकार है। लेकिन मेरी समझ से 'दुनिया' के स्थान पर 'बगिया' होता तो पाठक स्वतंत्र हो जाता कि वह इसे 'मन की बगिया' अर्थात 'दिल' समझे या फिर दुनिया...
    ...मैं गलत भी हो सकता हूँ।

    ReplyDelete

  53. @ संतोष त्रिवेदी एवं देवेन्द्र भाई ,
    आप दोनों एवं अली भाई जैसे विद्वानों की विवेचना से इस रचना में जान पड़ गयी है ...आपका आभार !
    मैं साहित्य शिल्प का जानकार नहीं हूँ ,हाँ आप जैसे विद्वजनों से समझने का प्रयत्न अवश्य करता हूँ ! टिप्पणियों की सार्थकता देखना हो तो यह पोस्ट एक अच्छा उदाहरण है और निस्संदेह आप लोगों की उपस्थिति से मैं इस रचना को भाग्यशाली समझता हूँ !

    ReplyDelete
  54. आप लोगों से ईर्ष्या होती है:)

    ReplyDelete
  55. @ मो सम कौन ,
    हमें भी संजय ......
    आप हमारे प्रेरणा श्रोत हैं :-)
    आभार

    ReplyDelete
  56. इस रचना की जितनी तारीफ की जाए कम हैं।

    ReplyDelete
  57. ओह! अदभुत और शानदार है आपकी यह प्रस्तुति.
    तारीफ़ के लिए शब्दों का अकाल पड़ गया है जी.

    यह प्रस्तुति अच्छी ही नही बहुत बहुत अच्छी लगी,सतीश जी.

    बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  58. ग़ज़ब की क़लम है आपकी,सतीश जी.

    ReplyDelete
  59. शब्दो ने भाव खोज कर अच्छी जिम्मेदारी निभाई..बहुत खूब !..

    ReplyDelete
  60. इतने सुन्दर गीत के लिए बहुत बहुत बधाई .
    खुबसूरत शब्दों म पिरोई हुई रचना

    ReplyDelete
  61. vah bhai mja aa gya ... badhai ap dono ko .

    ReplyDelete
  62. sunder geet ban pada hai mene to likh dala ab shabdon ki jimmedari
    sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  63. बेहतरीन कविता और उम्दा सोच को सलाम |

    ReplyDelete
  64. कुछ ऐसा राग रचो मिलकर
    सुनकर मृदु भाव जगें मन में
    कुछ ऐसी लय में, धनक उठे
    सब बाहर आयें ,घरोंदों से !

    बहुत सुन्दर भाव हैं कविता के

    ReplyDelete
  65. apan to 'irshyavash' tippani bhi na kar paye

    कुछ ऐसा राग रचो मिलकर
    सुनकर मृदु भाव जगें मन में
    कुछ ऐसी लय में, धनक उठे
    सब बाहर आयें ,घरोंदों से !
    गीतों में यदि झंकार न हो, तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी !
    रचना के मूल्यांकन में है , इन शब्दों की जिम्मेदारी !

    'e x c e e l e n t'.......

    pranam.

    ReplyDelete
  66. Arvind Mishra said...

    पहले अली भाई की उद्धृत कविता रसखान की पंक्ति की अगली पंक्ति जोड़ दूं -

    चपला चमके घन बीच जगे छवि मोतिन माल अमोलन की...

    शायद मिसिर जी को नहीं पता कि उपरोक्त पंक्तियाँ तुलसीदास जी ने लिखी है .

    वरदन्त की पंगत कुंद कली अधराधर पल्लव खोलन की...चपला चमके घन बीच जगे छवि मोतिन माल अमोलन की...
    घुघरारी लटे लटके मुख ऊपर कुंडल लाल कपोलन की , न्योछावर प्राण करे तुलसी , बलि जाऊ लला इन बोलन की

    ReplyDelete
  67. do dosto ki yari
    or ban gayi rachana pyari....
    sundar or prabhavi prastutikaran....

    ReplyDelete
  68. @वृद्धता हावी हो रही है सर ....उस अनाम को बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  69. बहुत सुन्दर! उम्दा प्रस्तुती!
    क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  70. जो शब्द ह्रदय से निकले हैं
    उन पर न कोई संशय आये
    वाक्यों के अर्थ बहुत से हैं ,
    मन के भावों से पहचानें !
    मैंने तो अपनी रचना की, हर पंक्ति तुम्हारे नाम लिखी
    क्या जाने अर्थ निकालेगी, इन छंदों का, दुनिया सारी !
    बहुत खूब ,अति सुन्दर

    ReplyDelete
  71. प्रवीण जी के शब्दों को आपने बहुत उत्कृष्ट आकार दिया ....अब तो विद्वजन टिप्पणी की महिमा मान जायेंगे :)

    ReplyDelete
  72. Pravin Uncle to sabhi ko khub protsahit karte hain.sundar srijan.

    आप सभी को क्रिसमस की बधाई ...हो सकता है सेंटा उपहार लेकर आपके घर भी पहुँच जाये, सो तैयार रहिएगा !!

    ReplyDelete
  73. Bahut sundar kavita ban gayee hai aap donon ke mel se.

    ReplyDelete
  74. आपके पोस्ट पर आना सार्थक हुआ । बहुत ही अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट "उपेंद्र नाथ अश्क" पर आपकी सादर उपस्थिति प्रार्थनीय है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  75. wah wah !
    belated happy birthday Satish jee .

    ReplyDelete
  76. "उत्प्रेरक" के परिपेक्ष में आपकी सृजात्मकता सराहनीय है. ... कोयम्बतूर से..

    ReplyDelete
  77. सरल सुन्दर खनकता हुआ परन्तु बहुत गहराई लिए. आभार.

    ReplyDelete
  78. गहरा प्रभाव छोड़े अपना, कुछ ऐसी करें कलमकारी !
    ईश्वर की सुंदर रचना का, सम्मान करे दुनिया सारी !

    बहुत खूब हमेशा की तरह प्रभावशाली रचना...

    सादर!!!

    ReplyDelete
  79. बेहतरीन प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । . नव वर्ष -2012 के लिए हार्दिक शुभ कामनाएँ ।

    ReplyDelete
  80. कुछ ऐसा राग रचो मिलकर
    सुनकर मृदु भाव जगें मन में
    कुछ ऐसी लय में, धनक उठे
    सब बाहर आयें ,घरोंदों से !
    गीतों में यदि झंकार न हो, तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी !
    रचना के मूल्यांकन में है , इन शब्दों की जिम्मेदारी !

    दोनों एक दूजे पर भारी , बहुत मुश्किल है शब्दों की ज़िम्मेदारी ... नया वर्ष इस बार भी आपलोगों का हो

    ReplyDelete
  81. सतीश जी, आपसे ब्लॉग जगत में परिचय होना मेरे लिए परम सौभाग्य की बात है.बहुत कुछ सीखा और जाना है आपसे.इस माने में वर्ष
    २०११ मेरे लिए बहुत शुभ और अच्छा रहा.

    मैं दुआ और कामना करता हूँ की आनेवाला नववर्ष आपके हमारे जीवन
    में नित खुशहाली और मंगलकारी सन्देश लेकर आये.

    नववर्ष की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  82. दो को सौ में बदलने की
    ये जादूगरी भी है न्यारी ।

    बहुत सुन्दर वृहदाकार दिया आपने प्रवीणजी की दो पंक्तियों को । आभार सहित...

    ReplyDelete
  83. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  84. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  85. BHAI SATIS JI NAV VARSH PR APKO HARDIK BADHAI...KE SATH HI AK ACHHI RACHANA PR ABHAR.

    ReplyDelete
  86. BHAI SATIS JI NAV VARSH PR APKO HARDIK BADHAI...KE SATH HI AK ACHHI RACHANA PR ABHAR.

    ReplyDelete
  87. नए वर्ष की हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  88. प्रवीण जी की मजबूत नीव पर खुबशुरत इमारत बहुत सुंदर रचना,..
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,..
    आपके जीवन को प्रेम एवं विश्वास से महकाता रहे,

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  89. कुछ शब्द नहीं है कहने को,
    जो लिखा आपने गीत मित्र,
    भारत के जन-जन की पीड़ा,
    शब्दों से ठीक उतारी है।
    ऐसी ही रचनाओं से तो,
    जगती ये दुनियाँ सारी है।
    नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  90. बहुत बहुत सुन्दर रचना. आपने प्रवीण जी के शब्दों को एक नए शिखर पर पहुंचा दिया है.
    अद्भुत रचना है.

    ReplyDelete
  91. Satish ji apki nayee rachana ki prateeksha kb tk karani padegi.?

    ReplyDelete
  92. शब्दों की ज़िम्मेदारी ... बहुत प्यारी रचना ..बधाई और शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  93. वाह! मज़ा आ गया.
    नव वर्ष पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  94. शब्द आइना भर ही तो होते हैं
    विचारों का जिनमे बिम्ब दीखता है |
    शांत झील के ठहरे जल में जैसे
    सूर्योदय का प्रतिबिम्ब दीखता है |

    पानी झील का छेड़ दे कोई तो
    सूरज खम्बा दिखने लगता है |
    शब्दों की परिभाषाओं मोड़ वैसे ही
    पाठक मूल विचार बदल देता है

    आईने को तोड़ देने भर से
    नायक बदल नहीं जाता है |
    पत्र के शब्द मोड़ देने से लेकिन
    मजमून बदल दिया जाता है |

    शब्द को सौंप दिए ख्याल जो अपने,
    शब्द अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं |
    पढने सुनने वाले पर उन्हें मरोड़े तो
    शब्द कुछ भी कर नहीं पाते हैं|

    ReplyDelete
  95. कुछ ऐसा राग रचो मिलकर
    सुनकर मृदु भाव जगें मन में
    कुछ ऐसी लय में, धनक उठे
    सब बाहर आयें ,घरोंदों से !
    गीतों में यदि झंकार न हो, तो व्यर्थ रहे महफ़िल सारी !
    रचना के मूल्यांकन में है , इन शब्दों की जिम्मेदारी !

    व्यापक कलेवर की रचना सारा माहौल समेटे पर्यावरण की नव्ज़ टटोले ,....नव वर्ष मुबारक .साल की हर सुबह शाम मुबारक .

    ReplyDelete
  96. सतीश जी!...रचना पढ़ कर आँखे नम हो उठी!...बुजुर्गों की ऐसी दीन अवस्था के लिए क्या आज का युवा वर्ग जिम्मेदार नहीं है?...माना कि सभी युवा ऐसे नहीं होते...लेकिन जो अनजाने में भी अपने बड़ों का सन्मान करने से चूक जाते है,उन्हें सुधर जाना चाहिए!...बहुत बढ़िया रचना!

    ReplyDelete
  97. बहोत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पढकर ।

    नया हिंदी ब्लॉग

    http://hindidunia.wordpress.com/

    ReplyDelete
  98. आप गौ वंश रक्षा मंच पर मेरा हौसला बढ़ाने आये ,आप का दिल से धन्यवाद .....पर इस विषय से हम सब जुड़े है इस लिए आप से अनुरोध है के अपनी प्रखर लेखनी से इस विषय पर कुछ लिखिए आप को सादर निमन्त्रण है के साधारण से ब्लॉग पर लेखक के रूप में अपना नाम रखने की अनुमति दे कर ब्लॉग की शोभा बढाये....और इस पुनीत कार्य में अपना योगदान दें .....शुक्रिया http://gauvanshrakshamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,