Wednesday, July 17, 2013

मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया,ने खुद्दारी की थी -सतीश सक्सेना

मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया,ने खुद्दारी की थी !  
हमने भी ग़ज़ल के दरवाजे,कुछ दिन पल्लेदारी की थी !

हैरान हुए, हर बार मिली,जब भी देखी, गागर खाली ! 
उसने ही,छेद किया यारो, जिसने चौकीदारी  की थी !

लगता है तुम्हारे आने पर घर घर में दीवाली सी होगी !
कलरात,तुम्हारी गलियों में,लोगों ने खरीदारी की थी !

जाने  अनजाने, वे  भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
हमने ही ,नज़रें फेरीं थीं, उसने तो, वफादारी की थी !

अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी  की थी !



72 comments:

  1. अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
    कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी की थी !

    समय के बलवान होने की सच्चाई बयान करता शेर. बेहतरीन ग़ज़ल बनी है.

    ReplyDelete
  2. मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया,ने खुद्दारी की थी !
    हमने भी ग़ज़ल के दरवाजे,कुछ दिन पल्लेदारी की थी !

    ..वाह! क्या बात है!!!

    अच्छी ग़ज़ल कही भले ही, सब कुछ बारी-बारी की थी। :)

    ReplyDelete
  3. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही , नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !

    वाह ... बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  4. अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
    कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी की थी !

    उन दिनों नशे,में इतराते ,हम शहनशाह कहलाते थे !
    जिनको सर माथे रखना था, उनसे थानेदारी की थी !

    बहुत खूब सतीश जी ,दुनियां का तेवर समय के साथ ऐसा ही बदलता है
    latest post सुख -दुःख

    ReplyDelete
  5. उन दिनों नशे,में इतराते ,हम शहनशाह कहलाते थे !
    जिनको सर माथे रखना था, उनसे थानेदारी की थी !

    बेहद खुबसूरत अंदाज़ दिल की बातों को बयान करने का गीतों के माध्यम से गजब

    ReplyDelete
  6. बढ़िया है आदरणीय-

    पल्लेदारी खुब करी, बोरा ढोया ढेर ।

    शब्द-अर्थ बोरा किया, रहा आज तक हेर ।

    रहा आज तक हेर, फेर नहिं अब तक समझा।

    छ जाए अंधेर, काफिया मिसरा उलझा ।

    उड़ा रहे उस्ताद, बना हुक्के से छल्ले ।

    पाते दिन भर दाद, इधर ना पड़ती पल्ले ॥

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा...हा...हा...हा...हा...हा...

      हंसा दिया यार रविकर उस्ताद ने , सफल हो गयीं पल्लेदारी :)
      खूब हँसे बार बार हँसे ...

      आभार रविकर भाई, इस सम्मान के लिए और आपके आगमन के लिए !

      Delete
    2. @ पाते दिन भर दाद इधर न पड़ती पल्ले

      काहे बनाओ मूर्ख जमाओ, खूबै सिक्का
      ब्लॉग जगत कब से मानै रविकर को कक्का

      हा..हा..हा..हा... जय हो कविवर रविकर !!

      Delete
  7. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन ....बहुत ही बढ़िया पंक्तियाँ

    ReplyDelete

  9. सुंदर प्रस्तुति...
    मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 19-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...


    यही तोसंसार है...

    ReplyDelete
  10. वाह बेहद उम्दा क्या खूब कायदे का रदीफ़ मीटर और काफिया :)

    ReplyDelete
  11. वाह, बहुत खूबसूरत, सर जी!

    ReplyDelete
  12. वाह बहुत ही बढ़िया...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर गजल, ढेरो शुभकामनाये

    ReplyDelete
  14. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल औरअभिव्यक्ति .....!!

    ReplyDelete
  15. सुंदर प्रस्तुति,आपकी यह रचना कल गुरुवार (18-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार राजेंद्र भाई आपका ..

      Delete
  16. अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
    कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी की थी !

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  17. वाह वाह , ग़ज़ब !
    यह हुनर अब तक कहाँ छुपा रखा था भाई ?

    बहुत सुन्दर ग़ज़ल लिखी है।
    मक्ता कुछ इस तरह शुद्ध हो जायेगा --

    तब नशे,में इतराते,'सतीश' शहनशाह कहलाते थे !
    जिनको सर माथे रखना था, उनसे थानेदारी की थी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. चलिए वह भी पूरा किये देते हैं ..
      सुझाव के लिए आभार !

      Delete
  18. सतीश भैया ने अभी ओर भी हुनर छिपे हुए हैं जो बाहर आने बाकि है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. हुनर ही तो नहीं है अनु ..

      Delete
  19. अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
    कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी की थी !..

    बहुत खूब ... येअही तो समय की चाल का असर है ... समय बीत जाता है कोई पहचानता नहीं ... हर शेर लाजवाब है सतीश जी ...

    ReplyDelete
  20. अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
    कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी की थी !

    ला-जवाब!!

    ReplyDelete
  21. मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया को मौजूद रखते हुये सशक्त गजल कही है आपने, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete

  22. हैरान हुए, हर बार मिली, जब भी देखी , गागर खाली !
    उसने ही, छेद किया यारो, जिसने चौकीदारी की थी !

    बहुत सुंदर
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete

  23. उम्दा ग़ज़ल ... सतीश जी इस नयी विधा की पहली रचना के लिए बहुत बहुत बधाई .

    ReplyDelete
  24. बहुत उम्दा गजल..शब्दों का चयन और लय काबिले तारीफ है..

    ReplyDelete
  25. कैसे बनती ग़ज़ल, न अपनी मन मर्जी के माफिक ,
    जाने कितने धंटों आपने लफ़्ज़ों से मगजमारी की थी :)

    अब तो शायद,इस नगरी में,कोई न हमें,पहचान सके !
    कुछ रोज,तुम्हारी बस्ती में,हमने भी सरदारी की थी !

    सबसे जोरदार ये वाला लगा .. लिखते रहिये ....

    ReplyDelete
  26. वाह!जी वाह! गज़ब किया जो भी किया ...आज तो नये रंग में है ..सतीश भाई जी :-))
    खुश रहें! मुबारक हो ..

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर और लाजबाब गजल ,,,वाह !!! वाह, क्या बात है,सतीश जी

    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    ReplyDelete
  28. गहन भावनाएं... सुंदर गजल ...!!

    ReplyDelete
  29. हैरान हुए, हर बार मिली, जब भी देखी , गागर खाली !
    उसने ही, छेद किया यारो, जिसने चौकीदारी की थी !
    बहुत बढ़िया ! और ऊपर से ये चौकीदार अपने को दुनिया का सबसे इमानदार चौकीदार भी बताते नहीं थकता ! :)

    ReplyDelete
  30. धमाकेदार, पढ़ने में आनन्द आ गया।

    ReplyDelete
  31. आज आपको इस इश्टाइल में पहली बार पढ़ रही हूँ। बढिया।

    ReplyDelete
  32. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही ,नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !

    वाह क्या कहने लाजवाब
    साभार!

    ReplyDelete
  33. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही , नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !

    वाह ... बहुत खूबसूरत गज़ल सक्सेना साहब

    ReplyDelete
  34. काफी अच्छी लगी आपकी गजल । गहरी और खूबसूरत

    ReplyDelete
  35. जब आँखें खुल जाय तभी सवेरा

    ReplyDelete
  36. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही ,नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !
    बहुत सुन्दर गजल है ...लेकिन मुझे मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया
    इन सब बारीकियों की कोई समझ नहीं है लेकिन गजल पढ़ने में सुन्दर लगती है :)

    ReplyDelete
  37. वाह! बहुत बढ़िया ग़ज़ल कही है आप ने.
    अच्छे ख्याल हैं.

    ReplyDelete
  38. बढिया है जी।

    ReplyDelete
  39. क्या बात है सतीश भाई नै परवाज़ दी है गजल को नए अंदाज़ दिए हैं बयानी दी है .


    तब नशे में इतराते सतीश,और शहंशाह कहलाते थे !
    जिनको सर माथे रखना था, उनसे थानेदारी की थी !

    हैरान हुए, हर बार मिली, जब भी देखी , गागर खाली !
    उसने ही, छेद किया यारो, जिसने चौकीदारी की थी !

    बहुत खूब लिखा भाई सतीश सक्सेना साहब ए आज़म

    ReplyDelete
  40. बहुत सुंदर और लाजबाब गजल ,,,वाह !!!

    ReplyDelete
  41. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही ,नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !
    सतीश जी बहुत सुन्दर ग़ज़ल गुस्ताखी के साथ कहना कहना चाहूँगा
    बेखुदी में मै ही समझ न पाया तेरी वफ़ा को ,
    अपनी ही नजरों से गिर गया हूँ इस जहन्नुम में

    ReplyDelete
  42. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही ,नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !
    सतीश जी बहुत सुन्दर ग़ज़ल गुस्ताखी के साथ कहना कहना चाहूँगा
    बेखुदी में मै ही समझ न पाया तेरी वफ़ा को ,
    अपनी ही नजरों से गिर गया हूँ इस जहन्नुम में

    ReplyDelete
  43. क्या बात है..

    ReplyDelete
  44. बेहद शानदार गजल सतीश जी,मन को छूने वाली आपका आभार।

    ReplyDelete
  45. मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया,ने खुद्दारी की थी !
    हमने भी ग़ज़ल के दरवाजे,कुछ दिन पल्लेदारी की थी !

    वाह...
    लाजवाब ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  46. अच्छी प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  47. बढ़िया ग़ज़ल... खूबसूरत अंदाज़-ए-बयाँ....!
    बहुत खूब!:)

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  48. वाह सतीश जी ..बहोत खूब

    ReplyDelete
  49. बहुत शानदार ग़ज़ल... दाद स्वीकारें.

    ReplyDelete

  50. सुन्दर बिम्ब भाव और व्यंजना मतले से ही गजल ऊंची उड़ान ले लेती है .ओम शान्ति

    मिसरा,मतला,मक्ता,रदीफ़,काफिया,ने खुद्दारी की थी !
    हमने भी ग़ज़ल के दरवाजे,कुछ दिन पल्लेदारी की थी !

    ReplyDelete
  51. क्या बेबाक लिखा है ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete

  52. सबलोग बड़े भौचक्के थे,ऐसा तो कभी, देखा न सुना !
    उस रोज़,नशे के सागर में,हमने ही समझदारी की थी !

    क्या बात है सर जी नए तेवर नया अंदाज़ है क़ोइ बयानी सी बयानी है

    ReplyDelete
  53. वाह वाह क्या बात है बहोत खुब वाह वाह

    ReplyDelete
  54. तब नशे में इतराते सतीश और शहंशाह कहलाते थे !
    जिनको सर माथे, रखना था, उनसे थानेदारी की थी !

    अद्भुत प्रस्तुति...

    स्नील शेखर


    ReplyDelete
  55. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  56. Apke shabdoon par puri pakad aur samjhane ka hunar hai :] Bahut Khoob likha hai :]

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,